क्या मृत्यु से डरना चाहिए……?

31 जुलाई 2020   |  अशोक सिंह 'अक्स'   (305 बार पढ़ा जा चुका है)

क्या मृत्यु से डरना चाहिए……?

अगर हम बात मृत्यु की करते हैं तो अनायास आँखों के सामने किसी देखे हुए मृतक व्यक्ति के शव का चित्र उभरकर आ जाता है। मन भी न चाहते हुए शोकाकुल हो उठता है। आखिर ऐसी मनस्थिति के पीछे क्या वजह हो सकती है…? जबकि आज के परिवेश में घर के अंदर भी हमें दिन में ही ऐसी लाशों को देखने की आदत सी हो गई है। दूरदर्शन व अन्य चैनलों पर प्रसारित होने वाले धारावाहिकों के माध्यम से आपको मृत्यु की घटनाएँ आये दिन देखने को मिलती है। एक प्रकार से इंसान को सहज हो जाना चाहिए पर ऐसा नहीं है। वह तटस्थ नहीं रह पाता है, वह अपने आवेगों को नियंत्रित नहीं कर पाता है।

जबकि इस सृष्टि का नियम है कि जिसने भी जन्म लिया है उसे मरना है….. यही अटल सत्य है। जीवन का शाश्वत नियम है। इंसान भी इस तथ्य से बखूबी वाकिफ है पर खुद को समझा पाना मुश्किल होता है। सोचिए जरा…. जन्म और मृत्यु के बिना जीवन संभव है…. अरे भाई जन्म और मृत्यु के बीच का सफर ही तो जीवन कहलाता है। हाँ ये हुई न बात…. जीवन में जन्म - मृत्यु ही है…. यही तो मृत्युलोक है।

आइए जीवन को समझने का प्रयास करते हैं। पर जीवन को समझने के लिए सबसे पहले हमें जन्म और मृत्यु को समझना होगा… जीवन जन्म से आरंभ होता है और मृत्यु के साथ समाप्त होता है। कहने का तात्पर्य यह है कि जन्म और मृत्यु जीवन के दो छोर हैं। एक छोर से दूसरे छोर तक का सफर ही जीवन है। अतः जन्म के जिस छोर से जीवन का आरंभ होता है, मृत्यु के दूसरे छोर पर वह खत्म होता है। इस दौरान इंसान सुख-दुःख, आशा-निराशा, उतार-चढ़ाव और लाभ-हानि का सामना करता है। इन सबके साथ इंसान भेदभाव करता है। सुख पाने के लिए लालायित रहता है पर दुःख से कोसों दूर भागता है। लाभ पाने के लिए कोई भी कृत्य करने को तत्पर रहता है पर हानि शब्द सुनने मात्र से कलेजा मुँह को आ जाता है। जैसे जन्म को तो इंसान सुंदर मानता है लेकिन मृत्यु को असुंदर और कष्टदायी समझता है। जबकि सत्य यह है कि जन्म अगर सुंदर है तो मृत्यु भी तो सुंदर होनी चाहिए अर्थात उसे सहज स्वीकार करना चाहिए। उसे तकलीफ़ों से भरा हुआ मानने के कारण ही इंसान मृत्यु की बात करने से कतराता है, उससे दूर भागता है। इंसान को मृत्यु से भागने और डरने की जरूरत नहीं है बल्कि उसे समझने की जरूरत है। समझने और स्वीकार करने पर ही इंसान उसके भय से मुक्त होगा। अतः मृत्यु के भय से मुक्त होने के लिए इसे समझना ही है कि जन्म की तरह मृत्यु भी सुनिश्चित है। यह संसार नश्वर है। सबकुछ क्षणभंगुर है। मानव जीवन भी तो नश्वर और क्षणभंगुर है। द्वापर में अर्जुन भी मृत्यु से भ्रमित हो गए तब श्रीकृष्ण ने उनके भ्रम को दूर किया था। भ्रम से छूटकारा पाए बिना जीत संभव नहीं थी। मृत्यु से ही सदगति की प्रप्ति होती है अर्थात आत्मा को दूसरा नया चोला या शरीर धारण करने का अवसर प्राप्त होता है। पर इंसान सबकुछ जानते और समझते हुए भी अपने चारो ओर स्वार्थ, लोभ, मोह-माया आदि का घेरा अज्ञानतावश बना लेता है। जिसके कारण मृत्यु से भयभीत होता रहता है। अतः इंसान को मृत्यु को समझना होगा तब कहीं जाकर उसे इसके भय से मुक्ति मिल पाएगी।


➖ अशोक सिंह

अगला लेख: स्वस्थ रहना है तो....



