खंडित मुस्कान

30 अप्रैल 2020   |  शिल्पा रोंघे   (393 बार पढ़ा जा चुका है)

 खंडित मुस्कान


प्रतिमा नाम था उसका, हमेशा मुस्कुराती रहती, ऐसा लगता कि मानों ज़िंदगी बहुत आसान है उसके लिए, ना पढ़ाई को गंभीरता से लेती ना जीवन को, उसकी हमेशा की ये आदत थी सभी क्लॉस में पढ़ने वाली सभी लड़कियों से कहना कि आज पार्टी दो ना, मजबूर कर देती थी उन लड़कियों को घर से पैसे मांगने के लिए, खुद भी देती थी, हालांकी उसकी पार्टी का मतलब बहुत सारा खर्च नहीं था कॉलेज की पास की दुकान से कभी कोलड्रिंक तो कभी पेस्ट्री या गरमा गरम समोसे। कभी कभी उसकी ज़िद से सभी परेशान हो जाते थे, प्रतिमा अपनी मौसी के यहां रहकर बी कॉम अंतिम वर्ष की पढ़ाई कर रही थी, शुरु के दो साल उसने अपने माता पिता के यहां ही पूरे किए थे। जब भी मैं उससे ये पूछती की वो ग्वालियर से इंदौर पढ़ने क्यों आई वो सिर्फ हंसकर टाल जाती और कहती जाने दो ना सुरभी कभी किसी और दिन बात करेंगे इस बारे में।

हम सभी ने देखा उसका पढ़ाई में बिल्कुल मन नहीं लगता था लेकिन वो इस कोशिश में रहती कि किसी तरह एग्ज़ाम पास हो जाए और उसे डिग्री मिल जाए ताकि जीवन में कुछ कर सके। वो अपनी मौसी को काम में हाथ बटाकर कॉलेज आ जाती थी, रोज ही आती थी कभी भी अनुपस्थित नहीं रही, हम सब रविवार के इंतज़ार में रहते और वो कहती कि ये दिन बोझ की तरह कटता है।

एक्ज़ाम का मौसम शुरु हो गया, हमेशा कॉलेज में उपस्थित रहने वाली प्रतिमा गायब थी, आज हमें उसकी शरारतें और मुस्कान बहुत याद आ रही थी।

मैं कभी कभी उसकी मौसी के घर उससे मिलने चली जाती थी, तो परीक्षा खत्म होने के बाद उसकी मौसी के यहां गई, घर पर ताला टंगा हुआ था, तब मैंने पड़ोस के घर में जाकर उसका हालचाल जानने की कोशिश की, तब उसकी पड़ोस में रहने वाली चाची मुझे अपने आंगन में रखी चेयर पर बैठने को कहा बोली उसकी शादी हो गई है, तब मैंने पूछा ऐसी भी क्या जल्दी ? एग्ज़ाम तो दे देती तब वो बोली एक बात कहूं तुम अब उससे मिलने यहां फिर मत आना क्योंकि वो अब इस शहर में वापस कभी नहीं आएगी। क्या बताउं उसका तो भाग्य ही फूटा था, जब वो 19 साल की थी तब कॉलेज में पढ़ने वाले 21 साल के लड़के सचिन से उसका प्रेम प्रंसग शुरु हो गया लड़का संपन्न घर का था लेकिन अलग जाति का था दोनों ने बिना सोचे समझे मंदिर में शादी कर ली, लड़के को लगा कि वो दो बहनों के बाद इकलौता लड़का है तो उसकी हर बात मान ली जाएगी जैसी कि बचपन में मानी जाती रही है।

