भगवान शिव एवं शिवालय :----- आचार्य अर्जुन तिवारी

09 सितम्बर 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (98 बार पढ़ा जा चुका है)

भगवान शिव एवं शिवालय :----- आचार्य अर्जुन तिवारी

*सनातन वैदिक धर्म में त्रिदेवों (ब्रह्मा , विष्णु एवं महेश) की सर्वोच्चता प्रत्येक देश , काल , परिस्थिति में व्याप्त है | ब्रह्मा जी सृजन करते हैं , श्री हरि विष्णु जी पालनकर्ता हैं तो भगवान रुद्र को संहारक कहा गया है | क्या भगवान शिव संहारक मात्र हैं ?? जी नहीं ! भगवान शिव का चरित्र रहस्स्यों से भरा है | अनादि , अनंत महादेव शिव स्नयं परब्रह्म हैं | अनेकानेक नामों से जाने जाने वाले भगवान शिव ही साकार , निराकार , ॐकार एवं लिंगाकार स्वरूप में देव , दानव एवं मानव के द्वारा पूजित होते रहे हैं | इनके रहस्य को बड़े - बड़े ऋषि - महर्षि , साधक की क्या बात करें स्वयं भगवान श्री हरि एवं ब्रह्मा जी भी नहीं जान पाये हैं | पारब्रह्म होते हुए भी सृष्टि की व्यवस्थाओं को व्यवस्थित रखने के लिए वे ब्रह्मा एवं विष्णु के साथ रुद्र में त्रिगुणात्मकता का प्रतीक बने हैं | त्रिदेवों के भी सृजनहार भगवान शिव का चरित्र इतना वृहद है कि इनमें विरोधाभास भी देखने को मिलता है | स्वयं विचार कीजिए कि भगवान शिव संहारक कहे जाने के बाद भी लिंगाकार में सर्वाधिक पूज्यनीय हैं | जैसा कि तुलसीदास जी ने मानस में परमात्मा का वर्णन करते हुए लिखा है :-- बिनु पद चलइ सुनइ बिनु काना ! कर बिनु करम करइ विधि नाना !! उसी प्रकार भगवान शिव अकर्ता होते हुए भी सृष्टि के मूल हैं | कहीं उन्हें श्यामवर्णीय तो कहीं कर्पूरगौरम् कहा गया है | भगवान शिव अपने तीसरे नेत्र एवं प्रचंड क्रोध के कारण भयानक स्वरूप वाले हैं जो कि अनुचित करने पर ब्रह्मा जी को भी दण्ड देने से नहीं चूकते वहीं वे औढरदानी एवं इतने भोले हैं कि जरा सी भक्ति करके उनसे कुछ भी मांगा जा सकता है | और तो और रुद्र को जहाँ मृत्यु का देवता कहा गया है वहीं उनको "महामृत्युंजय" के नाम से भी पुकारा जाता है |* *आज हम सबको भगवान शिव के परिवार से शिक्षा लेने की आवश्यकता है कि किस प्रकार एक दूसरे के बैरी भी एक साथ रह सकते हैं | जहाँ भगवान शिव का वाहन नंदी ( एक बैल ) है वहीं जगज्जननी भगवती पार्वती का वाहन बैल का प्रबल शत्रु सिंह है | कुमार कार्तिक के वाहन मोर के भोजन सर्प को भोलेनाथ ने गले में धारण कर रखा है तो सर्प का भोजन चूहा भगवान गणेश का वाहन भी वहीं है | यह स्पष्ट करता है कि जिस परिवार का मुखिया समदर्शी है वहाँ शत्रु भी मित्र की तरह एक साथ रह सकते हैं | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" बताना चाहूँगा कि जिस तरह भगवान शिव रहस्यमय हैं उसी उनका आधुनिक निवास (शिवालय) भी रहस्यों से भरा है | आप शिवालय में जाईये तो आपको सर्वप्रथम नंदी महाराज के दर्शन होंगे | भगवान शिव के वाहन नंदी की तरह ही हमारा शरीर भी नंदी है | यहाँ शिव को आत्मा एवं नंदी को शरीर को कहा जा सकता है | नंदी जी का दर्शन करके दृष्टि पहुँच जाती है कूर्म (कच्छप) पर , जो हमारे मन का द्योतक होकर निरंतर स्वयं को शिवमय बनाये रखने का संकेत करता है | फिर भगवान गणेश हैं जो कि संयम , पवित्रता , उच्च विचारधारा एवं मधुरता प्रदर्शित करते हैं और इन गुणों के अभाव में भगवान शिव को पाना दुर्लभ है | आगे हनुमान जी हैं जो सेवा एवं समर्पण की प्रतिमूर्ति हैं ! भला सेवा एवं समपर्ण के बिना कुछ प्राप्त किया जा सकता है | भगवान शिव के ऊपर निरंतर टपकने वाली जलधारा द्योतक है निरंतरता की ! कुमार षडानन का दर्शन करके हमें षडरिपुओं (काम क्रोध मद लोभ मोह अहंकार) से बचे रहने का संकेत मिलता है | क्योंकि जिसमें भी इनमें से एक भी अवगुण है वह भगवान शिव की कृपा नहीं पा सकता | भगवान शिव के गले का नाग सदैव मृत्यु का स्मरण कराने वाला है | भगवती पार्वती तो शिवरूपी आत्मा की शक्ति हैं |* *भगवान शिव के रहस्यों को आज तक कोई नहीं जान पाया है परंतु जितना जानने में आया है उतना ही पालन करके जीवन को धन्य किया जा सकता है |*

