बिना शांति के ज्ञान नहीं हो सकता

10 नवम्बर 2020   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (424 बार पढ़ा जा चुका है)

बिना शांति के ज्ञान नहीं हो सकता

*इस संसार में मनुष्य येनि में जन्म लेने के बाद जीव अनेकों प्रकार के ज्ञान प्राप्त करने का प्रयास करता है | प्राय: लोग भौतिक ज्ञान प्राप्त करके स्वयं को विद्वान मानने लगते हैं परंतु कुछ लोग ऐसे भी हैं जो आध्यात्मिक एवं आत्मिक ज्ञान (आत्मज्ञान) प्राप्त करने के लिए जीवन भर संघर्ष करते रहते हैं | आत्मज्ञान प्राप्त किये बिना मनुष्य को इस असार संसार का रहस्य नहीं समझ में आ सकता है | आत्मज्ञान प्राप्त करने का सबसे सरल उपाय है अपने मन को शांत करना जब तक चित्त को शान्ति की प्राप्ति नहीं होगी तब तक ज्ञान प्राप्त होना सम्भव ही नहीं है | जिस प्रकार किसी स्वच्छ जल के तालाब में किसी जानवर के घुस जाने पर वह स्वच्छ जल गंदा होकर पीने योग्य नहीं रह जाता | परंतु धीरे धीरे जब जानवर के घुसने से उठा कीचड़ (धूल) बैठने लगता है तो कुछ देर के बाद वह जल पुन: शांत हो जाता है और तब वह शांत जल स्वच्छ होकर पीने योग्य होता है | उसी प्रकार मनुष्य का मन भी एक स्वच्छ तालाब है परंतु इस मन रूपी तालाब में पल पल कुविचार रूपी पता नहीं कितने जानवर उछल कूद मचाते रहते हैं | इन कुविचारों से उत्पन्न कुसंस्कारों के कारण ही मानव मन अपवित्र एवं अस्थिर हो जाता है | निरंतर अभ्यास एवं ध्यान की प्रक्रिया से प्रत्येक मनुष्य को इस मन को स्थिर एवं शांत करने का प्रयास करना चाहिए क्योंकि जब तक मन स्थिर , शांत एवं पवित्र नहीं होगा तब तक ज्ञान की प्राप्ति नहीं हो सकती | प्रत्येक साधक को अपनी साधना में निरंतरता एवं धैर्य बनाये रखते हुए ध्यान की गहराई में उतरने का प्रयास करना चाहिए | जब साधक ध्यान की गहराई उतर जाता है तब उसका मन पूर्णरूप से स्थिर , शांत एवं पवित्र होकर समाधिस्थ हो जाता है | जब साधक इस स्थिति में पहुँच जाता है तो उसे स्वत: आत्मज्ञान की उपलब्धि हो जाती है | यही साधना एवं आत्मज्ञान प्राप्त करने का मर्म (रहस्य) है |*


