दुराग्रही :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

17 जून 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (23 बार पढ़ा जा चुका है)

दुराग्रही :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*इस संसार में ब्रह्मा जी ने अलोकिक सृष्टि की है | यदि उन्हों ने दुख बनाया तो सुख की रचना भी की है | दिन - रात , साधु - असाधु , पाप - पुण्य आदि सब कुछ इस सृष्टि में मिलेगा | मनुष्य जन्म लेकर एक ही परिवार में रहते हुए भी भिन्न विचारधाराओं का अनुगामी हो जाता है | जिस परिवार में रावण जैसा दुर्दान्त विचारधारा रखने वाले होते हैं उसी परिवार के एक कोने में विभीषण जैसा धर्मावलम्बी भी होते हैं | मनुष्य पाप और पुण्य में अपनी मानसिकता के अनुसार रत हो जाता है | पापी या पुण्यात्मा बनकर कोई पैदा नहीं होता बल्कि कर्मों के अनुसार उसे यह समाज पुण्यात्मा या पापी कहने लगता है | मनुष्य दो प्रकार से पापों में प्रवृत्त होता है, एक अनजाने में और दूसरा जानते हुए भी दुराग्रह से | अनजाने में पाप करने वाला किसी सद्गुरु के मार्गदर्शन से पापमुक्त हो जाता है | वह अपना आचरण शुद्ध बना लेता है | परंतु दुराग्रह से पापों में रत व्यक्ति को समझाया नहीं जा सकता | क्योंकि दुराग्रही व्यक्ति सत्य को जानकर भी उसे स्वीकार नहीं करता | वह अपने दुराग्रह को ही श्रेष्ठ सिद्ध करने का प्रयास करता है | ऐसा व्यक्ति समय के थपेड़े और जीवन की ठोकरें खाने के बाद ही अपनी भूल को महसूस करता है, किंतु दुर्भाग्य से तब तक बहुत देर हो चुकी होती है | द्वापरयुग के दुर्योधन को कौन भूल सकता है जिसने अपने दुराग्रह में ही भरी सभा में समझाने गये भगवान श्री कृष्ण को भी बाँधने का दुस्साहस करने पर उतारू हो जाता है | भगवान कन्हैया द्वारा माँगे गये पाँच ग्राम की बात भी वह ठुकरा देता है | भीष्म , द्रोण , विदुर आदि के नीति वचनों को भी वह नहीं मानता और परिणामस्वरूप भारत में एक विनाशकारी महाभारत की नींव पड़ी | यदि दुर्योधन अपना दुराग्रह त्याग देता तो शायद इतना विनाश न होता |* *आज समाज में लगभग प्रत्येक घर में दुराग्रही मिल जाते हैं | दुराग्रही का अर्थ हुआ कि जो तथ्यों को जानकर भी मानने को तैयार न हो और अपनी कही बात ही सिद्ध करने के लिए अनेक झूठे प्रपंचों का सहारा ले | ऐसा करने के लिए वह देवी - देवताओं , वेद - शास्त्रों में कही गयी बातों को भी झूठा ही बताने लगता है | जबकि वह जानता है कि वह स्वयं गलत है परंतु फिर भी वह अपने कहे से पीछे नहीं हटता | फिर उसे समझाने के लिए चाहे साक्षात गुरु वृहस्पति ही क्यों न आ जायं | ऐसे लोगों के लिए आचार्य चाणक्य लिखते हैं :----- "प्रसह्य मणिमुद्धरेन्मकरदंष्ट्रान्तरात् , समुद्रमपि सन्तरेत् प्रचलदुर्मिमालाकुलाम् ! भुजङ्गमपि कोपितं शिरसि पुष्पवद्धारयेत् , न तु प्रतिनिविष्टमूर्खजनचित्तमाराधयेत् !! अर्थात :- मनुष्य कठिन प्रयास करते हुए मगरमच्छ की दंतपंक्ति के बीच से मणि बाहर ला सकता है, वह उठती-गिरती लहरों से व्याप्त समुद्र को तैरकर पार कर सकता है, क्रुद्ध सर्प को फूलों की भांति सिर पर धारण कर सकता है, किंतु दुराग्रह से ग्रस्त मूर्ख व्यक्ति को अपनी बातों से संतुष्ट नहीं कर सकता है | ये दुराग्रह से ग्रसित मनुष्य सदैव संस्कृति एवं समाज / परिवार के लिए घातक ही सिद्ध होते रहे हैं और आगे भी होते रहेंगे |* *समाज के दुराग्रहियों को प्रणाम करते हुए यही कहना चाहता हूँ कि इस दुराग्रह से बाहर निकलकर देखिये यह संसार बहुत ही सुंदर है |*

