तक़दीर

21 मई 2017   |  Karan Singh Sagar ( डा. करन सिंह सागर)   (77 बार पढ़ा जा चुका है)

तेरी तक़दीर का दोष नहीं

है मेरी क़िस्मत का क़सूर

तेरी तक़दीर में तो हम शामिल थे

हमारी क़िस्मत में मगर तेरा साथ ना था

तेरे नसीब ने तो मिलाया था हमें

हमारे मुक़द्दर ने ही तुझ से बिछड़ने पर मजबूर कर किया

ना तेरा ज़ोर चला अपने भाग्य पर

ना मैं अपनी नियति बदल पाया

अब तो इसी उम्मीद पर ज़िंदा हूँ

की कभी तो जोड़ेगा खुदा

तेरे मुक़द्दर को मेरी तक़दीर से


२१ मई २०१७

जिनेवा

अगला लेख: वो मुस्कुरा रहे हैं पर,



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
25 मई 2017
"मोहल्ले के लौंडों का प्यार अक्सर इंजीनियर डॉक्टर उठा कर ले जाते हैं।"रांझना फिल्म का ये डॉयलोग तो आपके जेहन में होगा ही।practical life में यानी की असल जिन्दगी में प्यार काफी हद तक ऐसा ही होता है।अब हर लव स्टोरी तो srk की फिल्मों की तरह होती नहीं कि पलट बोला और लड़की पलट ग
25 मई 2017
28 मई 2017
मं
मंज़िल पर पहुँच कर, देखा जो मुड़करसाथी कोई दिखा नहीं किस मोड़ पर छूटा साथ इल्म इस बात का था नहीं खड़ा हूँ अकेला शिखर परआसमान छूने की तमन्ना हो गयी पूरीज़मीन से नाता, मगर टूट गया है इस जीत का जश्न मनाऊँ या शोक पता नहीं २७ मई २०१७जिनेवा
28 मई 2017
29 मई 2017
जरा देखो कहीं कोई फसाद,हुआ हो तो वहाँ जाया जाये । नहीं हुआ हो तो जाकर कराया जाये । राजनीति में निठल्लापन ठीक नहीं । कहीं आग लगा के बुझाया जाये ।
29 मई 2017
21 मई 2017
नेह भरीपाती अब नहीं आती. गुप्तवास में माँ की लोरीगूंगी बहरी चैती होरी सुखिया दादी परातीअब नहीं गाती अंगनाई की फट गई छातीचूल्हे चौकों कीबँट गई माटीपूर्वजों कीथाती अब
21 मई 2017
24 मई 2017
जलते हुए शोलों से दोस्ती कर ली ! खुद खाक होने की, साज़िश कर ली !! इन सर्द बर्फ़ीली हवाओं में, वो बात कहाँ ! एक धूप की ख्वाहिश में, रोशनी कर ली !! तेरे दामन में, या मेरे आशियाने में ! एक बूँद की चाहत में, बारिश कर ली !! वो तो नहीं हुआ जो, दिल की आरज़ू थी ! हर शाम
24 मई 2017
24 मई 2017
जिसकी मिट्टी में ममता है, आँचल प्यार का साया है ! प्रेम प्यार से सनी हुई, जिसकी अद्भुत छाया है !! यहीं आके हमको चैन मिले , यह कैसी तेरी माया है ! हम धन्य हुए माँ, प्यार तेरा हमने पाया है !! हर पल हर छन तूने, हमारा साथ निभाया है ! हम धन्य हुए तूने , हमको सीने से लगाया
24 मई 2017
14 मई 2017
है
है वो आज अकेली क्योंनों महीने रखा अपनी कोख में जिसने लगती है वो आज बोझ क्योंकाट कर अपना पेट, भरा पेट हमारा सो जाती आज, वो ख़ाली पेट क्योंआने नहीं देती थी हमारी आँखों में आँसुउसकी आँखों में रहते हैं आँसु, आज दिन रात क्यों जिसके बोल कभी लगते थे अमृत उसी के दो शब्द लगते
14 मई 2017
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x