स्त्रियों के लिए आज भी सुरक्षित नहीं माहौल

28 मार्च 2019   |  मिताली जैन   (67 बार पढ़ा जा चुका है)

स्त्रियों के लिए आज भी सुरक्षित नहीं माहौल - शब्द (shabd.in)

आज के दौर में भले ही स्त्रियों ने अपनी काबिलियत से हर क्षेत्र में परचम लहराया हो, लेकिन फिर भी देश का माहौल उनके लिए आज भी सुरक्षित नहीं है। आज के समय में भी जब एक लड़की घर से निकलती है तो उसके वापिस लौट आने तक उसके माता-पिता को चिंता ही लगी रहती है। इतना ही नहीं, बहुत से क्षेत्र में माता-पिता अपनी लड़कियों को महज इसलिए नहीं जाने देते क्योंकि उसमें असमय काम करना पड़ता है और ऐसे में अभिभावक को लगता है कि अमुक क्षेत्र लड़की के लिए सुरक्षित नहीं है। यह सोच हर दिन महिलाओं के साथ होने वाले अमानवीय व्यवहार से ही उपजी है।

छह साल पहले चलती बस में निर्भया के साथ चलती बस में जिस तरह अमानवीयता की सारी हदें पार की गई, उससे पूरा देश आक्रोश से उबल चुका था। आज भी जब निर्भया केस की बात होती है तो दिल दहल जाता है। हालांकि उसके बाद महिलाओं की सुरक्षा हेतु कई नियम-कानून बनाए गए लेकिन आज भी चलती बसें महिलाओं के लिए किसी भी लिहाज से सुरक्षित नहीं है। इसका उदाहरण पिछले दिनों देखने को मिला, जब छावला थाना क्षेत्र में दो लड़कियों के साथ चलती बस में छेड़छाड़ की गई। इतना ही नहीं, जब लड़कियों ने बस को रोकने के लिए कहा तो उनसे कहा गया कि बस नियत स्टाॅप पर ही रूकेगी। हालांकि लड़कियों ने किसी तरह बस की गति थोड़ी कम होने पर बस से कूदकर खुद को बचाया। लेकिन इस घटना ने एक बार फिर यह प्रश्न खड़ा कर दिया कि देश की राजधानी में महिलाओं की सुरक्षा को लेकर सरकार कितनी मुस्तैद है। सड़कांे पर दौड़ती बसों व कारों में महिलाओं के प्रति होने वाली यौन हिंसा पर रोक लगाना अभी तक संभव नहीं हो सका है। वैसे यह महज एक किस्सा नहीं है। हर दिन अखबार में आपको महिलाओं के होने वाली बदसलूकी का कोई न कोई मामला देखने को मिल ही जाएगा।

पिछले दिनों, इसी संदर्भ में दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने भी प्रधानमंत्री के एक बयान को सच्चाई से बिल्कुल अलग बताया। इस बयान में प्रधानमंत्री ने महिला सुरक्षा और महिलाओं के साथ दुव्र्यवहार मामले के दोषियों को 3 से 11 दिनों में फंासी देने की बात कही थी। बकौल मालीवाल, प्रतिदिन देश की राजधानी में ही बलात्कार की छह से अधिक वारदातें होती हैं और बलात्कारियों को जल्द सजा नहीं मिलती है। करीब छह साल पहले निर्भया के साथ निर्दयतापूर्वक किए गए बलात्कार में भी आज तक उसके दोषियों को फांसी नहीं मिली है। आए दिन महिलाओं के साथ छेड़छाड़, हत्या और बलात्कार जैसी आमानवीय घटनाएं होती रहती है। आलम यह है कि इस दरिंदगी का शिकार छोटी बच्चियों से लेकर बूढ़ी महिलाएं तक होती हैं।

भले ही सरकारों ने महिला और बच्चियों की सुरक्षा के लिए कई तरह के वादे किए हों लेकिन आंकड़ें कुछ और कहानी ही बयां करते हैं। नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो की एक रिपोर्ट के अनुसार, बलात्कार के मामलों में साल 2012 के मुकाबले 2016 में बढ़ोतरी हुई है। साल 2012 में जहां ये बच्चियों के साथ बलात्कार के 8,541 मामले सामने आए, वहीं 2016 में यह आंकड़ा बढ़कर 19,765 हो चुका था। अर्थात, ये आंकड़े पहले के मुकाबले दोगुने हो गए थे। इसमें भी देश की राजधानी की स्थिति बद से बदतर होती जा रही है। यहां पर महिलाओं के प्रति होने वाले क्राइम में कोई कमी नहीं है। दिल्ली में भी साल 2011 से 2016 के बीच महिलाओं के साथ दुष्कर्म के मामलों में 277 फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज की गई। साल 2011 में जहां दिल्ली में इस तरह के 572 मामले दर्ज किये गए थे, वहीं साल 2016 में यह आंकड़ा 2155 रहा। नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो की 2014 की रिपोर्ट के अनुसार देश में हर एक घंटे में 4 रेप होते हैं। वहीं दिल्ली को एनसीआरबी द्वारा किए गए एक सर्वेक्षण में महिलाओं के लिए सबसे असुरक्षित शहर पहले ही बताया जा चुका है ।

