प्रार्थना :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

14 मार्च 2020   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (290 बार पढ़ा जा चुका है)

प्रार्थना :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

*धरा धाम पर जन्म लेने के बाद मनुष्य के द्वारा अनेकों प्रकार के कर्म संपादित होते हैं | अपने संपूर्ण जीवन काल में अपने कर्मों के अनुसार मानव महामानव बन जाता है | मानव मात्र की आकांक्षा , अभिलाषा एवं आवश्यकता आदि की पूर्ति के लिए हमारे महापुरुषों ने तीन प्रकार के साधन बताये हैं :- १- कर्म , २- चिन्तन एवं ३- प्रार्थना | इन तीनों के समन्वित प्रयासों से ही जीवनलक्ष्य की प्राप्ति हो सकती है | ईश्वर की स्तुति या प्रार्थना से सनातन धर्म के समस्त धर्मग्रंथ भरे पड़े हैं | जितने भी महापुरुष हुए हैं उनके जीवन का अनिवार्य अंग रही है प्रार्थना , क्योंकि प्रार्थना के बिना आत्मबल की उपलब्धि नहीं हो सकती | प्रार्थना मानव जीवन का सबसे सशक्त एवं सूक्ष्म एक ऐसा ऊर्जा स्रोत है जिसे प्रत्येक मनुष्य उत्पादित करके स्वयं को उत्कृष्ट व्यक्तित्व में सम्मिलित कर सकता है | कर्म चिंतन एवं प्रार्थना तीनों के सहयोग से ही मनुष्य किसी भी कार्य में सफल हो सकता है | प्रार्थना के महत्व को हमारे पूर्वजों ने समझा और उसे अपने दैनिक जीवन का अंग बनाया | ईश्वर कण-कण में व्याप्त है और प्रत्येक रूप में उसकी प्रार्थना हमारे पूर्वजों के द्वारा की गई है | इसी का परिणाम है कि जो कार्य मनुष्य अपनी शक्ति से नहीं कर सकता वह कार्य ईश्वर की प्रार्थना से संपन्न हो जाता है | प्रार्थना को सफल बनाने के लिए ईश्वर पर विश्वास रखते हुए स्वयं को उन से जोड़ना होता है साथ ही कोई भी प्रार्थना हृदय के अंतस्थल से निकलनी चाहिए | करुणभाव से हृदय से निकलने वाली प्रार्थना ईश्वर अवश्य सुनता है और उसका परिणाम भी मनुष्य के पक्ष में आता है | हमारे पुराणों में वर्णन है कि भक्तों की पुकार पर भगवान नंगे पांव दौड़े चले आते हैं | प्रार्थना की शक्ति को शब्दों में नहीं वर्णित किया जा सकता है क्योंकि यह कहने का नहीं बल्कि एहसास करने का विषय है | पूर्वकाल से लेकर के मध्यकाल तक यहां तक कि आधुनिक काल में भी अनेक ऐसे उदाहरण प्राप्त होते हैं जहां संसार के सारे साधन निष्फल हो गये हैं वहां मनुष्य की प्रार्थना ने उसके बिगड़े हुए कार्य संपन्न किए हैं , परंतु समय के साथ मनुष्य की भावना परिवर्तित हो गई और आज की जाने वाली प्रार्थनाएं निष्फल होने लगी |*


