मेरी सरकार

08 अगस्त 2018   |  pradeep   (95 बार पढ़ा जा चुका है)

अपनी बर्बादियों का हमने यूँ जश्न मनाया है,

सितमगर को ही खुद का राज़दार बनाया है.

गम नहीं है मुझे खुद अपनी बर्बादी का,

सितमगर ने मुझको अपना दीवाना बनाया है.

दीवानगी का आलम कुछ यूँ है मेरे यारो,

उनकी दिलज़ारी पे हमको मज़ा आया है.

लोग तो यूँ ही बदनाम करते है सितमगर को,

कत्ले अंदाज़ ही ने मुझ को शायर बनाया है.

वज़ूद शायरी का है उनसे, या शायरी से उनका,

वज़ूद दोनों का ही बस मेरी दीवानगी से तो है .

हुकूमत चले यूँ ही मेरे सरकार की दरबदर,

मैं तो दरबारदारी हूँ हरदम ही हूँ तेरे संग.

(आलिम)

अगला लेख: कर्म और त्याग



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
11 अगस्त 2018
दि
दिगपाल, मेरे बचपन का साथी था, दोस्त था या यूँ कहे कि वो मेरा मुण्डू(बेबी सिटर) था. दरअसल दिगपाल हमारी मौसी का नौकर था, उसकी उम्र कितनी थी मैं नहीं जानता पर शायद 12 या 14 साल का रहा होगा. पहाड़ी था या नेपाली ये भी मुझे नहीं पता
11 अगस्त 2018
10 अगस्त 2018
दिलकशी उनकी मूड और मॉडलिंग कब तलक यूँ जी को मेरे तड़पायेगी.है हज़ारो दीवाने नुमाइशी के उनके, आशिकी हमारी नज़र उनको क्यों आएगी, खामोश है हम भी देख उनकी बेरुखी, बयां करने से पहले जान यूँही जायेगी. (आलिम)
10 अगस्त 2018
01 अगस्त 2018
मै
ना तो धर्म तुमसे है, ना ही देश और जात तुमसे हैं. सिर्फ किसी देश में या किसी धर्म या जात में जन्म लेने में तुम्हारा अपना क्या योगदान है? तुम्हारी क्या महानता है? मेरे देश में महान लोगों ने जन्म लिया कहने भर से तुम महान नहीं हो जाते. स्वयं श्री कृष्ण
01 अगस्त 2018
10 अगस्त 2018
बब्बू की याद आज इस दौर में इसलिए आ गई कि आज किसी ऐतिहासिक चरित्र के बारे कुछ कह दो , लिख दो या फिल्म ही बना लो तो एक हंगामा हो जाता है. ना तो हम उस दौर में थे और ना ही हमने देखा है , कुछ उस वक्त के इतिहासकारों ने या कवियो
10 अगस्त 2018
05 अगस्त 2018
बब्बू एक नाम है जो कभी कभी मेरे ज़हन में उभरता है. बब्बू मेरी सबसे बड़ी मौसी का लड़का था जिसकी दिमागी हालत ठीक नहीं थी, कभी कभी दौरे पड़ते थे तो उसे शायद बाँध दिया जाता था , वैसे ज्यादातर वो खुला रहता था, मुझे बचपन का सिर्फ इतना याद है जब वो कुछ ठीक
05 अगस्त 2018
04 अगस्त 2018
समय का बोध सिर्फ उनको होता है जिनका जन्म होता है. जिसका जन्म हुआ हो उसकी मृत्यु भी निश्चित है और जन्म और मृत्यु के बीच जो है वो ही समय है. जन्म ना हो तो मृत्यु भी ना हो और समय भी ना हो. समय सिर्फ शरीर धारियों के लिए है , आत्मा के लिए नहीं. आत्मा
04 अगस्त 2018
09 अगस्त 2018
दि
कहते है कि जब दिल और दिमाग के बीच किसी मुद्दे को लेकर जंग चल रही हो तो दिल की बात सुननी चाहिए ना कि दिमाग की. ऐसी ही सोच लोगो को भक्ति की तरफ ले जाती है जहाँ लोग दिमाग से काम लेना बंद कर देते है. भक्ति योग और कर्म योग दोनों ही रास्ते मुक्ति की
09 अगस्त 2018
09 अगस्त 2018
जिंदगी की राहों में बहुत से यार मिलेंगे,हम क्या हम से भी अच्छे हजार मिलेंगे,इन अच्छों की भीड़ में हमें न भूल जाना,हम कहाँ आपको बार बार मिलेंगे।jindagi ki rahon men bahut se yar milengeham kya hum se bhi achchhe hajar milengein achhon ki bhid men hamen n bhul janaham kaha aapko baar baar milenge।
09 अगस्त 2018

शब्दनगरी से जुड़िये आज ही

आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x