फौजी की आत्मा देती है सरहद पर पहरा

24 दिसम्बर 2019   |  gsmalhadia   (359 बार पढ़ा जा चुका है)

मृत्यु के पश्चात भी फौजी की आत्मा आन ड्यूटी


जी हाँ आप जी ने सही पढ़ा एक फौजी के शहीद होने के बावजूद भी उसकी आत्मा कर रही है सिक्किम में भारत चीन बाॅडर पर अपनी ड्यूटी यह आत्मा ना सिर्फ सरहद पर पहरा देती है बल्कि दुश्मन की हर गतिविधि की खबर पहले हि सांकेतिक रूप में भारतीय सैना को पहुंचा देती है इतना हि नही सरहद पर भटके हुए नए भारतीय सैनिकों को रास्ता दिखाना हो या फिर ड्यूटी पर सौ रहे जवानों को थप्पड़ मार कर जगाना हो यह सब काम करती है 23 वें पंजाब रेजिमेंट के जवान सरदार हरभजन सिंह जी की पवित्र आत्मा।



सेना एवं देश के प्रति उनकी निष्ठा भावना को देखते हुए भारतीय सैना ने उन्हें बाबा जी का दर्जा दिया और सिक्किम में 14000 हजार फुट की ऊँचाई पर जेलेप ला और नाथू ला दर्रे के बीच उनके एक मंदिर का भी निर्माण किया। यहां उनकी वर्दी बिस्तर फोटो एंव जूते रखे हुए है सैनिकों का मानना है कि हर रोज उनके बिस्तर पर सिलवटें तथा जूतों के नीचे मिट्टी लगी होती है जैसे कोई फौजी ड्यूटी करके आया हो।


बाबा हरभजन सिंह जी का जन्म 30 अगस्त 1946 को गुजरांवाला (पाकिस्तान) में हुआ बँटवारे के बाद वह अपने परिवार के साथ कपूरथला पंजाब में आ गए और यहीं उन्होंने ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा पूरी की और 9 फरवरी 1966 में वह पंजाब रेजिमेंट में भर्ती हो गए 4 अक्टूबर 1968 को सेना के लिए रस्द का समान लाते वक्त तुकु ला से डोंगचुई के बीच में बर्फिला नाला पार करते समय उनका पैर फिसल गया और वह पानी में 2 किलोमीटर आगे तक बह गए तीन दिन की कड़ी खोजबीन के बाद भी जब भारतीय सेना को उनकी कोई खबर नहीं मिली तो उन्होंने अपने साथी सैनिक को सपने में आकर बताया कि मेरी मृत्यु हो चुकी है और मेरा पार्थिव शरीर अमूक स्थान पर पड़ा है जब उस स्थान पर जाकर सेना ने खोजबीन की तो वाक्य में हि बाबा हरभजन सिंह जी का पार्थिव शरीर वहां मौजूद था कुछ रोज बाद अपने दूसरे साथी के सपने में आकर सरदार हरभजन सिंह जी ने कहा मेरी समाधि बनवा दो अब मेरी आत्मा देश की मिट्टी का कर्ज चुकाएगी।


सैनिकों ने ऐसा हि किया जब सेना के बड़े अधिकारियों को इसकी सूचना मिली तो उन्होंने इसे अंधविश्वास करार दिया। थोड़े दिनों बाद उन्हें चीनी हाई कमान से एक पत्र मिला जिसमें लिखा था की फौजी गश्त कि कारवाई तो ठीक है पर यह सफेद घोड़े पर यह सफेद लिबादा पहने शख्स कौन है जो भारतीय सीमा में गलती से घुस आए चीनी सैनिकों को डरा कर वापिस भगा देता है। भारतीय सेना के उच्च अधिकारियों को पत्र पढ़कर यह समझने मे यरा भी देर ना लगी कि हो ना हो यह और कोई नहीं बाबा हरभजन सिंह जी कि आत्मा है जो मरनो उपरांत भी देश की सरहद की सुरक्षा कर रही है।

तभी से बाकायदा उन्हें फौज में आन ड्यूटी माना जाने लगा समय के साथ साथ उन्हें परमोशन भी मिले तथा भारत चीन फ्लैग मीटिंग में उनकी भी एक कुर्सी लगाई जाती रही है छुट्टी के समय यह जवान छुट्टी पर भी दो महीने के लिए जाता था ट्रेन मे बाकयदा इनकी सीट भी बुक होती थी और बाबा हरभजन सिंह जी अपने साथियो संग अपने घर जाते थे।


2006 मे इन्हें भारतीय फौज से रिटायर्ड कर दिया गया पर लोग आज भी सिक्किम में इनके मंदिर के दर्शन करने जाते हैं उनका और भारतीय फौज का इनमें अटूट विश्वास है लोगों का मानना है कि बाबा हरभजन सिंह जी के मंदिर में तीन दिन तक पानी की बोतल भर कर रख देने से पानी में औषधीय गुण आ जाते हैं जो कई रोगों को दूर करने में सक्षम है।



अगला लेख: पाकिस्तान में गुरूद्वारा ननकाना साहिब पर पथराव



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें

शब्दनगरी से जुड़िये आज ही

सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x