क्या बेवजह है नागरिक संशोधन कानून का विरोध? जानिए क्या है NRC?

19 दिसम्बर 2019   |  स्नेहा दुबे   (454 बार पढ़ा जा चुका है)

क्या बेवजह है नागरिक संशोधन कानून का विरोध? जानिए क्या है NRC?

11 दिसंबर, 2019 को भारतीय संसद में CAA (नागरिक संशोधन कानून, 2019) पास किया गया, इसमें 125 मत पक्ष में रहे और 105 मत वुरुद्ध भी रहे। ये बिल पास तो हो गया और फिर इस विधेयर को 12 दिसंबर को राष्ट्रपति की मंजूरी भी मिल गई लेकिन इसके बाद देशभर में अलग-अलग जगह विरोध प्रदर्शन होने लगा। CAB, CAA और NRC लगभग-लगभग एक जैसा ही होता है बस कुछ ही अंतर के कारण इनका नाम तीन अलग-अलग तरह से लिया जाता है। NRC का फुल फॉर्म National Register of Citizens (राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर), CAB का फुल फॉर्म Citizenship Amendment Bill (नागरिक संशोधन बिल) और CAA का फुल फॉर्म Citizenship Amendment Act (नागरिकता संशोधन कानून) होता है। अब चलिए बताते हैं क्या है NRC, CAB और CAA में अंतर और क्यों हो रहा है इस बिल के पास होने पर विरोध?


क्या है एनआरसी ?| What is NRC?


what is nrc

एनआरसी यानी नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटिजंस से ये पता चलता है कि कौन भारतीय नागरिक है और कौन नहीं है। जिस व्यक्ति का सिटिजनशिप रजिस्टर में नाम नहीं होता है तो उसे नागरिक नहीं माना जा सकता। देश में असम एक ऐसा राज्य है जहां सिटिजनशिप रजिस्टर की व्यवस्था लागू हुई है। NRC को लागू करने का मुख्य उद्देश्य ये है कि राज्य में अवैध रूप से रह रहे अप्रवासियों जैसे बांग्लादेशी घुसपैठियों की पहचान करना है। इसकी पूरी प्रक्रिया सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में चलती है और इस प्रक्रिया के लिए साल 1986 में सिटिजनशिप एक्ट में संशोधन करके असम के लिए खास प्रावधान किया गया। इसके तहत रजिस्टर में उन लोगों के नाम शामिल किए गए हैं जो 25 मार्च, 1971 के पहले असम के नागरिक या उनके पूर्वज राज्य में रहा करते थे। जानकारी के लिए बता दें साल 1947 में भारत-पाकिस्तान के बंटवारे के बाद कुछ लोग असम में पूर्वी पाकिस्तान चले गए लेकिन जमीन असम में थी और लोगों का दोनों ओर से आना जाना बंटवारे के बाद भी जारी था


इसके बाद साल 1951 में पहली बार एनआरसी के डाटा को अपडेट किया गया था। इसके बाद भी भारत में घुसपैठ लगातार होती रही। असम में साल 1971 में बांग्लादेश बनने के बाद भारी संख्या में शरणार्थियों का पहुंचना जारी रहा और फिर राज्य की आबादी का स्वरूप ही बदलने लगा। अमित शाह ने 20 नवंबर को सदन में बताया कि उनकी सरकार दो अलग-अलग नागरिकता संबंधित पहलुओं को लागू करने जा रही है। एक सीएए और दूसरा देश में नागरिकों की गिनती जिसे राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर या एनआरससी के नाम से जाना जाता है। नागरिकता संशोधन कानून बनाने के बाद अब मोदी सरकार को बहुत कुछ झेलना पड़ रहा लेकिन उनका दावा है कि इससे किसी भी धर्म के लोगों को कोई परेशानी नहीं होगी। साल 2005 में कांग्रेस सरकार ने एनआरसी पर काम करना शुरु किया था और साल 2015 में सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों पर इस काम में तेजी आई। इसके बाद असम में नागरिकों के सत्यापन के काम शुरु हुए जिसके लिए एनआरसी केंद्र भी कोले गए। असम का नागरिक होने के लिए वहां के लोगों को डॉक्यूमेंट्स जमा करने थे। जब ये सभी प्रक्रिया पूरी हुए तो अमित शाह ने इसे संसद में पेश किया और 11 दिसंबर को एनआरसी बिल पास कर दिया गया।


