आपत्तिकाल में धैर्य को परखिये :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

29 मार्च 2020   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (9905 बार पढ़ा जा चुका है)

आपत्तिकाल में धैर्य  को परखिये :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



*अपने संपूर्ण जीवन काल में मनुष्य में अनेक गुणों का प्रादुर्भाव होता है | अपने गुणों के माध्यम से ही मनुष्य समाज में सम्मान या अपमान अर्जित करता है | यदि मनुष्य के गुणों की बात की जाए तो धैर्य मानव जीवन में एक ऐसा गुण है जिसके गर्भ से शेष सभी गुण प्रस्फुटित होते हैं | यदि किसी में धैर्य नहीं है तो वह चाहे जितना शक्तिसंपन्न हो उसकी संपन्नता दुर्बलता में बदल जाती है | धैर्य के बिना मनुष्य के किए गए किसी भी कार्य का समुचित परिणाम नहीं प्राप्त हो पाता | हमारे महापुरुषों ने कहा है कि जिसके पास धैर्य है समझो उसने काल को भी पक्ष में कर लिया है | यदि आपमें धैर्य है तो आप के विरोधी ही नहीं बल्कि आपके दुश्मन भी आप का लोहा मानने के लिए बाध्य हो जाएंगे | मनुष्य को जीवन की विषमताओं में प्रतिकूलताओं में अपना धैर्य नहीं खोना चाहिए , यदि धैर्य डगमगा जाता है तो मनुष्य नकारात्मक हो जाता है और नकारात्मक मनुष्य जीवन के अंधेरों में खोता चला जाता है | अतः प्रत्येक मनुष्य को धैर्य का त्याग कभी नहीं करना चाहिये | कर्म करना मनुष्य का कर्तव्य है परंतु कर्म करने के बाद उसके फल की प्रतीक्षा करने में धैर्य की आवश्यकता भी होती है | धैर्यवान मनुष्य कोई भी कार्य समय को अनुकूल पा करके ही करते है यह अलग विषय है ऐसे लोगों को कुछ लोग कमजोर व डरपोक कहने लगते हैं | जबकि ऐसा व्यक्तित्व ना तो कमजोर होता है ना ही डरपोक होता है बल्कि वह धैर्य धारण करके उचित समय की प्रतीक्षा किया करता है | बाबा जी मानस में लिखते हैं :-- "आपदकाल परिखअहिं चारी ! धीरज धर्म मित्र अरु नारी !! आपत्तिकाल में जिन चार की परीक्षा लेनी चाहिए उनमें प्रथम स्थान धैर्य को ही दिया गया है | प्रत्येक मनुष्य को अपने धैर्य की परीक्षा अवश्य लेनी चाहिए |*


*आज सम्पूर्ण जिस संकटकाल का सामना कर रहा है वह. किसी से छुपा नहीं है | "वैश्विक महामारी" बनकर कोरोना संक्रमण ने आज समस्त विश्व को अपने चपेट में ले रखा है | इस संक्रमण के भय से जीवन थम सा गया है लोग अपने घरों में बन्द हैं | परन्तु कुछ लोग इस संकटकाल में अपने महान गुण धैर्य का त्याग. करते हुए दिखाई पड़ रहे हैं | विचार कीजिए कि आपत्तिकाल में जिसने भी धैर्य का त्याग कर दिया वह स्वयं के साथ एक बड़े समाज के लिए घातक सिद्ध हो रहा है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" आज देश - विदेश का परिदृश्य देखकर यह कह सकता हूँ कि आज मनुष्यों में धैर्य बिल्कुल नहीं रह गया है | जबकि हमारे महापुरुषों ने कहा है कि जब शत्रु अदृश्य होकर हमला कर रहा हो उस समय अपनी बीरता दिखाने की अपेक्षा धैर्यपूर्वक उसके प्रकट होने की प्रतीक्षा कर लेना ही बुद्धिमत्ता है | जो भी अदृश्य शत्रु के ललकारने पर , अधीर होकर अपना सुरक्षाकवच तोड़कर बाहर निकल पड़ता है शत्रु उसका शिकार अवश्य कर लेता है | आज यही परिदृश्य समुपस्थित है कोरोना नामक अदृश्य शत्रु कब कहाँ से आक्रमण कर दे यह कोई नहीं जान पा रहा है , कुछ लोग तो धैर्यपूर्वक अपने घरों में बैठकर इस आपत्तिकाल के व्यतीत हो जाने की प्रतीक्षा कर रहे हैं वहीं अधिकतर लोगों का धैर्य जैसे खो सा गया है और वे अधीर होकर बाहर निकल रहे हैं तथा संक्रमित होकर स्वयं तो मृत्यु को निमंत्रण दे ही रहे हैं साथ ही अपने समाज को भी मृत्यु की ओर ले दा रहे हैं | यदि कुछ दिन धैर्य धारण करके अपने घरों में बैठा रहा जाय तो हम इस अज्ञात शत्रु को पलायन करने पर विवश कर सकते हैं परंतु दुर्भाग्य है कि आज लोग ऐसा नहीं कर पा रहे हैं जो कि समस्त मानवजाति के लिए एक विशाल संकट का संदेश है | आज आवश्यकता है अपने महान गुण धैर्य को प्रकट करने की क्योंकि धैर्य धारण करने पर बड़े से बड़ा संकट भी टल जाता है |*