वो जैसे ही प्रतिमा को लेकर अपने घर पहुंचा तो उसके घरवालों ने प्रतिमा को अपनाने से इंकार कर दिया, उसने मंदिर में ही प्रतिमा को इंतज़ार करने को कहा वो दुल्हन के जोड़े में वहां बैठकर उसका इंतज़ार करती रही, तभी प्रतिमा के घरवालों ने उसे घर आया ना देखकर पुलिस में उसकी गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करा दी। आखिर में उसे पुलिसवालों ने मंदिर में ढूंढ निकाला, उसे दुल्हन के भेस में देखकर उसके घर के लोग आग बबूला हो गए और उसे घर चलने को कहा वो नहीं मानी थक हार कर वो घर चले गए, सुबह से शाम और शाम से रात हो गई और फिर वो मंदिर में ही सो गई, सचिन का कोई पता नहीं चला।

उसने अगले दिन उसके घर जाने का फैसला लिया तब देखा कि एक अर्थी निकल रही थी, पता चला कि सचिन के घर के लोंगो ने प्रतिमा को अपनाने से मना कर दिया और सचिन को कच्ची उम्र में लिए गए इस फैसला पर बहुत पछतावा हुआ कि उसकी पढ़ाई तक पूरी नहीं हुई और जेब में एक पैसा भी नहीं अब वो प्रतिमा को कहां रखेगा और अगर उसे छोड़ दिया तो वो उसके बारे में क्या सोचेगी। इसी दुविधा से वो निकल नहीं पाया और अपनी जान दे दी। जैसे ही उसके घर वालों की नज़र उस पर पड़ी तो उन्होंने प्रतिमा के आंसू भी नहीं देखे और भला बुरा कहना शुरू कर दिया, रोती हुई प्रतिमा अपने घर पहुंची वहां पैर रखते ही उसके माता पिता ने उसके चेहरे पर एक एक तमाचा जड़ दिया और कुल कलंकिनी का दर्जा दे दिया, और निकल जाने को कहा। पीड़ा की अग्नी में जल रही प्रतिमा घर की सीढ़ियों पर ही बैठी रही, उसके बड़े भाई को उस पर तरस आ गया और वो उसे उसकी मौसी के घर छोड़ आया क्योंकि ये बात आस पड़ोस में आग की तरह फैल गई थी और उसे पता था कि लोग उसके परिवार और प्रतिमा का ताने मार मारकर जीना मुश्किल कर देंगे।

उसके पड़ोस में रहने वाली चाची ने कहा कि प्रतिमा के लिए उसके माता पिता के यहां एक बहुत अच्छे लड़के का रिश्ता आया जिसकी शादी के कुछ दिन पहले ही उसकी होने वाली दुल्हन ने किसी और का हाथ थाम लिया, कार्ड तक छप चुके थे, किसी को दोष देकर भी क्या फ़ायदा था शायद लड़कीवालों ने उस लड़की की मर्ज़ी के खिलाफ ही रिश्ता तय कर दिया था, अब इस बात को उसके घर के लोग जल्द से जल्द ही भूल जाना चाहते थे और जल्द से जल्द उसकी शादी कर देना चाहते थे, उन्हें प्रतिमा के बारे में सब पता था लेकिन समाज के लोगों की तरह उन्होंने उसे ताने मारने के बजाए सहानुभूति व्यक्त की और दिल से अपना लिया, उसकी शादी का मुहूर्त एग्ज़ाम के वक्त ही निकल आया इसलिए उसने आगे की पढ़ाई अगले साल करने का फ़ैसला किया है।

चाची ने उसके हाथों में शरबत लाकर दिया जिसे पीते हुए सुरभी सोच रही थी हमेशा खुश दिखने वाली प्रतिमा अंदर से कितनी टूटी हुई थी, प्रतिमा की मुस्कान भी खंडित थी जिसे जिसमें छिपा दर्द कोई नहीं देख पाया।


शिल्पा रोंघे


(सर्वाधिकार सुरक्षित)

मेरी इस कहानी को नीचे दी गई लिंक पर क्लिक करके मेरे ब्लॉग पर भी पढ़ सकते है

खंडित मुस्कान https://koshishmerikalamki.blogspot.com/2020/04/blog-post.html

https://koshishmerikalamki.blogspot.com/2020/04/blog-post.html

 खंडित मुस्कान

अगला लेख: महिलाओं को सॉफ्ट टारगेट बनाना छोड़िए....



