क्या मृत्यु से डरना चाहिए……?

31 जुलाई 2020   |  अशोक सिंह   (287 बार पढ़ा जा चुका है)

क्या मृत्यु से डरना चाहिए……?

अगर हम बात मृत्यु की करते हैं तो अनायास आँखों के सामने किसी देखे हुए मृतक व्यक्ति के शव का चित्र उभरकर आ जाता है। मन भी न चाहते हुए शोकाकुल हो उठता है। आखिर ऐसी मनस्थिति के पीछे क्या वजह हो सकती है…? जबकि आज के परिवेश में घर के अंदर भी हमें दिन में ही ऐसी लाशों को देखने की आदत सी हो गई है। दूरदर्शन व अन्य चैनलों पर प्रसारित होने वाले धारावाहिकों के माध्यम से आपको मृत्यु की घटनाएँ आये दिन देखने को मिलती है। एक प्रकार से इंसान को सहज हो जाना चाहिए पर ऐसा नहीं है। वह तटस्थ नहीं रह पाता है, वह अपने आवेगों को नियंत्रित नहीं कर पाता है।

जबकि इस सृष्टि का नियम है कि जिसने भी जन्म लिया है उसे मरना है….. यही अटल सत्य है। जीवन का शाश्वत नियम है। इंसान भी इस तथ्य से बखूबी वाकिफ है पर खुद को समझा पाना मुश्किल होता है। सोचिए जरा…. जन्म और मृत्यु के बिना जीवन संभव है…. अरे भाई जन्म और मृत्यु के बीच का सफर ही तो जीवन कहलाता है। हाँ ये हुई न बात…. जीवन में जन्म - मृत्यु ही है…. यही तो मृत्युलोक है।

आइए जीवन को समझने का प्रयास करते हैं। पर जीवन को समझने के लिए सबसे पहले हमें जन्म और मृत्यु को समझना होगा… जीवन जन्म से आरंभ होता है और मृत्यु के साथ समाप्त होता है। कहने का तात्पर्य यह है कि जन्म और मृत्यु जीवन के दो छोर हैं। एक छोर से दूसरे छोर तक का सफर ही जीवन है। अतः जन्म के जिस छोर से जीवन का आरंभ होता है, मृत्यु के दूसरे छोर पर वह खत्म होता है। इस दौरान इंसान सुख-दुःख, आशा-निराशा, उतार-चढ़ाव और लाभ-हानि का सामना करता है। इन सबके साथ इंसान भेदभाव करता है। सुख पाने के लिए लालायित रहता है पर दुःख से कोसों दूर भागता है। लाभ पाने के लिए कोई भी कृत्य करने को तत्पर रहता है पर हानि शब्द सुनने मात्र से कलेजा मुँह को आ जाता है। जैसे जन्म को तो इंसान सुंदर मानता है लेकिन मृत्यु को असुंदर और कष्टदायी समझता है। जबकि सत्य यह है कि जन्म अगर सुंदर है तो मृत्यु भी तो सुंदर होनी चाहिए अर्थात उसे सहज स्वीकार करना चाहिए। उसे तकलीफ़ों से भरा हुआ मानने के कारण ही इंसान मृत्यु की बात करने से कतराता है, उससे दूर भागता है। इंसान को मृत्यु से भागने और डरने की जरूरत नहीं है बल्कि उसे समझने की जरूरत है। समझने और स्वीकार करने पर ही इंसान उसके भय से मुक्त होगा। अतः मृत्यु के भय से मुक्त होने के लिए इसे समझना ही है कि जन्म की तरह मृत्यु भी सुनिश्चित है। यह संसार नश्वर है। सबकुछ क्षणभंगुर है। मानव जीवन भी तो नश्वर और क्षणभंगुर है। द्वापर में अर्जुन भी मृत्यु से भ्रमित हो गए तब श्रीकृष्ण ने उनके भ्रम को दूर किया था। भ्रम से छूटकारा पाए बिना जीत संभव नहीं थी। मृत्यु से ही सदगति की प्रप्ति होती है अर्थात आत्मा को दूसरा नया चोला या शरीर धारण करने का अवसर प्राप्त होता है। पर इंसान सबकुछ जानते और समझते हुए भी अपने चारो ओर स्वार्थ, लोभ, मोह-माया आदि का घेरा अज्ञानतावश बना लेता है। जिसके कारण मृत्यु से भयभीत होता रहता है। अतः इंसान को मृत्यु को समझना होगा तब कहीं जाकर उसे इसके भय से मुक्ति मिल पाएगी।