विकास के पथ पर अग्रसर होते हुए अगर महिलाओं की सुरक्षा पीछे छूट जाए, तो उस विकास का कोई वास्तविक लाभ नहीं है। आज महिलाएं भले ही हर क्षेत्र में अपनी उपस्थिति दर्ज करवा रही हैं, लेकिन घर से निकलने के बाद ही उनके व उनके परिवारजन के मन में एक अजीब सा तब तक डर रहता है, जब तक स्त्री सही सलामत घर वापिस लौटकर नहीं आती। इस स्थिति को बदलने की आवश्यकता है।

अगर वास्तव में महिलाओं के साथ होने वाले दुव्र्यवहार पर रोक लगानी है तो यह आवश्यक है कि देश में पुलिस संसाधनों और उसकी जवाबदेही को बढ़ाया जाए। इसके साथ ही देश में ऐसी व्यवस्था कायम करनी होगी ताकि लोगों के बीच ऐसे घिनौने अपराध के प्रति डर पैदा हो। यह जरूरी है कि हर हाल में दोषियों को जल्द से जल्द सजा हो, लेकिन इससे भी ज्यादा जरूरी है कि महिलाओं के प्रति होने वाली छेड़छाड़, पीछा करना या बलात्कार जैसी घटनाएं हो ही नहीं। वहीं महिलाओं के खिलाफ हो रहे अपराधों पर अंकुश लगाने के लिए सभ्य समाज के लोग भी इसके प्रति थोड़े जागरूक व जिम्मेदार हों। अगर लोग किसी भी महिला के साथ कुछ भी गलत होने पर आवाज उठाते हैं तो यकीनन एक बड़े अपराध को होने से पहले ही रोका जा सकता है।

इतना ही नहीं, उन कमियों पर भी गौर किया जाए, जिसके कारण महिलाओं के साथ इस तरह की दुर्घटनाएं होती हैं। मसलन, सड़कों पर दौड़ती बसों व आॅटो आदि में महिलाओं की सुरक्षा की अनदेखी नहीं की जानी चाहिए। भले ही सार्वजनिक परिवहन की गाड़ियों में जीपीएस लगने लगे हैं लेकिन अभी तक भी उनके जरिये गाड़ियों की मॉनिटरिंग का कोई ठोस तंत्र नहीं बन पाया है। इस पर भी व्यापक गौर करने की आवश्यकता है।

अगला लेख: आयली स्किन का रखना है ख्याल, बनाएं यह होममेड स्क्रब



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
14 मार्च 2019
जिन महिलाओं की स्किन एक्ने प्रोन होती है, वह मुंहासों को छिपाने के लिए तरह-तरह के उपाय अपनाती हैं। यह उपाय भले ही कुछ देर के लिए इन मुंहासों को छिपा दें लेकिन इस तरह इनसे निजात नहीं मिलती। अगर आपकी स्किन भी ऐसी ही है तो अब आपको इन्हें छिपाने की जरूरत नहीं है। बल्कि जरूरत है कि आप इन्हें जड़ से ही मिट
14 मार्च 2019
13 मार्च 2019
(मेरी अपनी एक सखी के जीवन की सत्य घटना पर आधारित कथा –अन्त में थोड़े से परिवर्तन के साथ)वो काटा“मेम आठ मार्च में दो महीनेसे भी कम का समय बचा है,हमें अपनी रिहर्सल वगैरा शुरू कर देनी चाहिए…” डॉ सुजाता International Women’sDay के प्रोग्राम की बात कर रही थीं |‘जी डॉ, आप फ़िक्र मत कीजिए,आराम से हो जाएगा… आ
13 मार्च 2019
18 मार्च 2019
टूथब्रश एक ऐसी चीज है, जिसका इस्तेमाल हर व्यक्ति प्रतिदिन करता है और हर तीन माह यह टूथब्रश बेकार हो जाता है। ऐसे में इसे बाहर का रास्ता दिखा दिया जाता है। इस बात से तो अधिकतर लोग वाकिफ हैं कि टूथब्रश का इस्तेमाल केवल तीन माह के लिए करना चाहिए, उसके बाद उसे बदलना बेहद आवश्यक होता है। लेकिन क्या आप जा
18 मार्च 2019
14 मार्च 2019
बेदाग और खूबसूरत त्वचा यकीनन हर किसी का ध्यान अपनी ओर खींचती है और इसे पाने की चाहत आप मन ही मन करते होंगे। कई महिलाएं तो अपनी इस ख्वाहिश को पूरा करने के लिए ब्यूटी पार्लर के चक्कर ही काटती रहती हैं या फिर ब्यूटी प्राॅडक्ट्स पर हजारों रूपए खर्च कर देती हैं। अगर आप भी ऐसा ही करती हैं तो अब इसे बंद कर
14 मार्च 2019
23 मार्च 2019
अक्सर आपने छोटे बच्चों को नाखून चबाते हुए देखा होगा। अमूमन लोग इस पर ध्यान नहीं देते। शुरूआत में बच्चे कभी बोर होने या परेशान होने पर नाखून चबाते हैं, लेकिन बाद में यह उनकी आदत बन जाती है और फिर इससे निजात पाना मुश्किल हो जाता है। नाखून चबाने की आदत भले ही आपको सामान्य लगती हो लेकिन इससे कई तरह के न
23 मार्च 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x