कौन है वो लड़की, जो वायरल हो रही इस फोटो में नेहरू को चूम रही है?

04 जून 2018   |  अखिलेश ठाकुर   (422 बार पढ़ा जा चुका है)

कौन है वो लड़की, जो वायरल हो रही इस फोटो में नेहरू को चूम रही है?

अगर आप सोशल मीडिया पर हैं और ये सब नहीं देखा-पढ़ा. मतलब आपने कुछ देखा ही नहीं. दर्जनों तस्वीरें. दर्जनों विडियो. सोशल मीडिया पर नेहरू की ‘चरित्रहीनता’ साबित करने के लिए एक खजाना मौजूद है. इसी खजाने में शामिल एक पोस्ट पिछले कई महीनों से खूब वायरल हो रहा है. लोग चटखारे लेकर शेयर कर रहे हैं. मजे ले रहे हैं. आज की हमारी पड़ताल में इसी पोस्ट का जिक्र है.

क्या है इस वायरल पोस्ट में?
एक तस्वीर है. वही मेसेज है. साथ में एक लाइन भी लिखी है. शब्द हैं-

आजादी की लडाई मे बाए गाल पर लगी गोली से घायल चाचा नेहरू.

(नोट: ऑथेन्सिटी के चक्कर में हमने व्याकरण की गलतियां ठीक नहीं की हैं.)

ऐसी ही एक वायरल पोस्ट का स्क्रीनशॉट (क्रेडिट- फेसबुक)
इसी वायरल पोस्ट का एक सैंपल (क्रेडिट: सोशल मीडिया)
ऐसे तमाम मेसेज इस तस्वीर के साथ सोशल मीडिया पर शेयर हो रहे हैं (फोटो: फेसबुक)
ये पोस्ट पिछले कई महीनों से वायरल हो रहा है (फोटो: फेसबुक)

तो क्या ये तस्वीर लड़ाई के मैदान की है? जहां नेहरू लड़ रहे हैं? और जख्मी हो गए हैं? नहीं. ये तस्वीर एक छोटा सा ब्लैक ऐंड वाइट फ्रेम है. जिसमें नेहरू का साइड प्रोफाइल दिख रहा है. मतलब चेहरा साइड से दिख रहा है. पीछे से एक लड़की ने उन्हें पकड़ा हुआ है. उसने अपने हाथ से नेहरू का गाल अपनी ओर मोड़ा हुआ है. लड़की उन्हें किस कर रही है. सामने की तरफ एक आदमी पीठ की ओट किए दिख रहा है. मतलब, जब ये तस्वीर ली गई होगी तब वो आदमी सामने खड़ा नेहरू और उस लड़की को देख रहा होगा. इसके अलावा इससे मिलती-जुलती एक और तस्वीर शेयर की जा रही है. उसमें नेहरू की पीठ दिख रही है. सामने की तरफ एक महिला नजर आ रही हैं. वो नेहरू के गाल पर किस कर रही हैं. तस्वीर ब्लैक ऐंड वाइट है. नेहरू और उस औरत के आस-पास दो लोग दिख रहे हैं. यूनिफॉर्म में. लोग जिस तरह से ये मेसेज लिख और शेयर कर रहे हैं, उससे साफ है. कि वो नेहरू का मजाक उड़ा रहे हैं. आजादी की लड़ाई में नेहरू के योगदान पर सवाल कर रहे हैं. और उन्हें चरित्रहीन साबित कर रहे हैं.

नयनतारा सहगल ने कई किताबें लिखी हैं. रिच लाइक अस. मिस्टेकन आइडेंटिटी. प्रिजन ऐंड चॉकलेट केक. स्ट्रॉम इन चंडीगढ़. द स्टोरी ऑफ इंडियाज फ्रीडम मूवमेंट. उन्होंने नेहरू पर भी कई किताबें लिखी हैं. जैसे- जवाहरलाल नेहरू: सिविलाइजिंग अ सेवेज वर्ल्ड. नेहरूज इंडिया: एसेज़ ऑन द मेकर ऑफ अ नेशन. नेहरूज इंडिया: एस्सेज ऑन द मेकर ऑफ अ नेशन. नयनतारा ने इंदिरा गांधी पर भी किताबें लिखी हैं. जैसे, इंदिरा गांधी: हर रोड टू पावर.

