मानव धर्म :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

09 जनवरी 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (137 बार पढ़ा जा चुका है)

मानव धर्म :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

*इस धरा धाम पर ईश्वर ने चौरासी लाख योनियों का सृजन किया है | इनमें जलचर , थलचर एवं नभचर तीन श्रेणियाँ मुख्य हैं | इन तीनों श्रेणियों में भी सर्वश्रेष्ठ योनि मानव योनि कही गई है | मनुष्य जीवन सृष्टि की सर्वोपरि कलाकृति है , ऐसी सर्वांगपूर्ण रचना किसी और प्राणी की नहीं है | यह असाधारण उपहार हमको मिला है | हमारे शास्त्रों में लिखा है :- "नहिं मानववात् श्रेष्ठतरं हि किंचित" अर्थात सृष्टि में मानव से अधिक श्रेष्ठ और कोई नहीं है | इस पृथ्वी पर आकर मनुष्य समय के साथ पहले सनातन धर्म फिर अनेकानेक धर्म का अनुयायी बना , परंतु इन सभी धर्मों से उठकर के मनुष्य का पहला धर्म है मानव धर्म | क्योंकि जब जीव एक बार मानव जीवन में आ जाता है तो मानवता उससे स्वयं जुड़ जाती है , और प्रत्येक मनुष्य को इस मानवता का सदैव ध्यान रखना चाहिए , उससे अलग हो जाने पर मानव जीवन की सार्थकता समाप्त हो जाती है | किसी अन्य को संतप्त , कुंठित और प्रताड़ित करके कोई भी धर्म या संप्रदाय सम्माननीय नहीं हो सकता | मनुष्य का धर्म है अपने द्वारा कभी किसी को कोई कष्ट ना हो , क्योंकि हमारे मनीषियों ने उद्घोषणा की है :-- "ईशावास्यमिदं सर्वं यत्किंचित जगत्यां जगत्" अर्थात :- इस पृथ्वी पर जो भी चराचर वस्तु है वह सब ईश्वर से आच्छादित है | तो जब सब में ईश्वर है तो किसी को कष्ट पहुंचाकर के एक तो मनुष्य मानव धर्म के विपरीत जाता है दूसरे वह ईश्वर का भी अपराधी बनता है | मानव धर्म वह व्यवहार है जो मानव जगत में परस्पर प्रेम , सहानुभूति , एक दूसरे का सम्मान करना आदि सिखा कर हमें उच्च आदर्शों की ओर ले जाता है | किसी भी धर्म का अनुयायी हो उसे सर्वप्रथम मानव धर्म का पालन करना चाहिए क्योंकि मानव धर्म का पालन किए बिना किसी भी धर्म का पालन करना असंभव है |* *आज संसार में इतने धर्म , संप्रदाय एवं मत हो गए हैं कि इनकी गिनती कर पाना संभव नहीं लगता है | अगर यह कहा जाए कि आज मनुष्य अपनी अपनी ढफली अपना अपना राग अलाप रहा है तो यह अतिशयोक्ति नहीं होगी | धर्म के नाम पर एक दूसरे की हत्या तक आज मनुष्य कर रहा है , तो विचार कीजिए कि वह किस धर्म का पालन कर रहा है | आज मानव धर्म की प्रथम सीढ़ी मानवता मनुष्य में विलुप्त होती जा रही है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" आज के समाज को देखकर यह कह सकता हूं कि कुछ धर्मान्ध धर्म की आड़ लेकर के अपने निजी स्वार्थों की पूर्ति तो कर रहे हैं परंतु वे अपने मानव धर्म को भूलते हुए समाज में जीवन यापन कर रहे हैं | ऐसे धर्माधिकारी शायद अपने मूल धर्म को जानते भी नहीं हैं | मानव धर्म का मूल मंत्र है :- जीवो पर दया करना , व आपसी सौहार्द बनाए रखना , परंतु आज मानव निर्दयी बन गया है कि किसी दूसरे की बात छोड़ो