दो शब्द

19 जुलाई 2020   |  अबतक हिंदी न्यूज   (282 बार पढ़ा जा चुका है)



*आज का प्रेरक प्रसंग*


*!! दो शब्द !!*

---------------------------------------------


बहुत समय पहले की बात है, एक प्रसिद्द गुरु अपने मठ में शिक्षा दिया करते थे। पर यहाँ शिक्षा देना का तरीका कुछ अलग था, गुरु का मानना था कि सच्चा ज्ञान मौन रह कर ही आ सकता है; और इसलिए मठ में मौन रहने का नियम था। लेकिन इस नियम का भी एक अपवाद था, दस साल पूरा होने पर कोई शिष्य गुरु से दो शब्द बोल सकता था।


पहला दस साल बिताने के बाद एक शिष्य गुरु के पास पहुंचा, गुरु जानते थे की आज उसके दस साल पूरे हो गए हैं ; उन्होंने शिष्य को दो उँगलियाँ दिखाकर अपने दो शब्द बोलने का इशारा किया। शिष्य बोला, ”खाना गन्दा“ गुरु ने ‘हाँ’ में सर हिला दिया। इसी तरह दस साल और बीत गए और एक बार फिर वो शिष्य गुरु के समक्ष अपने दो शब्द कहने पहुंचा। ”बिस्तर कठोर”, शिष्य बोला।


गुरु ने एक बार फिर ‘हाँ’ में सर हिला दिया। करते-करते दस और साल बीत गए और इस बार वो शिष्य गुरु से मठ छोड़ कर जाने की आज्ञा लेने के लिए उपस्थित हुआ और बोला, “नहीं होगा” . “जानता था”, गुरु बोले, और उसे जाने की आज्ञा दे दी और मन ही मन सोचा जो थोड़ा सा मौका मिलने पर भी शिकायत करता है वो ज्ञान कहाँ से प्राप्त कर सकता है।



शिक्षा :-

फ्रेंड्स! बहुत से लोग अपनी लाइफ कम्प्लेन करने या शिकायत करने में ही बीता देते हैं, और उस शिष्य की तरह अपने लक्ष्य से चूक जाते हैं। शिष्य ने पहले दस साल सिर्फ ये बताने के लिए इंतज़ार लिया कि खाना गन्दा है ; यदि वो चाहता तो इस समय में वो खुद खाना बनाना सीख कर अपने और बाकी लोगों के लिए अच्छा खाना बना सकता था, चीजों को बदल सकता था… हमें यही करना चाहिए; हमें शिाकयात करने की जगह चीजों को सही करने की दिशा में काम करना चाहिए। और कम्प्लेन करने की जगह, “हमें खुद वो बदलाव बनना चाहिए जो हम दुनिया में देखना चाहते हैं।


अगला लेख: सबसे कीमती चीज



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
04 जुलाई 2020
वि
प्रेरणादायक कहानी विजेता मेंढकबहुत समय पहले की बात है एक सरोवर में बहुत सारे मेंढक रहते थे| सरोवर के बीचों -बीच एक बहुत पुराना धातु का खम्भा भी लगा हुआ था| जिसे उस सरोवर को बनवाने वाले राजा ने लगवाया था| खम्भा काफी ऊँचा था और उसकी सतह भी बिलकुल चिकनी थी|एक दिन मेंढकों के दिमाग में आया कि क्यों
04 जुलाई 2020
17 जुलाई 2020
मा
*माँ मैं फिर**माँ मैं फिर जीना चाहता हूँ, तुम्हारा प्यारा बच्चा बनकर**माँ मैं फिर सोना चाहता हूँ, तुम्हारी लोरी सुनकर,* *माँ मैं फिर दुनिया की तपिश का सामना करना चाहता हूँ, तुम्हारे आँचल की छाया पाकर**माँ मैं फिर अपनी सारी चिंताएँ भूल जाना चाहता हूँ, तुम्हारी गोद में सिर रखकर,* *माँ मैं फिर अपनी भूख
17 जुलाई 2020
08 जुलाई 2020
अब तक हिंदी न्यूज़ /प्रयागराज पीपल्स पार्टी आफ इंडिया डेमोक्रेटिक द्वारा,आज की गांव की चौपाल जिला प्रयागराज की बारा विधानसभा क्षेत्र के कौंधियारा ब्लॉक की पिपरहट्टा गांव में संपन्न हुई।गांव में मजदूरों की समस्या पर विचार रखते हुए "पीपल्स पार्टी आफ इंडिया डेमोक्रेटिक"! के प्रदेश अध्यक्ष माननीय आर के व
08 जुलाई 2020
19 जुलाई 2020
*माँ मैं फिर**माँ मैं फिर जीना चाहता हूँ, तुम्हारा प्यारा बच्चा बनकर**माँ मैं फिर सोना चाहता हूँ, तुम्हारी लोरी सुनकर,* *माँ मैं फिर दुनिया की तपिश का सामना करना चाहता हूँ, तुम्हारे आँचल की छाया पाकर**माँ मैं फिर अपनी सारी चिंताएँ भूल जाना चाहता हूँ, तुम्हारी गोद में सिर रखकर,* *माँ मैं फिर अपनी भूख
19 जुलाई 2020
25 जुलाई 2020
ही
हर व्यक्ति अपनी जीवन का हीरो स्वयं होता है जीवन में कठिनाइयां न हो तो इंसान कि परख नहीं हो सकती अगर हम मुश्किलों से डर जाए और घबरा कर भाग्य को दोष देने लगें तो इससे उत्थान कैसे संभव है रावण के बिना राम राम न होते बिना कंस के आतंक के कृष्ण कृष्ण न होते
25 जुलाई 2020
07 जुलाई 2020
*आज का विज्ञान**पहाड़ गर्मियों में भी ठंडा क्यों रहता है?*_Ans: पहाड़ो पर वायु विरल होती है अतः धुल के कण कम होते है जिससे ऊष्मा-विकिरण का अवशोषण कम होता है। साथ ही साथ पहाड़ पर सूर्य की किरणे तिरछी पड़ती है। कई स्थानों पर ये किरणे पहुँच भी नहीं पाती इसलिए गर्मियों में भी पहाड़ ठंडा रहता है।_
07 जुलाई 2020
04 जुलाई 2020
प्रेरणादायक कहानीआज ही क्यों नहीं ?एक बार की बात है कि एक शिष्य अपने गुरु का बहुत आदर-सम्मान किया करता था |गुरु भी अपने इस शिष्य से बहुत स्नेह करते थे लेकिन वह शिष्य अपने अध्ययन के प्रति आलसी और स्वभाव से दीर्घसूत्री था | सदा स्वाध्याय से दूर भागने की कोशिश करता तथा आज के काम को कल के लिए छोड़ दिया
04 जुलाई 2020
24 जुलाई 2020
सभी महिलाओं को समर्पित============================बेटा घर में घुसते ही बोला ~ मम्मी, कुछ खाने को दे दो, बहुत भूख लगी है.यह सुनते ही मैंने कहा ~ बोला था ना, ले जा कुछ कॉलेज. सब्जी तो बना ही रखी थी.बेटा बोला ~ मम्मी, अपना ज्ञान ना ... अपने पास रखा करो. अभी जो कहा है, वो कर दो बस, और हाँ, रात में ढंग क
24 जुलाई 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x