आज का पंचांग - 11 जुलाई 2018

11 जुलाई 2018   |  विनय वर्मा   (100 बार पढ़ा जा चुका है)

आज का पंचांग - 11 जुलाई 2018

🌞 ~ आज का अपना पंचांग ~ 🌞

⛅ दिनांक 11 जुलाई 2018

⛅ दिन - बुधवार

विक्रम संवत - 2075 (गुजरात. 2074)

⛅ शक संवत -1940

⛅ अयन - दक्षिणायन

⛅ ऋतु - वर्षा

⛅ मास - आषाढ़

⛅ गुजरात एवं महाराष्ट्र अनुसार मास - ज्येष्ठ

⛅ पक्ष - कृष्ण

⛅ तिथि - त्रयोदशी शाम 03:34 तक तत्पश्चात चतुर्दशी

⛅ नक्षत्र - मॄगशिरा रात्रि 12:44 तक तत्पश्चात आर्द्रा

⛅ योग - वृद्धि शाम 04:44 तक तत्पश्चात ध्रुव

⛅ राहुकाल - दोपहर 12:44 से दोपहर 02:23 तक

⛅ सूर्योदय - 05:25

⛅ सूर्यास्त - 19:08

⛅ दिशाशूल - उत्तर दिशा में

⛅ व्रत पर्व विवरण - मासिक शिवरात्रि

💥 विशेष - त्रयोदशी को बैंगन नहीं खाना चाहिए।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)

🌞 ~ अपना पंचांग ~ 🌞


🌷 प्रणव’ (ॐ) की महिमा (चतुर्दशी आर्द्रा नक्षत्र योग : 12 जुलाई 2018 रात्रि 12:44 से दोपहर 12:02 तक)

🙏🏻 सूतजी ने ऋषियों से कहा : “महर्षियों ! ‘प्र’ नाम है प्रकृति से उत्पन्न संसाररूपी महासागर का | प्रणव इससे पार करने के लिए (नव) नाव है | इसलिए इस ॐकार को ‘प्रणव’ की संज्ञा देते हैं | ॐकार अपना जप करनेवाले साधकों से कहता है – ‘प्र –प्रपंच, न – नहीं है, व: - तुम लोगों के लिए |’ अत: इस भाव को लेकर भी ज्ञानी पुरुष ‘ॐ’ को ‘प्रणव’ नाम से जानते हैं | इसका दूसरा भाव है : ‘प्र – प्रकर्षेण, न – नयेत, व: -युष्मान मोक्षम इति वा प्रणव: | अर्थात यह तुम सब उपासकों को बलपूर्वक मोक्ष तक पहुँचा देगा|’ इस अभिप्राय से भी ऋषि-मुनि इसे ‘प्रणव’ कहते हैं | अपना जप करनेवाले योगियों के तथा अपने मंत्र की पूजा करनेवाले उपासको के समस्त कर्मो का नाश करके यह उन्हें दिव्य नूतन ज्ञान देता है, इसलिए भी इसका नाम प्रणव – प्र (कर्मक्षयपूर्वक) नव (नूतन ज्ञान देनेवाला) है |

🙏🏻 इस मायारहित महेश्वर को ही नव अर्थात नूतन कहते हैं | वे परमात्मा प्रधान रूप से नव अर्थात शुद्धस्वरुप हैं, इसलिए ‘प्रणव’ कहलाते हैं | प्रणव साधक को नव अर्थात नवीन (शिवस्वरूप) कर देता है, इसलिए भी विद्वान पुरुष इसे प्रणव के नाम से जानते है अथवा प्र – प्रमुख रूप से नव – दिव्य परमात्म – ज्ञान प्रकट करता है, इसलिए यह प्रणव है |

🙏🏻 यद्यपि जीवन्मुक्त के लिए किसी साधन की आवश्यकता नहीं है क्योंकि वह सिद्धरुप है, तथापि दूसरों की दृष्टि में जब तक उसका शरीर रहता है, तब तक उसके द्वारा प्रणव – जप की सहज साधना स्वत: होती रहती है | वह अपनी देह का विलय होने तक सूक्ष्म प्रणव मंत्र का जप और उसके अर्थभूत परमात्म-तत्त्व का अनुसंधान करता रहता है | जो अर्थ का अनुसंधान न करके केवल मंत्र का जप करता है, उसे निश्चय ही योग की प्राप्ति होती है | जिसने इस मंत्र का ३६ करोड़ जप कर लिया हो, उसे अवश्य ही योग प्राप्त हो जाता है | ‘अ’ शिव है, ‘उ’ शक्ति है और ‘मकार’ इन दोनों की एकता यह त्रितत्त्वरूप है, ऐसा समझकर ‘ह्रस्व प्रणव’ का जप करना चाहिए | जो अपने समस्त पापों का क्षय करना चाहते हैं, उनके लिए इस ह्रस्व प्रणव का जप अत्यंत आवश्यक है |