➖ अशोक सिंह

अगला लेख: कोरोना महामारी और बकरीद पर्व



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
06 अगस्त 2020
यादों की ज़ंजीर रात्रि का दूसरा प्रहर बीत चुका था, किन्तु विभु आँखें बंद किये करवटें बदलता रहा। एकाकी जीवन में वर्षों के कठोर श्रम,असाध्य रोग और अपनों के तिरस्कार ने उसकी खुशियों पर वर्षों पूर्व वक्र-दृष्टि क्या डाली कि वह पुनः इस दर्द से उभर नहीं सका है। फ़िर भी इन बुझी हुई आशाओं,टूटे हुये हृद
06 अगस्त 2020
19 जुलाई 2020
सफलताप्राप्ति के लिए क्या करेंअक्सर लोग इस बात पर मार्गदर्शन के लिए आते हैं कि उन्हें अपने कार्यों मेंसफलता प्राप्त नहीं होती, क्या करें इसके लिए ? कई बार लोग कहते हैं किहमारी जन्मपत्री देखकर कोई उपाय बताइये | हम उन सबसे यही कहते हैं कि भाईजन्मपत्री अपनी जगह है, प्रयास तो आपको स्वयं ही करना होगा |अन
19 जुलाई 2020
01 अगस्त 2020
तनाव मुक्त जीवन ही श्रेष्ठ है……आए दिन हमें लोंगों की शिकायतें सुनने को मिलती है….... लोग प्रायः दुःखी होते हैं। वे उन चीजों के लिए दुःखी होते हैं जो कभी उनकी थी ही नहीं या यूँ कहें कि जिस पर उसका अधिकार नहीं है, जो उसके वश में नहीं है। कहने का मतलब यह है कि मनुष्य की आवश्यकतायें असीम हैं….… क्योंकि
01 अगस्त 2020
05 अगस्त 2020
जय बोलो प्रभु श्री राम कीजय बोलो प्रभु श्री राम कीअयोध्या नगरी दिव्य धाम कीपावन नगरी के उस महिमा कीतुलसीदास जी के गरिमा कीजो जन्म भूमि कहलाता हैत्रेतायुग से जिसका नाता हैसुनि रामराज्य मन भाता है।जय बोलो प्रभु श्री राम कीअयोध्या नगरी दिव्य धाम कीजग के पालनहारी श्री रामबिगड़ी सबके बनाते कामभ्राता भरत क
05 अगस्त 2020
08 अगस्त 2020
वक्त अच्छा हो तो….कोरोना काल में अंतर्मन ने पूछा -इस दुनिया में तुम्हारा अपना कौन है..?सवाल सुनते हीएक विचार मन में कौंधामाँ-बाप, भाई-बहन, पत्नी…बेटा - बेटी या फिर मित्र..किसे कहूँ अपना..?यदि वक़्त अच्छा हो तोजो अदृश्य हैसर्वशक्तिमान हैसर्वव्यापी हैवो भी अपना है तब सब कुछ ठीक है।वक़्त अच्छा हो तोमाँ-ब
08 अगस्त 2020
30 जुलाई 2020
क्
क्या कहेंगें आप...?हम सभी जानते हैं कि प्रकृति परिवर्तनशील है। अनिश्चितता ही निश्चित, अटल सत्य और शाश्वत है बाकी सब मिथ्या है। बिल्कुल सच है, हमें यही बताया जाता है हमनें आजतक यही सीखा है। तो मानव जीवन का परिवर्तनशील होना सहज और लाज़मी है। जीवन प्रकृति से अछूता कैसे रह सकता है…? जीवन भी परिवर्तनशील ह
30 जुलाई 2020
18 जुलाई 2020
ये वो काल है जो लोगों को उसकी वास्तविकता से अवगत कराया है ! कल्पना की उड़ान बहुत ऊँची होती है और ये इतनी ऊँची होती है कि लोगों का सोच उसी मनोदशा में जीना सीख लेती है ! जब कभी कल्पनाओं का आसमान उनके ऊपर से हट जाता है तो वो वास्तविकता को ढूंढने लग जाते
18 जुलाई 2020
13 जुलाई 2020
🔴संजय चाणक्य " कलम सत्य की शक्तिपीठ है बोलेगी सच बोलेगी। वर्तमान के अपराधो को समय तुला पर तोलेगी।। पांचाली के चीरहरण पर जो चुप पाये जायेगे। इतिहास के पन्नों पर वो सब कायर कहलायेगे।।"देश के सबसे बडे सूबे मे कानपुर के डिप्टी एसपी सहित आठ पुलिसकर्मियों का हत्यारा व पांच लाख का इनामी गैगेस्टर
13 जुलाई 2020
