पर उपदेश कुशल बहुतेरे :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

29 अप्रैल 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (43 बार पढ़ा जा चुका है)

पर उपदेश कुशल बहुतेरे :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*जब से इस धराधाम पर मानव का सृजन हुआ तब से लेकर आज तक मानव समाज को दिशा प्रदान करने के लिए कुछ विशेष व्यक्तियों के सहयोग एवं सेवा को कदापि नहीं भुलाया जा सकता | पृथ्वी के भिन्न-भिन्न भागों में अपने - अपने समाज को आगे बढ़ाने में एक दिशा निर्देशक एवं मार्गदर्शक अवश्य होता है | जिसे विद्वान कहा जाता है | हमारे भारत देश के विद्वानों ने मानव मात्र के कल्याण के लिए अनेकों नियम बनाए एवं सर्वप्रथम स्वयं उन नियमों का पालन करके समाज को दिखाया , क्योंकि वह जानते थे कि किसी को कुछ बताने से अच्छा है स्वयं करके दिखाया जाय | समाज में मनुष्य कुछ बताने से मानने की अपेक्षा नकल अधिक करता है | मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम ने पूरे जीवन काल में एक अद्भुत एवं अविस्मरणीय मर्यादा का उदाहरण प्रस्तुत किया | उन्होंने किसी से भी नहीं कहा कि आप इसका का पालन कीजिए अपितु स्वयं करके यह दिखाया कि मनुष्य को अपने जीवन काल में किन परिस्थितियों में क्या करना चाहिए , इसीलिए उनको मर्यादा पुरुषोत्तम कहा गया | हमारे विद्वानों ने मानव समाज को विधिवत संस्कृति एवं संस्कार में ढालने का प्रयास किया जिसके फलस्वरूप आज मनुष्य अपने क्रियाकलापों से संपूर्ण विश्व में राज्य कर रहा है | समाज में क्या करना उचित है ? और क्या अनुचित है , क्या अनुकरणीय और क्या त्याज्य है इसका निर्णय हमारे समाज की विद्वानों के द्वारा किया जाता है | परंतु परिस्थिति तब विषम हो जाती है जब विद्वानों के द्वारा ही ऐसे कृत्य किए जाने लगते हैं जो कि अमान्य होते है इसे कितना सही माना जाय ??* *आज के समाज में जहां मिथ्याभिमान , क्रोध ,मोहािद की प्रबलता दिखाई पड़ रही है , वहीं एक चीज और देखने को मिल रही है कि लोग किसी समाज विशेष या किसी व्यक्ति विशेष के पास ज्ञानी बनने का प्रयास करते हैं , और समाज जब उन्हें विद्वान मानने लगता है तो उनके द्वारा ऐसे कृत्य किए जाने लगते हैं जो कि समाज के अनुकूल नहीं होते हैं | अपनी विद्वता के माध्यम से समाज को नई दिशा एवं दशा प्रदान कराने वाले ऐसे विद्वान समाज को तो सदुपदेश करते हैं परंतु स्वयं का कार्य उसके विपरीत भी होता है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" आज समाज में ऐसे अनेक विद्वानों को देख रहा हूं जिन का दोहरा चरित्र देखने को मिलता है | ऐसे विद्वान किसी भी समाज के मंच पर बैठकर के उपदेश तो बड़े अच्छे देते हैं परंतु अपने ही बताए हुए उपदेशों का पालन उनके स्वयं के द्वारा नहीं किया जाता | कोई भी उपदेश तभी प्रभावी हो सकता है जब उसका पालन उपदेशक भी करें , अन्यथा ऐसे व्यक्तियों को उपदेशक या विद्वान मानना मूर्खता के अतिरिक्त और कुछ नहीं है | किसी को कुछ बताने से पहले स्वयं उसका पालन करने का प्रयास करना चाहिए तभी वह उपदेश समाज को प्रभावित कर सकता है अन्यथा कदापि नहीं | परंतु दुखद है कि आज बताने वाले ज्यादा है और स्वयं पालन करने वालों की संख्या कम होती जा रही है |* *समाज को दिशानिर्देश देने में विद्वानों का विशेष योगदान रहा है | विद्वान अपनी गरिमा एवं पद के अनुकूल आचरण करके ही पूज्यनीय हो सकता है |*

अगला लेख: जाकी रही भावना जैसी :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
19 अप्रैल 2019
*सनातन हिन्दू धर्म के चरित्रों का यदि अवलोकन करके आत्मसात करने का प्रयास कर लिया जाय तो शायद इस संसार में न तो कोई समस्या रहे और न ही कोई संशय | हमारे महान आदर्शों में पवनपुत्र , रामदूत , भगवत्कथाओं के परम रसिया अनन्त बलवन्त हनुमन्तलाल जी का जीवन दर्शन दर्शनीय है | हनुमान जी का जन्मोत्सव मनाने में य
19 अप्रैल 2019
16 अप्रैल 2019
*मनुष्य की इच्छायें एवं आवश्यकतायें अनन्त हैं | जब से मनुष्य इस धराधाम पर आया तब से ही यह दोनों चीजें विद्यमान हैं | एक सुंदर एवं व्यवस्थित जीवन जीने के लिए मनुष्य को नित्य नये आविष्कार करने पड़े , जहाँ जैसी आवश्यकता मनुष्य को प्रतीत हुई वहाँ वैसे आविष्कार मनुष्य करता चला गया | अपने इन्हीं आविष्कार
16 अप्रैल 2019
23 अप्रैल 2019
*मनुष्य अपने जीवनकाल में अनेकों क्रिया - कलाप करता रहता है , भिन्न - भिन्न स्वभाव के लोगों की संगत करता रहता है | अपने स्वभाव के विपरीत लोगों के साथ रहकर अपने स्वभाव को बदलने का भी प्रयास करता रहता है | इसमें वह कुछ हद तक सफल भी हो जाता है , समय आने पर वह अपना मूल स्वभाव कहीं जाता नहीं है | वही व्यक
23 अप्रैल 2019
23 अप्रैल 2019
*आदिकाल से इस धरा धाम पर मनुष्य अपने कर्मों के माध्यम से सफलता एवं विफलता प्राप्त करता रहा है | किसी भी क्षेत्र में सफलता प्राप्त करने के लिए सर्वप्रथम मनुष्य को छलहीन एवं निष्कपट होना परम आवश्यक है | मनुष्य कुछ देर के लिए सफल होकर अपनी सफलता पर प्रसन्न तो हो सकता है परंतु उसकी प्रसन्नता चिरस्थाई नह
23 अप्रैल 2019
23 अप्रैल 2019
*परमपिता परमात्मा ने इस सुंदर सृष्टि रचना की और इस सुंदर सृष्टि में सबसे सुंदर बनाया मनुष्य को | मनुष्य की सुंदरता दो प्रकार से परिभाषित की जाती है एक तो शरीर की सुंदरता दूसरे मन की सुंदरता | तन और मन का चोली दामन की तरह साथ होता है | यह दोनों ही एक दूसरे के पूरक और पोषक है , किंतु मनुष्य का सारा ध
23 अप्रैल 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x