तक़दीर

21 मई 2017   |  Karan Singh Sagar ( डा. करन सिंह सागर)   (116 बार पढ़ा जा चुका है)

तेरी तक़दीर का दोष नहीं

है मेरी क़िस्मत का क़सूर

तेरी तक़दीर में तो हम शामिल थे

हमारी क़िस्मत में मगर तेरा साथ ना था

तेरे नसीब ने तो मिलाया था हमें

हमारे मुक़द्दर ने ही तुझ से बिछड़ने पर मजबूर कर किया

ना तेरा ज़ोर चला अपने भाग्य पर

ना मैं अपनी नियति बदल पाया

अब तो इसी उम्मीद पर ज़िंदा हूँ

की कभी तो जोड़ेगा खुदा

तेरे मुक़द्दर को मेरी तक़दीर से


२१ मई २०१७

जिनेवा

अगला लेख: वो मुस्कुरा रहे हैं पर,



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
27 मई 2017
हो
होंठ मुस्कुरा रहे हैं आँखें मगर रिस रही हैं तुझे भूल गया हूँ फिर भी तू याद हैपरछाईं में अपनी तेरा अक़्स ढूँढता हूँ किया बहुत कुछ हासिल मुफ़लिसी फिर भी छाई है पूरे किए सपने सभी ज़िंदगी मगर अधूरी है होंठ हँस रहे हैं मगर २६ मई २०१७जिनेवा
27 मई 2017
25 मई 2017
"मोहल्ले के लौंडों का प्यार अक्सर इंजीनियर डॉक्टर उठा कर ले जाते हैं।"रांझना फिल्म का ये डॉयलोग तो आपके जेहन में होगा ही।practical life में यानी की असल जिन्दगी में प्यार काफी हद तक ऐसा ही होता है।अब हर लव स्टोरी तो srk की फिल्मों की तरह होती नहीं कि पलट बोला और लड़की पलट ग
25 मई 2017
08 मई 2017
मै
मैं तुम्हें, तुम मुझे, करते हो प्यार क्योंमैं तुम पर, तुम मुझ पर, करते हो ऐतबार क्योंमैं तुम पर, तुम मुझ पर, करते हो जान निसार क्योंमैं तुम्हारे बिना, तुम मेरे बिना, जी नहीं सकते क्यों क्योंकि तुम्हारे लबों पर मेरी, मेरे लबों पर तुम्हारी, मुस्कान रहती है मेरे दर्द का तुम्हें, तुम्हारे दर्द का मुझे,
08 मई 2017
29 मई 2017
जरा देखो कहीं कोई फसाद,हुआ हो तो वहाँ जाया जाये । नहीं हुआ हो तो जाकर कराया जाये । राजनीति में निठल्लापन ठीक नहीं । कहीं आग लगा के बुझाया जाये ।
29 मई 2017
03 जून 2017
वो
वो मुस्कुरा रहे हैं पर, आँखें कुछ और ही बयान कर रही हैं दुनिया के लिए खुश है, पर दुखों का सागर दिल में छुपा रखा है पूँछा जब उनसे इसका सबब,तो बोले इसको छुपा ही रहने दीजिए हुमने कहा उनसे, माना की सब आपकी निगाहो, पढ़ नहीं सकतेपर जो समझते हैं दिल का हालउनके सामने इन निगाहों को भी मुस्कुराना सिखा
03 जून 2017
18 मई 2017
तुम ही हो मंज़िल मेरी तुम ही हो सब्रों क़रार मेरा प्यार तुम्हारा है, अब जीने का सहारा दिलों जान मेरा, हो गया है तुम्हारा आए हो जब से ज़िंदगी में मेरी मिल गया मुस्कुराने का बहाना ख़ुशी की मेरी, तुम वज़ह बन गए हो रातों का चैन, दिन का सुकून बन गए हो कट जाएगी ज़िंदगी, प्यार में तुम्हारेतुम इस क़दर, मेरी
18 मई 2017
25 मई 2017
हर चीज़ की कीमत तय कर दी, उन लम्हों की कीमत क्या होगी !जो साथ हँसे, जो साथ जिए, उन रिश्तों की कीमत क्या होगी !!क्यूँ भूल गये उस बचपन को, उन नन्ही आँखो के सपनो को !वो कैसे तुम अब पाओगे, जिसकी कोई कीमत ही नहीं !क्यूँ भूल गये उन कसमो को, उन छोटी छोटी सी रस्मो को !वो कैसे तु
25 मई 2017
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x