मदर टेरेसा जयंती

23 अगस्त 2018   |  Pratibha Bissht   (89 बार पढ़ा जा चुका है)

               मदर टेरेसा  जयंती - शब्द (shabd.in)

यह मदर टेरेसा (Mother Teresa) की 109वीं जयंती है, मदर टेरेसा को कलकत्ता की सेंट टेरेसा भी कहा जाता है। ये 26 अगस्त 1910 को पैदा हुई थी और इनका असली नाम एग्नेस गोंक्स बोजाक्षी था | मदर टेरेसा अल्बानियाई-भारतीय रोमन कैथोलिक नन और मिशनरी थीं। मदर टेरेसा का जन्मस्थान स्कोप्जे था जो अब मैसेडोनिया गणराज्य की राजधानी है। मदर टेरेसा अपनी निस्संदेहता और लोगों के प्रति अपने प्यार के लिए जानी जाती है| खासकर उन लोगों के लिए जो कम भाग्यशाली थे। वह बेघर लोगों की मदद के लिए दुनिया भर में जानती थी |कोलकाता की सड़कों पर रहने वाले गरीब लोगों और बच्चों के चेहरों पर बड़ी मुस्कान लाने के लिए उनका नाम पर्याप्त था। वे कहते हैं कि वह उन लोगों के लिए भगवान सामान थी जिन्होंने उन्हें एक नया जीवन दिया था। गरीबों के लिए किया गया उनका अविश्वसनीय काम और बलिदान हजारों लोगों के लिए एक प्रेरणा का स्रोत है।


मदर टेरेसा ने ऐसे की शरुआत


Mother Teresa


वह केवल 19 वर्ष की थी जब वह इस देश के लोगों को पढ़ाने के लिए भारत आई थी। वह बहुत बुद्धिमान थी और 5 भाषाओं, बंगाली, हिंदी, अंग्रेजी, अल्बानियाई और सर्बियाई में धाराप्रवाह थी। उसने वर्ष 1948 में नीली बॉर्डर की सफेद साड़ी पहनना शुरू किया और उनकी पहली साड़ी की कीमत सिर्फ रु 2.50 थी | उन्होंने भारत में तीन दशकों तक काम किया, 1960 में पहली बार कैथोलिक महिलाओं की राष्ट्रीय परिषद को संबोधित करने के लिए संयुक्त राज्य अमेरिका गयी थी ।
मार्च 1997 में रोमन कैथोलिक धर्म में परिवर्तित होने वाली पूर्व हिंदू सिस्टर निर्मला ,मदर टेरेसा के बाद मिशनरी ऑफ चैरिटी की लीडर बनी।
मदर टेरेसा का जन्म एक अमीर अल्बानियाई परिवार में हुआ था, उनके पिता निकोला बोजक्षी थे , जो एक सफल व्यापारी और राजनीतिक कार्यकर्ता थे। उनके क्षेत्र में कैथोलिक अल्पसंख्यक थे, इसलिए उन्होंने और उनके भाई-बहनों ने कैथोलिक स्कूलों में अपनी शिक्षा शुरू की लेकिन बाद की पढ़ाई राज्य स्कूलों से पूरी की एग्नेस को बच्चे के रूप मिशनरियों में बहुत रूचि थी और और उनकी बचपन की दोस्त ने न्यूयॉर्क टाइम्स में बताया की वो हमेशा से ही बहुत गंभीर थी | जब वह 12 वर्ष की थी तो उन्होंने मिशन का काम करने का फैसला किया और 18 साल की उम्र में वह आयरलैंड के रथफमहम में लोरेटो कॉन्वेंट की सिस्टर्स बनने के लिए रवाना हो गयी थी उन्हें हमेशा से पता था कि वह जीवन में दुसरो की सेवा और मदद करना चाहती था , विशेष रूप से शिक्षा के माध्यम से दूसरों की मदद करने के लिए।
उनकी मां ने हमेशा उनके काम का समर्थन किया जबकि उनके भाई ने उनके निर्णय का समर्थन नहीं किया था |

वह अपनी मृत्यु से पहले अक्सर उनकी कब्रों का दौरा करती थीं, मदर टेरेसा को भी वही दफनाया गया था।



मदर टेरेसा से जुड़े कुछ रोचक तथ्य :


1. 18 साल की उम्र में, मदर टेरेसा घर छोड़कर आयरलैंड के राथफर्नहम में लोरेटो की सिस्टर्स से जुड़ गईं।

2. 1931 में, उन्होंने नन के रूप में प्रतिज्ञा ली और लिसीएक्स के संतों थेरेसे और एविला के टेरेसा को सम्मान देने के लिए उन्होंने टेरेसा नाम का चयन किया था |

3. वो कलकत्ता के सेंट मैरी में इतिहास और भूगोल पढ़ाया करती थी , जो अमीर की बेटियों के लिए एक हाई स्कूल था | 15 वर्षों तक उन्होंने इस काम को आनंद पूर्वक किया, हालांकि, वो अपने आसपास की गरीबी से काफी परेशान थी।

4. 1946 में मदर टेरेसा ने दार्जिलिंग की यात्रा की। उस यात्रा में, मदर टेरेसा ने महसूस किया कि उन्हें गरीब से गरीब की सेवा करने के लिए ईसा मसीह का पालन करना चाहिए|

