त्रिकाल संध्या :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

17 जून 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (53 बार पढ़ा जा चुका है)

त्रिकाल संध्या :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

*आदिकाल से ऋषि महर्षियों ने अपने शरीर को तपा करके एक तेज प्राप्त किया था | उस तेज के बल पर उन्होंने अनेकानेक कार्य किये जो कि मानव कल्याण के लिए उपयोगी सिद्ध हुए | सदैव से ब्राम्हण तेजस्वी माना जाता रहा है | ब्राम्हण वही तेजस्वी होता था जो शास्त्रों में बताए गए नियमानुसार नित्य त्रिकाल संध्या का अनुयायी होता था | ब्राह्मणत्व का उदय त्रिकाल संध्या के माध्यम से ही संभव है | हमारे पुराणों में गायत्री मंत्र की महिमा अपरंपार है | त्रिकाल संध्या में इसी मंत्र का जप किया जाता है | प्रातः कालीन संध्या में हंसवाहिनी ब्रह्मारूपा बालस्वरूप गायत्री का ध्यान , तो मध्यान्ह संध्या में गरुड़वाहिनी विष्णुरूपा युवास्वरूप गायत्री का ध्यान , वही संध्याकालीन संध्या में वृषभवाहिनी शिवारूपा वृद्ध गायत्री का ध्यान एवं जप का विधान बताया गया है | यह ब्राह्मणों के लिए अनिवार्य कर्म था | इस पर प्रकाश डालते हुए आचार्य चाणक्य लिखते हैं ----"वृक्षस्तस्य मूलं च सन्ध्या वेदा: शाखा धर्मकर्माणि पत्रम् ! तस्मान्मूलं यत्नतो रक्षणियं छिन्ने मूले नैव शाखा न पत्रम् !! अर्थात्-- ज्ञानी एक वृक्ष के समान है और संध्या अर्थात् आराधाना उस ब्राह्मणरूपी वृक्ष की जड़ है, वेद उस वृक्ष की शाखाएं हैं धर्म-कर्म उसके पत्ते हैं, इसलिए उसे यत्नपूर्वक जड़ की रक्षा करनी चाहिए, क्योंकि जड़ के नष्ट होने पर न शाखाएं रहेंगी और न पत्ते | इसी त्रिकाल संध्या के बल पर ब्राह्मण तेजस्वी , ओजस्वी एवं कान्तिवान बनकर समाज के कल्याण के लिए अपने तपबल का उपयोग करके विद्वान कहलाता था |* *आज के युग में ब्राह्मण भी आधुनिकता की अंधी दौड़ में स्वयं को सम्मिलित करके अपने कर्म को भूलता चला जा रहा है | आज त्रिकाल संध्या करने वाले ब्राह्मणों की संख्या न्यून से न्यूनतम होती जा रही है | आज हम पुस्तकों को पढ़कर ज्ञान तो अर्जित कर ले रहे हैं , विद्वान बन जा रहे हैं , विद्वता की पराकाष्ठा को भी पार करता हुआ मनुष्य दिखाई पड़ रहा है ! परंतु उसके अंदर जो तेज होना चाहिए उसके दर्शन बहुत कम होने लगे हैं | आज के युग में बहुत कम ऐसे लोग मिलते हैं जो कि त्रिकाल संध्या के अनुयायी होंगे ! मुझे "आचार्य अर्जुन तिवारी" को विद्वतसमाज क्षमा करेगा परंतु यह कटु सत्य है | आज कोई भी सनातनी यदि तेजहीन हो रहा है तो उसका मुख्य कारण है अपने कर्मों से विमुख होना | यह ठीक उसी प्रकार है जैसे कि लोग अपना गाँव - देश छोड़कर विदेश में जाकर रहने लगते हैं ! परंतु जीवन भर उनको वह सम्मान नहीं मिल पाता वे "अप्रवासी" ही कहे जाते हैं | उसी प्रकार हम चाहे जितना विद्याध्ययन , वेदाध्ययन कर लें परंतु यदि संध्या विहीन हैं तो हमें कभी वह तेज , वह फल नहीं मिलेगा जो कि प्राप्त होना चाहिए | जैसा कि आचार्य चाणक्य जी ने कहा है कि जड़ को सुरक्षित रखेंगे तो नई शाखायें , पत्ते पुन: आ जायेंगे | तो यह आवश्यक है कि हम भी अपनी जड़ (त्रिकालसंध्या) को मजबूत करते हुए बचाये रखें |* *संध्याविहीन होकर किया गया ज्ञानार्जन ठीक वैसा ही है जैसे कि ठंड में पुवाल की आग का सहारा लेना | पुवाल जलता तो बहुत तेज है परंतु शान्त भी तुरंत हो जाता है | इसीलिए अपने कर्म को , अपने धर्म को पहचानना आवश्यक है |*

