महिलाओं के किरदार पहले के Serials में कितने सही थे... अब ये या तो आदर्श बहू या फिर वैम्प बनाते हैं

03 जून 2018   |  प्राची सिंह   (121 बार पढ़ा जा चुका है)

महिलाओं के किरदार पहले के Serials में कितने सही थे... अब ये या तो आदर्श बहू या फिर वैम्प बनाते हैं

एक महिला की शक्ति का आकंलन करना मुश्किल ही नहीं, नामुमकिन है. आज की औरत घर भी चलाना जानती है, तो बाहर की ज़िम्मेदारी भी. वो ज़माने की तमाम मुश्किलें झेल कर अपने परिवार की रक्षा करना जानती है. ये तो हुई एक आम महिला की बात, लेकिन इसके अलावा महिला का एकऔर रूप होता है, जो कि हमें टीवी सीरियल्स में देखने को मिलता है.

अब तक महिला केंद्रित कई टीवी शोज़ बनाए जा चुके हैं, जिनमें हमें कई तरह की महिलाओं के शक्तिशाली रूप देखने को मिले. शांति, इतिहास और उड़ान समेत दूरदर्शन पर आने वाले कई ऐसे धारावाहिक थे, जिनमें एक महिला की कहानी को इस तरह से दिखाया गया कि उस कैरेक्टर को देख महिला ख़ुद की ज़िंदगी को महसूस कर सकती थी.

वहीं वक़्त बदला धीरे-धीरे सीरियल्स की कहानियां भी बदलती गई और महिलाओं के रोल्स को भी काफ़ी बढ़ा-चढ़ा कर दिखाया जाने लगा. पहले के धारावाहिकों में जहां हमें एक साधारण महिला की कहानी देखने को मिलती थी, तो वहीं अब महिलाओं के रोल्स को काफ़ी ग्लैमरस और तड़क-भड़क वाला बना दिया गया.

आज के शोज़ भले ही महिला केंद्रित हों, लेकिन उन्हें देख कर कोई भी महिला ये नहीं कह सकती कि हां सच में मेरे साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ था. इसके साथ कई शोज़ में चाल और साज़िशों के साथ महिलाओं की निगेटिव रोल को जिस तरह से दर्शकों के सामने पेश किया जा रहा है, उसे देख कर बस कहा जा सकता है कि रोज़मर्रा की ज़िंदगी में शायद ही किसी महिला के पास ये सब षड्यंत्र रचने का इतना वक़्त होगा.

आइए जानते पहले के सीरियल्स और आज के सीरियल्स में कितना फ़र्क आया है:

1. शांति

Source : HT

1994 में दूरदर्शन पर आने वाले इस सीरियल की कहानी एक महिला पत्रकार शांति के ईद-गिर्द घूमती है. शांति बॉलीवुड के मशहूर प्रोडक्शन हाउस के मालिक कामेश महादेवन और राज जी.जे. सिंह की जीवनी लिखने के लिए उनके घर शांति मेन्शन आती है. मंदिरा बेदी ने अपनी अदाकारी से शांति के रोल को इतना अधिक दमदार बना था दिया था कि बच्चे हों या बड़े हर कोई दोपहर में आने वाले इस सीरियल को देखने के लिए बेताब रहता था. यही नहीं, कई हद तक इस सीरियल को देख कर वास्तविकता की कल्पना की जा सकती थी.

क्योंकि सास भी कभी बहू थी

Source : ia

इस सीरियल के बारे में शायद ही किसी को कुछ बताने की ज़रूरत हो. एकता कपूर का ये सीरियल सस्पेंस और ड्रामे से भरपूर था. इस धारावाहिक में एक बड़ा सा परिवार था, जिसकी डोर उस घर की बहू ने संभाल रखी थी. अचानक एक दिन उसे पता चलता है कि उसके पति का किसी पराई औरत के साथ एक्स्ट्रा मैरिटल अफ़ेयर चल रहा है और वहीं से शुरू से होता है फ़ैमिली ड्रामा. मतलब इस सीरियल की कहानी दर्शक जुटाने में तो कामयाब रही, लेकिन जिस तरह से इसमें एक महिला के किरदार को दिखाया गया असल ज़िंदगी में वैसा बिल्कुल नहीं होता.

2. उड़ान

Source : outofpandora

दूरदर्शन पर आने वाला ये सीरियल रिटायर आईपीएस अफ़सर किरण बेदी की ज़िंदगी पर आधारित था. सीरियल की मुख़्य भूमिका कविता चौधरी ने निभाई थी. इस धारावाहिक में एक साधारण परिवार की लड़की के आईपीएस अधिकारी बनने का सफ़र दिखाया गया है, जो कि सत्य घटना को दर्शाता है.

दिया और बाती हम

Source : diy

स्टार प्लस पर आने वाले इस शो में भी एक साधारण परिवार की लड़की के आईपीएस अधिकारी बनने की कहानी दिखाई गई, लेकिन बस फ़र्क इतना था कि इस सीरियल में जिस तरह से एक महिला के किरदार को बढ़ा-चढ़ा कर दिखाया गया था, असलियत में वैसा कुछ भी नामुमकिन है.

