खुबसूरत रिश्तों का आधार - मित्रता

07 अगस्त 2016   |  बबिता गुप्ता   (243 बार पढ़ा जा चुका है)

              दुनियां में हमारे पर्दापर्ण होते ही हम कई रिश्तों से घिर जाते हैं .रिश्तों का बंधन हमारे होने का एहसास करता हैं .साथ ही अपने दायीत्यों व् कर्तब्यों का.जिन्हें हम चाह कर भी अनदेखा नहीं कर सकते और न ही उनसे बन्धनहीन .लेकिन सच्ची दोस्ती दुनियां का वह नायाब तोहफा हैं जिसे हम ही तय करते हैं . ज्ञान ी दोस्त ही जिन्दगी का सबसे बड़ा बरदान हैं .हमें प्यार सभी से करना चाहियें लेकिन दोस्ती सर्वोत्तम से ही करना चाहियें .अगर प्रेम दुर्लभ होता हैं तो सच्ची मित्रता सबसे दुर्लभ. मित्र दुःख में राहत, कठिनाई में पथप्रदर्शक , जीवन की खुशी हैं, जमीन का खजाना ,मनुष्य के रूप में नेंक फरिश्ता .दोस्ती अनकंडीशनल होनी चाहिये .यह बाहरी दिखावें से परे ,आतंरिक सुन्दरता, सादगी और आत्मीयता का प्रतीक होती हैं इस अटूट रोश्तएं में व्यक्ति सहगानुभूती के साथ अपने सोच विचार व् भावनायो को साझा करता हैं .दोस्ती का रिश्ता एक आयना की तरह होता हैं ,जिसमें बिना किसी मतभेद के एक दूसरें की जरूरत समझते हुए समर्थन देकर ,अवसाद के क्षणों में अच्छी सलाह व् मानसिक शांति देता हैं .जेसा कि डा. बोरिस नए कहा हैं की - जब कोइ महिला स्ट्रेस की सिकायत करती हैं तब हम उसे एक अच्छा दोस्त दूदकर उससे अपने मन की बात कहने की सलाह देते हैं .दोस्ती सच्चाई व् कोमलता से ही बनती हैं .वह हमारे अतीत को जानकर जेसी हैं वेसी ही स्वीकारती हैं .इस सम्बन्ध में एलावेर्ट नए कहा हैं की ' एक मित्र वह होता हैं जो आपके बारे में सब कुछ जानता हैं और तब भी वह आपसे प्यार करता हैं .

                 सच्ची दोस्ती दुनियां का एक नायाब ,बेशकीमती तोहफा हैं .ये हमारे सच्चे शुभ चिन्तक होतें हैं ,जो कठिनाईयों से बचाकर हमारे अर्थहीन जीवन को अर्थपूर्ण बनाकर सफलता का सच्चा रास्ता दिखाता  हैं .एक ढर्रे पर चलने वाली जिन्दगीं में नई-  नई सोच से रूबरू करवा क्र जीने का एक अलग अंदाज सिखाते हैं .सच्ची दोस्ती पारस्परिक विशवास व् समझ के कारण गहरी होती जाती है .ईसलिये यह अन्य रिश्तों से गहरी होती हैं .

                 हम अपने ख़ास दोस्त के प्रति अपनी भावना व्यक्त करने के लिए प्रति वर्ष अगस्त के प्रथम रविवार को मित्रता दिवस मनाते हैं .ईस के पीछें मित्र के प्रति सम्मान की भावना जुडी होती हैं .दोस्ती की अहमियत से ही हमें पूरे जीवन भर विना स्वार्थ के और उदार बनाए रहने की शिक्षा मिलती हैं या संदेश मिलता हैं .आज के समय में हमारे जीवन का पर्याय बन गया हैं .जेसा की खली जिब्रान जी नए कहा हैं की - एक सच्चा मित्र हमारे अभावों की पूर्ति करता हैं .आज के अशांत जीवन के द्वंद और उलझनों के बीच एक सच्चें मित्र की आवश्यकता और महत्तवता बद जाती हैं .' 

अगला लेख: जिन्दगी का गडित



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
11 अगस्त 2016
म्हारा जीवन तराजू समान हैं जिसमें सुख और दुःख रूपी दो पल्लें हैं और डंडी जीवन को बोझ उठाने वाली सीमा पट्टी हें .काँटा जीवन चक्र के घटने वाले समयों का हिजाफा देता हैं .सुख दुःख के किसी भी पल्ले का बोझ कम या अधिक होनें पर कांटा डगमगाने लगता हैं सुख दुःख रूपी पल्लों की जुडी लारियां उसके किय कर्मो की सू
11 अगस्त 2016
21 अगस्त 2016
आज का सुवचन
21 अगस्त 2016
10 अगस्त 2016
जि
जिंदगी गडित के एक सवाल की तरह हैं जिसमें सम विषम संख्यायों की तरह सुलझें - अनसुलझें साल हैं .हमारी दुनियां वृत की तरह गोल हैं जिस पर हम परिधि की तरह गोल गोल घूमतें रहते हैं .आपसी अंतर भेद को व् जीवन में आपसी सामंजस्य बिठाने के लिए  कभी हम जोड़ - वाकी करते हैं तो कभी हम गुणा भाग करते हैं .लेकिन फिर भी
10 अगस्त 2016
15 अगस्त 2016
जि
जिन्दगी एक जुआ की तरह हैं ,जिसमे ताश के पत्तों की तरह जीवन की खुशियाँ बखर जाती हैं .जब तक जीवन में सुखों का अंबार लगा रहता हैं तब तक हमें उन लम्हों अ आभास ही नहीं होता हैं जो हमारी हंसती ,मुस्कराती ,रंग - बिरंगी दुनियां में घुसपैठ कर बैठती हैं और जीवन की खुशनुमा लम्हों की लड़ीबिखर कर ,छितर कर गम हो ज
15 अगस्त 2016
20 अगस्त 2016
आज का सुवचन
20 अगस्त 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x