असलियत क्या है? कौन है नेहरू को चूमती वो लड़की?
चूमना हमेशा रोमांटिक ही नहीं होता. किस वही नहीं होता, जो प्रेमी-प्रेमिका करते हैं. चूमने का मतलब सेक्स नहीं होता. स्नेह जताने के लिए भी किस किया जा सकता है. लाड दिखाने के लिए भी किस किया जा सकता है. किसी अपने की सलामती की दुआ करते हुए भी उसे चूमा जा सकता है. गाल पर. माथे पर. हाथ पर. आंखों पर. ये भी वैसा ही किस था. पहले करते हैं पहली तस्वीर पर बात. तस्वीर में जो लड़की दिख रही है, वो कोई अंग्रेज नहीं है. न ही वो नेहरू की प्रेमिका है. वो हैं नेहरू की भांजी. नयनतारा सहगल. नेहरू की बहन विजयालक्ष्मी पंडित की बेटी. दूसरी फोटो में नेहरू को जो औरत चूम रही है, वो नयनतारा की मां हैं. जवाहरलाल नेहरू की बहन यानी खुद विजयालक्ष्मी पंडित.

विजयालक्ष्मी बस नेहरू की छोटी बहन नहीं थीं. वो खुद भी स्वतंत्रता सेनानी थीं. वो संविधान सभा की सदस्य थीं. संयुक्त राष्ट्र के जनरल असेंबली की पहली महिला अध्यक्ष थीं. कई देशों में भारत की राजदूत नियुक्त की गईं. राज्यपाल भी रहीं.

नयनतारा और नेहरू की फोटो कब की है?
ये दोनों तस्वीरें अलग-अलग मौकों की हैं. पहले बात पहली तस्वीर की. यानी, नयनतारा वाले फोटो की. आजादी के बाद की बात है. नेहरू प्रधानमंत्री बन गए थे. साल था, 1955. नेहरू विदेशी दौरे पर ब्रिटेन गए थे. उस समय विजयालक्ष्मी पंडित ब्रिटेन में भारत की हाई कमिश्नर थीं. नेहरू जब हीथ्रो एयरपोर्ट पर उतरे, तो विजयालक्ष्मी अपनी बेटी नयनतारा के साथ उन्हें रिसीव करने आईं. रिसीव करते समय प्यार जताने के लिए बहन ने भाई के गाल को चूमा. भांजी भी खुश होकर लाड करने के लिए पीछे से आई. और उसने अपने मामा के गाल पर किस कर लिया.



विजयालक्ष्मी पंडित और नेहरू की फोटो कब की है?
दूसरी फोटो 1949 की है. जब विजयालक्ष्मी पंडित अमेरिका में भारत की राजदूत थीं. तब नेहरू वहां गए थे और विजयालक्ष्मी उन्हें रिसीव करने एयरपोर्ट पहुंची थीं. रिसीव करते हुए बहन ने बड़े भाई को गले से लगाया और प्यार से गाल पर किस किया. यूट्यूब की खुदाई के दौरान हमें एक विडियो मिला. 1949 का एक विडियो. इस विडियो का लिंक दे रहे हैं हम. यूट्यूब के क्रेडिट से आप ये विडियो देखिए और तस्वीर का मिलान कीजिए. आपको समझ में आएगा कि विजयालक्ष्मी पंडित और नेहरू की जो तस्वीर वायरल हो रही है, वो इसी मौके की है. अगर ये गलत है, तो फिर मां का अपने बच्चे को चूमना भी गलत है. ये पाप है, तो वो भी पाप है. एक बहन अपने भाई को गले लगाए, उसके गाल पर किस करे, तो इसमें क्या गलत है? एक भांजी अपने मामा से लिपटकर उनके गाल पर किस करे, तो इसमें क्या खराबी है? किसी और के रिश्ते भी हम तय करेंगे क्या?





