आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x

रिश्तों

13 अप्रैल 2017   |  Karan Singh Sagar

रिश्तों की पहचान सब को है

फिर भी इनकी समझ कितनो को है

रिश्तों से उम्मीद सब को है

फिर भी इन्हें निभाते कितने हैं

रिश्तों में मिठास की ज़रूरत सबको है

फिर भी इनमे मिठास घोलते कितने हैं

रिश्तों की कड़वाहट लगती बुरी सब को है

फिर भी इसे ख़त्म करने की कोशिश करते कितने हैं

रिश्तों से ज़िंदगी बेहतर बनाने की चाह सब को है

फिर भी इनको सुंदर बनाने की कोशिश करते कितने हैं


२९ मार्च २०१७

जिनेवा

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
प्रश्नोत्तर
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x