*आज के आधुनिक एवं चकाचौंध भरे युग में अनेकों विद्वान , ज्ञानी आदि देखने को तो मिल जाते हैं परंतु आत्मज्ञानी मिलना कठिन होता जा रहा है | आज आधुनिक वैज्ञानिकों ने मानवमात्र के लिए लगभग सभी सुख सुविधायें उपलब्ध कराई हैं परंतु मनुष्य के मन की शान्ति खो गयी है | मनुष्य के मनरूपी तालाब में सदैव हलचल मची रहती है | कुविचार एवं शंकारूपी अनेक जानवर सदैव उथल पुथल मचाये रहते हैं | मनरूपी तालाब का जल इतना गन्दा हो गया है कि वह स्थिर ही नहीं हो पा रहा है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" यह नहीं कह रहा हूं कि आज आत्मज्ञान प्राप्त करने के इच्छुक नहीं है , परंतु यह भी सत्य है कि आत्मज्ञान प्राप्त करने के इच्छुक अपने मन को स्थिर नहीं रख पा रहे हैं | अनेकों लोग ऐसे भी हैं जो सत्संग के माध्यम से अपने मन को शांत करने का प्रयास करते हैं परंतु अगले ही क्षण उनके मन में पुन: हलचल होने लगती है | जब तक मनुष्य स्वयं को कर्मयोगी नहीं मानेगा तब तक उसका मन स्थिर हो ही नहीं सकता है , मन में सदैव हलचल मची रहेगी और जब तक मनुष्य का मन स्थिर एवं शांत नहीं होगा तब तक उसे आत्मज्ञान की प्राप्ति कदापि नहीं हो सकती | मनुष्य का स्वभाव होता है कि वह अपने आसपास होने वाली क्रियाओं के द्वारा स्वयं को जोड़ लेता है | यद्यपि वह जानता है कि जो भी कर्म हो रहे हैं उसका आधार ईश्वर है परंतु स्वयं को कर्ता मानकर कभी सुख एवं कभी दुख का भोग करने वाला मनुष्य कभी भी स्थिर एवं शांत नहीं हो सकता | जिसने यह मान लिया कि मनुष्य तो निमित्त मात्र है शेष जो भी कर्म हो रहे हैं वह सब ईश्वर कर रहा है उसका ही मन स्थिर होने की स्थिति में पहुंच सकता है | अपने किसी भी स्वजन / बंधुओं के द्वारा किए गए कर्मों से जिसे ना दुख होता है ना सुख होता है वही सच्चा संत एवं स्थिर मन कहा जा सकता है और आज के युग में जहां मनुष्य "मैं और मेरा" "तू और तेरा" के दलदल में फंसा है वहाँ आत्मज्ञान प्राप्त करना एक दिवास्वप्न के अतिरिक्त और कुछ नहीं है | ऐसे में किसी और के कर्मों को ना देखते हुए मनुष्य को अपने कर्म पर ध्यान देकर सदैव आगे बढ़ते हुए अपने मन से विचार एवं शंका रूपी जानवरों को मनरूपी तालाब से निकालने का प्रयास करना चाहिए क्योंकि जब तक मन में विचार रूपी जानवर हलचल मचाये रखेंगे तब तक ना तो मन स्थिर हो सकता है और ना ही ज्ञान प्राप्त हो सकता है क्योंकि बिना शांति के ज्ञान की उपलब्धि कदापि नहीं हो सकती |*


*ज्ञान प्राप्त करने के लिए मनुष्य को सांसारिक उद्योग करने की अपेक्षा अपने मन को शांत करने का प्रयास करना चाहिए | जिसका मन शांत हो गया वही सच्चा आत्मज्ञानी कहा जा सकता है |*

अगला लेख: ज्ञान को जीवन में उतारें



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
15 नवम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *सत्तावनवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*छप्पनवें भाग* में आपने पढ़ा :--*संकट कटै मिटै सब प
15 नवम्बर 2020
24 नवम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *चौसठवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*तिरसठवें भाग* में आपने पढ़ा :--*पवन तनय संकट हरण म
24 नवम्बर 2020
28 अक्तूबर 2020
*मानव जीवन बड़ी ही विचित्रताओं से भरा हुआ है | ब्रह्मा जी की सृष्टि में सुख-दुख एक साथ रचे गए हैं | मनुष्य के सुख एवं दुख का कारण उसकी कामनाएं एवं एक दूसरे से अपेक्षाएं ही होती हैं | जब मनुष्य की कामना पूरी हो जाती है तब वह सुखी हो जाता है परंतु जब उसकी कामना नहीं पूरी होती तो बहुत दुखी हो जाता है |
28 अक्तूबर 2020
19 नवम्बर 2020
🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *इकसठवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*साठवें भाग* में आपने पढ़ा :--*जो य पढ़े हनुमान चाल
19 नवम्बर 2020
31 अक्तूबर 2020
*इस संसार में मनुष्य अपना जीवन यापन करने के लिए अनेकानेक उपाय करता है जिससे कि उसका जीवन सुखमय व्यतीत हो सके | जीवन इतना जटिल है कि इसे समझ पाना सरल नहीं है | मनुष्य का जन्म ईश्वर की अनुकम्पा से हुआ है अत: मनुष्य को सदैव ईश्वर के अनुकूल रहते हुए उनकी शरण प्पाप्त करने का प्रयास करते रहना चाहिए | इसी
31 अक्तूबर 2020
10 नवम्बर 2020
*इस धरा धाम पर जन्म लेने के बाद मनुष्य का एक ही लक्ष्य होता है ईश्वर की प्राप्ति करना | वैसे तो ईश्वर को प्राप्त करने के अनेकों उपाय हमारे शास्त्रों में बताए गए हैं | कर्मयोग , ज्ञानयोग एवं भक्तियोग के माध्यम से ईश्वर को प्राप्त करने का उपाय देखने को मिलता है , परंतु जब ईश्वर को प्राप्त करने के सबसे
10 नवम्बर 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x