नेहरू और उनकी बहन तो नहीं हैं, मगर नयनतारा हैं
अब न तो विजयलक्ष्मी पंडित रहीं. न पंडित नेहरू रहे. नयनतारा सहगल हैं मगर. 91 साल की हो चुकी हैं. लेखिका हैं. अंग्रेजी में लिखती हैं. कई किताबें छप चुकी हैं उनकी. काफी जानी-मानी हैं. नेहरू और विजयालक्ष्मी पंडित की आत्माएं अपने चरित्रहनन की शिकायत करने नहीं आएंगी. मगर नयनतारा को इस घटिया मुहिम में अपनी तस्वीर इस्तेमाल किए जाने पर कैसा महसूस होता होगा?

नेहरू 1964 में गुजरे थे. मगर जाने के बाद भी वो भारत की राजनीति में बने रहे. उन्हें बदनाम करने, उनकी छवि खराब करने की कोशिश उसी समय से जारी है. हाल के दिनों में भी अक्सर उनका जिक्र छेड़ दिया जाता है. बीजेपी आईटी सेल के प्रमुख अमित मालवीय ने तो ट्वीट कर दिया था. ये ही तस्वीरें शेयर करके वो भी नेहरू को अय्याश साबित करने की कोशिश कर रहे थे.

नयनतारा सहगल के पिता को अंग्रेजों ने चार बार जेल भेजा
आजादी के बाद विजयालक्ष्मी पंडित को रूस में राजदूत बनाकर भेजा गया. तब नयनतारा नेहरू के ही साथ रहती थीं. उनके पिता रंजीत सीताराम पंडित स्वतंत्रता सेनानी थे. चार बार अंग्रेजों की कैद में रहे थे. चौथी बार जेल से जब बाहर आए, तब उनकी मौत हो गई. नेहरू का घर ही नयनतारा का घर था. पिता के जाने के बाद मामा ही उनके पिता थे. उस समय कोई प्रधानमंत्री आवास जैसी चीज नहीं थी. नेहरू तब 17 यॉर्क रोड में रहते थे. इसी का नाम अब मोतीलाल नेहरू मार्ग है. रोज दोपहर को नयनतारा खाना लेकर नेहरू के दफ्तर जाती थीं. इंदिरा उनकी ममेरी बहन थीं. दोनों एक ही घर में रहते थे. जब गांधी की हत्या हुई, तब भी नयनतारा यहीं थीं. मार्च 1948 तक नयनतारा यहीं रहीं. फिर वो भी अपनी मां के पास मॉस्को चली गईं. नेहरू और विजयालक्ष्मी पंडित की ज्यादा पटती नहीं थी. मगर बच्चों की बात अलग थी. नेहरू की तरफ से भी और नयनतारा की तरफ से भी, दोनों में बहुत प्यार था. इंदिरा के साथ भी उनके अच्छे रिश्ते थे.

इंदिरा गांधी नेहरू की इकलौती औलाद थीं. नयनतारा सहगल उनकी बुआ की बेटी थीं. मगर इमरजेंसी के टाइम पर नयनतारा और उनकी मां विजयालक्ष्मी पंडित, दोनों ने इंदिरा की तानाशाही का विरोध किया था.

