“गज़ल” सुना वो शहर छोड़ जाने लगा है॥

10 जुलाई 2018   |  महातम मिश्रा   (10 बार पढ़ा जा चुका है)

बह्र- १२२ १२२ १२२ १२२ काफ़िया- आने रदीफ़- लगा है


“गज़ल”


यहाँ भी वही शोर आने लगा है

जिसे छोड़ आई सताने लगा है

किधर जा पड़ूँ बंद कमरे बताओ

तराने वहीं कान गाने लगा है॥


सुलाने नयन को न देती निगाहें

खुला है फ़लक आ डराने लगा है॥


बहाने बनाती बहुत मन मनाती

अदा वह दिशा को नचाने लगा है॥


खड़ी है किनारे वही भीड़ अब भी

मगर भाव मंशा चिढ़ाने लगा है॥


छुपाने चली थी कुढ़न आंसुओं की

वही बंध दरिया बहाने लगा है॥


लिखो चाह गौतम गढ़ों नव कहानी

सुना वो शहर छोड़ जाने लगा है॥


महातम मिश्र गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: “कुंडलिया”



बहुत बहुत धन्यवाद शक्ति जी , जानकर ख़ुशी हुई कि आप गोरखपुर में हैं और अहमदाबाद के निवासी भी हैं, स्वागत है मित्र, मुलाकात होगी कभी न कभी, हार्दिक आभार

शक्ति
20 जुलाई 2018

बहुत अच्छे , मिश्राजी आप कि गजल में दिल छूने वाली बात है ,आप अहमदाबाद में रह रहे है और हम गोरखपुर में , हम अहमदाबाद से है .

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
16 जुलाई 2018
बह्र- २१२२ २१२२ २१२२ २ काफ़िया- अर रदीफ़- दिया मैंने“गज़ल”क्या लिखा क्योंकर लिखा क्या भर दिया मैंनेकुछ समझ आया नहीं क्या डर दिया मैंनेआज भी लेकर कलम कुछ सोचता हूँ मैंवो खड़ी जिस द्वार पर क्या घर दिया मैंने।।हो सके तो माफ़ करना इन गुनाहों कोजब हवा में तीर थी क्यों शर दिया मैंन
16 जुलाई 2018
02 जुलाई 2018
मापनी-२१२२ २१२२ २१२२ २१२ समांत- आन पदांत- कर “गज़ल” कुछ सुनाने आ गया हूँ मन मनन अनुमान कर झूठ पर ताली न बजती व्यंग का बहुमान करहो सके तो भाव को अपनी तराजू तौलना शब्द तो हर कलम के हैं सृजन पथ गतिमान कर॥ छू गया हो दर्द मेरा यदि किसी भी देह कोउठ बता देना दवा है जा लगा दिलजान
02 जुलाई 2018
28 जून 2018
“कुंडलिया”बादल घिरा आकाश में डरा रहा है मोहिं। दिल दरवाजा खोल के जतन करूँ कस तोहिं॥ जतन करूँ कस तोहिं चाँदनी चाँद चकोरी। खिला हुआ है रूप भिगाए बूँद निगोरी॥ कह गौतम कविराय हो रहा मौसम पागल। उमड़-घुमड़ कर आज गिराता बिजली बादल॥ महातम मिश्र गौतम गोरखपुरी
28 जून 2018
16 जुलाई 2018
मै
मैं और मेरा शहर सौन्दर्यीकरण का अद्भुत नमूना शोरगुल भरें, चकाचौंध करते जातपात, धर्म वाद से परे पर अर्थ वाद की व्यापकता बचपन की यादों से जुडा मेरी पहचान का वो हिस्सा जानकर भी अनजान बने रहते आमने सामने पड जाते तो कलेजा उडेल देते प्रदूषण, शोर, भीड़ भरा शहर ना पक्षियों की चहचहाहट भोर होने का एहसास करात
16 जुलाई 2018
05 जुलाई 2018
“कुंडलिया”पढ़ते-पढ़ते सो गया भर आँखों में नींद। शिर पर कितना भार है लगता बालक बींद॥लगता बालक बींद उठाए पुस्तक भारी। झुकी भार से पीठ हँसाए मीठी गारी॥कह गौतम कविराय आँख के नंबर बढ़ते। अभी उम्र नादान गरज पर पोथी पढ़ते॥ महातम मिश्र गौतम गोरखपुरी
05 जुलाई 2018
02 जुलाई 2018
मापनी-२१२२ २१२२ २१२२ २१२ समांत- आन पदांत- कर “गज़ल” कुछ सुनाने आ गया हूँ मन मनन अनुमान कर झूठ पर ताली न बजती व्यंग का बहुमान करहो सके तो भाव को अपनी तराजू तौलना शब्द तो हर कलम के हैं सृजन पथ गतिमान कर॥ छू गया हो दर्द मेरा यदि किसी भी देह कोउठ बता देना दवा है जा लगा दिलजान
02 जुलाई 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x