“गज़ल” सुना वो शहर छोड़ जाने लगा है॥

10 जुलाई 2018   |  महातम मिश्रा   (8 बार पढ़ा जा चुका है)

बह्र- १२२ १२२ १२२ १२२ काफ़िया- आने रदीफ़- लगा है


“गज़ल”


यहाँ भी वही शोर आने लगा है

जिसे छोड़ आई सताने लगा है

किधर जा पड़ूँ बंद कमरे बताओ

तराने वहीं कान गाने लगा है॥


सुलाने नयन को न देती निगाहें

खुला है फ़लक आ डराने लगा है॥


बहाने बनाती बहुत मन मनाती

अदा वह दिशा को नचाने लगा है॥


खड़ी है किनारे वही भीड़ अब भी

मगर भाव मंशा चिढ़ाने लगा है॥


छुपाने चली थी कुढ़न आंसुओं की

वही बंध दरिया बहाने लगा है॥


लिखो चाह गौतम गढ़ों नव कहानी

सुना वो शहर छोड़ जाने लगा है॥


महातम मिश्र गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: “कुंडलिया”


शक्ति
20 जुलाई 2018

बहुत अच्छे , मिश्राजी आप कि गजल में दिल छूने वाली बात है ,आप अहमदाबाद में रह रहे है और हम गोरखपुर में , हम अहमदाबाद से है .

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
02 जुलाई 2018
मापनी-२१२२ २१२२ २१२२ २१२ समांत- आन पदांत- कर “गज़ल” कुछ सुनाने आ गया हूँ मन मनन अनुमान कर झूठ पर ताली न बजती व्यंग का बहुमान करहो सके तो भाव को अपनी तराजू तौलना शब्द तो हर कलम के हैं सृजन पथ गतिमान कर॥ छू गया हो दर्द मेरा यदि किसी भी देह कोउठ बता देना दवा है जा लगा दिलजान
02 जुलाई 2018
03 जुलाई 2018
मापनी-२१२२ २१२ २१२२ २१२ समांत- आर पदांत- की“गीतिका” गर इजाजत मिल गई नयन से सरकार कीकब खिलाफत हो सकी वचन सुन इजहार कीजब मिले दो दिल कभी समय उठ कहने लगा खिल रही उपवन कली चमन के रखवार की॥क्या हुआ क्यों हर गली में उठा भूचाल है बह रही दरिया शहर
03 जुलाई 2018
02 जुलाई 2018
मापनी- २२१२ १२२ २१२२ १२२"दिग्पाल छंद"जब गीत मीत गाए मन काग बोल भाएविरहन बनी हूँ सखियाँ जीय मोर डोल जाएसाजन कहाँ छुपे हो ले राग रंग अबिराऋतुराज बौर महके मधुमास घोल जाए।।आओ न सजन मेरे कोयल कसक रही है पीत सरसो फुलाए फलियाँ लटक रहीं हैदादुर दरश दिखाए मनमोहना कहाँ होपपिहा तरस
02 जुलाई 2018
10 जुलाई 2018
मापनी-२१२२ २१२२ २१२२ २१२ समांत- ओल पदांत- दूँ“गीतिका” हो इजाज़त आप की तो दिल कि बातें बोल दूँ बंद हैं कमरे अभी भी खिड़कियों को खोल दूँ उस हवा से जा कहूँ फिर रुख इधर करना कभी दूर करना घुटन मंशा जगह दिल अनमोल दूँ॥ खिल गई है रातरानी महक लेकर बाग की हर दिशा गुलजार करती रंग महफि
10 जुलाई 2018
16 जुलाई 2018
मो
हैदराबाद भारत के राज्य तेलंगाना तथा आन्ध्र प्रदेश की संयुक्त राजधानी है|प्राचीन काल के दस्तावेजों के अनुसार इसे भाग्यनगर के नाम से जाना जाता था। आज भी यह प्राचीन नाम अत्यन्त ही लोकप्रिय है। कहा जाता है कि
16 जुलाई 2018
04 जुलाई 2018
“पिरामिड”वो गया समय बचपन लौट न आए मन बिछलाए झूला झूले सावनी॥-१ ये वक्त बे-वक्त शरमाना होठ चबाना उँगली नचानाप्रेमी प्रेम दीवाना॥-२ महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
04 जुलाई 2018
29 जून 2018
“मुक्तक”अस्त-व्यस्त गिरने लगी पहली बारिश बूँद। मानों कहना चाहती मत सो आँखें मूँद। अभी वक्त है जाग जा मेरे चतुर सुजान- जेठ असाढ़ी सावनी भादों जमे फफूँद॥-१याद रखना हर घड़ी उस यार का। जिसने दिया जीवन तुम्हें है प्यार का। हर घड़ी आँखें बिछाए तकती रहती- है माँ बहन बेटी न भार्या
29 जून 2018
13 जुलाई 2018
लखनऊ को प्राचीन काल में लक्ष्मणपुर और लखनपुर के नाम से जाना जाता था। लखनऊ प्राचीन कोसल राज्य का हिस्सा था और यह भगवान राम की विरासत
13 जुलाई 2018
12 जुलाई 2018
“कुंडलिया”मम्मा ललक दुलार में नहीं कोई विवाद। तेरी छवि अनुसार मैं पा लूँ सुंदर चाँद.. पा लूँ सुंदर चाँद निडर चढ़ जाऊँ सीढ़ी। है तेरा संस्कार उगाऊँ अगली पीढ़ी॥ कह गौतम कविराय भरोषा तेरा अम्मा। रखती मन विश्वास हमारी प्यारी मम्मा॥ महातम मिश्र गौतम गोरखपुरी
12 जुलाई 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x