दुराग्रही :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

17 जून 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (11 बार पढ़ा जा चुका है)

दुराग्रही :--- आचार्य अर्जुन तिवारी  - शब्द (shabd.in)

*इस संसार में ब्रह्मा जी ने अलोकिक सृष्टि की है | यदि उन्हों ने दुख बनाया तो सुख की रचना भी की है | दिन - रात , साधु - असाधु , पाप - पुण्य आदि सब कुछ इस सृष्टि में मिलेगा | मनुष्य जन्म लेकर एक ही परिवार में रहते हुए भी भिन्न विचारधाराओं का अनुगामी हो जाता है | जिस परिवार में रावण जैसा दुर्दान्त विचारधारा रखने वाले होते हैं उसी परिवार के एक कोने में विभीषण जैसा धर्मावलम्बी भी होते हैं | मनुष्य पाप और पुण्य में अपनी मानसिकता के अनुसार रत हो जाता है | पापी या पुण्यात्मा बनकर कोई पैदा नहीं होता बल्कि कर्मों के अनुसार उसे यह समाज पुण्यात्मा या पापी कहने लगता है | मनुष्य दो प्रकार से पापों में प्रवृत्त होता है, एक अनजाने में और दूसरा जानते हुए भी दुराग्रह से | अनजाने में पाप करने वाला किसी सद्गुरु के मार्गदर्शन से पापमुक्त हो जाता है | वह अपना आचरण शुद्ध बना लेता है | परंतु दुराग्रह से पापों में रत व्यक्ति को समझाया नहीं जा सकता | क्योंकि दुराग्रही व्यक्ति सत्य को जानकर भी उसे स्वीकार नहीं करता | वह अपने दुराग्रह को ही श्रेष्ठ सिद्ध करने का प्रयास करता है | ऐसा व्यक्ति समय के थपेड़े और जीवन की ठोकरें खाने के बाद ही अपनी भूल को महसूस करता है, किंतु दुर्भाग्य से तब तक बहुत देर हो चुकी होती है | द्वापरयुग के दुर्योधन को कौन भूल सकता है जिसने अपने दुराग्रह में ही भरी सभा में समझाने गये भगवान श्री कृष्ण को भी बाँधने का दुस्साहस करने पर उतारू हो जाता है | भगवान कन्हैया द्वारा माँगे गये पाँच ग्राम की बात भी वह ठुकरा देता है | भीष्म , द्रोण , विदुर आदि के नीति वचनों को भी वह नहीं मानता और परिणामस्वरूप भारत में एक विनाशकारी महाभारत की नींव पड़ी | यदि दुर्योधन अपना दुराग्रह त्याग देता तो शायद इतना विनाश न होता |* *आज समाज में लगभग प्रत्येक घर में दुराग्रही मिल जाते हैं | दुराग्रही का अर्थ हुआ कि जो तथ्यों को जानकर भी मानने को तैयार न हो और अपनी कही बात ही सिद्ध करने के लिए अनेक झूठे प्रपंचों का सहारा ले | ऐसा करने के लिए वह देवी - देवताओं , वेद - शास्त्रों में कही गयी बातों को भी झूठा ही बताने लगता है | जबकि वह जानता है कि वह स्वयं गलत है परंतु फिर भी वह अपने कहे से पीछे नहीं हटता | फिर उसे समझाने के लिए चाहे साक्षात गुरु वृहस्पति ही क्यों न आ जायं | ऐसे लोगों के लिए आचार्य चाणक्य लिखते हैं :----- "प्रसह्य मणिमुद्धरेन्मकरदंष्ट्रान्तरात् , समुद्रमपि सन्तरेत् प्रचलदुर्मिमालाकुलाम् ! भुजङ्गमपि कोपितं शिरसि पुष्पवद्धारयेत् , न तु प्रतिनिविष्टमूर्खजनचित्तमाराधयेत् !! अर्थात :- मनुष्य कठिन प्रयास करते हुए मगरमच्छ की दंतपंक्ति के बीच से मणि बाहर ला सकता है, वह उठती-गिरती लहरों से व्याप्त समुद्र को तैरकर पार कर सकता है, क्रुद्ध सर्प को फूलों की भांति सिर पर धारण कर सकता है, किंतु दुराग्रह से ग्रस्त मूर्ख व्यक्ति को अपनी बातों से संतुष्ट नहीं कर सकता है | ये दुराग्रह से ग्रसित मनुष्य सदैव संस्कृति एवं समाज / परिवार के लिए घातक ही सिद्ध होते रहे हैं और आगे भी होते रहेंगे |* *समाज के दुराग्रहियों को प्रणाम करते हुए यही कहना चाहता हूँ कि इस दुराग्रह से बाहर निकलकर देखिये यह संसार बहुत ही सुंदर है |*