नयनतारा की आलोचना से नाराज इंदिरा ने बदला लिया
बाद में जब इंदिरा ने इमरजेंसी लगाई, तब विजयालक्ष्मी पंडित और नयनतारा, दोनों ने उनके खिलाफ झंडा उठा लिया. खूब आलोचना की. निर्मम आलोचना. नयनतारा ने खूब लेख लिखे इंदिरा की तानाशाही के खिलाफ. कहते हैं कि इंदिरा नयनतारा को इटली में भारत का राजदूत बनाकर भेजने वाली थीं. मगर अपनी आलोचना से बौखलाकर इंदिरा ने ये नियुक्ति रद्द कर दी. 2015 में इन्हीं नयनतारा सहगल ने साहित्य अकादमी पुरस्कार वापस कर दिया था. विरोध में. ये दादरी में मारे गए मुहम्मद अखलाक की हत्या के बाद हुआ था. उनकी शिकायत थी कि मोदी सरकार भारत की सांस्कृतिक एकता को बचाने में नाकाम साबित हो रही है. उस समय कुछ और साहित्यकारों ने अपने पुरस्कार वापस लौटाए थे. उनके साथ-साथ नयनतारा के बारे में लिखा गया. ‘मोदी विरोध में अंधी’ और ‘अवॉर्ड वापसी गैंग’ जैसी बातें कही गईं. लोग भूल गए कि आदर्शों का हवाला देकर उन्होंने अपनी ही ममेरी बहन का विरोध किया था. उनके खिलाफ खूब बोला और लिखा था. जाहिर है, लोग इतिहास भूल गए थे. वो अब भी भूल रहे हैं. तभी चरित्रहनन कर रहे हैं. या फिर ये सब जान-बूझकर किया जा रहा है.

नेहरू को करेक्टरलेस साबित करने की मुहिम बहुत पुरानी है
नेहरू को चरित्रहीन साबित करने पर दशकों से ऊर्जा खर्च की जा रही है. क्या छूटा है? यूट्यूब? ट्विटर? फेसबुक? वॉट्सऐप? कुछ नहीं छूटा. दर्जनों विडियो हैं. दर्जनों कहानियां फैलाई जाती हैं. जिनमें नेहरू की छवि खराब करने की कोशिश की जाती है. हमने इसपर कुछ खबरें, कुछ आरोपों की पड़ताल की है. आप चाहें तो आखिर में उन खबरों के लिंक पर क्लिक करके उन्हें पढ़ सकते हैं.



Woman kissing Nehru in viral photo on social media is actually his niece Nayantara Sehgal

