सनातन धर्म की व्यापकता --- आचार्य अर्जुन तिवारी

23 अक्तूबर 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (33 बार पढ़ा जा चुका है)

सनातन धर्म की व्यापकता --- आचार्य अर्जुन तिवारी  - शब्द (shabd.in)

*सनातन हिंदू धर्म अपनी ज्येष्ठता एवं श्रेष्ठता के लिए संसार में सर्वत्र मान्य हुआ है | विश्व के अनेकानेक विद्वानों विचारकों एवं दार्शनिकों ने सनातन धर्म के इस तथ्य को स्वीकार किया है | यह धर्म मात्र कुछ सिद्धांतों , संस्कारों एवं विश्वासों की धर्म व्यवस्था मात्र नहीं बल्कि वैज्ञानिक तथ्यों पर व्यवस्थित है | जिनके कारण आदिकाल से नैतिक , सामाजिक एवं आध्यात्मिक जीवन विकसित होता रहा है , और इसी वैज्ञानिकता के कारण इस पृथ्वी लोक में जीवमात्र शक्ति एवं संपन्नता का अनुभव करता रहा है | सनातन धर्म के सभी सिद्धांत वैज्ञानिकता से ओतप्रोत हैं , यही कारण है कि अनेक आघात सहने के बाद भी सनातन हिंदू धर्म आज भी फल-फूल रहा है | सनातन हिंदू धर्म पर अनेक संकट एवं अनेक प्रहारों के बाद भी इसकी आंतरिक शक्ति ज्यों की त्यों विद्यमान रही है और आगे भी रहेगी | सनातन हिंदू धर्म मात्र हिंदुओं के लिए नहीं बल्कि विश्व कल्याण की उद्दात्त भावनाओं से ओतप्रोत है क्योंकि इसका नाम सनातन है | सनातन का अर्थ ही होता है आदि | इसका अर्थ जीवन की उत्पत्ति के साथ जो व्यवस्था बनी वही सनातन धर्म कही जा सकती है | सनातन धर्म में किसी अन्य धर्म या किसी जाति के लिए संकीर्णता का भाव कदापि नहीं है | जो भी मनुष्य सनातन धर्म को संकीर्णता की दृष्टि से देखते हैं उनकी मानसिकता स्वयं संकीर्ण है ! क्योंकि सनातन धर्म एक दर्पण की तरह है और इसे जिस दृष्टि से देखोगे आपको ऐसा ही दिखाई पड़ेगा | जिसका जैसा चेहरा होता है दर्पण में उसे वैसे ही शक्ल दिखाई पड़ती है | सनातन धर्म में छल कपट या बनावट के लिए कोई स्थान ही नहीं है |* *आज विचार करने की बात की है की शुरू से ही सनातन धर्म पर प्रहार होते रहे हैं | अनेक आक्रांताओं ने सबसे पहला प्रहार सनातन धर्म पर ही किया है | उसके बाद भारत में अंग्रेज आये , और अंग्रेजो ने सनातन धर्म को नष्ट करने का पूरा प्रयास किया | भारत में प्रविष्ट ईसाई मिशनरियों में धर्म परिवर्तन का कार्य शुरू किया | उनके आकर्षण को देख कर के कुछ लोगों ने धर्म परिवर्तन किए और हिंदू धर्म को हीन प्रमाणित करने का प्रयास किया | जिसके कारण ईश्वर , धर्म लोक - परलोक की प्राप्ति को सस्ता सौदा मान लिया गया | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" यह विचार कर सकता हूं कि इसी कारण से सनातन धर्म की वैज्ञानिकता उपेक्षित होती गई | और लोगों का जीवन बिलासी बनता गया | अपनी शक्ति साधनाओं को लोग भूलते चले गए | और साधना का भाव लुप्त होता चला गया | धीरे - धीरे लोगों में संकीर्णता , स्वार्थ , लोभ , घृणा , विलासिता आदि की विकृतियाँ भी बढीं | जिसका परिणाम यह हुआ कि लोगों में अशांति दिखने लगी | इसका एक मुख्य कारण है यदि धर्म का स्वरूप विकृत हो जाता है तो मनुष्य को कभी सुख नहीं प्राप्त हो सकता है , क्योंकि धर्म ही मनुष्य की भावनाओं को शुद्ध करता है , स्वार्थहीन तथा गौरवपूर्ण जीवन जीने की प्रेरणा देता है | व्यक्ति और समाज को शुद्ध रखने की शक्ति केवल धर्म से ही है | आत्मा की स्वतंत्र सत्ता को बल या कानून द्वारा कभी नहीं दबाया जा सकता है धर्म ही उस आवश्यकता की पूर्ति कर सकता है |* *आज भी यदि सनातन धर्मावलंबी अपनी चेतना को जागृत करें तो शायद उनको एटमबम बनाने की आवश्यकता ही ना पड़े | राष्ट्र का यह साधना बल यदि मनुष्य में जागृत हो जाए तो सनातन धर्म पुन: अपना गौरव प्राप्त कर सकता है | इसमें कोई संदेह नहीं है |*