अगला लेख: अवश्यमेव भोक्तव्यं कृतं कर्मं शुभा शुभम् ;- आचार्य श्री अर्जुन तिवारी जी के बोल



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
24 जून 2019
*सनातन धर्म बहुत ही वृहद होते हुए असंख्य मान्यताओं को स्वयं को समेटे हुए है | सनातन धर्म में समय - समय पर अनेक देवी - देवताओं के साथ ग्रामदेवता , स्थानदेवता , ईष्टदेवता एवं कुलदेवता की पूजा आदिकाल से की जाती रही है | प्रत्येक कुल के एक विशेष आराध्य होते हैं जिन्हें कुलदेवी या कुलदेवता के नाम से जाना
24 जून 2019
12 जून 2019
*सनातन धर्म के आधारस्तम्भ एवं इसके प्रचारक हमारे ऋषि महर्षि मात्र तपस्वी एवं त्यागी ही न हो करके महान विचारक , मनस्वी एवं मवोवैज्ञानिक भी थे | सनातन धर्म में समय समय पर बताया गया समयानुकूल व्रत विधान यही सिद्ध करता है | विचार कीजिए कि जब ज्येष्ठ माह में सूर्य की तपन एवं उमस से आम जनमानस तप रहा होता
12 जून 2019
11 जून 2019
*विशाल देश भारत में सनातन धर्म का उद्भव हुआ | सनातन धर्म भिन्न-भिन्न रूपों में समस्त पृथ्वीमंडल पर फैला हुआ है , इसका मुख्य कारण यह है कि सनातन धर्म के पहले कोई धर्म था ही नहीं | आज इस पृथ्वी मंडल पर जितने भी धर्म विद्यमान हैं वह सभी कहीं न कहीं से सनातन धर्म की शाखाएं हैं | सनातन धर्म इतना व्यापक
11 जून 2019
12 जून 2019
*सनातन धर्म के आधारस्तम्भ एवं इसके प्रचारक हमारे ऋषि महर्षि मात्र तपस्वी एवं त्यागी ही न हो करके महान विचारक , मनस्वी एवं मवोवैज्ञानिक भी थे | सनातन धर्म में समय समय पर बताया गया समयानुकूल व्रत विधान यही सिद्ध करता है | विचार कीजिए कि जब ज्येष्ठ माह में सूर्य की तपन एवं उमस से आम जनमानस तप रहा होता
12 जून 2019
28 जून 2019
संसार में कर्म ही प्रधान कर्मानुसार ही मनुष्य को सुख - दुख , मृत्यु - मोक्ष आदि प्राप्त होते हैं | कर्म की प्रधानता यहाँ तक है कि जीव को अगला जन्म किस योनि में लेना है यह भी उसके कर्म ही निर्धारित करते हैं | यद्यपि सभी जीवों को अपने कर्मों का फल भोगना ही पड़ता है परंतु इन सबसे ऊपर एक परमसत्ता है द
28 जून 2019
29 जून 2019
एक सच्ची पुकार - *ईश्वर की अनुकम्पा से अपने कर्मानुसार अनेकानेक योनियों में भ्रमण करते हुए जीव मानवयोनि को प्राप्त करता है | आठ - नौ महीने माँ के उदर में रहकर जीव भगवान के दर्शन करता रहता है और उनसे प्रार्थना किया करता है कि :-हे भगवन ! हमें यहाँ से निकालो मैं पृथ्वी पर पहुँचकर आपका भजन करूँगा | ई
29 जून 2019
10 जून 2019
*सनातन धर्म का प्रत्येक अंग किसी न किसी मान्यता व परम्परा से जुड़ा हुआ है | चाहे जड़ हो या चेतन , पर्व हो या त्यौहार , यहाँ तक कि समाज का वर्गीकरण भी पौराणिक एवं धार्मिक मान्यताओं से ही सम्बन्धित है | आज ज्येष्ठ शुक्लपक्ष की नवमी को "महेश नवमी" के नाम से जाना जाता है
10 जून 2019
25 जून 2019
*सृष्टि के प्रारम्भ में जब ईश्वर ने सृष्टि की रचना प्रारम्भ की तो अनेकों औषधियों , वनस्पतियों के साथ अनेकानेक जीव सृजित किये इन्हीं जीवों में मनुष्य भी था | देवता की कृपा से मनुष्य धरती पर आया | आदिकाल से ही देवता और मनुष्य का अटूट सम्बन्ध रहा है | पहले देवता ने मनुष्य की रचना की बाद में मनुष्य ने द
25 जून 2019
23 जून 2019