क्या है नागरिक संशोधन बिल 2019?| What is Cab ?


what is nrc

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने 18 दिसंबर को बताया कि नागरिकता संशोधन मुसलमानों को नुकसान नहीं पहुंचाएगा। अगर देश का विभाजन धर्म के आधार पर नहीं हुआ होता तो इस बिल को बनाने की जरूरत ही नहीं पड़ती। इस विधेयक को लेकर देश के कुछ हिस्सों में विरोध प्रदर्शन हुए और असम में विरोध प्रदर्शन में आगजनी व तोड़-फोड़ भी हुई। इसके बाद वहां पर 10 जिलों के इंटरनेट 24 घंटं के लिए बंद कर दिए गए थे। जो बिल संसद में पास हुआ वो नागकितता के अधिनियम 1955 में बदलाव करने के लिए है। इसके अंतर्गत बांग्लादेश, पाकिस्तान और अफगानिस्तान सहित आस-पास के देशों में भारत से आने वाले हिंदू, सिख, बौद्ध, जैन और पारसी धर्म वाले लोगों को ही नागरिकता दी जाएगी। इसके लिए उन लोगों को भारत में कम से कम 6 साल बिताने होंगे, इसके पहले इसके लिए 11 साल की अवधि निर्धारित थी। इस बिल को लेकर विपक्ष दल के लोगों ने वर्तमान केंद्र सरकार को घेर लिया है और नए संशोधन बिल में मुस्लिमों को छोड़कर सभी धर्मों के लोगों को आसानी से नागरिकता देने की बात कही गई है। विपक्ष ने इसी बात का फायदा उठाया और मोदी सरकार के इस फैसले को धर्म के आधार पर वर्ग बांटने का आरोप लगाया है। जानिए कैब से जुड़ी अन्य बातें..

1. नागरिकता संशोधन बिल के अंतर्गत पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान के अल्पसंख्यकों को भारत में नागरिकता मिलेगी।

2. इस बिल के अंतर्गत कोई भी हिंदू, जैन, बौद्ध, सिख, पारसी और ईसाई समुदाय के शरणार्थियों को भारत की नागरिकता देने के नियमों में ढील देने की बात कही गई है।

3. इन अल्पसख्यक लोगों को नागरिकता उसी सूरत में मिलेगी अगर इन तीनों देशों में किसी अल्पसंख्यकों का धार्मिक आधार पर उत्पीड़न हो रहा हो लेकिन धार्मि आधार नहीं है तो उन्हें इस नागरिकता कानून के दायरे में नहीं होगा।

4. मुस्लिम धर्म के लोगों को इस कानून की नागरिकता नहीं दी जाएगी क्योंकि इन तीनों ही देशों में मुस्लिम अल्पसंख्यक नहीं है। मुस्लिमों को इसमें शामिल ना करने के पीछे मोदी सरकार ने ये सोचा कि इन तीनों देशों में मुस्लिमों को कोई परेशानी नहीं है और उन्हें धर्म के कारण उत्पीड़न नहीं सहना पड़ता है।

5. इस बिल के तहत किसी अल्पसंख्यक को भारत की नागरिकता पाने के लिए कम से कम 6 सालों तक रहना होगा जबकि पुराने कानून Citizenship Act 1955 के अंतर्गत इसकी अवधि 11 साल थी।

6. नागरिकता संशोधन कानून के अंतर्गत बांग्लादेश, पाकिस्तान, अफगानिस्तान से 31 दिसंबर, 2014 से पबले भारत आने वाले हिंदू, सिख, बौद्ध, जैन, पारसी और ईसाइयों को नागरिकता प्रदान करने का प्रावधान है।


क्या है नागरिक संशोधन कानून 2019? | What is CAA?