सनातन धर्म की व्यापकता --- आचार्य अर्जुन तिवारी  - शब्द (shabd.in)

अगला लेख: प्रत्येक नारी है स्कन्दमाता :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
19 अक्तूबर 2018
19 अक्टूबर को पूरे विश्व में दशहरा (Dussehra) मनाया जाएगा. इस दिन हर गली-नुक्कड़ और बड़े-बड़े मैदानों में रावण (Ravana) का पुतला जलाया जाएगा. बुराई पर अच्छाई की जीत का ये जश्न धूमधाम से मनाया जाएगा. मैदानों में मेले लगेंगे और मेले में राम और रावण से जुड़े खेल-खिलौने दिखेंगे. एक तरफ परिवार मिलकर चाट
19 अक्तूबर 2018
20 अक्तूबर 2018
*मानव जीवन में संगति का बहुत बड़ा प्रभाव पड़ता है | जिस प्रकार मनुष्य कुसंगत में पड़कर के नकारात्मक हो जाता है उसी प्रकार अच्छी संगति अर्थात सत्संग में पढ़कर की मनुष्य का व्यक्तित्व बदल जाता है | सत्संग का मानव जीवन पर इतना अधिक प्रभाव पड़ता है कि इसी के माध्यम से मनुष्य को समस्याओं का समाधान तो मिल
20 अक्तूबर 2018
22 अक्तूबर 2018
*श्वेते वृषे समारुढा श्वेताम्बरधरा शुचिः |* *महागौरी शुभं दद्यान्महादेवप्रमोददा ||* *पावन नवरात्र के आठवें दिन भगवती आदिशक्ति की पूजा "महागौरी के रूप की जाती है | मां महागौरी का रंग अत्यंत गौरा है इसलिए इन्हें महागौरी के नाम से जाना जाता है। मान्यता के अनुसार अपनी कठिन तपस्या से मां ने गौर वर्ण प्र
22 अक्तूबर 2018
16 अक्तूबर 2018
माता कालरात्रि की पूजा नवरात्रि के सातवें दिन की जाती है। इन्हें देवी पार्वती के समतुल्य माना गया है। देवी के नाम का अर्थ- काल अर्थात् मृत्यु/समय और रात्रि अर्थात् रात है। देवी के नाम का शाब्दिक अर्थ अंधेरे को ख़त्म करने वाली है।माता कालरात्रि का स्वरूपदेवी कालरात्रि कृष्
16 अक्तूबर 2018
15 अक्तूबर 2018
*चन्द्रहासोज्ज्वलकरा शार्दूलवरवाहन |* *कात्यायनी शुभं दद्याद्देवी दानवघातिनी ||* *महामाई आदिशक्ति भगवती के पूजन का पर्व नवरात्र शनै: शनै: पूर्णता की ओर अग्रसर है | महामाया इस सृष्टि के कण - कण में विद्यमान हैं | जहाँ जैसी आवश्यकता पड़ी है वैसा स्वरूप मैया ने धारण करके लोक
15 अक्तूबर 2018
19 अक्तूबर 2018
नवरात्रि के पर्व का समापन का समय धीरे-धीरे पास आ रहा हैं, माँ दुर्गा के विसर्जन का दिन 19 अक्टूबर को हैं| ऐसे में जब नवरात्रि के शुरुआत होती हैं तो उस समय माँ दुर्गा की चौकी और कलश की स्थापना की जाती हैं| ऐसे में जब माँ दुर्गा का विसर्जन करना होता हैं तो उनके साथ कलश, नार
19 अक्तूबर 2018
20 अक्तूबर 2018