अगला लेख: काम प्रवृत्ति :----- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
27 अगस्त 2018
*सनातन संस्कृति इतनी मनोहारी है कि समय समय पर आपसी प्रेम सौहार्द्र को बढाने वाले त्यौहार ही इसकी विशिष्टता रही है | शायद ही कोई ऐसा महीना हो जिसमें कि कोई त्यौहार न हो , इन त्यौहारों के माध्यम से समाज , देश एवं परिवार के बिछड़े तथा अपनों से दूर रह रहे कुटुंबियों को एक दूसरे से मिलने का अवसर मिलता है
27 अगस्त 2018
20 सितम्बर 2018
*सकल सृष्टि में ईश्वर ने मनुष्य को सभी अधिकार दे रखे हैंं | जैसी इच्छा हो वैसा कार्य करें यह मनुष्य के हाथ में है | इतना सब कुछ देने के बाद भी परमात्मा ने कुछ अधिकार अपने हाथ में ले रखे हैं | कर्मानुसार भोग करना मनुष्य की मजबूरी है | जिसने जैसा कर्म किया है , जिसके भाग्य में जैसा लिखा है वह उसको भोग
20 सितम्बर 2018
27 अगस्त 2018
*मानव शरीर को गोस्वामी तुलसीदास जी ने साधना का धाम बताते हुए लिखा है :--- "साधन धाम मोक्ष कर द्वारा ! पाइ न जेहि परलोक संवारा !! अर्थात :- चौरासी लाख योनियों में मानव योनि ही एकमात्र ऐसी योनि है जिसे पाकर जीव लोक - परलोक दोनों ही सुधार सकता है | यहाँ तुलसी बाबा ने जो साधन लिखा है वह साधन आखिर क्या ह
27 अगस्त 2018
03 सितम्बर 2018
*मानव जीवन में गुरु का कितना महत्त्व है यह आज किसी से छुपा नहीं है | सनातन काल से गुरुसत्ता ने शिष्यों का परिमार्जन करके उन्हें उच्चकोटि का विद्वान बनाया है | शिष्यों ने भी गुरु परम्परा का निर्वाह करते हुए धर्मध्वजा फहराने का कार्य किया है | इतिहास में अनेकों कथायें मिलती हैं जहाँ परिवार / समाज से उ
03 सितम्बर 2018
13 सितम्बर 2018
*हर्षोल्लास एवं आस्था व आध्यात्मिकता का पर्व "गणेशोत्सव" आज से प्रारम्भ हो चुका है | देश भर में जगह जगह पांडाल लगाकर भगवान गणेश की स्थापना प्रारम्भ हो चुकी है | सिद्धि - बुद्धि के दाता विघ्नहरण गणेश भगवान का जन्मोत्सव एक तरफ तो प्रसन्नता से झूमने को विवश कर देता है वहीं दूसरी ओर कुछ सावधानियाँ भी बन
13 सितम्बर 2018
29 अगस्त 2018
*इस धराधाम पर मनुष्य अपने जीवनकाल में अनेक शत्रु एवं मित्र बनाता रहता है , यहाँ समय के साथ मित्र के साथ शत्रुता एवं शत्रु के साथ मित्रता होती है | परंतु मनुष्य के कुछ शत्रु उसके साथ ही पैदा होते हैं और समय के साथ युवा होते रहते हैं | इनमें मनुष्य मुख्य पाँच शत्रु है :- काम क्रोध मद लोभ एवं मोह | ये
29 अगस्त 2018
03 सितम्बर 2018
*सनातन वैदिक धर्म ने मानव मात्र को सुचारु रूप से जीवन जीने के लिए कुछ नियम बनाये थे | यह अलग बात है कि समय के साथ आज अनेक धर्म - सम्प्रदायों का प्रचलन हो गया है , और सनातन धर्म मात्र हिन्दू धर्म को कहा जाने लगा है | सनातन धर्म जीवन के प्रत्येक मोड़ पर मनुष्यों के दिव्य संस्कारों के साथ मिलता है | जी
03 सितम्बर 2018
03 सितम्बर 2018
*सनातन धर्म में त्यौहारों की कमी नहीं है | नित्य नये त्यौहार यहाँ सामाजिक एवं धार्मिक समसरता बिखेरते रहते हैं | ज्यादातर व्रत स्त्रियों के द्वारा ही किये जाते हैं | कभी भाई के लिए , कभी पति के लिए तो कभी पुत्रों के लिए | इसी क्रम में आज भाद्रपद कृष्णपक्ष की षष्ठी (छठ) को भगवान श्री कृष्णचन्द्र जी के
03 सितम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x