what is nrc

नागरिक संशोधन बिल (Citizenship Amendment Bill) पास होने के बाद नागरिक संशोधन कानून (Citizenship Amendment Act) बन गया। CAB यानी नागरिक संशोधन बिल के सांसद में पास होने के बाद जब राष्ट्रपति की मुहर लगी तो ये बिल बाद में कानून यानी CAA नागरिक संशोधन एक्ट बन गया। सीएए के पारित होने के साथ ही उत्तर-पूर्व, पश्चिम बंगाल और नई दिल्ली सहित पूरे देश में इसका विरोध प्रदर्शन शुरु हुआ। छात्र, नेता और इनका साथ देने वाले कुछ अन्य लोगों के ऊपर हिंसा भड़काने का आरोप है। इस संशोधन बिल आने से पहले तक भारतीय नागरिकता पाने के लिए भारत में उस शख्स को कम से कम 11 सालों तक रहना पड़ता था। नए बिल में इसकी सीमा को घटाकर 6 साल कर दिया गया है। विरोध करने में ज्यादातर लोगों का मानना है या तो इस बिल में मुस्लिम को शामिल करें नहीं तो सरकार इस बिल को वापस लेकर कानून को खत्म कर दे।


नागरिक संशोधन बिल बनाम नेशनल रजिस्टर सिटिजन (CAB vs NRC)


नागरिक संशोधन बिल के सामने आने के बाद से हर किसी में अपनी अपनी बातें रखने के कारण बहस हो रही है। कुछ लोगों का कहना है कि एनआरसी का उल्टा है तो ममता बनर्जी जैसे लोगों का कहना है कि इसे लाया ही इसलिए गया है जिससे एनआरसी को लागू करना आसान हो जाए। ये दोनों एक ही सिक्के के दो पहलू हैं अब सवाल ये है कि आखिर दोनों में अंतर क्या है जिसके ऊपर बवाल मचाया गया है। नागरिकता संशोधन कानून में एक विदेशी नागरिक को भारत की नागरिकता देने का प्रावधान है, लेकिन एनआसरी में उन लोगों की पहचान करना है जो भारत के नागरिक नहीं है लेकिन यहां रह रहे हैं। सीएबी के अंतर्गत 31 दिसंबर, 2014 से पहले भारत आए हिंदू, सिख, ईसाई, बौद्ध, जैन और पारसी लोगों को नागरिकता देने के नियमों में ढील दी गई है, जबकि एनआरसी के अंतर्गत 25 मार्च, 1971 से पहले भारत में हो रहे लोगों को भारत की नागरिकता देने का प्रावधान बताया गया है।


भले ही लोग नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में सड़कों पर उतर आए हैं लेकिन असल में वे विरोध एनआरसी का कर रहे हैं। प्रदर्शन करने वाले लोगों का कहना है कि नागरिक संशोधन कानून में मुस्लिमों को शामिल क्यों नहीं किया गया? उनका ये भी आरोप है कि ये सरकार मुस्लिमों की नागरिकता छीनना चाहती है और ऐसा भी कहा जा रहा है कि मोदी सरकार एनआरसी से बाहर हुए हिंदुओं और दूसरे धर्मों के लोगों को नागरिकता संशोधन कानून के अंतर्गत देगी जबकि मुस्लिमों को बाहर निकाल दिया जाएगा।