अगला लेख: गले में सांप लपेटने वाला ये नेता एक वक्त मोदी जी से ऊपर आंका गया था



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
24 मई 2018
सन् 2004. वह मई के पहले हफ्ते की एक दोपहर थी, उमस भरी. कुल जमा 36 दिनों के बाद मुझे लिलीपुल से जयपुर की पूर्व राजमाता गायत्री देवी के एडीसी रघुनाथ सिंह का फोन आया. ‘राजमाता ने आपसे मिलने की इजाजत दे दी है. आप एक बजे पधार जाएं यहां.’ दरअसल भाई आलोक तोमर की एजेंसी ‘शब्दार्थ
24 मई 2018
22 मई 2018
पेट्रोल और डीजल की दिन पर दिन बढ़ती कीमत ने मंगलवार को नया रिकॉर्ड बना दिया है. देश की आर्थिक राजधानी में पेट्रोल सबसे महंगा 84.70 रुपये लीटर के स्तर पर पहुंच गया. दिल्ली में भी पेट्रोल अब तक के उच्चतम स्तर 76.87 रुपये प्रति लीटर पर पहुंच गया है. अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बढ़
22 मई 2018
27 मई 2018
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 27 मई, 2018 को रेडियो पर मन की बात करते हुए ओडिशा के कटक में रहने वाले डी. प्रकाश राव की तारीफ की. उन्होंने कहा कि पिछले 50 साल से चाय बेचने वाले प्रकाश राव अपनी आधी आमदनी 70 गरीब बच्चों की शिक्षा पर खर्च करते हैं. वो हम सब के लिए एक प्रेरणास्
27 मई 2018
30 मई 2018
नई दिल्ली: बाबा रामदेव के पतंजलि ब्रांड की टेलीकॉम सेक्टर में एंट्री के बाद से यूजर्स में उत्सुकता बढ़ गई है. दरअसल, जिस तरह जियो ने टेलीकॉम सेक्टर में धूम मचाई थी, वैसे ही उम्मीद यूजर्स को पतंजलि से भी है. लेकिन, क्या ऐसा होगा. BSNL के साथ करार से पतंजलि ने इस मार्केट मे
30 मई 2018
05 जून 2018
इंडिया के सबसे अमीर आदमी के बेटे आकाश अंबानी (जियो चलाया है, बाप का नाम तो सुना ही होगा) की शादी होने जा रही है. हीरा व्यापारी रसल मेहता की बेटी श्र्लोका मेहता से. लेकिन शादी के पहले भी तो कुछ फंक्शन होते हैं. एंगेजमेंट वगैरह टाइप. तो प्रपोज़ कर अंगूठी पहनाने वाली रस्म गो
05 जून 2018
06 जून 2018
14 साल का राजू यादव जो की हजारीबाग, झारखंड में अपने माता-पिता और दो भाइयों के साथ रहता था। जब वो छठी क्लास में था तभी उसे अपनी पढ़ाई छोड़नी पड़ी, वजह था परिवार पर हज़ारों का कर्ज और माता-पिता की खराब तबियत। राजू भाइयों में सबसे बड़ा था और परिवार की आर्थिक ज़रूरतों को पूरा करने
06 जून 2018
06 जून 2018
यूरोप का एक देश है. नीदरलैंड्स. पूरब में जर्मनी. दक्षिण में बेल्जियम. वहां के लोगों को डच, उनकी भाषा, उनकी संस्कृति को डच कहा जाता है. डच लोग दुनिया के सबसे सुखी-संपन्न लोगों में गिने जाते हैं. यहां के प्रधानमंत्री हैं मार्क रुट. उनका एक विडियो दुनियाभर में वायरल हो रहा ह
06 जून 2018
23 मई 2018
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बीते 4 सालों में अपने कई विदेशी दौरों से न सिर्फ भारत के लोगों को बल्कि विदेशियों को भी कई बार चौंकाया है और प्रभावित किया है. विदेशी इवेंट्स में भी उन्हें सुनने के लिए काफी संख्या में लोग पहुंचे, दुनियाभर के शीर्ष नेताओं ने भी दिल खोलकर उनका स्वागत किया. इसी साल अप्रैल
23 मई 2018
07 जून 2018
परिसर सरकारी हो या प्राइवेट, अपनी सामान की सुरक्षा स्वयं करें की लाइन किसी न किसी दीवार, खंभे या गेट पर लिखी दिख ही जाती है। शॉपिंग मॉल में तो कई बार पार्किंग की पर्ची पर लिखा रहता है कि पार्किग एट योर ओन रिस्क। अब आदमी गाड़ी तो खड़ी कर देता है लेकिन दिल की धुकधुकी वैसे ह
07 जून 2018
05 जून 2018
