सादत हसन मंटो की 9 प्रसिद्ध लघु कथाएं - #9 Best Stories of “Manto” in Hindi

29 नवम्बर 2018   |  अंकिशा मिश्रा   (22 बार पढ़ा जा चुका है)

सादत हसन मंटो की 9 प्रसिद्ध लघु कथाएं - #9 Best Stories of “Manto” in Hindi  - शब्द (shabd.in)

सादत हसन मंटो एक महान लेखक, लेखक और भारत-पाकिस्तानी मूल के नाटककार थे। वह दक्षिण-एशियाई इतिहास में लघु कथाओं के सबसे प्रसिद्ध लेखकों में से एक हैं। मंटो की छोटी कहानियों को साहित्य में सुनहरे काम के रूप में गिना जाता है, जब भी कोई उर्दू में छोटी कहानियों के बारे में सोचता है, तो नाम मंटो पहले दिमाग में दिखाई देता है। मंटो का जन्म मुस्लिम परिवार में पंजाब के लुधियाना जिले में सम्राला के पापौड़ी गांव में हुआ था और बाद में भारत के विभाजन के समय पाकिस्तान चले गए थे। वह एक साहसी लेखक थे जिन्होंने अपने लेखन के माध्यम से वेश्यावृत्ति जैसे वर्जित विषयों के बारे में बात करने की हिम्मत की थी। भारत में और साथ ही पाकिस्तान में, उन्हें अश्लीलता का आरोप लगाया गया था। इसके बावजूद, उन्होंने लेखन जारी रखा और अपनी रक्षा में, उन्होंने घोषणा की कि उनके लेखन समाज के दर्पण के अलावा कुछ भी नहीं हैं और यदि लोगों को उनके लेखन-अप में गंदगी मिलती है, तो इसका मतलब है कि समाज दूषित है और उनके लिखित खाते नहीं हैं। मंटो की ऐसी ही कुछ खास कहानियां -





#ठंडा गोश्त

सादत हसन मंटो ने 1950 में इस कहानी को लिखा था। यह कहानी एक सिख आदमी के बारे में थी जिसे उसकी मालकिन ने मार डाला था। कहानी एक ऐसे व्यक्ति के बारे में थी जिसने भारत में हिंदू और मुस्लिम समुदाय के बीच दंगों में हिस्सा लिया था।व्यक्ति ने मुस्लिम परिवार की हत्या कर दी जिसमें छह पुरुष थे और उसी वंश से एक मृत लड़की से बलात्कार करने की कोशिश की। उसकी मालकिन को जब उस पर संदेह हुआ और जॉब मालकिन ने बल प्रयोग किया तो सिख ने अपना जुर्म कबूल किया और मालकिन ने उसे मार दिया।


#काली सलवार

यह मंटो की सबसे पसंदीदा लघु कथाओं में से एक है।जिसे मंटो द्वारा वर्ष 1 9 61 में लिखा गया था। इस कहानी ने एक वेश्या के जीवन को रेखांकित किया जो अंबाला से दिल्ली चली गई और लेकिन वो काम पाने में असमर्थ रही । बड़े शहर में जीवनयापन करने में उसे बहुत सी परेशानियों का सामना करना पद रहा था। इसी संकट के समय वो एक व्यक्ति से मिली जो कि उसके सामने बहुत अच्छा व्यक्ति होने का नाटक कर रहा था। इस कहानी में ये ही बताया गया है की कैसे उस व्यक्ति ने उस लड़की का दिल तोडा और उसे झूठ बोल क बीच में छोड़ गया।और यह भी बताया कि जिस पर हम सबसे ज्यादा भरोषा करते हैं अंत में वही हमारे भरोसे को तोड़ देते हैं।


#बुर्क़े


मंटों ने कई लघुकथाएं लिखी और रोमांचित कहानियां लिखीं हैं। पर 1955 में आयी कहानी बुर्क़े ने लोगों के दिलों में एक खास जगह बनाये। ये कहानी है एक लड़के की जिसको अपनी ही ईमारत में रहने वाली एक लड़की से प्यार हो गया। और एक दिन लड़के ने लड़की को अपने दिल की बात बोलना चाही पर जिस दिन वो बोलने गया उस दिन तीन लड़की एक साथ बुर्क़े में बैठी थी और लड़के भ्रमित हो गया और उसने गलत लड़की को पात्र में अपना हाल-ए-दिल बयां कर दिया।


#आंखें

सादत हसन ने बहुत खूबसूरत रूप से आंखों के आकर्षण को चित्रित किया। ये कहानी वास्तविक जीवन की घटना पर आधारित है जो मंटो के साथ हुई थी।मिंटो एक लड़की की आंखों से प्यार में गिर गए , जिससे मिंटो की मुलाकात एक अस्पताल में हुई ,बाद में पता चला कि वह लड़की अंधी थी।