5. 1948 में, उन्होंने गरीबों की सेवा करने के लिए नन - हुड की आदत छोड़ दी और झोपड़ियों में रहने वालो की जीवन शैली को अपना लिया |

6. मदर टेरेसा ने बच्चों को और उनके परिवारों को भी बुनियादी स्वच्छता सिखायी | उनकी जरूरतों के बारे में पूछ ताछ की और उन्हें उपलब्ध कराने में मदद भी की

7. उन्होंने 1950 में केवल 13 सदस्यों के साथ मिशनरी ऑफ चैरिटी की स्थापना की थी लेकिन आज, इन मिशनरियों के लिए 4,500 से अधिक सिस्टर्स काम कर रही हैं।

8. यह एक रोमन कैथोलिक धार्मिक मण्डली है जो "भुखमरी, नग्न, बेघर, अपंग, अंधे, कुष्ठ रोग, उन सभी लोगों को जो अवांछित महसूस करते है, पूरा समाज उनकी अनदेखी करता हो, जो लोग समाज के लिए बोझ बन गए हैं और सबके द्वारा छोड़ दिए गए हो आदि लोगो के लिए काम करती है। "

9. 1962 में, मदर टेरेसा को पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित किया गया था और 1971 में उद्घाटन पोप जॉन XXIII शांति पुरस्कार प्राप्त किया।

10. 1979 में मदर टेरेसा को नोबेल पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया था उन्होंने नोबेल सम्मान भोज लेने से इनकार कर दिया और भारत में गरीबों की मदद के लिए उन्होंने USD 192,000 पुरस्कार राशि का अनुरोध किया था।


Mother Teresa

11. मदर टेरेसा की जन्म शताब्दी मनाने के लिए केंद्र सरकार ने 5 रुपये का सिक्का जारी किया था।

12. मदर टेरेसा ने अपने शेष जीवन में गरीबों के लिए काम करना जारी रखा, 5 सितंबर 1997 को उनकी मृत्यु से कुछ महीने पहले उन्होंने मिशनरी ऑफ चैरिटी का नेतृत्व भी किया था।

13. 4 सितंबर, 2016 को सेंट पीटर स्क्वायर में मदर टेरेसा को संत घोषित किया गया था, पोप फ्रांसिस द्वारा मदर टेरेसा को संत घोषित किया था, पोप फ्रांसिस ने कहा "बहुत सहजता के साथ, मुझे लगता है कि हमें उन्हें मदर टेरेसा कहना जारी रखना चाहिए ।"

14. जैसा कि हम सभी जानते हैं कि वह मूल रूप से भारत से नहीं थी, लेकिन वह 5 देशों की नागरिक थी।

15. मदर टेरेसा की मिशनरी ऑफ चैरिटी दुनिया के 133 देशों में 600 से अधिक स्कूलों और आश्रयों का संचालन कर रही है।

16. 5 सितंबर को उनकी मृत्यु के बाद, इस दिन को अंतर्राष्ट्रीय चैरिटी दिवस के रूप में मनाया जाता है।

17. भारत सरकार ने 1951 में मदर टेरेसा को अपनी नागरिकता दी थी।

18. चैरिटी हाउस की स्थापना वेनेजुएला में की गई थी और बाद में इटली, तंजानिया, ऑस्ट्रेलिया और संयुक्त राज्य अमेरिका में भी मिशनरी ऑफ़ चैरिटी हाउस की स्थापना की गयी थी

मदर टेरेसा की मृत्यु 1 99 7 में हुई, तो भारत सरकार ने उन्हें राज्य अंतिम संस्कार दिया था | भारत में राज्य अंतिम संस्कार पारंपरिक रूप से मंत्रियों के लिए आरक्षित हैं लेकिन भारत के राष्ट्रपति को यह तय करना पड़ता है कि क्या एक सम्मानित व्यक्ति को राज्य अंतिम संस्कार दिया जाना चाहिए; मानदंड उनके द्वारा देश के लिए की सेवा पर आधारित होता है|

               मदर टेरेसा  जयंती - शब्द (shabd.in)
               मदर टेरेसा  जयंती - शब्द (shabd.in)

अगला लेख: मुंबई : सपनो का शहर



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
09 अगस्त 2018
सरकारी नौकरी और शिक्षा में आरक्षण की मांग को लेकर आज 9 अगस्त को महाराष्ट्र में बंद का आह्वान किया है। बंद की वजह से पूरे राज्य में सुरक्षा इंतजाम को पुख्ता कर दिया गया है|राज्य पुलिस ने कहा है कि वह अपने
09 अगस्त 2018
10 अगस्त 2018
सुप्रीम कोर्ट ने तलवार दंपति की रिहाई के खिलाफ सीबीआई की अपील को मंजूर कर लिया है| सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई की अपील पर तलवार दंपति और यूपी सरकार को नोटिस जारी कर दिया है| अक्ट
10 अगस्त 2018
09 अगस्त 2018
केरल में भारी बारिश के कारण बुधवार से गुरुवार के बीच बाढ़ और भूस्खलन की घटनाओं में 22 लोगों की मौत हो गई है| आपदा प्रबंधन अधिकारियों के अनुसार, सबसे ज्यादा इडुक्की जिले में 11 लोगों की मौत हो गई है। अदिमाली
09 अगस्त 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x