3. रजनी

Source : nostalgic90s

दूरदर्शन पर आने वाले इस सीरियल का मुख़्य किरदार प्रिया तेंदुलकर ने निभाया था. रजनी के रोल में एक ऐसी महिला को दिखाया गया था, जो अन्याय और शोषण के खिलाफ़ आवाज़ उठाना जानती है. यही नहीं, वो जिसे नहीं भी जानती थी उसके हक़ के लिए भी लड़ जाती थी. अगर चंद शब्दों में कहा जाए, तो इस सीरियल ने लोगों को समझदारी का पाठ पढ़ाया.

कसौटी ज़िंदगी की

Source : tellychakkar

कोमोलिका... ये नाम भला कोई कैसे भूल सकता है. बालाजी टेलीफ़िल्म के इस धारावाहिक में श्वेता तिवारी ने लीड रोल प्ले किया था. इस सीरियल में कब, कौन और किससे शादी कर लेता है कुछ पता ही नहीं चलता. प्रेरणा के किरदार में श्वेवता तिवारी अपने परिवार के ख़ातिर सही ग़लत सब कुछ बर्दाशत करती हैं. अब ज़ाहिर सी बात है दुनिया के लिए ये कोई अच्छा मैसेज, तो नहीं है.

4. मृगनयनी

Source : ssl

दूरदर्शन पर प्रसारित होने वाले इस सीरियल में लीड रोल एक्ट्रेस पल्लवी जोशी ने निभाया था. इसकी कहानी एक नॉवेल पर आधारित थी, जिसमें एक महिला की ख़ूबसूरती के बारे में बताया गया था.

प्रतिज्ञा

Source : tellychakkar

स्टार प्लस के इस सीरियल की कहानी भी महिला केंद्रित थी, जिसमें एक टपोरी टाइप लड़का प्रतिज्ञा नामक लड़की की ख़ूबसूरती पर इस तरह फ़िदा था कि किसी भी हाल में उससे शादी करना चाहता था. आखिर में होता वही है, जो वो लड़का चाहता था और प्रतिज्ञा को ठाकुर सज्जन सिंह के बेटे से शादी करनी पड़ती है. हांलाकि, अंत में जीत प्रतिज्ञा की ही होती और वो अपने बिगैड़ पति को एक अच्छा इंसान बना देती है. पर शो में जिस तरह से हेर-फ़ेर करके महिला की संघर्ष की कहानी को पेश किया गया, उसे असल ज़िंदगी में समझ पाना थोड़ा मुश्किल है.

5. एयरहोस्टेस

Source : youtube

1986 में डीडी नेशनल पर प्रसारित होने वाला ये धारावाहिक एयरहोस्टेस की ज़िंदगी पर आधारित था. शो में लीड रोल Kruttika Desai ओर Kitu Gidwani ने निभाया था. इस सीरियल को देख कर अंदाज़ा लगाया जा सकता है कि लड़कियों के प्रोफ़ेशनल लाइफ़ की राह बिल्कुल आसान नहीं होती.

कसम से

Source : ytimg

जी टीवी पर प्रसारित होने वाले इस सीरियल की कहानी तीन बहनों के ईद-गिर्द घूमती है. पिता की मौत के तीनों बहनें करियर बनने के लिए मुंबई के बिज़नेसमैन मिस्टर वालिया के घर रहने आती हैं. यूं तो ये तीनों ही इस शहर में कुछ बनने और करने के लिए आई थी, लेकिन उनकी ज़िंदगी प्यार, इश्क और मोहब्बत के बीच फंस कर रह जाती है. प्यार-व्यार सब ठीक है, लेकिन बीच शो में बहनों के रिश्ते में जिस तरह से तकरार और दरार दिखाई गई, असलियत में कोई बहन शायद ही अपनी बहन के ख़िलाफ़ ऐसी साज़िशें रचती हो.

6. मैं बनूंगी मिस इंडिया

Source : rdgproduction

इस शो की कहानी फ़ैशन, ब्यूटी और ग्लैमर से भरपूर है. सीरियल में एक छोटे शहर से आई लड़की के संघर्ष की कहानी को दिखाया गया. सीरियल में साफ़ तरीके से दिखाया गया है कि एक छोटे शहर की लड़की के लिए अपने सपनों को साकार करना मुश्किल ज़रूर होता है, लेकिन नामुमकिन नहीं. ये कहानी हर किसी के लिए काफ़ी प्रेरणादायक थी.