*सुग्रीव की ललकार पर बालि की पत्नी तारा ने बालि को बाहर न निकलने के लिए बहुत समझाया परंतु बालि धैर्य न धारण कर पाया और बाहर निकल पड़ा जिससे कि वह मृत्यु को प्राप्त हो गया ! आज बालि सरीखे लोग अधिक दिखाई पड़ रहे हैं जो कि मृत्यु को निमंत्रण दे रहे हैं ऐसा करना कदापि उचित नहीं है |*


अगला लेख: स्व शासन :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
06 अप्रैल 2020
*समस्त सृष्टि में मनुष्य सर्वश्रेष्ठ प्राणी कहा जाता है | मनुष्य ने इस धरती पर जन्म लेने के बाद विकास की ओर चलते हुए इस सृष्टि में उत्पन्न सभी प्राणियों पर शासन किया है | आकाश की ऊंचाइयों से लेकर की समुद्र की गहराइयों तक और इस पृथ्वी पर संपूर्ण आधिपत्य मनुष्य ने स्थापित किया है | हिंसक से हिंसक प्रा
06 अप्रैल 2020
26 मार्च 2020
*मानव जीवन में अनेकों प्रकार की एवं मित्र बना करते हैं कुछ शत्रु तो ऐसे भी होते हैं जिनके विषय में हम कुछ भी नहीं जानते हैं परंतु वे हमारे लिए प्राणघातक सिद्ध होते हैं | शत्रु से बचने का उपाय मनुष्य आदिकाल से करता चला आया है | अपने एवं अपने समाज की सुरक्षा करना मनुष्य का प्रथम कर्तव्य है , अपने इस क
26 मार्च 2020
26 मार्च 2020
*मानव जीवन में अनेकों प्रकार की एवं मित्र बना करते हैं कुछ शत्रु तो ऐसे भी होते हैं जिनके विषय में हम कुछ भी नहीं जानते हैं परंतु वे हमारे लिए प्राणघातक सिद्ध होते हैं | शत्रु से बचने का उपाय मनुष्य आदिकाल से करता चला आया है | अपने एवं अपने समाज की सुरक्षा करना मनुष्य का प्रथम कर्तव्य है , अपने इस क
26 मार्च 2020
21 मार्च 2020
*सनातन धर्म शास्वत तो है ही साथ ही दिव्य एवं अलौकिक भी है | सनातन धर्म में ऐसे - ऐसे ऋषि - महर्षि हुए हैं जिनको भूत , भविष्य , वर्तमान तीनों का ज्ञान था | इसका छोटा सा उदाहरण हैं कविकुल शिरोमणि परमपूज्यपाद गोस्वामी तुलसीदास जी | बाबा तुलसीदास जीने मानस के अन्तर्गत उत्तरकाण्ड में कलियुग के विषय में ज
21 मार्च 2020
30 मार्च 2020
*हमारा देश भारत गांवों का देश हमारे देश के प्राण हमारे गांव हैं , आवश्यकतानुसार देश का शहरीकरण होने लगा लोग गाँवों से शहरों की ओर पलायन करने लगे परंतु इतने पलायन एवं इतना शहरीकरण होने के बाद आज भी लगभग साठ - सत्तर प्रतिशत आबादी गांव में ही निवास करती है | गांव का जीवन शहरों से बिल्कुल भिन्न होता है
30 मार्च 2020
23 मार्च 2020
*संपूर्ण विश्व में हमारा देश भारत एकमात्र ऐसा देश है जहां अनेक धर्म , संप्रदाय के लोग एक साथ निवास करते हैं | धर्म , भाषा एवं जीवनशैली भिन्न होने के बाद भी हम सभी भारतवासी हैं | किसी भी संकट के समय अनेकता में एकता का जो प्रदर्शन हमारे देश में देखने को मिलता है वह अन्यत्र कहीं दर्शनीय नहीं है | हमें
23 मार्च 2020
27 मार्च 2020