अगला लेख: अवश्यमेव भोक्तव्यं कृतं कर्मं शुभा शुभम् ;- आचार्य श्री अर्जुन तिवारी जी के बोल



बहुत खूब जानकारी

!! भगवत्कृपा हि केवलम् !!

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
28 जून 2019
संसार में कर्म ही प्रधान कर्मानुसार ही मनुष्य को सुख - दुख , मृत्यु - मोक्ष आदि प्राप्त होते हैं | कर्म की प्रधानता यहाँ तक है कि जीव को अगला जन्म किस योनि में लेना है यह भी उसके कर्म ही निर्धारित करते हैं | यद्यपि सभी जीवों को अपने कर्मों का फल भोगना ही पड़ता है परंतु इन सबसे ऊपर एक परमसत्ता है द
28 जून 2019
29 जून 2019
एक सच्ची पुकार - *ईश्वर की अनुकम्पा से अपने कर्मानुसार अनेकानेक योनियों में भ्रमण करते हुए जीव मानवयोनि को प्राप्त करता है | आठ - नौ महीने माँ के उदर में रहकर जीव भगवान के दर्शन करता रहता है और उनसे प्रार्थना किया करता है कि :-हे भगवन ! हमें यहाँ से निकालो मैं पृथ्वी पर पहुँचकर आपका भजन करूँगा | ई
29 जून 2019
24 जून 2019
*इस धराधाम पर परमात्मा ने चौरासी लाख योनियों की रचना की , इनमें सर्वश्रेष्ठ मनुष्य हुआ | मनुष्य सर्वश्रेष्ठ यदि हुआ है तो उसका कारण उसकी बुद्धि , विवेक एवं ज्ञान ही कहा जा सकता है | अपने ज्ञान के बल पर मनुष्य आदिकाल से ही संपूर्ण धरा धाम पर शासन करता चला रहा है | संसार में मनुष्य को बलवान बनाने के
24 जून 2019
11 जून 2019
*विशाल देश भारत में सनातन धर्म का उद्भव हुआ | सनातन धर्म भिन्न-भिन्न रूपों में समस्त पृथ्वीमंडल पर फैला हुआ है , इसका मुख्य कारण यह है कि सनातन धर्म के पहले कोई धर्म था ही नहीं | आज इस पृथ्वी मंडल पर जितने भी धर्म विद्यमान हैं वह सभी कहीं न कहीं से सनातन धर्म की शाखाएं हैं | सनातन धर्म इतना व्यापक
11 जून 2019
16 जून 2019
*मानव जीवन अनेक विचित्रताओं से भरा हुआ है | मनुष्य की इच्छा इतनी प्रबल होती है कि वह इस संसार में उपलब्ध समस्त ज्ञान , सम्पदायें एवं पद प्राप्त कर लेना चाहता है | अपने दृढ़ इच्छाशक्ति एवं किसी भी विषय में श्रद्धा एवं विश्वास के बल पर मनुष्य ने सब कुछ प्राप्त भी किया है | मानव जीवन में श्रद्धा एवं वि
16 जून 2019
17 जून 2019
*आदिकाल से ऋषि महर्षियों ने अपने शरीर को तपा करके एक तेज प्राप्त किया था | उस तेज के बल पर उन्होंने अनेकानेक कार्य किये जो कि मानव कल्याण के लिए उपयोगी सिद्ध हुए | सदैव से ब्राम्हण तेजस्वी माना जाता रहा है | ब्राम्हण वही तेजस्वी होता था जो शास्त्रों में बताए गए नियमानुसार नित्य त्रिकाल संध्या का अनु
17 जून 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x