कैलाश मानसरोवर को लेकर अमेरिका का बड़ा खुलासा

09 जुलाई 2017   |  रोमिश ओमर   (312 बार पढ़ा जा चुका है)

कैलाश मानसरोवर को लेकर अमेरिका का बड़ा खुलासा

पिछले दिनों NASA के वै ज्ञान िकों (Scientists) का एक दल मानसरोवर झील (Mansarovar Lake) घूमने आया थे. उन्होंने उसके कभी ना खराब होने वाले पानी का टेस्ट किया. टेस्ट में उन्होंने पाया कि मानसरोवर झील के जल में ऐसे सेल्स मौजूद हैं जो कैेंसर (Cancer) को जड़ से खत्म कर देते हैं. तमाम ग्रन्थ, पुराण बताते हैं कि कैलाश (Kailash) पर महादेव का वास है. हजारों लोग कैलाश के दर्शन करने जाते हैं.

कुछ लोग तो सीधा महादेव तक पहुंचने की आस लेकर कैलाश मानसरोवर तक जाते हैं लेकिन दूर से ही दर्शन करके लौटना पड़ता है. दरअसल आज हम आपको एक ऐसा सच बताने जा रहे है जिसे जानकार आप हैरान हो जाओगे. तो आइये जानते हैं कि आखिर क्यों कैलाश पर इंसान नहीं जा पाता, वहां है क्या ऐसा ?

बता दें कि भगवान का स्वरूप, उसका आकार वास्तव में कैसा है. इस सवाल का जवाब किसी के पास नहीं है. ईश्वरीय शक्ति पर विश्वास करने वाले लोग, जिन्हें सामान्य भाषा में आस्तिक कहा जाता है. जिस रूप में उस शक्ति को देखना चाहते हैं, उसे वैसा ही स्वरूप दे देते हैं. हिन्दू धर्म में 33 करोड़ देवी-देवताओं का जिक्र किया गया है, जिनका निवास स्वर्ग में बताया गया है. लेकिन ऐसा माना जाता है कि महादेव शिव, जिनके हाथ में सृष्टि के विनाश की बागडोर है, अपने परिवार के साथ कैलाश पर्वत पर निवास करते हैं.

अधिक जानकारी के लिए देखें ये वीडियो :-

आपको शायद इस बात पर यकीन नहीं होगा लेकिन ये सच है कि हिमालय की गोद में स्थित कैलाश पर्वत पर आज भी भगवान शिव अपने परिवार, यानि माता पार्वती, भगवान गणपति, भगवान कार्तिकेय के साथ रहते हैं.

By: Neha Kamal on Saturday, July 8th, 2017


कैलाश मानसरोवर को लेकर अमेरिका का बड़ा खुलासा !

कैलाश मानसरोवर को लेकर अमेरिका का बड़ा खुलासा

अगला लेख: ये हेल्दी फूड सेहत पर पड़ेंगे भारी, कर देंगे बीमार!– News18 Hindi



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
28 जून 2017
सेहत बनाने के दावे करने वाले ये प्रोडक्ट आपको बीमार कर रहे है .. आप भी देखे Comments
28 जून 2017
30 जून 2017
देश वही है, मिटटी भी वही है पर सच मानिये अब इस देश से आर्यभट्ट, शुश्रुत, चाणक्य, भाष्कराचार्य, पतंजलि जैसे महान लोग नहीं निकलते यहाँ तक की इजराइल, नीदरलैंड, स्वीडन जैसे देश भी तकनीक में हमसे आगे है क्यूंकि हम अब भारतीय नहीं बल्कि अंग्रेज बनने चले है हम बच्चों को शुरू से
30 जून 2017
26 जून 2017
पञ्चगव्य के बारे में और अधिक जाने- Www.panchgavya.orgराजीव भाई के मित्र महान गौ विज्ञानी श्री निरंजन वर्मा जी ने अपने लगभग 20 वर्षों की मेहनत से एक मीटर बनाया जो किसी भी वस्तु की ऊर्जा माप सकता है।Like us on Facebook-https://www.facebook.com/Bharat1mandir/Follow us on
26 जून 2017
26 जून 2017
B
Bharat ko gulam रखने ke लिए मैकॉले में करवाई थी कॉन्वेंट (लावारिस child)school की शुरुआतPlease don't forget to link, Share , comment & most important SUBSCRIBE https://www.youtube.com/channel/UCx0G...Source : Dainik Bharat Music address:By youtube audio library search :-
26 जून 2017
27 जून 2017
दिन में आप कितनी बार गाय या सूअर का मांस खाते हैं? जब भी आप जिलेटिन खाते हैं आप इसको देखते ही नहीं इसलिए आपको इसका कोई अनुमान नहीं है कि इसे कैसे बनाया जाता है। इसे ऐसे बनाया जाता है :जिलेटिन को सड़े हुए पशुओं की खालों, कुचली गई हड्डियों, मवेशियों तथा सूअरों के जोडऩे वाले
27 जून 2017
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x