मृत्युलोक :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

07 जनवरी 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (48 बार पढ़ा जा चुका है)

  मृत्युलोक :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

*इस धरा धाम पर जन्म लेकर के मनुष्य जन्म से लेकर मृत्यु तक आने को क्रियाकलाप संपादित करता रहता है एवं अपने क्रियाकलापों के द्वारा समाज में स्थापित होता है | कभी-कभी ऐसा होता है कि मनुष्य जन्म लेने के तुरंत बाद मृत्यु को प्राप्त हो जाता है और कभी कभी युवावस्था में उसकी मृत्यु हो जाती है | ऐसी स्थिति में या किसी दुर्घटना में मृत्यु हो जाने पर लोग इसे अकाल मृत्यु की संज्ञा दे देते हैं | जबकि सत्य यह है कि इस पृथ्वी पर जन्म लेने के पहले ही मनुष्य की मृत्युतिथि निश्चित हो जाती है | हमारे शास्त्रों में लिखा कि :-- आयु: वित्तम् च धर्मम् च , विद्या निधनमेव च ! पञ्चैतानि हि सृज्यन्ते गर्भस्थ्यैव हि देहिन: !! अर्थात :- जीव के गर्भ में आने पर पर ही उसकी आयु , धन , धर्म , विद्या एवं मृत्यु तिथि का सृजन हो जाता है | मनुष्य जन्म लेने के बाद पल प्रतिपल अपनी मृत्यु की ओर अग्रसर होता रहता है , परंतु माया में भूलकर मनुष्य यह विचार करता है कि हम युवा हो गए हैं | वह यह नहीं जानता है कि वह जितनी आयु का हुआ है उसकी कुल आयु में से इतने वर्ष कम हो गये हैं | मनुष्य अपने परिवार / समाज में इतना व्यस्त हो जाता है कि वह अपनी मृत्यु को भूला रहता है | मनुष्य की आयु का निर्धारण उसके पूर्व जन्मों के प्रारब्ध के अनुसार होता हैं | इस जन्म में सब कुछ पूर्व निर्धारित होता है परंतु आगे होने वाले जन्म को सुधारने के लिए मनुष्य को सकारात्मक कार्य करते रहना चाहिए , जिससे कि उसका आने वाला जन्म और भी दिव्य बनकर उसे प्राप्त हो | पूर्ण आयु के पहले मृत्यु हो जाने पर उससे दुर्मरण या अकाल मृत्यु कहा जाता है | मनुष्य की मृत्यु भले ही पूर्व निर्धारित होती है परंतु लोक भाषा में उसे अकाल मृत्यु ही कहा जाता है |* *आज समाज में इस प्रकार के अनेक मनुष्य मिल जाएंगे जो न तो अपने कर्मों को देखते हैं और न हीं अपने कर्तव्य का पालन करते हैं | किसी भी विपरीत परिणाम के लिए ऐसे लोग ईश्वर को दोषी मानते हैं जबकि दोषी ईश्वर नहीं होता है बल्कि दोषी आपके कर्म व आप स्वयं होते हैं | कुछ लोग अधिक से अधिक धन कमाने के लिए नैतिक अनैतिक सभी प्रकार के कार्य करने को भी तत्पर हो जाते हैं , जबकि उनके भाग्य में जितना धन आना होता है वह पहले ही लिखा जा चुका होता है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" इतना ही कहना चाहता हूं कि यदि मनुष्य किसी भी कारणवश अकाल मृत्यु को प्राप्त होता है तो यह मान लेना चाहिए उसकी आयु पहले से इतनी ही निर्धारित की गई थी , उसके पूर्व जन्मों के कर्मों के अनुसार उसको इतने ही दिन की आयु प्राप्त हुई थी एवं उसकी मृत्यु का कारण भी पहले से निश्चित होता है | मनुष्य ऐसे अवसरों पर विह्वल होकर के अपना विवेक को खो देता है और ईश्वर को दोषी मानने लगता है | जबकि हम जहां निवास कर रहे हैं इसका नाम ही मृत्युलोक है जिसका अर्थ होता है मौत का घर | जब हमारा जन्म ही मौत के घर में हुआ है तो पूर्णकालिक मृत्यु हो या अकाल मृत्यु यह दोनों ही स्वाभाविक है |* *मनुष्य को अपने एक एक पल का सकारात्मकता से सदुपयोग करते रहना चाहिए क्योंकि इस संसार को छोड़कर कब जाना पड़ जाए यह कोई नहीं जानता |*

