उस आदमी ने नरेंद्र मोदी का साथ छोड़ दिया, जो रघुराम राजन की टक्कर का था

02 अगस्त 2017   |  अवनीश कुमार मिश्र   (166 बार पढ़ा जा चुका है)

इत्तेफाक ही कहा जाएगा कि नीति आयोग से इस्तीफा देते हुए पनगढ़िया ने भी वही कहा, जो रिज़र्व बैंक से जाते हुए रघुराम राजन ने कहा था –

‘अब मैं अपने पहले प्यार की तरफ लौटूंगा’

पहला प्यार माने एकैडमिक्स. पढ़ाई-लिखाई. रघुराम राजन शिकागो यूनिवर्सिटी गए थे, पनगढ़िया कोलंबिया यूनिवर्सिटी जाएंगे. 31 अगस्त, 2017 नीति आयोग के वाइस चेयरमैन के तौर पर उनका आखिरी दिन होगा. सुनी-सुनाई खबर ये है कि नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत से उनकी बन नहीं रही थी. लेकिन फिलहाल कुछ साफ नहीं है. जब तक साफ होता है, तब तक आप रघुराम राजन और अरविंद पनगढ़िया के बीच एक दिलचस्प तुलना पढ़िए और उस इत्तेफाक को कुरेदिए जिसकी चर्चा हमने की है. ‘दी लल्लनटॉप’ के लिए ऋषभ ने ये तुलना तब की थी, जब रिज़र्व बैंक के गवर्नर पद के लिए पनगढ़िया की दावेदारी की बातें हो रही थी. तारीख थी, 13 जुलाई 2017.


अरविंद पनगढ़िया, प्रधानमंत्री मोदी और रघुराम राजन

प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी के पॉलिसी एडवाइजर अरविन्द पनगढ़िया RBI के गवर्नर पद के सबसे बड़े दावेदार थे. रघुराम राजन के अमेरिका जाने के फैसले के बाद ‘विराट प्रश्न’ खड़ा हुआ कि कौन बनेगा अगला गवर्नर. ये प्रश्न और भी कठिन हो गया जब गवर्नर बनने की शर्तें कठिन हो गईं. रघु के मोदी सरकार से पंगे जगजाहिर हो गए थे. सरकार अब चाहती थी कि कोई पंगेबाज ना आये. साथ ही शर्त ये भी थी कि अगला गवर्नर अगर ‘रॉकस्टार’ ना हुआ, तो कम से कम ‘इकोनॉमिक्स का डॉक्टर’ तो होना ही चाहिए.

मोदी सरकार के मन की ये बात अरविन्द तक आ के रुक सकती थी. अरविन्द प्लानिंग कमीशन को ख़त्म करके बने ‘नीति आयोग’ के वाइस-चेयरमैन थे और मोदी इसके चेयरमैन. तो रिश्ता पुराना था, तकरीबन डेढ़ साल पुराना. अरविन्द को ‘कैबिनेट मिनिस्टर’ की रैंक भी मिली हुई थी.

आइये देखते हैं अरविन्द पनगढ़िया कैसे रघुराम राजन की जगह ले सकते थे:

शानदार करियर, रघु से कतई कम नहीं

1. राजस्थान के अरविन्द प्रिन्सटन यूनिवर्सिटी से PhD हैं. कोलंबिया यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर रह चुके हैं. जगदीश भगवती के शिष्य हैं. जगदीश भगवती को अमर्त्य सेन का विपक्षी माना जाता है. अरविन्द ‘फ्री मार्किट’ के पक्षधर समझे जाते हैं.

2. फिर एशियन डेवलपमेंट बैंक के चीफ इकोनॉमिस्ट भी रह चुके हैं. इसके अलावा वर्ल्ड बैंक, IMF, WTO में भी काम कर चुके हैं.

3. अरविन्द को इंटरनेशनल ट्रेड का एक्सपर्ट माना जाता है. ‘मेक इन इंडिया’ के सफल होने और इंडिया के ‘एक्सपोर्ट-लेड ग्रोथ’ होने की स्थिति में ये ज्ञान बहुत ही काम आने वाला था.

4. राजस्थान सरकार के इकनोमिक एडवाइजरी काउंसिल के वाइस-चेयरमैन रह चुके हैं. मोदी के पॉलिसी एडवाइजर भी रहे थे.

किताबें भी लिखीं, अवॉर्ड भी पाए

1. जगदीश भगवती के साथ लिखी इनकी किताब ‘Why Growth Matters’ के बारे में The Economist ने कहा था: पॉलिसीमेकर्स और एनालिस्ट लोगों के लिए ये किताब एक मैनिफेस्टो है.

जगदीश भगवती

2. फिर जगदीश के साथ ही मिलकर एक और किताब लिखी: India’s Tryst with Destiny: Debunking Myths that Undermine Progress and Addressing New Challenges. इसमें ग्रोथ को लेकर ‘गुजरात मॉडल’ को खंगाला गया था. इसकी बड़ाई की गई थी. साथ ही ‘केरल मॉडल’ को भी समाज के लिए बेहतर बताया गया था. गुजरात मॉडल 2014 के लोकसभा चुनाव में बड़ा मुद्दा था.