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
03 मई 2020
माधव और अजीत नाम केदो भाई अर्जुननगर नाम के गांव में रहते थे। दोनों भाईयों में काफी प्यार था वोदोनों गेंहू का व्यापार किया करते थे, उनके खेतों में उगाया गया गेंहू दूर दूर तकमशहूर था लेकिन अभी भी वो दोनों मध्यवर्गीय स्थिती में ही थे और सोचा करते थे किखेतों में दिन रात पसीना
03 मई 2020
10 मई 2020
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:TrackFormatting> <w:PunctuationKerning></w:PunctuationKerning> <
10 मई 2020
02 मई 2020
शीला देखने में काफी सुंदर है, बड़ी बड़ी आंखे,घुंघराले बाल और दूध सी दमकती त्वचा और साथ गुणवंती भी थी, उसके ससुर को वो देखतेही भा गई तो उसने अपनी बेटे मनोज का रिश्ता उसके साथ तय कर दिया, मनोज टॉप केकॉलेज से पढ़ा लिखा था और सिर्फ अंग्रेजी में ही बात करना पसंद करता था, तो वहीशीला संस्कृत में एम ए पास थ
02 मई 2020
26 अप्रैल 2020
चंद्रा साब ने ताला खोला और बेडरूम में आ गए. टॉवेल उठाया और इत्मीनान से नहा लिए. चिपचिपे मौसम से कुछ तो राहत मिली. दाल गरम की, एक प्याज काटा और प्लेट में चावल डाल कर डाइनिंग टेबल पर आ गए. एक व्हिस्की का पेग बना कर टेबल पर रख लिया. पर बंद घर में अलग सी महक आ रही थी तो उठकर
26 अप्रैल 2020
08 मई 2020
संगीता के विवाह को 6 साल हो चुके थे उसकी 4 साल की एकबेटी थी, वो फिर एक बार मां बनने वाली थी।उसने ये खबर सबसे पहले अपने पति को सुनाई फिर अपनी सासको, जैसे ही उसकी सास ने ये खबर फोन पर सुनी वो बेहद ख़ुश हुई, संगीता गर्मियों कीछुट्टियों में अपनी बेटी को लेकर अपने मायके जबलपुर
08 मई 2020
03 मई 2020
तु
कहानीतुम्हारे प्रेम के नाम-3विजय कुमार तिवारीतुमने अनेकों बार कुरेदा है मुझे,"कैसे मैं अपने को बचाता रहा और कैसे इस मतलबी दुनिया की शातिर चालों को समझ पाया।"तुमसे खुलकर कहना चाहता हूँ,सच बयान करता हूँ कि यह कोई मुश्किल काम नहीं है।हर व्यक्ति को थोड़ा सजग रहना चाहिए।थो
03 मई 2020
14 मई 2020
चंद्रपुर नाम के गांव में बिना किसी गुनाह केसभी पंचो के आगे सर झुकाकर खड़ी रही विनिता और उसे फ़रमान सुना दिया गया कि उसेअपने माता-पिता के घर वापस भेज जाए, उसी दोपहर उसका पति उसे अपनी कार में बिठाकरउसके मायके की तरफ़ निकल पड़ा। दोनों के बीच एक अजीब सी ख़ामोशी पसरी हुई है, तभीकार की खिड़की से खेतों की
14 मई 2020
05 मई 2020
“खाओ मेरी कसम ना शराब को हाथ लगाओगे ना किसी लड़की के चक्कर में पड़ोगे जब तक तुम्हारी पढ़ाई पूरी ना होगी और मुझसे कुछ भी ना छिपाओगे” अपूर्व को बार बार अपनी मां की सौगंध याद आ रही थी, जब वो नाशिक से पुणे पहुंचा था इकोनॉमिक्स की पढ़ाई करने, ग
05 मई 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x