आज मात्र कुछ पैसों के लिए दहेज लोभियों द्वारा अपनी ही बहू , अपनी ही पत्नी को जिस प्रकार त्यागा जा रहा है यह मानव धर्म के मुंह पर तमाचा मात्र है | परिवार , समाज और देश में आज जो हो रहा है वह किसी से छुपा नहीं है | मानवता आज खड़ी रो रही है | मानव ही मानव के लिए प्राणघातक और हिंसक बनता जा रहा है जो कि आने वाली पीढ़ियों के लिए सुखद संकेत नहीं है | धर्म के नाम पर लड़ने वालों से यही कहना चाहूंगा किस सबसे पहले मानव धर्म का पालन करना सीखें तब किसी अन्य धर्म के अनुयायी बन सकते हैं |* *इस धरा धाम पर मनुष्य का पहला धर्म मानव धर्म है , और मानव धर्म का स्रोत सनातन धर्म है , क्योंकि सनातन धर्म नें ही मानव धर्म की नींव रखी है | अत: मानव मात्र को सनातन से सीख लेनी चाहिए |*

अगला लेख: अहंकारी विद्वता :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
07 जनवरी 2019
*इस धरा धाम पर जन्म लेकर के मनुष्य जन्म से लेकर मृत्यु तक आने को क्रियाकलाप संपादित करता रहता है एवं अपने क्रियाकलापों के द्वारा समाज में स्थापित होता है | कभी-कभी ऐसा होता है कि मनुष्य जन्म लेने के तुरंत बाद मृत्यु को प्राप्त हो जाता है और कभी कभी युवावस्था में उसकी मृत्यु हो जाती है | ऐसी स्
07 जनवरी 2019
06 जनवरी 2019
*पूर्वकाल में मनुष्य का जीवन आज की अपेक्षा बहुत ही दिव्य एवं सामाजिक था | पूर्वकाल की शिक्षा एवं संस्कार इतने दिव्य थे कि उनका उपयोग करते हुए मानव मात्र आज तक लाभ ले रहा है | आज की अपेक्षा इतनी सुविधाएं तो नहीं थी परंतु यह कहा जा सकता है आज की अपेक्षा पूर्वकाल का जो ज्ञान था वह अक्षुण्ण था | लोग बिन
06 जनवरी 2019
06 जनवरी 2019
*पूर्वकाल में यदि मनुष्य सर्वश्रेष्ठ बना तो उसमें मनुष्य के संस्कारों की महत्वपूर्ण भूमिका थी | संस्कार ही मनुष्य को पूर्ण करते हुए पात्रता प्रदान करते हैं और संस्कृति समाज को पूर्ण करती है | संस्कारों से मनुष्य के आचरण कार्य करते हैं | किसी भी मनुष्य के चरित्र निर्माण में धर्म , संस्कार और संस्कृति
06 जनवरी 2019
06 जनवरी 2019
*सृष्टि के आदिकाल में परमपिता परमात्मा ने एक से अनेक होने की कामना करके भिन्न - भिन्न योनियों का सृजन करके उनमें जीव का आरोपण किया | जड़ - चेतन जितनी भी सृष्टि इस धराधाम पर दिखाई पड़ती है सब उसी कृपालु परमात्मा के अंश से उत्पन्न हुई | कहने का तात्पर्य यह है कि सभी जीवों के साथ ही जड़ पदार्थों में भी
06 जनवरी 2019
14 जनवरी 2019
*प्रत्येक मनुष्य एक मन:स्थिति होती है | अपने मन:स्थिति के अनुसार ही वह अपने सारे कार्य संपन्न करता है , परंतु जब मनुष्य की मन:स्थिति में विवेक सुप्तावस्था में होता है तो उसके निर्णय अनुचित होने लगते हैं | प्रत्येक मनुष्य को अपने भीतर के विवेक को जागृत करना चाहिये | जिस दिन विवेक जागृत हो जाता है मन
14 जनवरी 2019
25 दिसम्बर 2018