3. 2012 में कांग्रेस सरकार ने अरविन्द को ‘पद्म-भूषण’ दिया था.

‘मोदी सरकार’ के ‘मन की बात’ समझते थे

1. अरविन्द को ‘फिस्कल डेफिसिट टारगेट’ यानी ‘बजट और खर्च के बीच के अंतर के टारगेट’ से ऐतराज था. वो चाहते थे कि अंतर को फिक्स न रखा जाए. मतलब कहीं और से पैसा उठाकर भी इंफ्रास्ट्रक्चर में लगाया जाए. मोदी के चीफ इकनोमिक एडवाइजर अरविन्द सुब्रमनियन भी इससे इत्तेफाक रखते हैं. रघु को ‘सरकार के इस तरह के खर्चे’ पर ऐतराज था.

2. बैंकों के RBI से ‘उधारी’ पर इंटरेस्ट रेट को लेकर रघु और सरकार में झकझक होती थी. रघु इसको ऊपर ही रखते थे. सरकार नीचे रखना चाहती थी. अरविन्द का भी तर्क था कि नीचे ही रहना चाहिए.

3. इन्फ्लेशन को लेकर भी अरविन्द सरकार से सहमत थे. रघु RBI की Monetary Policy को इन्फ्लेशन पर टारगेट करते थे. अरविन्द का कहना था कि इन्फ्लेशन को सिर्फ इससे नहीं कंट्रोल किया जा सकता है.

4. अरविन्द को ‘सरकार का आदमी’ माना जाता है. राजस्थान यूनिवर्सिटी में इनका एक लेक्चर था: The Economy at Two Years under Prime Minister Narendra Modi. इसमें अरविन्द ने कांग्रेस की यूपीए सरकार की पॉलिसी को बहुत लताड़ा था और मोदी सरकार की बड़ाई की थी.

5. इसके अलावा अरविन्द मोदी सरकार की इकॉनोमिक पॉलिसी पर ही फोकस रखते हैं. रघु ने कई जगह अपने लेक्चर में सोशल और पॉलिटिकल बातों पर भी कमेंट किए थे. ये सरकार को गवारा नहीं था.

अब अरविन्द पनगढ़िया के मन की बात

1. अरविन्द ‘पब्लिक सेक्टर में डिसइन्वेस्टमेंट’ से सहमत नहीं थे. उनका कहना था कि इनको ज्यादा प्रोफेशनल बनाकर प्रॉफिट निकाला जा सकता है. ऐसा ही कुछ नरेन्द्र मोदी ने गुजरात के पब्लिक सेक्टर में किया था.

2. बैंकों को लेकर इनके क्रांतिकारी विचार थे. उनका कहना था कि पहले तो बैंकों में कैपिटल डाला जाए. फिर थोड़ा शेयर किसी कंपनी को दिया जाए, जिससे मार्किट से पैसा उठाने में आसानी हो. और फ्यूचर में Privatisation की ओर सोचा जाए. मतलब सरकार बैंकिंग से अपने हाथ खींच ले. इंदिरा गांधी के 1969 वाले डिसीजन के बिलकुल उलट.

3. इसके अलावा सब्सिडी को लेकर भी अरविन्द गंभीर थे. उनका मानना था कि जो सब्सिडी गरीब लोगों तक नहीं पहुंच रही, उसे ख़त्म कर देना चाहिए.

साभार:लल्लनटॉप

अगला लेख: खतरनाक भी हो सकती है ग्रीन टी?