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
19 जुलाई 2020
अभावों और पीड़ा को गान बना देने वाले प्रेम और विरहके साधक, बादलों से सलाम लेने वाले,विभावरी, आसावरी और अंतर्ध्वनि के गायक पद्मभूषणश्री गोपालदास नीरज – जिनके गीतों, ग़ज़लों, दोहों के एक एक शब्द में – एक एक छन्द में मानों एक नशा सा भरा हुआ है...जो कभी दार्शनिक अन्दाज़ में कहते हैं... “नींद भी खुली नथी कि
19 जुलाई 2020
30 जुलाई 2020
क्
क्या कहेंगें आप...?हम सभी जानते हैं कि प्रकृति परिवर्तनशील है। अनिश्चितता ही निश्चित, अटल सत्य और शाश्वत है बाकी सब मिथ्या है। बिल्कुल सच है, हमें यही बताया जाता है हमनें आजतक यही सीखा है। तो मानव जीवन का परिवर्तनशील होना सहज और लाज़मी है। जीवन प्रकृति से अछूता कैसे रह सकता है…? जीवन भी परिवर्तनशील ह
30 जुलाई 2020
23 जुलाई 2020
अजी ये क्या हुआ…?होली रास नहीं आयाकोरोना काल जो आयामहामारी साथ वो लायाअपना भी हुआ परायाबीपी धक धक धड़कायाछींक जो जोर से आया…तापमान तन का बढ़ायाऐंठन बदन में लायाथरथर काँपे पूरी कायाछूटे लोभ मोह मायादुश्मन लागे पूरा भायापूरा विश्व थरथराया……नाम दिया महामारीजिससे डरे दुनिया सारीचीन की चाल सभी पे भारीबौखला
23 जुलाई 2020
30 जुलाई 2020
क्
क्या कहेंगें आप...?हम सभी जानते हैं कि प्रकृति परिवर्तनशील है। अनिश्चितता ही निश्चित, अटल सत्य और शाश्वत है बाकी सब मिथ्या है। बिल्कुल सच है, हमें यही बताया जाता है हमनें आजतक यही सीखा है। तो मानव जीवन का परिवर्तनशील होना सहज और लाज़मी है। जीवन प्रकृति से अछूता कैसे रह सकता है…? जीवन भी परिवर्तनशील ह
30 जुलाई 2020
12 अगस्त 2020
स्
स्वस्थ रहना है तो….स्वस्थ रहना है तो नियम का पालन अर्थात अनुशासन को जीवन में अपनाना होगा। कहा जाता है कि स्वास्थ्य ही सबसे बड़ी संपत्ति है। बिल्कुल सही है। यदि स्वास्थ्य अच्छा नहीं होगा तो खुशी व प्रसन्नता कहाँ से मिलेगी। कहने का तात्पर्य यह है कि खुशी व प्रसन्नता के लिए सुख सुविधाओं का व शारीरिक सुख
12 अगस्त 2020
01 अगस्त 2020
तनाव मुक्त जीवन ही श्रेष्ठ है……आए दिन हमें लोंगों की शिकायतें सुनने को मिलती है….... लोग प्रायः दुःखी होते हैं। वे उन चीजों के लिए दुःखी होते हैं जो कभी उनकी थी ही नहीं या यूँ कहें कि जिस पर उसका अधिकार नहीं है, जो उसके वश में नहीं है। कहने का मतलब यह है कि मनुष्य की आवश्यकतायें असीम हैं….… क्योंकि
01 अगस्त 2020
24 जुलाई 2020
को
पिछले चार महीनें से कोरोना वायरस का प्रकोप चारो ओर फैला हुआ है। कोरोना महामारी के कारण लोंगों का जीना मुहाल है। ऐसे में मुसलमान भाइयों के बकरीद पर्व का आगमन हो रहा है। पूरा विश्व आज कोरोना से त्राहि त्राहि कर रहा है तो ऐसे में बकरीद का पर्व इससे अछूता कैसे रह सकता है। कोरोना के चलते विश्वव्यापी मंदी
24 जुलाई 2020
02 अगस्त 2020
जी
जीवित हो अगर, तो जियो जीभरकर...जीते तो सभी हैं पर सभी का जीवन जीना सार्थक नहीं है। कुछ लोग तो जिये जा रहे हैं बस यों ही… उन्हें खुद को नहीं पता है कि वे क्यों जी रहे हैं? क्या उनका जीवन जीना सही मायनें में जीवन है। आओ सबसे पहले हम जीवन को समझे और इसकी आवश्यकता को। जिससे कि हम कह सकें कि जीवित हो अगर