*इस संसार में परमात्मा ने बड़ी विचित्र सृष्टि की है | देखने में तो सभी पक्षी एक प्रकार के ही दिखते हैं , सभी मनुष्यों की आकृति एक समान ही बनाई है परमात्मा ने परंतु विचित्रता यह है कि एक समान आकृति होते हुए भी प्रत्येक प्राणी के गुण एवं स्वभाव भिन्न - भिन्न ही हैं | अपने गुण , स्वभाव एवं कर्मों से ही
23 जून 2019
11 जून 2019
*विशाल देश भारत में सनातन धर्म का उद्भव हुआ | सनातन धर्म भिन्न-भिन्न रूपों में समस्त पृथ्वीमंडल पर फैला हुआ है , इसका मुख्य कारण यह है कि सनातन धर्म के पहले कोई धर्म था ही नहीं | आज इस पृथ्वी मंडल पर जितने भी धर्म विद्यमान हैं वह सभी कहीं न कहीं से सनातन धर्म की शाखाएं हैं | सनातन धर्म इतना व्यापक
11 जून 2019
24 जून 2019
*इस धराधाम पर परमात्मा ने चौरासी लाख योनियों की रचना की , इनमें सर्वश्रेष्ठ मनुष्य हुआ | मनुष्य सर्वश्रेष्ठ यदि हुआ है तो उसका कारण उसकी बुद्धि , विवेक एवं ज्ञान ही कहा जा सकता है | अपने ज्ञान के बल पर मनुष्य आदिकाल से ही संपूर्ण धरा धाम पर शासन करता चला रहा है | संसार में मनुष्य को बलवान बनाने के
24 जून 2019
16 जून 2019
*मानव जीवन अनेक विचित्रताओं से भरा हुआ है | मनुष्य की इच्छा इतनी प्रबल होती है कि वह इस संसार में उपलब्ध समस्त ज्ञान , सम्पदायें एवं पद प्राप्त कर लेना चाहता है | अपने दृढ़ इच्छाशक्ति एवं किसी भी विषय में श्रद्धा एवं विश्वास के बल पर मनुष्य ने सब कुछ प्राप्त भी किया है | मानव जीवन में श्रद्धा एवं वि
16 जून 2019
16 जून 2019
*मानव जीवन अनेक विचित्रताओं से भरा हुआ है | मनुष्य की इच्छा इतनी प्रबल होती है कि वह इस संसार में उपलब्ध समस्त ज्ञान , सम्पदायें एवं पद प्राप्त कर लेना चाहता है | अपने दृढ़ इच्छाशक्ति एवं किसी भी विषय में श्रद्धा एवं विश्वास के बल पर मनुष्य ने सब कुछ प्राप्त भी किया है | मानव जीवन में श्रद्धा एवं वि
16 जून 2019
28 जून 2019
संसार में कर्म ही प्रधान कर्मानुसार ही मनुष्य को सुख - दुख , मृत्यु - मोक्ष आदि प्राप्त होते हैं | कर्म की प्रधानता यहाँ तक है कि जीव को अगला जन्म किस योनि में लेना है यह भी उसके कर्म ही निर्धारित करते हैं | यद्यपि सभी जीवों को अपने कर्मों का फल भोगना ही पड़ता है परंतु इन सबसे ऊपर एक परमसत्ता है द
28 जून 2019
12 जून 2019
*सनातन धर्म के आधारस्तम्भ एवं इसके प्रचारक हमारे ऋषि महर्षि मात्र तपस्वी एवं त्यागी ही न हो करके महान विचारक , मनस्वी एवं मवोवैज्ञानिक भी थे | सनातन धर्म में समय समय पर बताया गया समयानुकूल व्रत विधान यही सिद्ध करता है | विचार कीजिए कि जब ज्येष्ठ माह में सूर्य की तपन एवं उमस से आम जनमानस तप रहा होता
12 जून 2019
25 जून 2019
*आदिकाल से ही मनुष्य एवं प्रकृति का अटूट सम्बन्ध रहा है | सृष्टि के प्रारम्भ से ही मनुष्य प्रकृति की गोद में फलता - फूलती रहा है | प्रकृति ईश्वर की शक्ति का क्षेत्र है | इस धरती का आभूषण कही जाने वाली प्रकृति की महत्ता समझते हुए हमारे महापुरुषों ने इसके संरक्षण के लिए सनातन धर्म के लगभग सभी ग्रंथों
25 जून 2019
12 जून 2019
*इस धराधाम पर मनुष्य को जीवन जीने के लिए वैसे तो अनेक आवश्यक आवश्यकतायें होती हैं परंतु इन सभी आवश्यकताओं में सर्वोपरि है अन्न एवं जल | बिना अन्न के मनुष्य के जीवन की कल्पना करना व्यर्थ है और अन्न का स्रोत है जल | बिना जल के अन्न के उत्पादन के विषय में कल्पना करना वैसा ही है जैसे अर्द्धरात्रि में सू
12 जून 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x