अगला लेख: जरा हटके: बारात आने में हुई देरी तो दुल्हन ने दूसरा पटा लिया, ऐसी है दिलचस्प कहानी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
11 दिसम्बर 2019
पिछले कुछ महीनों से सोशल मीडिया पर रानू मंडल का नाम खूब चर्चित रहा है। रानू मंडल को फिल्मों में गाने के लिए मुंबई बुलाया गया था लेकिन वे गानों से ज्यादा सोशल मीडिया पर किसी ना किसी वीडियो या मीम्स के जरिए छाई रहती हैं। रानू मंडल के ऊपर एक के बाद एक मीम्स या विवाद हो ही रहे हैं यहां तक उनके ऊपर ये भी
11 दिसम्बर 2019
05 दिसम्बर 2019
भारत में एक से बढ़कर एक अजीबोगरीब घटनाएं होती हैं और ऐसे में खबरें आना बंद नहीं होती हैं। कुछ ऐसा ही हुआ जब पति-पत्नी के बीच जमकर झगड़ा हुआ और पत्नि ने पति के ऊपर थूक दिया। इसका बदला लेने के इरादे से पति ने उसके साथ ऐसा सुलूप किया ये आपको हैरान कर सकता है। मध्य प्रदेश के इंदौर की इस घटना को हर तरफ फ
05 दिसम्बर 2019
05 दिसम्बर 2019
भारत में एक से बढ़कर एक अजीबोगरीब घटनाएं होती हैं और ऐसे में खबरें आना बंद नहीं होती हैं। कुछ ऐसा ही हुआ जब पति-पत्नी के बीच जमकर झगड़ा हुआ और पत्नि ने पति के ऊपर थूक दिया। इसका बदला लेने के इरादे से पति ने उसके साथ ऐसा सुलूप किया ये आपको हैरान कर सकता है। मध्य प्रदेश के इंदौर की इस घटना को हर तरफ फ
05 दिसम्बर 2019
04 दिसम्बर 2019
हैदराबाद के गैंगरेप से पूरा देश हिल गया है और हर कोई आरोपियों के लिए फांसी की सजा की मांग कर रहा है। हर किसी की अपनी-अपनी प्रतिक्रिया दी है और सभी का एक ही नारा है कि आरोपियों को सख्त सजा दी जाए वो भी बहुत जल्दी। तेलंगाना के मुख्यमंत्री ने भी आदेश दिया है कि इस केस को फास्ट ट्रैक कोर्ट में सॉल्व करन
04 दिसम्बर 2019
05 दिसम्बर 2019
हैदराबाद में रेप की घटना के साथ ही एक और खबर सामने आई जो नित्यानंद को लेकर थी। रेप आरोपी बाबा नित्यानंद जिसका असली नाम जनार्दन शर्मा है जो सुरक्षा एजेंसी को चकमा देकर देश छोड़कर भाग गया है। ऐसी खबरें आ रही हैं कि नित्यानंद ने अपना देश बनाया है जिसका नाम कैलासा है और यहां का अपना पासपोर्ट है, अपना झं
05 दिसम्बर 2019
10 दिसम्बर 2019
देश में रेप और उसके बाद हत्या की घटना ज्यादा ही बढ़ने लगी है। हर लड़की एक डर के साए में जी रही है और सरकार से एक ही सवाल कर रही है कि क्या वे भारत में सेफ हैं। पहले दिल्ली वाले निर्भया केस और अब हैदराबाद जैसा केस सामने आया जिसके बाद देश में एक आक्रोश आ गया है। सभी एक ही सवाल कर रहे है कि उन्हें सजा
10 दिसम्बर 2019
13 दिसम्बर 2019
हैदराबाद गैंगरेप के बाद जब आरोपियों की एनकाउंटर में मार गिराया गया तो लोगों में निर्भया रेप केस में पाए गए दोषियों को भी फांसी देने की मांग तेज होने लगी। फिर खबरें आईं कि अब जल्द ही इन्हें फांसी दी जाएगी और एक दूसरी खबर साथ ही आई कि 16 दिसंबर के दिन ही निर्भया को इंसाफ मिलेगा क्योंकि इसी दिन उन लोगो
13 दिसम्बर 2019
04 दिसम्बर 2019
भारतीय रेलवे एक के बाद एक योजनाएं अपने यात्रियों के लिए निकालती जा रही है, कुछ दिन पहले ही जनरल डिब्बों पर भी आरक्षित सीटों की खबरों से आम जनता खुश हो गई थी। अब नॉर्थ में रहने वालों को आसानी से साउथ में घूमने को भी मिल जाएगा। भारतीय रेलवे ने एक ऐसी ट्रेन चलाई है जो कटरा से चलकर कई राज्यों को पार करत
04 दिसम्बर 2019
13 दिसम्बर 2019
अगर आप मिडिल क्लास फैमिली से हैं तो जब घर में कोई सामान या कपड़े लेने की बातें होती हैं तो एक बात अक्सर सुनने को मिलती है। वो ये कि ये सामान जहां से आपने लिया है वो इस जगह से लेती तो आपको 100-200 रुपये कम में ही मिल जाता। ज्यादातर लोग यही सोचते हैं कि सामान कहां से लें कि सस्ता मिल जाए लेकिन सही जान
