तक़दीर

21 मई 2017   |  Karan Singh Sagar ( डा. करन सिंह सागर)   (106 बार पढ़ा जा चुका है)

तेरी तक़दीर का दोष नहीं

है मेरी क़िस्मत का क़सूर

तेरी तक़दीर में तो हम शामिल थे

हमारी क़िस्मत में मगर तेरा साथ ना था

तेरे नसीब ने तो मिलाया था हमें

हमारे मुक़द्दर ने ही तुझ से बिछड़ने पर मजबूर कर किया

ना तेरा ज़ोर चला अपने भाग्य पर

ना मैं अपनी नियति बदल पाया

अब तो इसी उम्मीद पर ज़िंदा हूँ

की कभी तो जोड़ेगा खुदा

तेरे मुक़द्दर को मेरी तक़दीर से


२१ मई २०१७

जिनेवा

अगला लेख: वो मुस्कुरा रहे हैं पर,



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
15 मई 2017
तु
कभी बनारस की सुबह बन जाती हो। तो भोपाल की शाम हो जाती हो। तुम रास्तें के दृश्य हो या, दोनों पर एक आसमां। तुम चेतन की किताब का किरदार तो नहीं हो, तुम जो हो हमेशा हो। चार कोनो में नहीं होती तुम, तुमने ही तुम्हें रचा हैं। अब प्रेम का क्या वर्णन करूँ, मेरा प्रेम तो तुम्ह
15 मई 2017
18 मई 2017
तुम ही हो मंज़िल मेरी तुम ही हो सब्रों क़रार मेरा प्यार तुम्हारा है, अब जीने का सहारा दिलों जान मेरा, हो गया है तुम्हारा आए हो जब से ज़िंदगी में मेरी मिल गया मुस्कुराने का बहाना ख़ुशी की मेरी, तुम वज़ह बन गए हो रातों का चैन, दिन का सुकून बन गए हो कट जाएगी ज़िंदगी, प्यार में तुम्हारेतुम इस क़दर, मेरी
18 मई 2017
31 मई 2017
मु
मुफ़लिसी में सब ने दामन छोड़ दिया दोस्त नज़रें चुरा कर निकल जाते हैं अपने भी अजनबी लगते हैं रिश्तों में दूरियाँ आ गयी है फिर दिल को समझता हूँ किसी से क्यों गिला करता है तेरी ख़ुद की परछाईं तेरा साथ छोड़ देती है रात के अंधेरे में तो इस जहान से क्यों उम्मीद रखता हैतेरा साथ देने की
31 मई 2017
27 मई 2017
हो
होंठ मुस्कुरा रहे हैं आँखें मगर रिस रही हैं तुझे भूल गया हूँ फिर भी तू याद हैपरछाईं में अपनी तेरा अक़्स ढूँढता हूँ किया बहुत कुछ हासिल मुफ़लिसी फिर भी छाई है पूरे किए सपने सभी ज़िंदगी मगर अधूरी है होंठ हँस रहे हैं मगर २६ मई २०१७जिनेवा
27 मई 2017
07 मई 2017
हूँ आज़ाद पर ना जाने क्यों ख़ुद को बँधा हुआ महसूस करता हूँ हूँ उन्मुक्त पर ना जाने क्यों उड़ने से डरता हूँ है अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर ज़ुबान पर ताला लगा है है आस्था की आज़ादी पर इंसानियत निभाने पर पाबंदी है है विचारों की आज़ादी पर उन्हें व्यक्त करने पर रोक है है लिखने की आज़ादी पर खुल कर लिखने
07 मई 2017
08 मई 2017
मै
मैं तुम्हें, तुम मुझे, करते हो प्यार क्योंमैं तुम पर, तुम मुझ पर, करते हो ऐतबार क्योंमैं तुम पर, तुम मुझ पर, करते हो जान निसार क्योंमैं तुम्हारे बिना, तुम मेरे बिना, जी नहीं सकते क्यों क्योंकि तुम्हारे लबों पर मेरी, मेरे लबों पर तुम्हारी, मुस्कान रहती है मेरे दर्द का तुम्हें, तुम्हारे दर्द का मुझे,
08 मई 2017
03 जून 2017
वो
वो मुस्कुरा रहे हैं पर, आँखें कुछ और ही बयान कर रही हैं दुनिया के लिए खुश है, पर दुखों का सागर दिल में छुपा रखा है पूँछा जब उनसे इसका सबब,तो बोले इसको छुपा ही रहने दीजिए हुमने कहा उनसे, माना की सब आपकी निगाहो, पढ़ नहीं सकतेपर जो समझते हैं दिल का हालउनके सामने इन निगाहों को भी मुस्कुराना सिखा
03 जून 2017
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x