🙏🏻 वेद के आदि में और दोनों संध्याओं की उपासना के समय भी ॐकार का उच्चारण करना चाहिए | भगवान शिव ने भगवान ब्रह्माजी और भगवान विष्णु से कहा : “मैंने पूर्वकाल में अपने स्वरूपभूत मंत्र का उपदेश किया है, जो ॐकार के रूप में प्रसिद्ध है | वह महामंगलकारी मंत्र है | सबसे पहले मेरे मुख से ॐकार ( ॐ ) प्रकट हुआ, जो मेरे स्वरूप का बोध करानेवाला है | ॐकार वाचक है और मैं वाच्य हूँ | यह मंत्र मेरा स्वरुप ही है | प्रतिदिन ॐकार का निरंतर स्मरण करने से मेरा ही सदा स्मरण होता है |

🙏🏻 मुनीश्वरो ! प्रतिदिन दस हजार प्रणवमंत्र का जप करें अथवा दोनों संध्याओं के समय एक-एक हजार प्रणव का जप किया करें | यह क्रम भी शिवपद की प्राप्ति करानेवाला है |

🙏🏻 ‘ॐ’ इस मंत्र का प्रतिदिन मात्र एक हजार जप करने पर सम्पूर्ण मनोरथों की सिद्धि होती है |

🙏🏻 प्रणव के ‘अ’ , ‘उ’ और ‘म’ इन तीनों अक्षरों से जीव और ब्रह्म की एकता का प्रतिपादन होता है – इस बात को जानकर प्रणव ( ॐ ) का जप करना चाहिए | जपकाल में यह भावना करनी चाहिए कि ‘हम तीनों लोकों की सृष्टि करनेवाले ब्रह्मा, पालन करनेवाले विष्णु तथा संहार करनेवाले रुद्र जो स्वयंप्रकाश चिन्मय हैं, उनकी उपसना करते हैं | यह ब्रह्मस्वरूप ॐकार हमारी कर्मेन्द्रियों और ज्ञानेन्द्रियों की वृत्तियों को, मन की वृत्तियों को तथा बुद्धि की वृत्तियों को सदा भोग और मोक्ष प्रदान करनेवाले धर्म एवं ज्ञान की ओर प्रेरित करें | प्रणव के इस अर्थ का बुद्धि के द्वारा चिंतन करता हुआ जो इसका जप करता है, वह निश्चय ही ब्रह्म को प्राप्त कर लेता है | अथवा अर्थानुसंधान के बिना भी प्रणव का नित्य जप करना चाहिए | 🙏🏻 (‘शिव पुराण’ अंतर्गत विद्धेश्वर संहिता से संकलित)

👉🏻 भिन्न-भिन्न काल में ‘ॐ’ की महिमा

➡ आर्दा नक्षत्र से युक्त चतुर्दशी के योग में (दिनांक 12 जुलाई 2018 रात्रि 12:44 से दोपहर 12:02 तक) प्रणव का जप किया जाय तो वह अक्षय फल देनेवाला होता है |