*सनातन धर्म पूर्ण वैज्ञानिकता पर आधारित है , हमारे पूर्वज इतने दूरदर्शी एवं ज्ञानी थे कि उन्हेंने आदिकाल से ही मानव कल्याण के लिए कई सामाजिक नियम निर्धारित किये थे | मानव जीवन में वैसे तो समय समय पर कई धटनायें घटित होती रहती हैं परंतु मानव जीवन की दो महत्त्वपूर्ण घटनायें होती हैं जिसे जन्म एवं मृत्य
27 मार्च 2020
25 मार्च 2020
*मानव जीवन में जिस प्रकार निडरता का होना आवश्यक है उसी प्रकार समय समय पर भय का होना परम आवश्यक है | जब मनुष्य को कोई भय नहीं जाता तब वह स्वछन्द एवं निर्द्वन्द होकर मनमाने कार्य करता हुआ अन्जाने में ही समाज के विपरीत क्रियाकलाप करने लगता है | भयभीत होना कोई अच्छी बात नहीं है परंतु कभी कभी परिस्थितिया
25 मार्च 2020
07 अप्रैल 2020
*मनुष्य को ईश्वर ने विवेक दिया है जिसका प्रयोग वह उचित - अनुचित का आंकलन करने में कर सके | मनुष्य के द्वारा किये गये क्रियाकलाप पूरे समाज को किसी न किसी प्रकार से प्रभावित अवश्य करते हैं | सामान्य दिनों में तो मनुष्य का काम चलता रहता है परंतु मनुष्य के विवेक की असली परीक्षा संकटकाल में ही होती है |
07 अप्रैल 2020
27 मार्च 2020
*सनातन धर्म पूर्ण वैज्ञानिकता पर आधारित है , हमारे पूर्वज इतने दूरदर्शी एवं ज्ञानी थे कि उन्हेंने आदिकाल से ही मानव कल्याण के लिए कई सामाजिक नियम निर्धारित किये थे | मानव जीवन में वैसे तो समय समय पर कई धटनायें घटित होती रहती हैं परंतु मानव जीवन की दो महत्त्वपूर्ण घटनायें होती हैं जिसे जन्म एवं मृत्य
27 मार्च 2020
25 मार्च 2020
*हमारे देश भारत में समय-समय पर अनेकों त्योहार मनाए जाते हैं | भारतीय सनातन परंपरा में प्रत्येक त्योहारों का एक वैज्ञानिक महत्व होता है इन्हीं त्योहारों में से एक है "नववर्ष संवत्सर" जो कि आज चैत्र शुक्ल प्रतिपदा को माना जाता है | आदिकाल से यदि चैत्र शुक्ल प्रतिपदा को नववर्ष माना जा रहा है तो इसका का
25 मार्च 2020
22 मार्च 2020
*मनुष्य जिस स्थान / भूमि में जन्म लेता है वह उसकी जन्म भूमि कही जाती है | जन्मभूमि का क्या महत्व है इसका वर्णन हमारे शास्त्रों में भली-भांति किया गया है | प्रत्येक मनुष्य मरने के बाद स्वर्ग को प्राप्त करना चाहता है क्योंकि लोगों का मानना है कि स्वर्ग में जो सुख है वह और कहीं नहीं है परंतु हमारे शास्
22 मार्च 2020
30 मार्च 2020
*हमारा देश भारत गांवों का देश हमारे देश के प्राण हमारे गांव हैं , आवश्यकतानुसार देश का शहरीकरण होने लगा लोग गाँवों से शहरों की ओर पलायन करने लगे परंतु इतने पलायन एवं इतना शहरीकरण होने के बाद आज भी लगभग साठ - सत्तर प्रतिशत आबादी गांव में ही निवास करती है | गांव का जीवन शहरों से बिल्कुल भिन्न होता है
30 मार्च 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x