02 अगस्त 2020
20 जुलाई 2020
जीवन क्या है..? या मृत्यु क्या है..? क्या कभी आपने इसे समझने की चेष्टा की है..? नहीं, जरूरत ही नहीं पड़ी। मनुष्य ऐसा ही है.. तो क्या सोच गलत है...जी बिल्कुल नहीं, ये तो मनुष्यगत स्वभाव है। जरा उनके बारे में सोचिए जिन्होंने हमें ज्ञान की बाते
20 जुलाई 2020
10 अगस्त 2020
को
कोविड की तानाशाहीहम कहते हैं बुरा न मानोमुँह को छिपाना जरूरी हैअपनेपन में गले न लगाओदूरियाँ बनाना जरूरी हैकोरोना महामारी तोएक भयंकर बीमारी हैकहने को तो वायरस हैपर छुआछूत बीमारी हैहट्टे कट्टे इंसानों पर भी एक अकेला भारी हैआँख मुँह और नाक कान सेकरता छापेमारी हैएक पखवाड़े के भीतर हीअपना जादू चलाता हैकोर
10 अगस्त 2020
12 अगस्त 2020
स्
स्वस्थ रहना है तो….स्वस्थ रहना है तो नियम का पालन अर्थात अनुशासन को जीवन में अपनाना होगा। कहा जाता है कि स्वास्थ्य ही सबसे बड़ी संपत्ति है। बिल्कुल सही है। यदि स्वास्थ्य अच्छा नहीं होगा तो खुशी व प्रसन्नता कहाँ से मिलेगी। कहने का तात्पर्य यह है कि खुशी व प्रसन्नता के लिए सुख सुविधाओं का व शारीरिक सुख
12 अगस्त 2020
13 अगस्त 2020
माँ का रुदन************** अरे ! ये कैसा रुदन है..? स्वतंत्रता दिवस पर्व पर उल्लासपूर्ण वातावरण में देशभक्ति के गीत गुनगुनाते हुये चिरौरीलाल शहीद उद्यान से निकला ही था कि किसी स्त्री के सिसकने की आवाज़ से उसके कदम ठिठक गये थे। ऐसे खुशनुमा माहौल में रुदन का स्वर सुन च
13 अगस्त 2020
06 अगस्त 2020
यादों की ज़ंजीर रात्रि का दूसरा प्रहर बीत चुका था, किन्तु विभु आँखें बंद किये करवटें बदलता रहा। एकाकी जीवन में वर्षों के कठोर श्रम,असाध्य रोग और अपनों के तिरस्कार ने उसकी खुशियों पर वर्षों पूर्व वक्र-दृष्टि क्या डाली कि वह पुनः इस दर्द से उभर नहीं सका है। फ़िर भी इन बुझी हुई आशाओं,टूटे हुये हृद
06 अगस्त 2020
19 जुलाई 2020
हि
नई पाठ्यपुस्तक युवकभारती और बारहवीं के छात्रहालही में जहाँ एकतरफ पूरा विश्व कोरोना महामारी अर्थात कोविड-19 से त्रस्त है वहीं महाराष्ट्र राज्य माध्यमिक व उच्च माध्यमिक मंडल पुणे द्वारा बारहवीं कक्षा के लिए हिंदी विषय के पाठ्यक्रम में नई पाठ्यपुस्तक हिंदी युवक भारती प्रकाशित की गई है। ऐसे जटिल समय मे
19 जुलाई 2020
01 अगस्त 2020
आत्माराम उसके घर का रास्ता बनारस की जिस प्रमुख मंडी से होकर गुजरता था। वहाँ यदि जेब में पैसे हों तो गल्ला-दूध , घी-तेल, फल-सब्जी, मेवा-मिष्ठान सभी खाद्य सामग्रियाँ उपलब्ध थीं।लेकिन, इन्हीं बड़ी-बड़ी दुकानों के मध्य यदि उसकी निगाहें किसी ओर उठती,तो वह सड़क के नुक्कड़ पर स्थित विश्वनाथ साव की कचौड़
01 अगस्त 2020
01 अगस्त 2020
तनाव मुक्त जीवन ही श्रेष्ठ है……आए दिन हमें लोंगों की शिकायतें सुनने को मिलती है….... लोग प्रायः दुःखी होते हैं। वे उन चीजों के लिए दुःखी होते हैं जो कभी उनकी थी ही नहीं या यूँ कहें कि जिस पर उसका अधिकार नहीं है, जो उसके वश में नहीं है। कहने का मतलब यह है कि मनुष्य की आवश्यकतायें असीम हैं….… क्योंकि
01 अगस्त 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x