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
27 जुलाई 2017
नई दिल्ली। लंदन में समाप्त हुए आईसीसी महिला विश्वकप में भारतीय टीम के शानदार प्रदर्शन से पूरा देश गदगद है। राजनीतिक हस्तियों से लेकर बॉलीवुड तक सब भारत की बेटियों की जमकर तारीफ कर रहे हैं। बॉलीवुड सुपर स्टार अक्षय कुमार तो भारत और इंग्लैंड के बीच खेले गए वर्ल्डकप फाइनल मैच देखने लंदन के लॉर्ड्स में
27 जुलाई 2017
29 जुलाई 2017
New Delhi : JAMMU KASHMIR को विशेष अधिकार देने वाली धारा-370 पर सुप्रीम कोर्ट में बहस शुरू हो गई है।सुप्रीम कोर्ट ने सरकार को नोटिस जारी करके जवाब मांगा है कि धारा को कैसे और क्यों खत्म किया जा सकता है। एक NGO ने धारा 370 के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में अपील की थी। याचिका में
29 जुलाई 2017
18 जुलाई 2017
वेंकैया नायडू ने केंद्रीय मंत्रिमंडल से इस्तीफा दे दिया है। उन्हें एनडीए की ओर से उपराष्ट्रपति पद का दावेदार बनाया गया है। उनके इस्तीफे के बाद खाली हुआ सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय, शहरी विकास मंत्रालय तथा गरीबी उन्मूलन मंत्रालय का पद क्रमशः स्मृति ईरानी तथा नरेंद्र सिंह तोमर को सौंपा गया है।स्मृति वर
18 जुलाई 2017
26 जुलाई 2017
मोदी आज के समय के सबसे बड़े नेता के रूप में अपनी छवि बनाया है | मोदी आज पुरे देश में अपने भारत का नामकर रहे है मोदी प्रधानमंत्री बने के बाद कई योजना बनाए लेकिन कुछ योजना सफल हुई कुछ योजनाये बनाई|जिसमे की नोटबंदी योजना काला धन को खत्म करने के लियें किया गया था लेकिन काला धन तो दूर की बात भ्रष्टच
26 जुलाई 2017
28 जुलाई 2017
कर ले जुगाड़ कर ले...कर ले कोई जुगाड़। भाईसाहब, ये गाना तो बहुत बाद में आया है। लेकिन भारतीय इस विधा में सदियों से माहिर हैं। अगर यह भी कहा जाए कि जुगाड़ नाम की विधा भारत में ही पैदा की गई है तो भी गलत नहीं होगा। यहां इसके बूते लोग कुछ भी कर सकते हैं। अब देखिए ना, उत्तरप्रदेश के एक युवक ने ऐसी जुगाड
28 जुलाई 2017
28 जुलाई 2017
पनामा केस मामले में पाकिस्तान की सुप्रीम कोर्ट ने नवाज शरीफ को दोषी करार दिया है. इस फैसले के बाद नवाज शरीफ पाकिस्तान के पद से हटाए जाएंगे. सुप्रीम कोर्ट रिपोर्ट में कहा गया था कि शरीफ और उनके बच्चों का रहन सहन उनके आय के ज्ञात स्रोत के मुताबिक नहीं है. रिपोर्ट में उनके खिलाफ भ्रष्टाचार का नया माम
28 जुलाई 2017
28 जुलाई 2017
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को महिला क्रिकेट टीम से मुलाकात की और खिलाड़ियों को बताया कि उन्होंने देश की बेटियों की तरह भारत को गौरवान्वित किया।टीम महिला विश्व कप में भाग लेने के बाद स्वदेश लौटी है जिसमें भारत को फाइनल में इंग्लैंड से हार मिली थी। मोदी ने फाइनल मैच से पहले टीम और खिलाड़ियों
28 जुलाई 2017
28 जुलाई 2017
कोर्ट द्वारा जारी की गई गाइडलाइंस के मुताबिक, हर जिले में एक परिवार कल्याण समिति गठित की जाएगीअब दहेज उत्पीड़न मामले में केस दर्ज होते ही गिरफ्तारी नहीं की जाएगी। सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को दहेज कानून का दुरुपयोग रोकने के लिए एक बड़ा फैसला सुनाया है। कोर्ट ने नाराज पत्नियों द्वारा अपने पति के खिलाफ
28 जुलाई 2017
24 जुलाई 2017
प्रतीकात्मक इमेज. सोर्स: DFIएक फिल्म देखी थी ‘सहर’. अरशद वारसी हीरो थे. उसमें क्रिमिनल्स के मोबाइल फ़ोन्स को सर्विलांस पर लगाकर उनपर नज़र रखी जाती थी. और उसी से उनकी मूवमेंट ट्रैक कर के उनका क्लाइमेक्स में एनकाउंटर भी होता है. वो फिल्म थी. ऐसा अब असल में भी हुआ है. इंडियन आर्मी ने सर्विलांस की मदद और
24 जुलाई 2017
29 जुलाई 2017
गाय. हमारे देश की बहुसंख्यक जनता की आस्था का एवरेस्ट. पिछले कुछ अरसे से अक्सर चर्चा में रहती है. हम गाय को पूजते हैं. हम गाय के नाम पर हिंसा को जायज़ ठहरा देते हैं. यहां तक कि गाय के नाम पर इंसान को मार डालने का कलंक भी लग चुका इस मुल्क के माथे पर. बस कुछ अगर हमसे या हमारे
29 जुलाई 2017
28 जुलाई 2017
इंडियन होने के नाते क्रिकेट हम सब के दिलों में रहता है। बचपन में गर्मी की छुट्टी का इंतजार भी हम इसीलिए करते थे ताकि दिनभर क्रिकेट खेल सकें। धूप हो या बारिश, क्रिकेट सब पर भारी पड़ता था। उन दिनों हमारी टीम में एक ऐसा शख्स जरूर होता था जो क
28 जुलाई 2017
20 जुलाई 2017
ये वीडियो आजमगढ़ से चला है और खूब वायरल हो रहा है. एक लड़के को बेंच पर बांधकर पीटा जा रहा है और करंट लगाया जा रहा है. आदमी मारे दर्द के छटपटाए जा रहा है. वीडियो इस बात के साथ फैलाया जा रहा है कि ये पीटा जाने वाला आदमी हिंदू है. पीटने वाले मुसलमान हैं. वीडियो के साथ ये कैप्शन संलग्न है, “हिंदू युवक क
20 जुलाई 2017
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x