“गीतिका” हो इजाज़त आप की तो दिल कि बातें बोल दूँ

10 जुलाई 2018   |  महातम मिश्रा   (11 बार पढ़ा जा चुका है)

मापनी-२१२२ २१२२ २१२२ २१२ समांत- ओल पदांत- दूँ


“गीतिका”


हो इजाज़त आप की तो दिल कि बातें बोल दूँ

बंद हैं कमरे अभी भी खिड़कियों को खोल दूँ

उस हवा से जा कहूँ फिर रुख इधर करना कभी

दूर करना घुटन मंशा जगह दिल अनमोल दूँ॥


खिल गई है रातरानी महक लेकर बाग की

हर दिशा गुलजार करती रंग महफिल घोल दूँ॥


जा कहूँ उस भ्रमर से उड़ मत कली को छेड़ना

दूर रहना अधखिले इस फूल का क्या? मोल दूँ॥


सज रहे अपनी कियारी चैन से जो झूमते

उन बहारों की डगर पर जा भला क्या? लोल दूँ॥


सूखकर काँटे हुए जो फिर भी लटके शाख़ पर

झुक गए अपनी डली पर जा उन्हें फिर झोल दूँ॥


पर बिना गौतम उड़ा कब है परिंदा जा रहा

बटखरा चिलमन हटाओ खुद तराजू तोल दूँ॥


महातम मिश्र गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: “पिरामिड”


शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
02 जुलाई 2018
मापनी- २२१२ १२२ २१२२ १२२"दिग्पाल छंद"जब गीत मीत गाए मन काग बोल भाएविरहन बनी हूँ सखियाँ जीय मोर डोल जाएसाजन कहाँ छुपे हो ले राग रंग अबिराऋतुराज बौर महके मधुमास घोल जाए।।आओ न सजन मेरे कोयल कसक रही है पीत सरसो फुलाए फलियाँ लटक रहीं हैदादुर दरश दिखाए मनमोहना कहाँ होपपिहा तरस
02 जुलाई 2018
25 जून 2018
छंद–दिग्पाल (मापनी युक्त) मापनी -२२१ २१२२ २२१ २१२२ “मुक्तक” जब गीत मीत गाए मन काग बोल भाए। विरहन बनी हूँ सखियाँ जीय मोर डोल जाए। साजन कहाँ छुपे हो ले फाग रंग अबिरा- ऋतुराज बौर महके मधुमास घोल जाए॥-१ आओ न सजन मेरे कोयल कसक रही है। पीत सरसो फुलाए फलियाँ लटक रही है। महुवा
25 जून 2018
04 जुलाई 2018
“पिरामिड”वो गया समय बचपन लौट न आए मन बिछलाए झूला झूले सावनी॥-१ ये वक्त बे-वक्त शरमाना होठ चबाना उँगली नचानाप्रेमी प्रेम दीवाना॥-२ महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
04 जुलाई 2018
24 जून 2018
 माँ बसुन्धरा कोनमन करेंदो फूल श्रधा केअर्पण करेंन होने दें क्षरणमाँ कासब मिलकर यह प्रणकरें।कितना सुन्दर धरतीमाँ का आँचलपल रहा इसमें जगसारा,अपने मद के लिएक्यों तू मानवफिरता मारा-मारासंवार नहीं सकतेइस आँचल को तोविध्वंस भी तो नाकरें,माँ बसुन्धरा कोनमन करें।हिमगिरी शृंखलाओंसे निरंतरबहती निर्मल जलधारा
24 जून 2018
13 जुलाई 2018
मापनी- २१२ २१२ १२२२ “मुक्तक” हर पन्ने लिख गए वसीयत जो। पढ़ उसे फिर बता हकीकत जो। देख स्याही कलम भरी है क्या- क्या लिखे रख गए जरूरत जो॥-१ गाँव अपना दुराव अपनों से। छाँव खोकर लगाव सपनों से। किस कदर छा रही बिरानी अब- तंग गलियाँ रसाव नपनों से
13 जुलाई 2018

शब्दनगरी से जुड़िये आज ही

सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
लोकप्रिय प्रश्न
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x