दो आंखें बारह हाथ - सामजिक सुधार का संदेश देती फ़िल्म

28 अक्तूबर 2019   |  शिल्पा रोंघे   (508 बार पढ़ा जा चुका है)

दो आंखें बारह हाथ - सामजिक सुधार का संदेश देती फ़िल्म

इस लेख को इस लिंक पर क्लिक करके भी पढ़ सकते हैं

जेल एक ऐसी जगह, जहां इंसान अपने किए गए गुनाहों की सजा काटता है, लेकिन इस बात कि क्या गांरटी है कि वहां से बाहर आने के बाद उसे अपने किए का पछतावा हो और वो फिर अपराध ना करे और सुधर जाए। कोई किन परिस्थितियों में अपराधी बना और उसका मनोविज्ञान जानना भी बेहद ज़रुरी है ताकि समाज में अपराध होने से रोका जा सके। कुछ सालों पहले पूर्व आईपीएस अधिकारी किरण बेदी ने तिहाड़ जेल में सुधार अभियान चलाया था, उनके कठिन परिश्रम के सकारात्मक परिणाम निकले थे।

यूं तो अपराधी और कैदी ये शब्द आम लोंगो के लिए किसी खौफ से कम नहीं होते है, क्योंकि वो अपराध का शिकार होने से डरते है जो कि स्वाभाविक भी है। इन्हें सही रास्ते पर लाना और सुधार करना हर किसी के बस की बात नहीं होती है।

इसी थीम पर साल 1957 में वी शांताराम ने दो आंखे बारह हाथ नाम नाम से फिल्म बनाई।

कहा जाता है कि महाराष्ट्र की खुली जेल के हुए प्रयोग से प्रेरणा लेते हुए ये फ़िल्म बनीं थी। इस फिल्म में ना तो कोई ग्लैमर था ना ऑयटम गीत, ना ही अपराध का महिमामंडन या कोई मसालेदार कहानी। एकदम सीधी सादी पटकथा के साथ ये फिल्म बनाई गई।

ये कहानी है एक जेलर (वी शांताराम) की जो छह अपराधियों को जो कि कत्ल के आरोप में जेल में बंद है को लेकर पुराने फार्म हाउस में लेकर जाते है। इन्हें सुधारना किसी टेढ़ी खीर से कम नहीं होता है कि वो विल पॉवर के और मेहनत के दम पर इन्हें सही रास्ते पर लाने में कामयाब हो जाते है, इन कैदियों के अथक परिश्रम कारण खेत में फसलें लहलहाने लगती है।

इस फिल्म के अंत में जेलर को बैलों से मुकाबला करते हुए दिखाया गया है वो अपराधियों को सुधारने में तो कामयाब हो जाते है लेकिन ज़िंदगी की जंग हार जाते है।

एक तरह से ये फिल्म संदेश देती है कि कुछ काम मुश्किल हो सकते है लेकिन असंभव नहीं।

इस फिल्म में लता मंगेशकर का गाया हुआ गीत ए मालिक तेरे बंदे हम घर और स्कूल, कॉलेज में गाई जाने वाली प्रार्थना बन गया है। इस फ़िल्म ने संध्या पर फिल्माया गया गीत सैय्या झूठों का बड़ा सरताज निकला गीत गंभीर से विषय पर बनाई गई इस फिल्म को मनोरंज टच देता है। ये फिल्म नेशनल अवार्ड के साथ ही बर्लिन फिल्म फेस्टिवल और गोल्डन ग्लोब अवार्ड में भी अपनी छाप छोड़ चुकी है।

इमेज सोर्स-आयएमडीबी

इस लेख को नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके भी पढ़ सकते हैं।



दो आंखें बारह हाथ - सामजिक सुधार का संदेश देती फ़िल्म

http://silverscreenshilpa.blogspot.com/2019/10/blog-post_38.html

दो आंखें बारह हाथ - सामजिक सुधार का संदेश देती फ़िल्म

अगला लेख: जानिए भाग्य बड़ा या कर्म



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
19 अक्तूबर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedC
19 अक्तूबर 2019
18 अक्तूबर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:TrackFormatting> <w:PunctuationKe
18 अक्तूबर 2019
30 अक्तूबर 2019
कु
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedContent> <w:AlwaysShowPlaceh
30 अक्तूबर 2019
17 अक्तूबर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedC
17 अक्तूबर 2019
25 अक्तूबर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormattin
25 अक्तूबर 2019
25 अक्तूबर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormattin
25 अक्तूबर 2019
23 अक्तूबर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:TrackFormatting> <w:PunctuationKerning></w:PunctuationKerning> <
23 अक्तूबर 2019
03 नवम्बर 2019
चाहे बात हॉलीवुड की हो या बॉलीवुड की प्रेम कहानियांहमेशा से ही दर्शकों की प्रिय रही है। हमेशा ऐसा नहीं होता कि प्रेम कहानी नायकनायिका और खलनायक के इर्द गिर्द ही घुमती हो। कभी कभी इंसान नहीं वक्त ही खलनायकबन जाता है और आ जाता है प्रेम कहानी तीसरा कोण, जी हां आज के इस लेख म
03 नवम्बर 2019
12 नवम्बर 2019
सांप सीढ़ी सिर्फखेल नहीं,जीवन दर्शन भी है.सफलता और विफलता दुश्मन नहीं, एक दूसरे की साथी है.हर रास्ते पर सांप सा रोड़ा, कभी मंजिल के बेहद करीब आकर भी लौटना पड़ता है.कभी सिफ़र से शिखर तो कभी शिखर से सिफ़र का सफ़र तय करना पड़ता है.सफलता का कोई
12 नवम्बर 2019
23 अक्तूबर 2019
दीपावली का त्यौहार है और ऐसे में लोग खरीदारियों में लगे हुए हैं। 27 अक्टूबर यानी इस रविवार को हर कोई दिवाली का त्यौहार अपने परिवार, रिश्तेदार और दोस्तों के साथ मनाएगा। ये माहौल ही बहुत अलग होता है जब लोग जमकर शॉपिंग करते है और सबसे ज्यादा खरीददारी लोग धनतेरस वाले दिन करते हैं। 25 अक्टूबर को आप भी इल
23 अक्तूबर 2019
21 अक्तूबर 2019
कुछ समय पहले सोशल मीडिया पर एक ही नाम और एक ही धुन खूब छाई हुई थी। कोलकाता के रेलवे स्टेशन पर गाना गाकर अपना पेट भरने वाली रानू मंडल ने पिछले दिनों खूब लोकप्रियता बटोरी। सोशल मीडिया पर उन्हें काफी सहानुभूति मिली और धीरे-धीरे वे स्टेशन से बॉलीवुड तक पहुंच गई, इतना ही नहीं म्यूजिक डायरेक्टर हिमेश रेश
21 अक्तूबर 2019
18 अक्तूबर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:TrackFormatting> <w:PunctuationKe
18 अक्तूबर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x