मेरी सरकार

08 अगस्त 2018   |  pradeep   (56 बार पढ़ा जा चुका है)

अपनी बर्बादियों का हमने यूँ जश्न मनाया है,

सितमगर को ही खुद का राज़दार बनाया है.

गम नहीं है मुझे खुद अपनी बर्बादी का,

सितमगर ने मुझको अपना दीवाना बनाया है.

दीवानगी का आलम कुछ यूँ है मेरे यारो,

उनकी दिलज़ारी पे हमको मज़ा आया है.

लोग तो यूँ ही बदनाम करते है सितमगर को,

कत्ले अंदाज़ ही ने मुझ को शायर बनाया है.

वज़ूद शायरी का है उनसे, या शायरी से उनका,

वज़ूद दोनों का ही बस मेरी दीवानगी से तो है .

हुकूमत चले यूँ ही मेरे सरकार की दरबदर,

मैं तो दरबारदारी हूँ हरदम ही हूँ तेरे संग.

(आलिम)

अगला लेख: कर्म और त्याग



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
09 अगस्त 2018
प्यार का रिश्ता इतना गहरा नहीं होता,दोस्ती के रिश्ते से बड़ा कोई रिश्ता नहीं होता,कहा था इस दोस्ती को प्यार में न बदलो,क्यूंकि प्यार में धोखे के सिवा कुछ नहीं होता।pyar ka rishta itna gahra nahin hotadosti ke rishte se bada koi rishta nahin hotakaha tha is dosti ko pyaar men n badlokyunki pyar me dho
09 अगस्त 2018
01 अगस्त 2018
मै
ना तो धर्म तुमसे है, ना ही देश और जात तुमसे हैं. सिर्फ किसी देश में या किसी धर्म या जात में जन्म लेने में तुम्हारा अपना क्या योगदान है? तुम्हारी क्या महानता है? मेरे देश में महान लोगों ने जन्म लिया कहने भर से तुम महान नहीं हो जाते. स्वयं श्री कृष्ण
01 अगस्त 2018
06 अगस्त 2018
पू
पूजा, उपासना जो बिना स्वार्थ के किया जाए, बिना किसी फल की इच्छा से किया जाए, जो सच्चे मन से सिर्फ ईश्वर के लिए किया जाए वो पूजा सात्विक है , सात्विक लोग करते है. जो पूजा किसी फल की प्राप्ति के लिए की जाये, अपने शरीर को कष्ट द
06 अगस्त 2018
11 अगस्त 2018
अर्जुन का महाभारत के युद्ध के समय, युद्ध ना करने का निर्णय अर्जुन का अहंकार था. ज्यादातर लोग उसके इस निर्णय का कारण मोह मानते है, परन्तु भगवान् कृष्ण इसे उसका अहंकार मानते है. जिस युद्ध का निर्णय लिया जा चूका है, उस युद्ध को अब
11 अगस्त 2018
09 अगस्त 2018
दोस्ती चेहरे की मीठी मुस्कान होती है,दोस्ती सुख दुःख की पहचान होती है,रूठ भी जाये हम तो दिल से मत लगाना,क्योंकि दोस्ती थोड़ी सी नादान होती है।dosti chehare ki mithi muskan hoti haidosti sukh dukh ki pahchan hoti hairuth bhi jaye hum to dil se mat laganakyonki dosti thodi si nadan hoti hai।
09 अगस्त 2018
05 अगस्त 2018
बब्बू एक नाम है जो कभी कभी मेरे ज़हन में उभरता है. बब्बू मेरी सबसे बड़ी मौसी का लड़का था जिसकी दिमागी हालत ठीक नहीं थी, कभी कभी दौरे पड़ते थे तो उसे शायद बाँध दिया जाता था , वैसे ज्यादातर वो खुला रहता था, मुझे बचपन का सिर्फ इतना याद है जब वो कुछ ठीक
05 अगस्त 2018
09 अगस्त 2018
दि
कहते है कि जब दिल और दिमाग के बीच किसी मुद्दे को लेकर जंग चल रही हो तो दिल की बात सुननी चाहिए ना कि दिमाग की. ऐसी ही सोच लोगो को भक्ति की तरफ ले जाती है जहाँ लोग दिमाग से काम लेना बंद कर देते है. भक्ति योग और कर्म योग दोनों ही रास्ते मुक्ति की
09 अगस्त 2018
08 अगस्त 2018
सनातन धर्म में कर्म और धर्म दोनों की ही व्याख्या की गई है , पर तथाकथित हिन्दू इन दोनों ही शब्दों का अर्थ अपनी सुविधा के अनुकूल प्रयोग करते रहे है. सनातन धर्म की सुंदरता इसमें है कि उसमे सभी विचार समा जाते है. यही कारण है कि लोग
08 अगस्त 2018

शब्दनगरी से जुड़िये आज ही

सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x