वो 48 घंटे - केदारनाथ आपदा 2013 की पूरी कहानी

18 जून 2020   |  Vikas Dhiman   (309 बार पढ़ा जा चुका है)

केदारनाथ आपदा 2013

केदारनाथ आपदा की पूरी घटना:-

16 June 2013, सुबह से देश के सभी न्यूज चैनलों पर एक ही खबर चल रही थी। और वो थी केदारनाथ में मची भीषण तबाही की, जो कि आने वाली भीषण त्रासदी कि बस एक शुरुआत थी। उत्तराखंड में पिछले 24 घंटे से भरी बारिश हो रही थी जिससे मंदाकिनी नदी ने अपना रौद्र रूप धारण कर लिया था। भयानक गर्जना के साथ आगे बढ़ती हुई नदी अपने रास्ते में आने वाली हर चीज को तबाह कर रही थी। केदारनाथ यात्रा के तीर्थ यात्री अपनी जगहों पर फंसे हुए थे। सड़कें टूट गई थी, पुल बह गए थे और सैंकड़ों मकान और गाडियां ताश के पत्तों की तरह नदी में बह रहे थे। हजारों लोग केदारधाम में फंसे हुए थे और अपनी जान बचाने के लिए भाग रहे थे। स्तिथि बद से बदतर होती जा रही थी। शायद उत्तराखंड के इतिहास की सबसे भयावह त्रासदी ने दस्तक दे दी थी।

ना जाने कितने लोगो की लाशे नदी में बह रही थी और कितनी ही मलबे में दबी पड़ी थी। बचे हुए लोग अपनी जान बचाने के लिए संघर्ष कर रहे थे।

क्या हुआ था 16-17 जून 2013 को :-


आगे पढ़िए

अगला लेख: भारत में प्रकाशित सबसे पहला अख़बार |



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x