#गोली

शारीरिक रूप से विकलांग लोगों के साथ सहानुभूति किस सीमा तक हो सकती है? क्या ऐसी सीमाएं मौजूद हैं जब कोई ऐसे लोगों को सहानुभूति देने के लिए के आगे बढ़ता है तो वह किस हद तक जा सकता है।इस कहानी में, 'शाफकत' नाम के एक विवाहित लड़के को शारीरिक रूप से अक्षम लड़की के प्रति बहुत ही दया की भावना जाग्रत हो जताई है और वो विवाहित होने के बाद भी उस विकलांग लड़की से शादी करने के बारे में सोचता है। यह मंटो की उन कहानियों में से एक है जहां वह मानव भावनाओं की जटिलताओं में गहराई से खोदता है।




#बारिश

एक जवान लड़के के बारे में एक अजीब लेकिन रोचक कहानी है।सादत हसन मंटो की यह युवा रक्त की भावनाओं का वर्णन करती है जब वह लड़का बारिश का आनंद ले रही लड़की को देखता है तो उससे प्यार कर बैठता है । लेकिन यह सुंदर समय भविष्य में नफरत करने वाले किसी चीज की नींव रखता है, यह कहानी चित्रित करती है।


#अब और कहने की जरुरत नहीं

मंटो की सबसे छोटी कहानियां 1947 के विभाजन के आसपास हैं।मंटो का कहना है कि , यह आवश्यक नहीं है कि उनकी सभी कहानियां अंधेरे और दर्दनाक हों। यह वह कहानी है जो मानवता, प्रेम और आशा पर जोर देती है। इस कहानी में यह दर्शाता है कि मानवता सबकुछ से ऊपर है।


#बदसूरती

दो बहनें हमेशा विशेष बंधन साझा करती हैं! क्या होता है जब बाहरी दुनिया द्वारा किसी को सुंदर और बदसूरत माना जाता है? इस छोटी सी कहानी में बताया गया है की कैसे भाग्य दो बहनों, हामिदा और साजिदा की परीक्षा लेता है।


#औलाद

मंटो की यह छोटी कहानी कुलपति के समाज में महिलाओं की असहायता दिखाती है। एक समाज जो अपने जीवन के प्रत्येक चरण में महिला का न्याय करता है। यह औलाद जुबेदा के बारे में कहानी है जिसका मन और सामान्य जीवन एक साधारण विचार से बर्बाद हो गया है। क्या एक विवाहित महिला जो पुनरुत्पादन नहीं कर सकती है, उसकी कोई अन्य पहचान नहीं है?




अगला लेख: भ्रमर कोई कुमुदनी पर मचल बैठा तो हंगामा- कुमार विश्वास



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
22 नवम्बर 2018
Aaj ka itihas वर्ष/साल प्रमुख घटनाएं1165 पोप एलेक्जेंडर तृतीय निर्वासन के बाद रोम वापस लौटे।1744 ब्रिटिश प्रधानमंत्री जान कार्टरे ने इस्तीफा दिया।1848 अमेरिका के वोस्टन में महिला मेडिकल शैक्षणिक सोसाइटी का गठन।1857 कोलिन कैंपबेल ने लखनऊ में सिपाही विद्
22 नवम्बर 2018
22 नवम्बर 2018
सलमान खान की फिल्म रेस 3 में फ़िल्माया गया गाना “अल्लाह दुहाई है” से भारतीय फैंस के दिलों में जगह बनाने वाले ब्रिटिश सिंगर ज़ायन मलिक एक बार फिर सुर्ख़ियों में आ गए हैं। दरअसल मंगलवार शाम को ज़ायन ने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर अल्लाह दुहाई है का कवर सॉन्ग शेयर किया और शेयर करते ही इस कवर वीडियो को 2.
22 नवम्बर 2018
22 नवम्बर 2018
डॉ.कुमार विश्वास “कोई दीवाना कहता है, कोई पागल समझता है”कुमार विश्वास का जन्म 10 फ़रवरी 1970 को पिलखुआ (ग़ाज़ियाबाद, उत्तर प्रदेश) में हुआ था। चार भाईयों और एक बहन में सबसे छोटे कुमार विश्वास ने अपनी प्रारम्भिक शिक्षा लाला गंगा सहाय स्कूल, पिलखुआ में प्राप्त की। उनके पिता डॉ. चन्द्रपाल शर्मा आर एस
22 नवम्बर 2018
22 नवम्बर 2018
Hindi poem - Kumar vishwasभ्रमर कोई कुमुदनी पर मचल बैठा तो हंगामाभ्रमर कोई कुमुदनी पर मचल बैठा तो हंगामाहमारे दिल में कोई ख्वाब पल बैठा तो हंगामाअभी तक डूबकर सुनते थे सब किस्सा मुहब्बत कामैं किस्से को हकीकत में बदल बैठा तो हंगामाकभी कोई जो खुलकर हंस लिया दो पल तो हंगामाकोई ख़्वाबों में आकर बस लिया द
22 नवम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x