01 अगस्त 2020
तनाव मुक्त जीवन ही श्रेष्ठ है……आए दिन हमें लोंगों की शिकायतें सुनने को मिलती है….... लोग प्रायः दुःखी होते हैं। वे उन चीजों के लिए दुःखी होते हैं जो कभी उनकी थी ही नहीं या यूँ कहें कि जिस पर उसका अधिकार नहीं है, जो उसके वश में नहीं है। कहने का मतलब यह है कि मनुष्य की आवश्यकतायें असीम हैं….… क्योंकि
01 अगस्त 2020
21 जुलाई 2020
यह फूल इस सृष्टि का अनमोल उपहार है। कितना सुंदर, मनमोहक और आकर्षक है। वास्तव में प्रकृति की दी हुई हर चीज सुंदर होती है। जिसमें फूलों की तो बात ही कुछ और होती है। रंग विरंगे फूल अपने रंग रूप और सुगंध को फैला देते हैं। जिससे प्रकृति के रूप सौंदर्य में और अधिक निखार आ जाता है। जबकि इन फूलों का जीवन स
21 जुलाई 2020
24 जुलाई 2020
को
पिछले चार महीनें से कोरोना वायरस का प्रकोप चारो ओर फैला हुआ है। कोरोना महामारी के कारण लोंगों का जीना मुहाल है। ऐसे में मुसलमान भाइयों के बकरीद पर्व का आगमन हो रहा है। पूरा विश्व आज कोरोना से त्राहि त्राहि कर रहा है तो ऐसे में बकरीद का पर्व इससे अछूता कैसे रह सकता है। कोरोना के चलते विश्वव्यापी मंदी
24 जुलाई 2020
01 अगस्त 2020
आत्माराम उसके घर का रास्ता बनारस की जिस प्रमुख मंडी से होकर गुजरता था। वहाँ यदि जेब में पैसे हों तो गल्ला-दूध , घी-तेल, फल-सब्जी, मेवा-मिष्ठान सभी खाद्य सामग्रियाँ उपलब्ध थीं।लेकिन, इन्हीं बड़ी-बड़ी दुकानों के मध्य यदि उसकी निगाहें किसी ओर उठती,तो वह सड़क के नुक्कड़ पर स्थित विश्वनाथ साव की कचौड़
01 अगस्त 2020
22 जुलाई 2020
कर्म करते जाओ फल की चिंता मत करो….हम अपने आस - पास अक्सर लोंगों को बोलते हुए सुनते हैं, हर कोई आध्यात्मिक अंदाज में संदेश देते रहता है - 'कर्म करते जाओ फल की चिंता मत करो…...।' वस्तुतः ठीक भी है। एक विचार यह है कि फल की चिंता कर्म करने से पहले करना कितना उचित है अर्थात निस्वार्थ भाव से कर्म को बखूब
22 जुलाई 2020
01 अगस्त 2020
हि
हिंदी साहित्य के धरोहर "मुंशी प्रेमचंद"जनमानस का लेखक, उपन्यासों का सम्राट और कलम का सिपाही बनना सबके बस की बात नहीं है। यह कारनामा सिर्फ मुंशी प्रेमचंद जी ने ही कर दिखाया। सादा जीवन उच्च विचार से ओतप्रोत ऐसा साहित्यकार जो साहित्य और ग्रामीण भारत की समस्याओं के ज्यादा करीब रहा। जबकि उस समय भी लिखने
01 अगस्त 2020
23 जुलाई 2020
अजी ये क्या हुआ…?होली रास नहीं आयाकोरोना काल जो आयामहामारी साथ वो लायाअपना भी हुआ परायाबीपी धक धक धड़कायाछींक जो जोर से आया…तापमान तन का बढ़ायाऐंठन बदन में लायाथरथर काँपे पूरी कायाछूटे लोभ मोह मायादुश्मन लागे पूरा भायापूरा विश्व थरथराया……नाम दिया महामारीजिससे डरे दुनिया सारीचीन की चाल सभी पे भारीबौखला
23 जुलाई 2020
07 अगस्त 2020
मे
मेहतर….साहबअक्सर मैंने देखा हैअपने आस-पासबिल्डिंग परिसर व कालोनियों मेंकाम करते मेहतर परडाँट फटकार सुनातेलोंगों कोजिलालत करतेमारते भर नहींपार कर देते हैं सारी हदेंथप्पड़ रसीद करने में भी नहीं हिचकते।सच साहबकिसी और पर नहींबस उसी मेहतर परजो साफ करता हैउनकी गंदगीबीड़ी सिगरेट की ठुंठेंबियर शराब की खाली बो
07 अगस्त 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x