कच्चे खिलाड़ी थे हम

13 जून 2017   |  Karan Singh Sagar ( डा. करन सिंह सागर)   (185 बार पढ़ा जा चुका है)

कच्चे खिलाड़ी थे हम

मोहब्बत के खेल में

अपनी हार पर भी ख़ुश हुए

क्योंकि उसमें ख़ुशी थी तेरी

नज़रें मिलाई ना चुराई तुमने

बस इनमे कुछ ख़्वाब सज़ा के चले गए

कुछ कहा, बहुत कुछ बोला नहीं तुमने

बस हमें हमारे ख़यालों के सहारे छोड़ चले गए

दिल दिया, ना तोड़ा तुमने

बस उम्र भर इन्तेज़ार देकर चले गए

कच्चे खिलाड़ी थे हम


४ जून २०१७

लेगॉस

अगला लेख: अपनी सोहरत से डरता हूँ



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
30 मई 2017
Dil ko mere humesha se sirf tujse hi pyar hai,Par mere raj kumar ko ye baat Mai bataaun kaise.Jiski aane ki aahat hi dil ko betab kar jaati hai,Dil ki ye halat tujse ab chhupaun kaise.Jiski hansi se labo pe mere hansi chha jaati hai,Dil ka ye pagalpan tujko dikhaun kaise.Aaine mai jab dekhu to galo
30 मई 2017
10 जून 2017
कभी यूँ ही चल मेरे साथ मेंना हो रास्ते का डर ना मंज़िल की ख़बर ना हो रिश्तों का बंधन ना समाज का डर कभी यूँ भी चल मेरे साथ मेंना हो कोई उम्मीद ना हो कोई फ़िक्रना हो कोई शिकवा ना हो कोई गिलाकभी यूँ भी चल मेरे साथ में थाम कर हाथआँखों में आँखें डाल कर बस यूँही बेमक़सद कभी, चल मेरे साथ में ४ जून २०१७ऐम्
10 जून 2017
10 जून 2017
कभी यूँ ही चल मेरे साथ मेंना हो रास्ते का डर ना मंज़िल की ख़बर ना हो रिश्तों का बंधन ना समाज का डर कभी यूँ भी चल मेरे साथ मेंना हो कोई उम्मीद ना हो कोई फ़िक्रना हो कोई शिकवा ना हो कोई गिलाकभी यूँ भी चल मेरे साथ में थाम कर हाथआँखों में आँखें डाल कर बस यूँही बेमक़सद कभी, चल मेरे साथ में ४ जून २०१७ऐम्
10 जून 2017
11 जून 2017
प्
बहार बन के तुम आए पतझड़ मेंचाँद बन के तुम आए अमावस मेंझील बन के तुम आए रेगिस्तान में क़रार बन के आए तुम बेक़रारी में हसीन ख़्वाब बन कर आए तुम सूनी आँखों में मधुर संगीत बन कर तुम आए सुनसान फ़िज़ाओं में ख़ुशी बन कर आए तुम ग़म की सियाह रात में मरहम बन कर समा गए तुम ज़ख़्मी दिल में रहमत बन कर आए तुम रूठ
11 जून 2017
31 मई 2017
मु
मुफ़लिसी में सब ने दामन छोड़ दिया दोस्त नज़रें चुरा कर निकल जाते हैं अपने भी अजनबी लगते हैं रिश्तों में दूरियाँ आ गयी है फिर दिल को समझता हूँ किसी से क्यों गिला करता है तेरी ख़ुद की परछाईं तेरा साथ छोड़ देती है रात के अंधेरे में तो इस जहान से क्यों उम्मीद रखता हैतेरा साथ देने की
31 मई 2017
25 जून 2017
अपनी सोहरत से डरता हूँकहीं, यह तुझे रुसवा ना कर दे मोहब्बत का अपनी, इजहार करने से डरता हूँ की मशहूर, ना हो जाए यह कुछ इस क़दरकी लोग समझ जाएँ, इशारों इशारों में तेरा ज़िक्र अपनी रुसवाई से भी डरता हूँयह रुसवाई, तुझे मशहूर ना कर दे मोहब्बत को अपनी, छुपा के रखने से भी डरता हूँछुपाते छुपाते, कहीं इज़हार
25 जून 2017
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x