अगला लेख: अहंकारी विद्वता :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
24 दिसम्बर 2018
*सनातन धर्म में समस्त सृष्टिकाल को चार भागों में विभाजित किया गया है जिन्हें चार युगों का नाम दिया गया | यह युग है सतयुग , त्रेतायुग , द्वापरयुग एवं कलियुग | इसमें से तीन युग तो व्यतीत हो चुके हैं चौथा कलियुग चल रहा है | प्रत्येक युग का आचरण एवं मनुष्य के आचार - विचार भिन्न-भिन्न होता रहा है | पू
24 दिसम्बर 2018
06 जनवरी 2019
*हमारे पूर्वजों ने अनेक साधनाएं करके हम सब के लिए दुर्लभ साधन उपलब्ध कराया है |साधना क्या है यह जान लेना बहुत आवश्यक है | जैसा कि हम जानते हैं की कुछ ऋषियों ने एकांत में बैठकर साधना की तो कुछ ने संसार में ही रहकर की स्वयं को साधक बना लिया | साधना का अर्थ केवल एकांतवास या ध्यान नहीं होता | वह स
06 जनवरी 2019
27 दिसम्बर 2018
*आदिकाल के मनुष्यों ने अपने ज्ञान , वीरता एवं साहस से अनेकों ऐसे कार्य किए हैं जिनका लाभ आज तक मानव समाज ले रहा है | पूर्वकाल के मनुष्यों ने आध्यात्मिक , वैज्ञानिक , भौतिक एवं पारलौकिक ऐसे - ऐसे दिव्य कृत्य किए हैं जिनको आज पढ़ कर या सुनकर बड़ा आश्चर्य होता है परंतु कभी मनुष्य इस पर विचार नहीं करत
27 दिसम्बर 2018
01 जनवरी 2019
*आदिकाल से मनुष्यों का सम्मान या उनका अपमान उनके कर्मों के आधार पर ही होता रहा है | मनुष्य की वाणी , उसका व्यवहार एवं उसका आचरण ही उसके जीवन को दिव्य या पतित बनाता रहा है | मनुष्य बहुत बड़ा विद्वान बन जाय परंतु उसकी वाणी में कोमलता न हो , उसकी भाषा मर्यादित न हो एवं उसके कर्म समाज के विपरीत हों तो उ
01 जनवरी 2019
06 जनवरी 2019
*इस संसार में मनुष्य जहाँ समय समय पर दिव्य ज्ञान के सद्गुणों को प्राप्त करता रहता है वहीं उसको काम , क्रोध , मोह , लोभ आदि भी अपने शिकंजे में कसने को प्रतिक्षण तत्पर रहते हैं | मनुष्य का तनिक भी डगमगाना उन्हें इस पथ का पथिक बना देता है | मनुष्य को लोभ ले डूबता है | लोभ क्या है, लोभ लालच को कहते हैं।
06 जनवरी 2019
27 दिसम्बर 2018
*इस धराधाम पर जन्म लेने के बाद मनुष्य जीवन भर सहज जिज्ञासु बनकर जीवन व्यतीत करता है | मनुष्य समय-समय पर यह जानना चाहता है कि वह कौन है ? कहां से आया है ? और उसको इस सृष्टि में भेजने वाला वह परमात्मा कैसा होगा ? कोई उसे ब्रह्म कहता है कोई परब्रह्म कहता है ! अनेक नामों से उस अदृश्य शक्ति को लोग पूजते
27 दिसम्बर 2018
06 जनवरी 2019
*सृष्टि के आदिकाल में परमपिता परमात्मा ने एक से अनेक होने की कामना करके भिन्न - भिन्न योनियों का सृजन करके उनमें जीव का आरोपण किया | जड़ - चेतन जितनी भी सृष्टि इस धराधाम पर दिखाई पड़ती है सब उसी कृपालु परमात्मा के अंश से उत्पन्न हुई | कहने का तात्पर्य यह है कि सभी जीवों के साथ ही जड़ पदार्थों में भी
06 जनवरी 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x