दो शब्द

19 जुलाई 2020   |  अबतक हिंदी न्यूज   (283 बार पढ़ा जा चुका है)



*आज का प्रेरक प्रसंग*


*!! दो शब्द !!*

---------------------------------------------


बहुत समय पहले की बात है, एक प्रसिद्द गुरु अपने मठ में शिक्षा दिया करते थे। पर यहाँ शिक्षा देना का तरीका कुछ अलग था, गुरु का मानना था कि सच्चा ज्ञान मौन रह कर ही आ सकता है; और इसलिए मठ में मौन रहने का नियम था। लेकिन इस नियम का भी एक अपवाद था, दस साल पूरा होने पर कोई शिष्य गुरु से दो शब्द बोल सकता था।


पहला दस साल बिताने के बाद एक शिष्य गुरु के पास पहुंचा, गुरु जानते थे की आज उसके दस साल पूरे हो गए हैं ; उन्होंने शिष्य को दो उँगलियाँ दिखाकर अपने दो शब्द बोलने का इशारा किया। शिष्य बोला, ”खाना गन्दा“ गुरु ने ‘हाँ’ में सर हिला दिया। इसी तरह दस साल और बीत गए और एक बार फिर वो शिष्य गुरु के समक्ष अपने दो शब्द कहने पहुंचा। ”बिस्तर कठोर”, शिष्य बोला।


गुरु ने एक बार फिर ‘हाँ’ में सर हिला दिया। करते-करते दस और साल बीत गए और इस बार वो शिष्य गुरु से मठ छोड़ कर जाने की आज्ञा लेने के लिए उपस्थित हुआ और बोला, “नहीं होगा” . “जानता था”, गुरु बोले, और उसे जाने की आज्ञा दे दी और मन ही मन सोचा जो थोड़ा सा मौका मिलने पर भी शिकायत करता है वो ज्ञान कहाँ से प्राप्त कर सकता है।



शिक्षा :-

फ्रेंड्स! बहुत से लोग अपनी लाइफ कम्प्लेन करने या शिकायत करने में ही बीता देते हैं, और उस शिष्य की तरह अपने लक्ष्य से चूक जाते हैं। शिष्य ने पहले दस साल सिर्फ ये बताने के लिए इंतज़ार लिया कि खाना गन्दा है ; यदि वो चाहता तो इस समय में वो खुद खाना बनाना सीख कर अपने और बाकी लोगों के लिए अच्छा खाना बना सकता था, चीजों को बदल सकता था… हमें यही करना चाहिए; हमें शिाकयात करने की जगह चीजों को सही करने की दिशा में काम करना चाहिए। और कम्प्लेन करने की जगह, “हमें खुद वो बदलाव बनना चाहिए जो हम दुनिया में देखना चाहते हैं।


अगला लेख: सबसे कीमती चीज



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
04 जुलाई 2020
वि
प्रेरणादायक कहानी विजेता मेंढकबहुत समय पहले की बात है एक सरोवर में बहुत सारे मेंढक रहते थे| सरोवर के बीचों -बीच एक बहुत पुराना धातु का खम्भा भी लगा हुआ था| जिसे उस सरोवर को बनवाने वाले राजा ने लगवाया था| खम्भा काफी ऊँचा था और उसकी सतह भी बिलकुल चिकनी थी|एक दिन मेंढकों के दिमाग में आया कि क्यों
04 जुलाई 2020
25 जुलाई 2020
ही
हर व्यक्ति अपनी जीवन का हीरो स्वयं होता है जीवन में कठिनाइयां न हो तो इंसान कि परख नहीं हो सकती अगर हम मुश्किलों से डर जाए और घबरा कर भाग्य को दोष देने लगें तो इससे उत्थान कैसे संभव है रावण के बिना राम राम न होते बिना कंस के आतंक के कृष्ण कृष्ण न होते
25 जुलाई 2020
24 जुलाई 2020
सभी महिलाओं को समर्पित============================बेटा घर में घुसते ही बोला ~ मम्मी, कुछ खाने को दे दो, बहुत भूख लगी है.यह सुनते ही मैंने कहा ~ बोला था ना, ले जा कुछ कॉलेज. सब्जी तो बना ही रखी थी.बेटा बोला ~ मम्मी, अपना ज्ञान ना ... अपने पास रखा करो. अभी जो कहा है, वो कर दो बस, और हाँ, रात में ढंग क
24 जुलाई 2020
13 जुलाई 2020
रात के 10 बजेथे। 18 साल की रज्जो अपनी साइकिल से खेतसे गुजरने वाले रास्ते से तेज-तेज गति में निकल रही थी। तभी धनिया वहां कुछ काम कररहा था, बोला “ अरे इतनी रात को क्या काम है तुझे ? क्या प्रेमी से मिलने जा रही है जो अंधेरे का वक्त चुना है तुने, कुछ डरहै कि नहीं तुझे, औरत ज
13 जुलाई 2020
04 जुलाई 2020
ट्
आज का विज्ञान _ट्रेन की पटरियों के आसपास कंकड़ क्यों डाले जाते_ ट्रेन बहुत तेजी से चलती है और जब ट्रेन चलती है तो पटरीयों में बहुत तेजी से कंपन होता है इसी कंपन के कारण पटरीयां इधर-उधर न हिलें इसीलिए रेल की पटरीयों के आस पास कंकड डाले जाते हैं ये कंकड पटरीयों पर स्प्रिग का कार्य करते हैं जब पटरीयों
04 जुलाई 2020
17 जुलाई 2020
आज का विज्ञान*कटे हुए सेब का रंग क्यों बदल जाता है - Why the Color of Chopped Apple Turns**_दरअसल सेब में विशेष प्रकार के कैटेचिन, पॉलीफेनोल, कैफीटेनिन अम्ल पाये जाते हैं और साथ ही सेब में फिनोल, पॉलीफेनोल, और आक्सीडेज जैसे प्रमुख एन्जाइम्स भी पाये जाते हैं जब सेब को काटा जाता है तो उसमें उपस्थित फि
17 जुलाई 2020
08 जुलाई 2020
अब तक हिंदी न्यूज़ /प्रयागराज पीपल्स पार्टी आफ इंडिया डेमोक्रेटिक द्वारा,आज की गांव की चौपाल जिला प्रयागराज की बारा विधानसभा क्षेत्र के कौंधियारा ब्लॉक की पिपरहट्टा गांव में संपन्न हुई।गांव में मजदूरों की समस्या पर विचार रखते हुए "पीपल्स पार्टी आफ इंडिया डेमोक्रेटिक"! के प्रदेश अध्यक्ष माननीय आर के व
08 जुलाई 2020
05 जुलाई 2020
कं
आज का प्रेरक प्रसंग            कंजूस की इंसानियतएक नगर के बहुत बड़े सेठ का देहांत हो गया..उसका एक बेटा था, जो सोचने लगा, कौन आयेगा मेरे पिताजी के अंतिम संस्कार में..जीवन भर तो इन्होनें कोई पुण्य, कोई दान धर्म नही किया.. बस पैसे के पीछे भागते रहें..सब लोग कहते है ये तो कंजूसों के भी कंजूस थे, फिर कौन
05 जुलाई 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x