अपने ग्रंथों का करें अध्ययन :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

23 अक्तूबर 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (39 बार पढ़ा जा चुका है)

अपने ग्रंथों का करें अध्ययन :---- आचार्य अर्जुन तिवारी  - शब्द (shabd.in)

*सनातन काल से ही संस्कृति का विस्तार करने के उद्देश्य से हमारे ऋषियों / महर्षियों / विद्वानों एवं राजा - महाराजाओं तक ने विशेष योगदान दिया | सनातन संस्कृति का विस्तार कैसे हो ?? इसकी मान्यतायें एवं विचार जन जन तक कैसे पहुँचें ?? इस पर गहनता से विचार करके हमारे महापुरुषों ने समाज में घूम घूमकर सतसंग सभाओं एवं वाद - विवाद प्रतियोगिताओं का आयोजन करना प्रारम्भ किया | जिसके फलस्वरूप मानव गुणग्राही बनने लगा | जहाँ ऋषियों ने अपने आश्रमों में यह व्यवस्था बनाई वहीं राजाओं ने भी एक विशेष भवन (सतसंग भवन) में नित्य बैठकर ज्ञान का आदान - प्रदान करना प्रारम्भ किया | सनातन धर्म इतना विस्तृत है कि इसको जानने एवं समझने के लिए नित्य ही सतसंग की आवश्यकता है | बल्कि सत्य तो यह है कि नित्य सतसंग करने के बाद भी इसके मर्म को पूर्णरूपेण जान पाना सम्भव नहीं है | इन्हीं रहस्यमयी मर्मों को सुलझाने के लिए समाज में ज्ञान का आदान - प्रदान करने एवं मनुष्यों के मस्तिष्क में पनप रही भ्रांतियों को समाप्त करने के उद्देश्य से सतसंग की व्यवस्था की गयी , जिसके माध्यम से "आर्षग्रंथों" का सहारा लेकर उन भ्रांतियों को दूर करने का प्रयास करते हुए मानवमात्र को भटकने से बचाया जाता था | कुछ लोग थोथी अफवाहों के जाल में फंसकर सनातन को झूठा बनाते देखे गये ऐसे लोगों को सनातन धर्म की वैज्ञानिकता भी प्रमाणित करके हमारे ऋषियों ने उन्हें पुन: सनातन मतावलम्बी बनाया | सतसमग करते समय आर्षग्रंथों का सहारा लेकर के मनुष्यों को यह बताया जाता था कि सत्यता क्या है |* *आज मंदिरों एवं गाँवों में तो सतसंग हो ही रहे हैं ! परंतु आज के परिवेश में सतसंग करने का सशक्त साधन बनकर उभरा है सोशल मीडिया | संचार माध्यमों के उपक्रम व्हाट्सऐप एवं फेसबुक का उपयोग बड़े - बड़े विद्वान आज सतसंग के लिए कर रहे हैं | यह ठीक भी है क्योंकि किसी भी माध्यम से सतसंग किया जाय परंतु उसका उद्देश्य एक ही होना चाहिए जनजागृति | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" प्राय: देख रहा हूँ कि आज के कुछ विद्वान पहले की अपेक्षा आर्षग्रंथों का अवलम्ब न लेकरके "गूगल" का प्रयोग अधिक कर रहे हैं | किसी विषय पर यदि ये विद्वान न समझ पाने के कारण आर्षग्रंथों के विपरीत गूगल की कटपेस्ट करके अन्य विद्वानों के विरोध के भागीदार बनते हैं तो इनका एक ही जबाब होता है कि :-- "मैंने यह किसी संत के मुख से सुना है " या फिर मैंने अमुक व्यक्ति से पूछकर लिखा है ! मेरे कहने का मतलब यह है कि ऐसे विद्वान किसी के द्वारा कुछ भी बता देने पर उसकी सच्चाई परखे बिना उसे सार्वजनिक कर देते