*एकवेणी जपाकर्ण , पूर्ण नग्ना खरास्थिता,* *लम्बोष्टी कर्णिकाकर्णी , तैलाभ्यक्तशरीरिणी।* *वामपादोल्लसल्लोह , लताकण्टकभूषणा,* *वर्धनमूर्धध्वजा कृष्णा , कालरात्रिर्भयङ्करी॥-------* *नवरात्र की सप्तमी तिथि को देवी कालरात्रि की उपासना का विधान है। पौराणिक मतानुसार देवी क
20 अक्तूबर 2018
11 अक्तूबर 2018
*पराम्बा जगदंबा जगत जननी भगवती मां दुर्गा का दूसरा स्वरूप है ब्रह्मचारिणी | जिसका अर्थ होता है तपश्चारिणी अर्थात तपस्या करने वाली | महामाया ब्रह्मचारिणी नें घोर तपस्या करके भगवान शिव को अपने पति के रुप में प्राप्त किया और भगवान शिव के वामभाग में विराजित होकर के पतिव्रताओं में अग्रगण्य बनीं | इसी प्र
11 अक्तूबर 2018
20 अक्तूबर 2018
जिनका विश्वास ईश्वर में है वो मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारा, चर्च में विश्वास नहीं रखते, जो मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारा और चर्च में विश्वास रखते है वो ईश्वर में नहीं राजनीती में विश्वास रखते है. ईश्वर के नाम पर दंगे नहीं होते, दंगे धर्म
20 अक्तूबर 2018
12 अक्तूबर 2018
*नवरात्र के पावन अवसर पर चल रही नारीगाथा पर आज एक विषय पर सोंचने को विवश हो गया कि नारियों पर हो रहे अत्याचारों के लिए दोषी किसे माना जाय ??? पुरुषवर्ग को या स्वयं नारी को ??? परिणाम यह निकला कि कहीं न कहीं से नारी की दुर्दशा के लिए नारी ही अधिकतर जिम्मेदार है | जब अपने साथ कम दहेज लेकर कोई नववधू सस
12 अक्तूबर 2018
13 अक्तूबर 2018
*नवरात्र के पावन पर्व पर आदिशक्ति भगवती दुर्गा के पूजन का महोत्सव शहरों से लेकर गाँव की गलियों तक मनाया जा रहा है | जगह - जगह पांडाल लगाकर मातारानी का पूजन करके नारीशक्ति की महत्ता का दर्शन किया जाता है | माता जगदम्बा के अनेक रूप हैं , कहीं ये दुर्गा तो कहीं काली के रूप में पूजी जाती हैं | जहाँ दुर्
13 अक्तूबर 2018
14 अक्तूबर 2018
नवरात्रि इमेज 2018 फेसबुक और whatsapp के लिए... (Navratri Images for Facebook, Whatsapp 2018 Latest) Happy Navratri 2018 Latest Image for Facebook, Whatsapp 2018 Latestदेश भर में नवरात्रि का त्यौहार मनाया जा रहा है, आज हम शेयर कर रहे है नवरात्रि की लेटेस्ट 2018 की तस्वीरें , जिसे आप अपने फेसबुक,
14 अक्तूबर 2018
22 अक्तूबर 2018
*श्वेते वृषे समारुढा श्वेताम्बरधरा शुचिः |* *महागौरी शुभं दद्यान्महादेवप्रमोददा ||* *पावन नवरात्र के आठवें दिन भगवती आदिशक्ति की पूजा "महागौरी के रूप की जाती है | मां महागौरी का रंग अत्यंत गौरा है इसलिए इन्हें महागौरी के नाम से जाना जाता है। मान्यता के अनुसार अपनी कठिन तपस्या से मां ने गौर वर्ण प्र
22 अक्तूबर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x