नारीशक्ति :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

21 सितम्बर 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (69 बार पढ़ा जा चुका है)

नारीशक्ति :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

*किसी भी राष्ट्र का निर्माण व्यक्ति द्वारा होता है,और व्यक्ति का निर्माण एक नारी ही कर सकती है और करती भी है। शायद इसीलिए सनातन काल से नारियों को देवी की संज्ञा दी गई है । लिखा है ---- नारी निंदा मत करो,नारी नर की खान। नारी ते नर होत हैं, ध्रुव-प्रहलाद समान।।राष्ट्र निर्माण में नारियों के योगदान को भुलाया नहीं जा सकता।परंतु बदलते परिवेश में कुछ नारियाँ पतन की सीमा को भी लांघ गई, इसका कारण सिर्फ औऱ सिर्फ उनकी माताओं द्वारा मिले संस्कार ही हो सकते हैं। माँ के द्वारा मिले संस्कारों केदोष के कारण ही ऐसा होता है ।वैसे हर माँ अपने बच्चों में अच्छे संस्कार ही डालना चाहती है परंतु शायद स्वयं उनका पालन करने में चूक जाती है या फिर स्वयं पालन ही नहीं करना चाहती।जबकि एक माँ का आचार-विचार-व्यवहार कन्या के ऊपर अमिट छाप छोडता है।* *धर्म के पालन में संस्कारों की जरूरत होती है, इसलिए कन्याओं में इस बात के संस्कार डालने की जरूरत है जिससे पति ही देवता, पति ही गुरु, पति ही धर्म और पति ही कर्म है, वे मानें। बच्चों पर माँ के संस्कारों का असर होता है। माँ जैसे रहती-करती-धरती है बच्चे भी उसी से अपना आचरण बनाते हैं। इसलिए अपनी कन्या का पतिव्रता बनाने के लिए माँ को भी पतिव्रत धर्म पालन करने की जरूरत होती है। माँ के ज्ञानवान होने से धर्म पालन की संभावना होती है। लेकिन कोरा ज्ञान भी अपना कोई असर नहीं करता। ज्ञान को जीवन में लाने या ज्ञान के अनुसार जीवन बनाने पर ही ज्ञानी होने की सार्थकता है।जिसके पास ज्ञान होता है वह अपने हर एक काम के बाहरी भीतरी रूप को जानती है इसलिए भूलकर भी वह ऐसा कोई काम नहीं करती जो पति के कल्याण और उसकी उन्नति में बाधक हो। पति को खुश रखने की तो कोशिश है पर उसे ऐसे किसी भी रास्ते पर नहीं जाने देती जिससे उसका अहित हो। लेकिन वह उसका शासन नहीं करती, उस पर राज्य नहीं करती, अपनी प्रिय बोली, अपनी सेवा, अपने त्याग अपनी कर्तव्य परायणता और व्यवहार पटुता से वह पति को ऐसे रास्ते से लौटा लाती है जो कि उसे हानि करने वाला होता है। पत्नी की इस तरह की जागरुकता और पति के प्रति तन्मयता उसे इतनी शक्ति दे देती हैं जिससे कि वह यम से भी लड़ सकती है।* *पति को भगवान समझ कर स्त्री अपनी सोई हुई शक्ति को जगा लेती है। इससे वह दासी नहीं हो जाती। इससे तो वह अपने असली रूप को पालती है। वह पति की अंतर्शक्ति को जगाकर माता बन जाती है और स्त्री जन्म को सार्थक कर लेती हैं।*