*आज का आधुनिक मनुष्य जीवन के सूत्र को भूलता चला जा रहा है | सफल जीवन के सूत्र कर्म , चिंतन एवं प्रार्थना मे से मनुष्य कर्म एवं चिंतन तो कर रहा है परंतु प्रार्थना से दूर होता चला जा रहा है | प्राय: लोग कहते हैं कि ईश्वर की प्रार्थना क्यों किया जाय ? क्योंकि यहां सब कुछ कर्म के द्वारा प्राप्त होता है | यद्यपि यह सत्य है कि सब कुछ कर्म के द्वारा प्राप्त होता है परंतु इसके बाद भी मनुष्य को ईश्वर को अनदेखा न करते हुए उसकी दैनिक प्रार्थना अवश्य करते रहना चाहिए | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" आज मन्दिरों में भगवान के समक्ष लोगों को रोते हुए देखता हूं जिंदगी की समस्याओं को भगवान से सुनाते हुए लोगों को देखा जा सकता है | इसे लोग प्रार्थना मांनते हैं , जबकि यह प्रार्थना नहीं बल्कि का स्वार्थ होता है | यदि प्रार्थना को सफल बनाना है तो सर्वप्रथम ईश्वर पर विश्वास रखते हुए कण-कण में उसके व्याप्त होने की अनुभूति होने के साथ प्रार्थना लोक कल्याण की होनी चाहिए | किसी दूसरे का अहित करने के लिए प्रार्थना न की जाय | अपने साथ साथ समस्त विश्व के कल्याण की भावना हृदय में रखकर यदि प्रार्थना की जाती है वह प्रार्थना कभी निष्फल नहीं हो सकती , क्योंकि ईश्वर समदर्शी है वह सबको एक समान पुत्रवत मानता है | आज की जा रही प्रार्थना यदि सफल नहीं हो रही है तो उसका कारण यही है कि आज का मनुष्य जो कुछ भी मांगता है अपने लिए मांगता है किसी दूसरे की कल्याण की भावना के लिए उसके ह्रदय से प्रार्थना नहीं निकलती है | प्रार्थना को दैनिक जीवन का अंग बनाते हुए लोक कल्याण की भावना बनाए रखना प्रत्येक मनुष्य का कर्तव्य है |*


*कर्म चिंतन एवं प्रार्थना तीनों नित्य प्रति करते रहने से मनुष्य अपने जीवन में सफलता की सीढ़ियां चढ़ता चला जाता है और अंततोगत्वा वह महापुरुषों की श्रेणी में गिना जाने लगता है , इसलिए जीवन में प्रार्थना के महत्व को कभी भूलना नहीं चाहिए |*