बीजेपी के एक बड़े नेता को लोगों ने दौड़ा-दौड़ाकर पीटा. चूते-चप्पल फेंके उनपर. नेता जी की ऐसी हालत हुई कि सिर पर पैर रखकर भागे. सरपट भागे.क्या? आपको नहीं पता लगा? कोई खबर नहीं आई? टीवी, अखबार, कहीं नहीं दिखी?ओहो. अब समझ आया. इतनी बड़ी खबर आप तक क्यों नहीं पहुंची. ये ‘बिकाऊ
05 जून 2018
25 मई 2018
लोग चार साल से धान बोए हैं कि 15 लाख कहां हैं- 15 लाख कहां हैं. कोई पासबुक दिखा रहा है तो कोई मोदी जी के पुराने बयान दिखा रहा है. उन सबको तगड़ा जवाब दिया है. अरे अपने मेमे वाले दीपक मिश्रा और कौन. बहुत सही लथेड़ लथेड़ मारा है भाईसाब. वो गणित देख लें तो श्री निवास रामानुजम
25 मई 2018
04 जून 2018
देश में बहुत जगह है. भारत क्षेत्रफल के हिसाब से सातवां सबसे बड़ा देश है. इसलिए यहां कुछ भी लिखकर लटका देने, टांग देने की भतेरी जगह है. बहुत कुछ देखा है अभी तक. फलानी कमजोरी से लेकर न जाने क्या-क्या. हम शायद उन चंद देशों में से एक होंगे जिनके लिए इमारतों के अंदर लिखवाना पड़त
04 जून 2018
10 जून 2018
राजस्थान के जोधपुर जिले में एक बड़ी अमानवीय घटना हुई है. जेसै बकरीद पर बकरे की कुर्बानी दी जाती है, ठीक वैसे ही एक आदमी(आदमी कहना गलत होगा, राक्षस समझिए) ने रमजान के महीने में अपनी बेटी की कुर्बानी दे दी. ये आदमी है जोधपुर के पीपड़ शहर का रहने वाला 26 साल का नवाब अली कुरे
10 जून 2018
22 मई 2018
19 जनवरी 2006. बैंगलोर से करीब 20 किलोमीटर दूर एक फार्म हाउस पर जनता दल (सेकुलर) के 40 विधायकों की बैठक चल रही थी. बैठक जिसके बारे में जेडीएस के पितामह एचडी देवेगौड़ा को भी पता नहीं था और न ही उनके बड़े बेटे एच डी रवन्ना को. इस बैठक में जेडीए
22 मई 2018
24 मई 2018
देश में फिटनेस को लेकर जागरूकता अभियान के तहत हाल ही में खेलमंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ ने एक वीडियो सोशल मीडिया पर अपलोड किया था. राठौड़ ने खेल और सिनेमा जगत की कुछ प्रमुख हस्तियों को टैग करते हुए उनसे भी इस अभियान में शामिल होने की अपील की थी. उनके इस वीडियाे के बाद ज
24 मई 2018
06 जून 2018
बाप बड़ा ना भैया सबसे बड़ा रुपया। जिसके पास पैसा है उसके पास सब कुछ है और कुछ यही करके दिखाया है महाराष्ट्र के मशहूर व्यवसायी और राजनेता पंकज पारख। ‘द मैन विद द गोल्डन शर्ट’ नाम से मशहूर महाराष्ट्र के मशहूर व्यवसायी और राजनेता पंकज पारख का नाम गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड्स
06 जून 2018
28 मई 2018
वीर सावरकर का पूरा नाम विनायक दामोदर सावरकर था वीर सावरकर पहले स्वतंत्रता सेनानी थे जिन्होंने विदेशी का बहिष्कार किया था। ।। जन्म् 28 मई 1883,देहांत् 26 फरवरी 1966,जीवनकाल 83 वर्ष ।।1.वीर सावरकर का जन्म 28 मई 1883 में महाराष्ट्र के नासिक जिले के भागुंर गांव में हुआ था।2.सावरकर के पिता का नाम दामोदर
28 मई 2018
23 मई 2018
वायरल सच में आज बात प्रधानमंत्री मोदी के कर्ज चुकाने वाली खबर की. सोशल मीडिया में वायरल हो रहे मैसेज के जरिए दावा किया जा रहा है कि पीएम मोदी ने ईरान का कर्ज चुका दिया है. जानते हैं कर्ज चुकाने का दावा करने वाली इस कहानी का सच क्या है? पिछले महीने ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दो दिन के दौरे पर ईरान
23 मई 2018
31 मई 2018
1 नवंबर, 1999ये तारीख आंख में भर लीजिए. एक गलत कदम. एक गलत फैसला. किस तरह तकदीर बदल देता है, इसकी मिसाल देने और समझने के लिए ये बहुत मुफीद तारीख है.इस तारीख को इंडिया टुडे मैगजीन का एक इशू छपा था. मैगजीन के अंदर एक रिपोर्ट थी. रिपोर्ट क्या थी, लिस्ट थी एक. जिसकी हेडिंग थी
31 मई 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x