मेरी सरकार

08 अगस्त 2018   |  pradeep   (68 बार पढ़ा जा चुका है)

अपनी बर्बादियों का हमने यूँ जश्न मनाया है,

सितमगर को ही खुद का राज़दार बनाया है.

गम नहीं है मुझे खुद अपनी बर्बादी का,

सितमगर ने मुझको अपना दीवाना बनाया है.

दीवानगी का आलम कुछ यूँ है मेरे यारो,

उनकी दिलज़ारी पे हमको मज़ा आया है.

लोग तो यूँ ही बदनाम करते है सितमगर को,

कत्ले अंदाज़ ही ने मुझ को शायर बनाया है.

वज़ूद शायरी का है उनसे, या शायरी से उनका,

वज़ूद दोनों का ही बस मेरी दीवानगी से तो है .

हुकूमत चले यूँ ही मेरे सरकार की दरबदर,

मैं तो दरबारदारी हूँ हरदम ही हूँ तेरे संग.

(आलिम)

अगला लेख: कर्म और त्याग



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
08 अगस्त 2018
सनातन धर्म में कर्म और धर्म दोनों की ही व्याख्या की गई है , पर तथाकथित हिन्दू इन दोनों ही शब्दों का अर्थ अपनी सुविधा के अनुकूल प्रयोग करते रहे है. सनातन धर्म की सुंदरता इसमें है कि उसमे सभी विचार समा जाते है. यही कारण है कि लोग
08 अगस्त 2018
01 अगस्त 2018
मै
ना तो धर्म तुमसे है, ना ही देश और जात तुमसे हैं. सिर्फ किसी देश में या किसी धर्म या जात में जन्म लेने में तुम्हारा अपना क्या योगदान है? तुम्हारी क्या महानता है? मेरे देश में महान लोगों ने जन्म लिया कहने भर से तुम महान नहीं हो जाते. स्वयं श्री कृष्ण
01 अगस्त 2018
03 अगस्त 2018
जा
फक्र उनको है बता जात अपनी, शर्मिंदा हम है देख औकात उनकी.किया कीजियेगा अपनी इस जात का, मिलेगा तुम्हे भी कफ़न जो मिलेगा बे-जात को. (आलिम)
03 अगस्त 2018
09 अगस्त 2018
दि
ना खुल जाए राज, हमको हमसफ़र बनाया है, छिपाने बेवफाई अपनी यूँ हमसे दिल लगाया है. खूबसूरत है जो वो क्योंकर न बेवफा न होंगे, हो दुनियां दीवानी जिनकी वो ही तो बेवफा होंगे.होते हम भी खूबसूरत तो शायद बेवफा होते, बदसूरती ने ही हमको वफ़ा
09 अगस्त 2018
09 अगस्त 2018
खुदा से एक फरियाद वाकी है,प्यार जिन्दा है क्यूंकि एक याद वाकी है,मौत आये तो कह देंगे लौट जाए,क्यूंकि...अभी किसी ख़ास से मुलाकात वाकी है।khuda se ek fariyad vaki haipyar jinda hai kyunki ek yaad vaki haimaut aaye to kah denge laut jayekyunki... abhi kisi khas se mulakat vaki hai।
09 अगस्त 2018
06 अगस्त 2018
पू
पूजा, उपासना जो बिना स्वार्थ के किया जाए, बिना किसी फल की इच्छा से किया जाए, जो सच्चे मन से सिर्फ ईश्वर के लिए किया जाए वो पूजा सात्विक है , सात्विक लोग करते है. जो पूजा किसी फल की प्राप्ति के लिए की जाये, अपने शरीर को कष्ट द
06 अगस्त 2018
09 अगस्त 2018
जिंदगी की राहों में बहुत से यार मिलेंगे,हम क्या हम से भी अच्छे हजार मिलेंगे,इन अच्छों की भीड़ में हमें न भूल जाना,हम कहाँ आपको बार बार मिलेंगे।jindagi ki rahon men bahut se yar milengeham kya hum se bhi achchhe hajar milengein achhon ki bhid men hamen n bhul janaham kaha aapko baar baar milenge।
09 अगस्त 2018
09 अगस्त 2018
दोस्ती चेहरे की मीठी मुस्कान होती है,दोस्ती सुख दुःख की पहचान होती है,रूठ भी जाये हम तो दिल से मत लगाना,क्योंकि दोस्ती थोड़ी सी नादान होती है।dosti chehare ki mithi muskan hoti haidosti sukh dukh ki pahchan hoti hairuth bhi jaye hum to dil se mat laganakyonki dosti thodi si nadan hoti hai।
09 अगस्त 2018

शब्दनगरी से जुड़िये आज ही

सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x