हैं जिसका परिणाम यह होता है कि उन्हें विद्वानों का विरोध सहन करना पड़ता है और विवाद की स्थिति उत्पन्न होकर सतसंग के मूल स्वरूप को बिगाड़ने का कार्य करती है | सतसंग को ज्ञानपूर्ण बनाने एवं उससे आम जनमानस को लाभ पहुँचाने के लिए विद्वानों को दूसरों की कही बातों को सुनकर उसे अपने आर्षग्रंथों का अध्ययन करके पुष्टि करके ही सार्वजनिक किया जाय जिससे कि भ्रम की स्थिति न उत्पन्न हो |* *गूगल एक सशक्त माध्यम हो सकता है परंतु उससे भी अधिक सशक्त माध्यम हमें हमारे पूर्वजों ने "आर्षग्रंथों के रूप में प्रदान किया है | आवश्यकता है स्वयं को पहचानकर उन्हें पढने की |*

अगला लेख: प्रत्येक नारी है स्कन्दमाता :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
13 अक्तूबर 2018
*सिंहासनगता नित्यं, पद्माश्रितकरद्वया |* *शुभदास्तु सदा देवी, स्कन्दमाता यशस्विनी ||* *नवरात्र का पाँचवा दिन भगवती "स्कन्दमाता" को समर्पित है | नवरात्रि की नौ देवियों में ही नारी का सम्पूर्ण जीवन निहित है | गर्भधारण करके जो "कूष्माण्डा" कहलाती है वही पुत्र को जन्म जन्म देकर "स्
13 अक्तूबर 2018
12 अक्तूबर 2018
*नवरात्र के पावन अवसर पर चल रही नारीगाथा पर आज एक विषय पर सोंचने को विवश हो गया कि नारियों पर हो रहे अत्याचारों के लिए दोषी किसे माना जाय ??? पुरुषवर्ग को या स्वयं नारी को ??? परिणाम यह निकला कि कहीं न कहीं से नारी की दुर्दशा के लिए नारी ही अधिकतर जिम्मेदार है | जब अपने साथ कम दहेज लेकर कोई नववधू सस
12 अक्तूबर 2018
20 अक्तूबर 2018
*सनातन धर्म में नारियों का एक महत्वपूर्ण स्थान है | पत्नी के पातिव्रत धर्म पर पति का जीवन आधारित होता है | प्राचीनकाल में सावित्री जैसी सती हमीं लोगों में से तो थीं जिसने यमराज से लड़कर अपने पति को मरने से बचा लिया था | भगवती पार्वती ने भगवान शिव को पति रूप में प्राप्त कर लिया था | भारत की स्त्रियों
20 अक्तूबर 2018
20 अक्तूबर 2018
*एकवेणी जपाकर्ण , पूर्ण नग्ना खरास्थिता,* *लम्बोष्टी कर्णिकाकर्णी , तैलाभ्यक्तशरीरिणी।* *वामपादोल्लसल्लोह , लताकण्टकभूषणा,* *वर्धनमूर्धध्वजा कृष्णा , कालरात्रिर्भयङ्करी॥-------* *नवरात्र की सप्तमी तिथि को देवी कालरात्रि की उपासना का विधान है। पौराणिक मतानुसार देवी क
20 अक्तूबर 2018
11 अक्तूबर 2018
*सनातन धर्म की दिव्यता का प्रतीक पितृपक्ष आज सर्वपितृ अमावस्या के साथ सम्पन्न हो गया | सोलह दिन तक हमारे पूर्वजों / पितरों के निमित्त चलने वाले इस विशेष पक्ष में सभी सनातन धर्मावलम्बी दिवंगत हुए पूर्वजों के प्रति श्रद्धा दर्शाते हुए श्राद्ध , तर्पण एवं पिंडदान आदि करके उनको तृप्त करने का प्रयास करते
11 अक्तूबर 2018
22 अक्तूबर 2018
*श्वेते वृषे समारुढा श्वेताम्बरधरा शुचिः |* *महागौरी शुभं दद्यान्महादेवप्रमोददा ||* *पावन नवरात्र के आठवें दिन भगवती आदिशक्ति की पूजा "महागौरी के रूप की जाती है | मां महागौरी का रंग अत्यंत गौरा है इसलिए इन्हें महागौरी के नाम से जाना जाता है। मान्यता के अनुसार अपनी कठिन तपस्या से मां ने गौर वर्ण प्र