अगला लेख: एकता में शक्ति :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
14 मार्च 2020
*भारतीय सनातन परम्परा में जीवन के बाद की भी व्यवस्था बनाई गयी है | सनातन की मान्यता के अनुसार जीवन दो प्रकार का है प्रथम तो इहलौकिक एवं दूसरा पारलोकिक | मनुष्य इस धरती पर पैदा होता है और एक जीवन जीने के बाद मरकर इसी मिट्टी में मिल जाता है | यह मनुष्य का इहलौकिक जीवन है जहां से होकर मनुष्य परलोक को ज
14 मार्च 2020
28 मार्च 2020
*इस धराधाम पर मनुष्य सभी प्राणियों पर आधिपत्य करने वाला महाराजा है , और मनुष्य पर आधिपत्य करता है उसका मन क्योंकि मन हमारी इंद्रियों का राजा है | उसी के आदेश को इंद्रियां मानती हैं , आंखें रूप-अरूप को देखती हैं | वे मन को बताती हैं और मनुष्य उसी के अनुसार आचरण करने लगता है | कहने का आशय यह है कि समस
28 मार्च 2020
10 मार्च 2020
*होली का त्यौहार हमारे देश का प्रमुख त्यौहार है | विविधता में एकता का दिव्य संदेश होली के त्यौहार में छुपा हुआ है | जिस प्रकार कई रंग मिलकर एक नया रंग बनाते हैं उसी प्रकार लोग आपसी भेदभाव भुलाकर आपस में मिल जाते हैं | होली का त्यौहार मात्र हमारे देश भारत में ही नहीं आती संपूर्ण विश्व में पूर्ण हर्ष
10 मार्च 2020
03 मार्च 2020
*भारतीय संस्कृति इतनी दिव्य व विशाल रही है कि यहाँ वर्ष के प्रति दिन, कोई न कोई उत्सव / त्यौहार मनाया जाता रहा है | ये त्योहार विविध कारणों तथा जीवन के विविध उद्देश्यों से जुड़े थे | इन्हें विविध ऐतिहासिक घटनाओं, विजय श्री तथा जीवन की कुछ अवस्थाओं जैसे फसल की बुआई, रोपाई और कटाई आदि से जोड़ा गया था |
03 मार्च 2020
10 मार्च 2020
*होली का त्यौहार हमारे देश का प्रमुख त्यौहार है | विविधता में एकता का दिव्य संदेश होली के त्यौहार में छुपा हुआ है | जिस प्रकार कई रंग मिलकर एक नया रंग बनाते हैं उसी प्रकार लोग आपसी भेदभाव भुलाकर आपस में मिल जाते हैं | होली का त्यौहार मात्र हमारे देश भारत में ही नहीं आती संपूर्ण विश्व में पूर्ण हर्ष
10 मार्च 2020
12 मार्च 2020
*इस संसार में मनुष्य जैसा कर्म करता उसको वैसा ही फल मिलता है | किसी के साथ मनुष्य के द्वारा जैसा व्यवहार किया जाता है उसको उस व्यक्ति के माध्यम से वैसा ही व्यवहार बदले में मिलता है , यदि किसी का सम्मान किया जाता है तो उसके द्वारा सम्मान प्राप्त होता है और किसी का अपमान करने पर उससे अपमान ही मिलेगा |
12 मार्च 2020
11 मार्च 2020
*हमारा देश भारत आदिकाल से संस्कृति एवं शिक्षा के विषय में उच्च शिखर पर रहा है | विश्व के लगभग समस्त देशों ने हमारे देश भारत से शिक्षा एवं संस्कृति का ज्ञान अर्जित किया है | इतिहास के पन्नों को देखा जाय तो जितना दिव्य इतिहास हमारे देश भारत का है वह अन्यत्र कहीं भी नहीं देखने को मिलता है | आदि काल से
11 मार्च 2020
26 मार्च 2020
*मानव जीवन में अनेकों प्रकार की एवं मित्र बना करते हैं कुछ शत्रु तो ऐसे भी होते हैं जिनके विषय में हम कुछ भी नहीं जानते हैं परंतु वे हमारे लिए प्राणघातक सिद्ध होते हैं | शत्रु से बचने का उपाय मनुष्य आदिकाल से करता चला आया है | अपने एवं अपने समाज की सुरक्षा करना मनुष्य का प्रथम कर्तव्य है , अपने इस क
26 मार्च 2020
09 मार्च 2020
*हमारा देश भारत पर्व एवं त्योहारों का देश है , यहां वर्षपर्यंत पर्व एवं त्योहार मनाए जाते रहते हैं | सबसे विशेष बात यह हैं कि सनातन धर्म के प्रत्येक त्यौहार एवं पर्वों में मानवता के लिए एक दिव्य संदेश छुपा होता है | इन्हीं त्योहारों में प्रमुख है रंगों का त्योहार होली | होली के दिन अनेक प्रकार के रं
09 मार्च 2020
03 मार्च 2020
*किसी भी समाज और राष्ट्र का निर्माण मनुष्य के समूह से मिलकर होता है और मनुष्य का निर्माण परिवार में होता है | परिवार समाज की प्रथम इकाई है | जिस प्रकार परिवार का परिवेश होता है मनुष्य उसी प्रकार बन जाता है इसीलिए परिवार निर्माण की दिशा में एक विकासशील व्यक्तित्व का ध्यान विशेष रूप से आकर्षित होना चा
03 मार्च 2020
09 मार्च 2020
*हमारा देश भारत पर्व एवं त्योहारों का देश है , यहां वर्षपर्यंत पर्व एवं त्योहार मनाए जाते रहते हैं | सबसे विशेष बात यह हैं कि सनातन धर्म के प्रत्येक त्यौहार एवं पर्वों में मानवता के लिए एक दिव्य संदेश छुपा होता है | इन्हीं त्योहारों में प्रमुख है रंगों का त्योहार होली | होली के दिन अनेक प्रकार के रं
09 मार्च 2020
25 मार्च 2020
*हमारे देश भारत में समय-समय पर अनेकों त्योहार मनाए जाते हैं | भारतीय सनातन परंपरा में प्रत्येक त्योहारों का एक वैज्ञानिक महत्व होता है इन्हीं त्योहारों में से एक है "नववर्ष संवत्सर" जो कि आज चैत्र शुक्ल प्रतिपदा को माना जाता है | आदिकाल से यदि चैत्र शुक्ल प्रतिपदा को नववर्ष माना जा रहा है तो इसका का
25 मार्च 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x