Sketches from Life: चप्पल

15 दिसम्बर 2019   |  हर्ष वर्धन जोग   (7768 बार पढ़ा जा चुका है)

Sketches from Life: चप्पल

चप्पल

हमारी कालोनी के तीन तरफ ऊँची दीवार है और दीवार के पीछे काफी बड़ा और घना जंगल है. इस दीवार की वजह से आप जंगल में नहीं जा सकते हैं, और न ही जंगलवासी इस तरफ आ सकते हैं. दीवार के कारण जंगल वासी समझते हैं कि वो सेफ हैं और कॉलोनी वाले समझते हैं कि वो सेफ हैं ! कभी कभी एकाध कॉलोनीवासी चिकेन मटन का स्वाद ले कर बची हुई हड्डियां दीवार के पार फेंक देते हैं. उस शाम सियारों की हुआँ हुआँ की आवाज़ आ जाती है. यदा कदा अगर सब्जियां या फलों के छिलके फेंक देते हैं तो नील गाय आ जाती है. सुना है की एक दो बार उच्चकों ने भी दीवार फांदने की नाकाम कोशिश की है. बहरहाल दीवार के पास धूप अच्छी आती है तो कुछ बुज़ुर्ग वहां अड्डा जमा लेते हैं. गपशप चलती है और बहस होती है जिसका कोई ओर छोर नहीं होता और न ही कभी समापन होता है. सोमवार को ग्रोवर जी ने सूचना दी कि ये चप्पलें इसी तरह से कई दिनों से पड़ी हैं. किसकी हो सकती हैं? पता नहीं कोई काम वाली छोड़ गई है शायद.
- ग्रोवर जी, सिंह साब बोल पड़े, आप काम वालियों पर बड़ी नज़र रखते हैं?
- शटअप अवतार सिंह हर वक्त मज़ाक अच्छा नहीं होता.
तब तक गोयल साब ने गणेश जी को उठाकर और साफ़ कर के फिर से चबूतरे पर विराजमान कर दिया.
- देखो भई, राणा जी बोले, अगर ये कई दिनों से चप्पल पड़ी हैं और उठाई नहीं गई तो ये अच्छी बात नहीं है. कहीं कोई दीवार फांदने की तैयारी में यहीं छोड़ गया हो. सीरियस मामला है समझा करो.

- कमाल है राणा जी ! दूर की कौड़ी लाए हो.
- अरे भई देख नहीं रहे गिरी हुई चप्पल ? दीवार पर पैर जमा नहीं पा रहा होगा चप्पल फैंक कर भाग लिया होगा जंगल में ! ये देखो इंटों के बीच जगह में पैर जमाने की कोशिश की होगी पर जमा नहीं होगा. सुसरे की चप्पल अटक रही होगी. चौकीदार से पूछताछ करनी पड़ेगी.
- पूरे करमचंद जासूस हो यार आप.
- भई छोटी छोटी भूल बाद में भयंकर नतीजे ले कर आती है. आप गाड़ी का ताला लगाना भूल जाओ तो बस गई गाड़ी आपकी. आपको पता है फिरंगियों ने थोड़ी थोड़ी जगह ली थी व्यापार करने के लिए. फिर व्यापारिक बँगले बनाए, फिर एक राजा को कब्जे में ले लिया फिर दूसरे राजा को और फिर इतिहास ही बदल गया. समझा करो. हिटलर ने क्या किया ? पोलैंड में रेडियो प्रोग्राम करने के लिए कलाकार भेजे. उन कलाकारों ने पोलिश रेडियो स्टेशन पर ही कब्जा कर लिया ! देख लो फिर इतिहास बदल गया. महाभारत में तो ऐसे छोटी छोटी गलतियां भरी पड़ी हैं जिसके कारण इतिहास बदल गया. समझा करो !
- राणा जी की यही तो खासियत है की काम कृषि मंत्रालय में करते थे और बातें इतिहास की करते हैं.
- अरे भई अपनी सेफ्टी तो ज़रूरी है की नहीं ? अखबार में आये दिन बुजुर्गों की लूटपाट और मर्डर के किस्से पढ़ते हो की नहीं. चप्पल पड़ी है दीवार के पास तो ध्यान नहीं जाएगा क्या ? चोर उचक्का हो सकता है ? हो सकता है मर्डर के इरादे से कूदा हो ? इतने सीनियर जोड़े यहाँ रहते हैं कुछ भी हो सकता है.
- राणा जी फिलहाल तो वो मेड आपकी तरफ ही आ रही है. इसे इतिहास समझाओ.
मेड ने आकर झेंपते हुए चप्पल उठा ली और पहन कर चल दी.
Sketches from Life: चप्पल

https://jogharshwardhan.blogspot.com/2019/12/blog-post_12.html

Sketches from Life: चप्पल

अगला लेख: Sketches from Life: बुद्ध का मार्ग - 7



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x