22 अक्तूबर 2018
16 अक्तूबर 2018
माता कालरात्रि की पूजा नवरात्रि के सातवें दिन की जाती है। इन्हें देवी पार्वती के समतुल्य माना गया है। देवी के नाम का अर्थ- काल अर्थात् मृत्यु/समय और रात्रि अर्थात् रात है। देवी के नाम का शाब्दिक अर्थ अंधेरे को ख़त्म करने वाली है।माता कालरात्रि का स्वरूपदेवी कालरात्रि कृष्
16 अक्तूबर 2018
15 अक्तूबर 2018
दशहरा भारतवर्ष में मनाये जाने वाले एक प्रमुख धार्मिक त्यौहार है. मान्यता है कि इसी दिन भगवान राम ने रावण का वध किया था. दशहरा को न केवल भगवान राम बल्कि माँ दुर्गा से भी जोड़कर देखा जाता है. एक मान्यता यह भी है कि माँ दुर्गा ने महिषासूर से लगातार नौ दिनो तक युद्ध करके, दशहरे के ही दिन उसका वध किया था.
15 अक्तूबर 2018
20 अक्तूबर 2018
*नवरात्र के छठे दिन मैया कात्यायनी कात्यायन ऋषि के यहाँ कन्या बनकर प्रकट हुईं | नारी का जन्म कन्यारूप में ही होता है इसीलिए सनातन धर्म ने कन्या की पूजा का विधान बनाया है | सनातन धर्म के पुरोधा यह जानते थे कि जिस प्रकार एक पौधे से विशाल वृक्ष तैयार होता है उसी प्रकार एक कन्या ही नारी रूप में परिवर्ति
20 अक्तूबर 2018
20 अक्तूबर 2018
जिनका विश्वास ईश्वर में है वो मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारा, चर्च में विश्वास नहीं रखते, जो मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारा और चर्च में विश्वास रखते है वो ईश्वर में नहीं राजनीती में विश्वास रखते है. ईश्वर के नाम पर दंगे नहीं होते, दंगे धर्म
20 अक्तूबर 2018
12 अक्तूबर 2018
*पिण्डजप्रवरारूढ़ा चण्डकोपास्त्रकेर्युता।* *प्रसादं तनुते मह्यं चंद्रघण्टेति विश्रुता॥* *हमारे सनातन धर्म में नवरात्र पर्व के तीसरे दिन महामाया चंद्रघंटा का पूजन किया जाता है | चंद्रघंटा की साधना करने से मनुष्य को प्रत्येक सुख , सुविधा , ऐश्वर्य , धन एवं लक्ष्मी की प्राप्
12 अक्तूबर 2018
19 अक्तूबर 2018
19 अक्टूबर को पूरे विश्व में दशहरा (Dussehra) मनाया जाएगा. इस दिन हर गली-नुक्कड़ और बड़े-बड़े मैदानों में रावण (Ravana) का पुतला जलाया जाएगा. बुराई पर अच्छाई की जीत का ये जश्न धूमधाम से मनाया जाएगा. मैदानों में मेले लगेंगे और मेले में राम और रावण से जुड़े खेल-खिलौने दिखेंगे. एक तरफ परिवार मिलकर चाट
19 अक्तूबर 2018
13 अक्तूबर 2018
*नवरात्र के पावन पर्व पर आदिशक्ति भगवती दुर्गा के पूजन का महोत्सव शहरों से लेकर गाँव की गलियों तक मनाया जा रहा है | जगह - जगह पांडाल लगाकर मातारानी का पूजन करके नारीशक्ति की महत्ता का दर्शन किया जाता है | माता जगदम्बा के अनेक रूप हैं , कहीं ये दुर्गा तो कहीं काली के रूप में पूजी जाती हैं | जहाँ दुर्
13 अक्तूबर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x