13 दिसम्बर 2019
13 दिसम्बर 2019
अगर आप मिडिल क्लास फैमिली से हैं तो जब घर में कोई सामान या कपड़े लेने की बातें होती हैं तो एक बात अक्सर सुनने को मिलती है। वो ये कि ये सामान जहां से आपने लिया है वो इस जगह से लेती तो आपको 100-200 रुपये कम में ही मिल जाता। ज्यादातर लोग यही सोचते हैं कि सामान कहां से लें कि सस्ता मिल जाए लेकिन सही जान
13 दिसम्बर 2019
17 दिसम्बर 2019
आज का समय ऐसा आ गया है जब हर चीज ऑनलाइन हो गया है और हर छोटी बड़ी चीजें ऑनलाइन मिलने लगी हैं। फिर वो कैसी भी चीजें हों और उन्हें आप कई दूसरी शॉपिंग एप पर पा सकते हैं लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि गांव-घर में मिलने वाला गोबर का गोएठा जिसे आम भाषा में लोग कंडा कहते हैं उसे अब सिर्फ भारत के गांवों में
17 दिसम्बर 2019
06 दिसम्बर 2019
भारत और पाकिस्तान के बीच दुश्मनी दशकों से चली आ रही है और अगर किसी ने यहां के क्रिकेटर्स के बारे में कोई खबर सुनी होती है तो भारतीय लोगों को हंसी ही आती है क्योंकि यहां पर पाकिस्तानी क्रिकेटर्स की खिल्ली ही उड़ाई जाती है। मगर पाकिस्तान के कुछ ऐसे भी खिलाड़ी हैं जिन्होंने पूरी दुनिया का दिल जीता है औ
06 दिसम्बर 2019
11 दिसम्बर 2019
हर इंसान के जीवन में शादी बहुत अहम फैसला होती है तभी इसे करने से पहले लोग बहुत सोचते हैं क्योंकि इंसान अपने जीवन में शादी एक बार ही करता है। अगर ये शादी हमेशा चल गई और इंसान खुशी के साथ इसे बिताने लगे तो बस उसकी सारी परेशानी दूर हो जाती है लेकिन अगर ऐसा नहीं हो पाता तो हमेशा के लिए उन्हें भोगना पड़त
11 दिसम्बर 2019
21 दिसम्बर 2019
गु
कविता गुनगुनाहट क्या तुम्हारी रगों में अपने भारत की मिट्टी से सुगंधित रक्त नहीं बहता ,क्या यहां के खेतों में उगा सोना तुम्हारे सौंदर्य में व्रद्धि नहीं करता ,क्या यहां की नदियां , झरने और दूर - दूर तक फैले हरे - भरे मैदान तुम्हारे अन्दर के संगीत का कारण नहीं बनते ,क्या उंचे - उंचे पेड़ों से सज्जित ह
21 दिसम्बर 2019
04 दिसम्बर 2019
हैदराबाद के गैंगरेप से पूरा देश हिल गया है और हर कोई आरोपियों के लिए फांसी की सजा की मांग कर रहा है। हर किसी की अपनी-अपनी प्रतिक्रिया दी है और सभी का एक ही नारा है कि आरोपियों को सख्त सजा दी जाए वो भी बहुत जल्दी। तेलंगाना के मुख्यमंत्री ने भी आदेश दिया है कि इस केस को फास्ट ट्रैक कोर्ट में सॉल्व करन
04 दिसम्बर 2019
05 दिसम्बर 2019
शादियों का मौसम चल रहा है और ऐसे में सभी को आने वाली दावतों का इंतजार है। मगर इस दावत के आने से पहले शादी का कार्ड घर आता है जिसमें शादी से जुड़ी सभी जानकारियां होती हैं लेकिन एक ऐसा शादी का कार्ड को सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है। इसमें जो कुछ भी लिखा है वो बिल्कुल अलग है और इसे देखकर आपको भी ह
05 दिसम्बर 2019
05 दिसम्बर 2019
हैदराबाद में रेप की घटना के साथ ही एक और खबर सामने आई जो नित्यानंद को लेकर थी। रेप आरोपी बाबा नित्यानंद जिसका असली नाम जनार्दन शर्मा है जो सुरक्षा एजेंसी को चकमा देकर देश छोड़कर भाग गया है। ऐसी खबरें आ रही हैं कि नित्यानंद ने अपना देश बनाया है जिसका नाम कैलासा है और यहां का अपना पासपोर्ट है, अपना झं
05 दिसम्बर 2019
04 दिसम्बर 2019
भारतीय रेलवे एक के बाद एक योजनाएं अपने यात्रियों के लिए निकालती जा रही है, कुछ दिन पहले ही जनरल डिब्बों पर भी आरक्षित सीटों की खबरों से आम जनता खुश हो गई थी। अब नॉर्थ में रहने वालों को आसानी से साउथ में घूमने को भी मिल जाएगा। भारतीय रेलवे ने एक ऐसी ट्रेन चलाई है जो कटरा से चलकर कई राज्यों को पार करत
04 दिसम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x