तमन्ना

Source : kinkylittleboots

स्टार प्लस पर प्रसारित होने वाला ये सीरियल फ़ैमिली ड्रामा शो था. इसमें एक ऐसी लड़की की कहानी को दिखाया गया था, जो गुजरात से है और क्रिकेट में ख़ास रुचि रखती है, साथ ही उसे बातौर खिलाड़ी ख़ुद को स्थापित करने के लिए काफ़ी बलिदान देने पड़े. इस दौरान उसे घर से लेकर बाहर तक कई मुसीबतें भी झेलनी पड़ी. अब आप ख़ुद सोचो रियल लाइफ़ में कोई महिला इतना सब बर्दाशत करेगी क्या भला?

7. स्त्री शक्ति

Source : tellychakkar

दूरदर्शन के इस कार्यक्रम उन महिलाओं की कहानी उन्हीं की ज़ुबानी दिखाई जाती है, जिन्होंने मुश्किल हालातों में भी हार नहीं मानी और गिर कर ऐसे खड़ी हुई, जैसे मानों कभी कुछ बुरा हुआ ही नहीं था.

शक्ति

Source : newshunt

कलर टेलीविज़न पर प्रसारित होने वाला ये सीरियल एक किन्नर की ज़िंदगी पर आधारित था. कसम से अगर ये सीरियल किन्नर समाज देख लेता, तो वो सदमे में ही आ जाता. क्योंकि इसमें जिस तरह एक किन्नर को किसी के घर की बहू बना दिया जाता है, पर आप खुद ही सोचिये कि रियल लाइफ़ में ऐसा हो सकता है भला.

8. फ़रमान

Source : ytim

इस शो में आपको दोस्ती, प्यार और शादी तक के सारे किस्से देखने को मिलेंगे. काल्पनिक घटना पर आधारित इस सीरियल में रिश्तों में दिखाए गए तनाव को रियल लाइफ़ से रिलेट कर देखा जा सकता है.

इश्कबाज़

Source : tellydhamaal

ये शो स्टार प्लस पर रात 10 बजे प्रसारित होता था. यूं तो ये धारावाहिक तीन भाईयों की ज़िंदगी पर आधारित था, लेकिन मेन रोल इसमें एक लड़की ही प्ले कर रही थी, जो अमीर और ज़िद्दी किस्म के ओमकारा को सुधारने का प्रण लेती है, लेकिन इस दौरान उसे कई कठिनाईयों और आलोचनाओं का भी सामना करना पड़ता है. इस सीरियल की कहानी का वास्तविकता से कोई लेना-देना नहीं है.

कुल मिला कर आज कल के नाटकों में महिलाओं के कैरेक्टर को लेकर काफ़ी भ्रम फैलाया जा रहा है, जो कि किसी भी तरीके से सही नहीं है. हो सकता है इस तरीके के सीरियल्स लोगों के लिए एंटरनेमेंट का साधन ज़रूर हैं, लेकिन आने वाली पीढ़ी पर इसका बुरा प्रभाव भी पड़ सकता है. सास-बहू सीरियल्स में जिस तरह से महिलाओं को चालें चलते दिखाया जाता है, उससे समाज में एक ग़लत मैसेज जा रहा है. महिलाओं पर आधारित सीरियल को एक अच्छी सोच के साथ बनाया जाना चाहिए न कि मनगढ़त कहानियों के साथ.

महिलाओं के किरदार पहले के Serials में कितने सही थे... अब ये या तो आदर्श बहू या फिर वैम्प बनाते हैं


https://www.gazabpost.com/doordarshan-women-centric-serials-changed-now

अगला लेख: यूपी के अस्पताल की ये तस्वीर योगी आदित्यनाथ को भी शर्मिंदा कर देगी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
05 जून 2018
Mysterious hidden treasures story in Hindi: दुनियाभर में कई गुप्त और रहस्यमयी खजाने हैं, जिन्हें कोई नहीं ढूंढ पाया है। बावजूद इसके, लोगों की कोशिशें कम नहीं हुई हैं। इन खजानों में सोने, चांदी और कीमती जेवरात हैं। खास बात ये है कि लोग इन खजानों को ढूंढकर लोग जल्दी अमीर बन
05 जून 2018
26 मई 2018
सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजूकेशन (सीबीएसई) ने 12वीं बोर्ड परीक्षाओं के नतीजे शनिवार (26 मई) को घोषित कर दिए. इसमें उत्‍तर प्रदेश के गाजियाबाद की रहने वाली मेघना श्रीवास्‍तव ने पूरे देश में पहला स्‍थान पाया है. उन्‍होंने 500 अंकों में 499 अंक प्राप्‍त किए. मेघना ने अपनी
26 मई 2018
07 जून 2018
आप बीमार हो और डॉक्टर को दिखाने हॉस्पिटल जाओ. लेकिन वहां पहुंच कर आपको पता चले कि आपका इलाज डॉक्टर के बजाय सफाई कर्मी करेगा. फिर तो कुछ देर के लिए सन्न हो जाओगे. सही-गलत की समझ होगी तो बवाल काट दोगे. लेकिन उत्तर प्रदेश में ऐसा न हुआ. क्योंकि ये घटना जहां की है, वहां हाई-फ
07 जून 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x