अगला लेख: भगवान की छठी :----- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
08 सितम्बर 2018
*सम्पूर्ण विश्व में हर्षोल्लास एवं धूमधाम से मनाया जाने वाला छ: दिवसीय श्रीकृष्ण जन्मोत्सव "जन्माष्टमी" आज भगवान की छठी मनाने के साथ पूर्णता को प्राप्त करेगा | मनुष्य जीवन जन्म लेने की छठवें दिन मनाया जाने वाला यह पर्व विशेष महत्व रखता है | भादों की अंधियारी रात में अष्टमी तिथि को कारागार में जन्म ल
08 सितम्बर 2018
16 सितम्बर 2018
*मानव जीवन में मनुष्य के बचपन का पूरा प्रभाव दिखता है | सम्पूर्ण जीवन की जड़ बचपन को कहा जा सकता है | जिस प्रकार एक बहुमंजिला भवन को सुदृढ बनाने के लिए उस भवन की बुनियाद ( नींव) का मजबूत होना आवश्यक हे उसी प्रकार मनुष्य को जीवन में बहुमुखी , प्रतिभासम्पन्न बनने के पीछे बचपन की स्थितियां - परिस्थितिय
16 सितम्बर 2018
07 सितम्बर 2018
*आदिकाल से ही समाज व देश के विकास में युवाओं का अप्रतिम योगदान रहा है | समय समय पर सामाजिक बुराईयों का अन्त करने का बीड़ा युवाओं ने ही युठाया है | अपनी युवावस्था में ही मर्यादापुरुषोत्तम श्री राम ने ताड़कादि का वध तो किया साथ वन को जाकर रावण आदि दुर्दांत निशाचरों का वध करके विकृत होती जा रही संस्कृत
07 सितम्बर 2018
08 सितम्बर 2018
*मानव जीवन विचित्रताओं से परिपूर्ण है , समाज में रहकर मनुष्य कब किससे प्रेम करने लगे और कब किससे विद्रोह कर ले यह जान पान असम्भव है | यह मनुष्य का स्वभाव होता है कि वह सबसे ही अपनी प्रशंसा सुनना चाहता है | अपनी प्रशंसा सुनना सबको अच्छा लगता है | कुछ लोग तो ऐसे होते हैं जो स्वयं अपनी प्रशंसा अपने मुख
08 सितम्बर 2018
07 सितम्बर 2018
*आदिकाल से ही समाज व देश के विकास में युवाओं का अप्रतिम योगदान रहा है | समय समय पर सामाजिक बुराईयों का अन्त करने का बीड़ा युवाओं ने ही युठाया है | अपनी युवावस्था में ही मर्यादापुरुषोत्तम श्री राम ने ताड़कादि का वध तो किया साथ वन को जाकर रावण आदि दुर्दांत निशाचरों का वध करके विकृत होती जा रही संस्कृत
07 सितम्बर 2018
07 सितम्बर 2018
*मानव जीवन जीने के लिए अनेक रीतियों - रीतियों का पालन करना बहुत ही आवश्यक है | जो मनुष्य नीति से विमुख होकर चलने का प्रयास करता समाज उससे विमुख हो जाता है | समाज में दो प्रकार के मनुष्य होते हैं एक तो अपने ज्ञान - ध्यान के कारण विद्वान कहे जाते हैं और दूसरे अल्पज्ञ | अल्पज्ञ सदैव जिज्ञासु रहते हुए व
07 सितम्बर 2018
07 सितम्बर 2018
*संसार में मनुष्य अनेकानेक रिश्ते बनाता है | कुछ रिश्ते तो मनुष्य को जन्म से ही मिलते हैं परंतु अनेक रिश्ते वह समाज में रहकर अपने व्यवहार से बनाता है | इन रिश्तों के बनने का मुख्य कारण होती हैं मनुष्य भावनायें | यदि हृदय में भावना न हो तो मनुष्य किसी रिश्ते को न तो बना पाता है और यदि बन भी गये तो भा
07 सितम्बर 2018
07 सितम्बर 2018
*संसार में मनुष्य अनेकानेक रिश्ते बनाता है | कुछ रिश्ते तो मनुष्य को जन्म से ही मिलते हैं परंतु अनेक रिश्ते वह समाज में रहकर अपने व्यवहार से बनाता है | इन रिश्तों के बनने का मुख्य कारण होती हैं मनुष्य भावनायें | यदि हृदय में भावना न हो तो मनुष्य किसी रिश्ते को न तो बना पाता है और यदि बन भी गये तो भा
07 सितम्बर 2018
08 सितम्बर 2018
*मानव जीवन विचित्रताओं से परिपूर्ण है , समाज में रहकर मनुष्य कब किससे प्रेम करने लगे और कब किससे विद्रोह कर ले यह जान पान असम्भव है | यह मनुष्य का स्वभाव होता है कि वह सबसे ही अपनी प्रशंसा सुनना चाहता है | अपनी प्रशंसा सुनना सबको अच्छा लगता है | कुछ लोग तो ऐसे होते हैं जो स्वयं अपनी प्रशंसा अपने मुख
08 सितम्बर 2018
07 सितम्बर 2018
*मानव जीवन जीने के लिए अनेक रीतियों - रीतियों का पालन करना बहुत ही आवश्यक है | जो मनुष्य नीति से विमुख होकर चलने का प्रयास करता समाज उससे विमुख हो जाता है | समाज में दो प्रकार के मनुष्य होते हैं एक तो अपने ज्ञान - ध्यान के कारण विद्वान कहे जाते हैं और दूसरे अल्पज्ञ | अल्पज्ञ सदैव जिज्ञासु रहते हुए व
07 सितम्बर 2018
07 सितम्बर 2018
*सनातन साहित्यों में , शास्त्रों में यही बताया जाता है कि आत्मा अजर , अमर , अविनाशी है | अजर अमर होने के बाद भी यह शाश्वत सत्य है कि आत्मा जब भी इस धराधाम पर कोई भी शरीर धारण करती है तो बिना माँ के सहयोग के बिना एक पल भी उसका विकास सम्भव नहीं हो पाता | यदि माँ रूपी महान आत्मा नव शरीर धारण करने वाली
07 सितम्बर 2018
08 सितम्बर 2018
*सम्पूर्ण सृष्टि नारी एवं पुरुष के संयोग से उत्पन्न हुई है | पुरुष में भी जिसका आचरण अतुलनीय हो जाता है उसे "पुरुषोत्तम" की संज्ञा दी जाती है | सनातन साहित्यों में वैसे तो पुरुषोत्तम शब्द का प्रयोग कई स्थानों पर भिन्न भिन्न चरित्रों के लिए किया गया है , परंतु चर्चा मात्र दो की ही प्राय: होती है | जि
08 सितम्बर 2018
09 सितम्बर 2018
*सनातन धर्म की मान्यतायें कभी भी आधारहीन नहीं रही हैं | यहाँ चौरासी लाख योनियों का विवरण मिलता है | इन्हीं चौरासी लाख योनियों में एक योनि है हम सबकी अर्थात मानव योनि | ये चौरासी लाख योनियाँ आखिर हैं क्या ?? इसे वेदव्यास भगवान ने पद्मपुराण में लिखा है :-- जलज नव लक्षाण
09 सितम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x