है वो आज अकेली क्यों

14 मई 2017   |  Karan Singh Sagar ( डा. करन सिंह सागर)   (87 बार पढ़ा जा चुका है)

है वो आज अकेली क्यों

नों महीने रखा अपनी कोख में जिसने

लगती है वो आज बोझ क्यों

काट कर अपना पेट, भरा पेट हमारा

सो जाती आज, वो ख़ाली पेट क्यों

आने नहीं देती थी हमारी आँखों में आँसु

उसकी आँखों में रहते हैं आँसु, आज दिन रात क्यों

जिसके बोल कभी लगते थे अमृत

उसी के दो शब्द लगते हैं, आज कड़वे क्यों

हाथ पकड़ कर चलना सिखाया जिसने

उसके हाथ को पकड़ कर चलना लगता है भार क्यों

सिखाया जिसने जीने का ढंग और दिए संस्कार

उसके ही जीने का तरीक़ा लगता है आज शर्मनाक क्यों

होता नहीं था कोई त्योहार पूरा, उसके आशीर्वाद के बिना

वो ही त्योहार उसके बिना धूम धाम से बन जाते हैं क्यों

लगता था घर जिसके बिना सूना

रहती है वो आज , इस घर के एक कोने में, अकेली क्यों


१४ मई २०१७

जिनेवा


अगला लेख: तक़दीर



रेणु
14 मई 2017

करण जी आपने माँ के अकेलेपन का बहुत ही भावुक चित्र प्रस्तुत किया है -- ये बहुत ही भावुक कर देने वाला है ------ सचमुच ये किसी भी संतान का अक्ष्म्य अपराध है की स्नेह से सिंचित करने वाली माँ अकेली हो जाये --

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
13 मई 2017
वो चेहरा जो शक्ति था मेरी ,वो आवाज़ जो थी भरती ऊर्जा मुझमें , वो ऊँगली जो बढ़ी थी थाम आगे मैं , वो कदम जो साथ रहते थे हरदम, वो आँखें जो दिखाती रोशनी मुझको , वो चेहरा ख़ुशी में मेरी हँसता था , वो चेहरा दुखों
13 मई 2017
24 मई 2017
जिसकी मिट्टी में ममता है, आँचल प्यार का साया है ! प्रेम प्यार से सनी हुई, जिसकी अद्भुत छाया है !! यहीं आके हमको चैन मिले , यह कैसी तेरी माया है ! हम धन्य हुए माँ, प्यार तेरा हमने पाया है !! हर पल हर छन तूने, हमारा साथ निभाया है ! हम धन्य हुए तूने , हमको सीने से लगाया
24 मई 2017
05 मई 2017
तुझे जितना दूर करना चाहूँ तू उतना क़रीब आ जाती हैतुझे जितना भूलना चाहूँ तू उतना याद आती है दिल पर लिखे तेरे नाम को जितना मिटाना चाहूँवो उतना ही गहरा हो जाता है तेरी तस्वीर जितनी भी धुँधली हो जाएतू उतना ही साफ़ नज़र आती है तेरी आवाज़ सुनाई ना दे भी, अगरतेरे स्वर मेरे पास ही जूँजते रहते हैं तुझे जितना
05 मई 2017
23 मई 2017
दोस्तों घर पथ्तरों से बनता हैं ,लेकिन परिवार माँ-पिता से || हजारो फूल चाहिए एक माला बनाने के लिए,हजारों दीपक चाहिए एक आरती सजाने के लिए |हजारों बून्द चाहिए समुद्र बनाने के लिए,पर “माँ “अकेली ही काफी है बच्चो की जिन्दगी को स्वर्ग बनाने के लिए..!!**********************@@*********************
23 मई 2017
21 मई 2017
तेरी तक़दीर का दोष नहींहै मेरी क़िस्मत का क़सूर तेरी तक़दीर में तो हम शामिल थेहमारी क़िस्मत में मगर तेरा साथ ना था तेरे नसीब ने तो मिलाया था हमें हमारे मुक़द्दर ने ही तुझ से बिछड़ने पर मजबूर कर किया ना तेरा ज़ोर चला अपने भाग्य पर ना मैं अपनी नियति बदल पाया अब तो इसी उम्मीद पर ज़िंदा हूँकी कभी तो जोड
21 मई 2017
15 मई 2017
तु
कभी बनारस की सुबह बन जाती हो। तो भोपाल की शाम हो जाती हो। तुम रास्तें के दृश्य हो या, दोनों पर एक आसमां। तुम चेतन की किताब का किरदार तो नहीं हो, तुम जो हो हमेशा हो। चार कोनो में नहीं होती तुम, तुमने ही तुम्हें रचा हैं। अब प्रेम का क्या वर्णन करूँ, मेरा प्रेम तो तुम्ह
15 मई 2017
18 मई 2017
तुम ही हो मंज़िल मेरी तुम ही हो सब्रों क़रार मेरा प्यार तुम्हारा है, अब जीने का सहारा दिलों जान मेरा, हो गया है तुम्हारा आए हो जब से ज़िंदगी में मेरी मिल गया मुस्कुराने का बहाना ख़ुशी की मेरी, तुम वज़ह बन गए हो रातों का चैन, दिन का सुकून बन गए हो कट जाएगी ज़िंदगी, प्यार में तुम्हारेतुम इस क़दर, मेरी
18 मई 2017
01 मई 2017
ना
ना कर मुझ से बात ख़्वाबों ख़यालों की देखा है बिखरते हुए कई बार इन्हेंना कर मुझ से बात रिश्तों और वादों की देखा है टूटते हुए कई बार इन्हेंना कर मुझ से बात शमां और परवानों कीदेखा है जल कर बुझते कई बार इन्हेंना कर मुझ से बात सब्रों क़रार की देखा है टूटते हुए कई बार इन्हेंना कर बात मुझसेइश्क़ और आशिक़ो
01 मई 2017
28 मई 2017
मं
मंज़िल पर पहुँच कर, देखा जो मुड़करसाथी कोई दिखा नहीं किस मोड़ पर छूटा साथ इल्म इस बात का था नहीं खड़ा हूँ अकेला शिखर परआसमान छूने की तमन्ना हो गयी पूरीज़मीन से नाता, मगर टूट गया है इस जीत का जश्न मनाऊँ या शोक पता नहीं २७ मई २०१७जिनेवा
28 मई 2017
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x