तक़दीर

21 मई 2017   |  Karan Singh Sagar ( डा. करन सिंह सागर)   (112 बार पढ़ा जा चुका है)

तेरी तक़दीर का दोष नहीं

है मेरी क़िस्मत का क़सूर

तेरी तक़दीर में तो हम शामिल थे

हमारी क़िस्मत में मगर तेरा साथ ना था

तेरे नसीब ने तो मिलाया था हमें

हमारे मुक़द्दर ने ही तुझ से बिछड़ने पर मजबूर कर किया

ना तेरा ज़ोर चला अपने भाग्य पर

ना मैं अपनी नियति बदल पाया

अब तो इसी उम्मीद पर ज़िंदा हूँ

की कभी तो जोड़ेगा खुदा

तेरे मुक़द्दर को मेरी तक़दीर से


२१ मई २०१७

जिनेवा

अगला लेख: वो मुस्कुरा रहे हैं पर,



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
17 मई 2017
दिल की आवाज़ निगाहों के इशारों मन की बात कब समझोगी तुम इन जज़्बातों कोइस बेक़रारी को इन उमंगो को कब समझोगी तुम इस रिश्ते कोइन उम्मीदों को इस प्यार कोकब समझोगी तुम १३ मई २०१७फ़्रैंकफ़र्ट
17 मई 2017
03 जून 2017
वो
वो मुस्कुरा रहे हैं पर, आँखें कुछ और ही बयान कर रही हैं दुनिया के लिए खुश है, पर दुखों का सागर दिल में छुपा रखा है पूँछा जब उनसे इसका सबब,तो बोले इसको छुपा ही रहने दीजिए हुमने कहा उनसे, माना की सब आपकी निगाहो, पढ़ नहीं सकतेपर जो समझते हैं दिल का हालउनके सामने इन निगाहों को भी मुस्कुराना सिखा
03 जून 2017
27 मई 2017
हो
होंठ मुस्कुरा रहे हैं आँखें मगर रिस रही हैं तुझे भूल गया हूँ फिर भी तू याद हैपरछाईं में अपनी तेरा अक़्स ढूँढता हूँ किया बहुत कुछ हासिल मुफ़लिसी फिर भी छाई है पूरे किए सपने सभी ज़िंदगी मगर अधूरी है होंठ हँस रहे हैं मगर २६ मई २०१७जिनेवा
27 मई 2017
14 मई 2017
है
है वो आज अकेली क्योंनों महीने रखा अपनी कोख में जिसने लगती है वो आज बोझ क्योंकाट कर अपना पेट, भरा पेट हमारा सो जाती आज, वो ख़ाली पेट क्योंआने नहीं देती थी हमारी आँखों में आँसुउसकी आँखों में रहते हैं आँसु, आज दिन रात क्यों जिसके बोल कभी लगते थे अमृत उसी के दो शब्द लगते
14 मई 2017
21 मई 2017
नेह भरीपाती अब नहीं आती. गुप्तवास में माँ की लोरीगूंगी बहरी चैती होरी सुखिया दादी परातीअब नहीं गाती अंगनाई की फट गई छातीचूल्हे चौकों कीबँट गई माटीपूर्वजों कीथाती अब
21 मई 2017
15 मई 2017
तु
कभी बनारस की सुबह बन जाती हो। तो भोपाल की शाम हो जाती हो। तुम रास्तें के दृश्य हो या, दोनों पर एक आसमां। तुम चेतन की किताब का किरदार तो नहीं हो, तुम जो हो हमेशा हो। चार कोनो में नहीं होती तुम, तुमने ही तुम्हें रचा हैं। अब प्रेम का क्या वर्णन करूँ, मेरा प्रेम तो तुम्ह
15 मई 2017
31 मई 2017
मु
मुफ़लिसी में सब ने दामन छोड़ दिया दोस्त नज़रें चुरा कर निकल जाते हैं अपने भी अजनबी लगते हैं रिश्तों में दूरियाँ आ गयी है फिर दिल को समझता हूँ किसी से क्यों गिला करता है तेरी ख़ुद की परछाईं तेरा साथ छोड़ देती है रात के अंधेरे में तो इस जहान से क्यों उम्मीद रखता हैतेरा साथ देने की
31 मई 2017
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x