*ईश्वर ने सुंदर सृष्टि की रचना की | अनेकों प्रकार की योनियों की रचना करके कर्म के अनुसार जीव को उन योनियों में जन्म दिया | इन्हीं योनियों में सर्वश्रेष्ठ मानवयोनि कही गयी है | प्रत्येक जीव को जीवन जीने के लिए आहार की आवश्यकता होती है जहां जंगली जानवर मांसाहार करके अपना जीवन यापन करते हैं वही मनुष्य
25 दिसम्बर 2018
06 जनवरी 2019
*हमारे पूर्वजों ने अनेक साधनाएं करके हम सब के लिए दुर्लभ साधन उपलब्ध कराया है |साधना क्या है यह जान लेना बहुत आवश्यक है | जैसा कि हम जानते हैं की कुछ ऋषियों ने एकांत में बैठकर साधना की तो कुछ ने संसार में ही रहकर की स्वयं को साधक बना लिया | साधना का अर्थ केवल एकांतवास या ध्यान नहीं होता | वह स
06 जनवरी 2019
06 जनवरी 2019
*पूर्वकाल में यदि मनुष्य सर्वश्रेष्ठ बना तो उसमें मनुष्य के संस्कारों की महत्वपूर्ण भूमिका थी | संस्कार ही मनुष्य को पूर्ण करते हुए पात्रता प्रदान करते हैं और संस्कृति समाज को पूर्ण करती है | संस्कारों से मनुष्य के आचरण कार्य करते हैं | किसी भी मनुष्य के चरित्र निर्माण में धर्म , संस्कार और संस्कृति
06 जनवरी 2019
06 जनवरी 2019
*इस संसार में मनुष्य जहाँ समय समय पर दिव्य ज्ञान के सद्गुणों को प्राप्त करता रहता है वहीं उसको काम , क्रोध , मोह , लोभ आदि भी अपने शिकंजे में कसने को प्रतिक्षण तत्पर रहते हैं | मनुष्य का तनिक भी डगमगाना उन्हें इस पथ का पथिक बना देता है | मनुष्य को लोभ ले डूबता है | लोभ क्या है, लोभ लालच को कहते हैं।
06 जनवरी 2019
27 दिसम्बर 2018
*आदिकाल के मनुष्यों ने अपने ज्ञान , वीरता एवं साहस से अनेकों ऐसे कार्य किए हैं जिनका लाभ आज तक मानव समाज ले रहा है | पूर्वकाल के मनुष्यों ने आध्यात्मिक , वैज्ञानिक , भौतिक एवं पारलौकिक ऐसे - ऐसे दिव्य कृत्य किए हैं जिनको आज पढ़ कर या सुनकर बड़ा आश्चर्य होता है परंतु कभी मनुष्य इस पर विचार नहीं करत
27 दिसम्बर 2018
13 जनवरी 2019
*इस धरती पर इतने प्राणी है कि उनकी गिनती कर पाना संभव नहीं है | इन प्राणियों में सर्वश्रेष्ठ प्राणी मनुष्य माना जाता है | मनुष्य सर्वश्रेष्ठ प्राणी इसलिए माना जाता है क्योंकि उसमें जो विशेषतायें हैं वह अन्य प्राणियों में नहीं पायी जाती हैं | वैसे तो ईश्वर ने मनुष्य में विशेषताओं का भण्डार भर दिया ह
13 जनवरी 2019
27 दिसम्बर 2018
*मानव जीवन में इन तीन बातों का होना अनिवार्य हैः-- सत्संग, भगवद् भजन और परोपकार | इन तीनों में भी सत्संग की बड़ी भारी महिमा है | सत्संग का अर्थ है, सत् वस्तु का ज्ञान | परमात्मा की प्राप्ति और प्रभु के प्रति प्रेम उत्पन्न करने तथा बढ़ाने के लिए सत्पुरूषों को श्रद्धा एवं प्रेम से सुनना एवं बीच - बी
27 दिसम्बर 2018
16 जनवरी 2019
*हमारे देश भारत में कई जाति / सम्प्रदाय के लोग रहते हैं | कई प्रदेशों की विभिन्न संस्कृतियों / सभ्यताओं का मिश्रण यहाँ देखने को मिलता है | सबकी वेशभूषा , रहन - सहन एवं भाषायें भी भिन्न हैं | प्रत्येक प्रदेश की अपनी एक अलग मातृभाषा भी यहाँ देखने को मिलती है | हमारी राष्ट्रभाषा तो हिन्दी है परंतु भिन्
16 जनवरी 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x