अगला लेख: अवश्यमेव भोक्तव्यं कृतं कर्मं शुभा शुभम् ;- आचार्य श्री अर्जुन तिवारी जी के बोल



बहुत खूब जानकारी

!! भगवत्कृपा हि केवलम् !!

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
28 जून 2019
संसार में कर्म ही प्रधान कर्मानुसार ही मनुष्य को सुख - दुख , मृत्यु - मोक्ष आदि प्राप्त होते हैं | कर्म की प्रधानता यहाँ तक है कि जीव को अगला जन्म किस योनि में लेना है यह भी उसके कर्म ही निर्धारित करते हैं | यद्यपि सभी जीवों को अपने कर्मों का फल भोगना ही पड़ता है परंतु इन सबसे ऊपर एक परमसत्ता है द
28 जून 2019
25 जून 2019
*आदिकाल से ही मनुष्य एवं प्रकृति का अटूट सम्बन्ध रहा है | सृष्टि के प्रारम्भ से ही मनुष्य प्रकृति की गोद में फलता - फूलती रहा है | प्रकृति ईश्वर की शक्ति का क्षेत्र है | इस धरती का आभूषण कही जाने वाली प्रकृति की महत्ता समझते हुए हमारे महापुरुषों ने इसके संरक्षण के लिए सनातन धर्म के लगभग सभी ग्रंथों
25 जून 2019
24 जून 2019
*सनातन धर्म बहुत ही वृहद होते हुए असंख्य मान्यताओं को स्वयं को समेटे हुए है | सनातन धर्म में समय - समय पर अनेक देवी - देवताओं के साथ ग्रामदेवता , स्थानदेवता , ईष्टदेवता एवं कुलदेवता की पूजा आदिकाल से की जाती रही है | प्रत्येक कुल के एक विशेष आराध्य होते हैं जिन्हें कुलदेवी या कुलदेवता के नाम से जाना
24 जून 2019
11 जून 2019
*विशाल देश भारत में सनातन धर्म का उद्भव हुआ | सनातन धर्म भिन्न-भिन्न रूपों में समस्त पृथ्वीमंडल पर फैला हुआ है , इसका मुख्य कारण यह है कि सनातन धर्म के पहले कोई धर्म था ही नहीं | आज इस पृथ्वी मंडल पर जितने भी धर्म विद्यमान हैं वह सभी कहीं न कहीं से सनातन धर्म की शाखाएं हैं | सनातन धर्म इतना व्यापक
11 जून 2019
12 जून 2019
*इस धराधाम पर मनुष्य को जीवन जीने के लिए वैसे तो अनेक आवश्यक आवश्यकतायें होती हैं परंतु इन सभी आवश्यकताओं में सर्वोपरि है अन्न एवं जल | बिना अन्न के मनुष्य के जीवन की कल्पना करना व्यर्थ है और अन्न का स्रोत है जल | बिना जल के अन्न के उत्पादन के विषय में कल्पना करना वैसा ही है जैसे अर्द्धरात्रि में सू
12 जून 2019
17 जून 2019
*आदिकाल से ऋषि महर्षियों ने अपने शरीर को तपा करके एक तेज प्राप्त किया था | उस तेज के बल पर उन्होंने अनेकानेक कार्य किये जो कि मानव कल्याण के लिए उपयोगी सिद्ध हुए | सदैव से ब्राम्हण तेजस्वी माना जाता रहा है | ब्राम्हण वही तेजस्वी होता था जो शास्त्रों में बताए गए नियमानुसार नित्य त्रिकाल संध्या का अनु
17 जून 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x