🙏🏻

🌞 ~ अपना पंचांग ~ 🌞

🙏🏻🌷☘🌹🌺💐🌸🌻🌷🙏🏻

अगला लेख: आज का पंचांग - 15 जुलाई 2018



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
03 जुलाई 2018
🌞 ~ आज का अपना पंचांग~ 🌞⛅ दिनांक 03 जुलाई 2018⛅ दिन - मंगलवार⛅ विक्रम संवत - 2075 (गुजरात. 2074)⛅ शक संवत -1940⛅ अयन - दक्षिणायन⛅ ऋतु - वर्षा⛅ मास - आषाढ़⛅ गुजरात एवं महाराष्ट्र अनुसार मास - ज्येष्ठ⛅ पक्ष - कृष्ण ⛅ तिथि - पंचमी रात्रि 10:27 तक तत्पश्चात षष्ठी⛅ नक्षत्र - शतभिषा 04 जुलाई प्रातः 03
03 जुलाई 2018
30 जून 2018
🌞 ~ *आज का अपना पंचांग* ~ 🌞⛅ *दिनांक 30 जून 2018*⛅ *दिन - शनिवार* ⛅ *विक्रम संवत - 2075 (गुजरात. 2074)*⛅ *शक संवत -1940*⛅ *अयन - दक्षिणायन*⛅ *ऋतु - वर्षा*⛅ *मास - आषाढ़*⛅ *गुजरात एवं महाराष्ट्र अनुसार मास - ज्येष्ठ*⛅ *पक्ष - कृष्ण* ⛅ *तिथि - द्वितीया शाम 03:20 तक तत्पश्चात तृतीया*⛅ *नक्षत्र - उत
30 जून 2018
02 जुलाई 2018
🌞 ~ आज का अपना पंचांग ~ 🌞⛅ दिनांक 02 जुलाई 2018⛅ दिन - सोमवार ⛅ विक्रम संवत - 2075 (गुजरात. 2074)⛅ शक संवत -1940⛅ अयन - दक्षिणायन⛅ ऋतु - वर्षा⛅ मास - आषाढ़⛅ गुजरात एवं महाराष्ट्र अनुसार मास - ज्येष्ठ⛅ पक्ष - कृष्ण ⛅ तिथि - चतुर्थी रात्रि 08:20 तक तत्पश्चात पंचमी⛅ नक्षत्र - धनिष्ठा रात्रि 12:36 त
02 जुलाई 2018
13 जुलाई 2018
🌞 ~ *आज का अपना पंचांग* ~ 🌞⛅ *दिनांक 13 जुलाई 2018*⛅ *दिन - शुक्रवार* ⛅ *विक्रम संवत - 2075 (गुजरात. 2074)*⛅ *शक संवत -1940*⛅ *अयन - दक्षिणायन*⛅ *ऋतु - वर्षा*⛅ *मास - आषाढ़*⛅ *गुजरात एवं महाराष्ट्र अनुसार मास - ज्येष्ठ*⛅ *पक्ष - कृष्ण* ⛅ *तिथि - अमावस्या सुबह 08:17 तक तत्पश्चात प्रतिपदा*⛅ *नक्षत
13 जुलाई 2018
29 जून 2018
🌞 ~ आज का अपना पंचांग ~ 🌞⛅ दिनांक 29 जून 2018⛅ दिन - शुक्रवार ⛅ विक्रम संवत - 2075⛅ शक संवत -1940⛅ अयन - दक्षिणायन⛅ ऋतु - वर्षा⛅ मास - ज्येष्ठ⛅ पक्ष - शुक्ल ⛅ तिथि - प्रतिपदा दोपहर 12:47 तक तत्पश्चात द्वितीया⛅ नक्षत्र - पूर्वाषाढा शाम 03:22 तक तत्पश्चात उत्तराषाढा⛅ योग - इन्द्र 30 जून रात्रि 02
29 जून 2018
12 जुलाई 2018
🌞 ~ आज का अपना पंचांग ~ 🌞⛅ दिनांक 12 जुलाई 2018⛅ दिन - गुरुवार ⛅ विक्रम संवत - 2075 (गुजरात. 2074)⛅ शक संवत -1940⛅ अयन - दक्षिणायन⛅ ऋतु - वर्षा⛅ मास - आषाढ़⛅ गुजरात एवं महाराष्ट्र अनुसार मास - ज्येष्ठ⛅ पक्ष - कृष्ण ⛅ तिथि - चतुर्दशी दोपहर 12:01 तक तत्पश्चात अमावस्या⛅ नक्षत्र - आर्द्रा रात्रि 09:
12 जुलाई 2018
09 जुलाई 2018
🌞 ~ *आज का अपना पंचांग* ~ 🌞⛅ *दिनांक 09 जुलाई 2018*⛅ *दिन - सोमवार* ⛅ *विक्रम संवत - 2075 (गुजरात. 2074)*⛅ *शक संवत -1940*⛅ *अयन - दक्षिणायन*⛅ *ऋतु - वर्षा*⛅ *मास - आषाढ़*⛅ *गुजरात एवं महाराष्ट्र अनुसार मास - ज्येष्ठ*⛅ *पक्ष - कृष्ण* ⛅ *तिथि - एकादशी रात्रि 09:27 तक तत्पश्चात द्वादशी*⛅ *नक्षत्र
09 जुलाई 2018
10 जुलाई 2018
🌞 ~ आज का अपना पंचांग ~ 🌞⛅ दिनांक 10 जुलाई 2018⛅ दिन - मंगलवार ⛅ विक्रम संवत - 2075 (गुजरात. 2074)⛅ शक संवत -1940⛅ अयन - दक्षिणायन⛅ ऋतु - वर्षा⛅ मास - आषाढ़⛅ गुजरात एवं महाराष्ट्र अनुसार मास - ज्येष्ठ⛅ पक्ष - कृष्ण ⛅ तिथि - द्वादशी शाम 06:45 तक तत्पश्चात त्रयोदशी⛅ नक्षत्र - रोहिणी 11 जुलाई रात्र
10 जुलाई 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x