हिंदी साहित्य के धरोहर "मुंशी प्रेमचंद"

01 अगस्त 2020   |  अशोक सिंह   (275 बार पढ़ा जा चुका है)

हिंदी साहित्य के धरोहर "मुंशी प्रेमचंद"


जनमानस का लेखक, उपन्यासों का सम्राट और कलम का सिपाही बनना सबके बस की बात नहीं है। यह कारनामा सिर्फ मुंशी प्रेमचंद जी ने ही कर दिखाया। सादा जीवन उच्च विचार से ओतप्रोत ऐसा साहित्यकार जो साहित्य और ग्रामीण भारत की समस्याओं के ज्यादा करीब रहा। जबकि उस समय भी लिखने के लिए लोग अलग-अलग विषय क्षेत्र और मुद्दे का चयन करते थे पर हमारे जन लेखक के रग-रग में किसान भाइयों की समस्याएँ और गाँवों में रहने वालों की समस्याएँ समायी हुई थी। बेशक इससे यदि परे हटकर भी कुछ करने का प्रयास किया तो सामाजिक विसंगतियों को लेकर जिसमें आर्थिक विषमता, दहेजप्रथा, बेमेल विवाह, बालविवाह, मनुष्य के दोहरे चरित्र, खोखली मान प्रतिष्ठा, ढोंग आडंबर, अंधविश्वास, दलितों का शोषण और छुआछूत जैसी समस्याओं पर लेखनी के माध्यम से आवाज को बुलंद किया। जो कार्य तलवार नहीं कर पाई उस कार्य को कलम के माध्यम से प्रशस्त करने में मुंशी जी माहिर थे और बखूबी उस कार्य को अंजाम भी दिया। लेखक व साहित्यकार कभी मरते नहीं हैं, उनके विचार और साहित्य हमेशा उन्हें हमारे बीच जीवित रखते हैं। ठीक उसी तरह मुंशी प्रेमचंदजी भी अपनी रचनाओं के माध्यम से हमारे बीच आज भी जीवित हैं।

हिंदी के महान साहित्यकार मुंशी प्रेमचंदजी की पुस्तकों और कहानियों से हमारा बचपन से ही सामना होता रहा है। उनकी कहानियों ने लाखों-करोड़ों लोगों के दिमाग पर अमिट छाप छोड़ी है और आज भी उन्हें भारत के सबसे महत्वपूर्ण और महान लेखक के तौर पर शुमार किया जाता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि कलम के जादूगर प्रेमचंद सिर्फ कहानियां ही नहीं लिखते थे बल्कि वे उपन्यास और नाटक भी लिखे हैं। इतना ही नहीं एक फिल्म की स्क्रिप्ट भी लिख चुके हैं। जी हाँ, साल 1934 में रिलीज हुई इस फिल्म का नाम मिल मजदूर था।


प्रेमचंद के उपनाम से लिखने वाले धनपत राय श्रीवास्तव हिन्दी और उर्दू के महानतम भारतीय लेखकों में से एक हैं। उन्हें मुंशी प्रेमचंद व नवाब राय नाम से भी जाना जाता है और उपन्यास सम्राट की उपाधि भी उन्हें दी गई है।

मुंशी प्रेमचंदजी का जन्म 31 जुलाई 1880 को वाराणसी के निकट लमही गांव में हुआ था। उनकी माता का नाम आनंदी देवी था तथा पिता मुंशी अजायबराय लमही में डाकमुंशी थे। उनकी शिक्षा का आरंभ उर्दू,फारसी से हुआ था। पढ़ने का शौक उन्‍हें बचपन से ही लग गया था। 13 साल की उम्र में ही उन्‍होंने 'तिलिस्मे होशरूबा' पढ़ लिया था और उन्होंने उर्दू के मशहूर रचनाकार रतननाथ 'शरसार',मिरजा रुसबा और मौलाना शरर के उपन्‍यासों से परिचय प्राप्‍त कर लिया था।

1898 में मैट्रिक की परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद वे एक स्थानीय विद्यालय में शिक्षक पद पर नियुक्त हो गए थे।। नौकरी के साथ ही उन्होंने पढ़ाई जारी रखी 1910 में उन्‍होंने अंग्रेजी, दर्शन, फारसी और इतिहास लेकर इंटर पास किया और 1919 में बी.ए.पास करने के बाद शिक्षा विभाग के इंस्पेक्टर पद पर नियुक्त हुए थे।

सात वर्ष की अवस्था में उनकी माता तथा चौदह वर्ष की अवस्था में पिता का देहांत हो जाने के कारण उनका प्रारंभिक जीवन संघर्षमय था। उनका पहला विवाह पंद्रह साल की उम्र में ही हो गया था जो सफल नहीं हुआ। उन्होंने 1906 में दूसरा विवाह अपनी प्रगतिशील परंपरा के अनुरूप बाल-विधवा शिवरानी देवी से किया। जिनसे उनकी तीन संतानें हुईं- श्रीपत राय,अमृत राय और कमला देवी ।


मुंशी प्रेमचंद जी की रचनाएँ भारत के सर्वाधिक विशाल और विस्तृत वर्ग की रचनाएँ हैं। उन्होंने कुल 15 उपन्यास, 300 से अधिक कहानियां, 3 नाटक, 10 अनुवाद, 7 बाल-पुस्तकें तथा हज़ारों पृष्ठों के लेख, सम्पादकीय, भाषण, भूमिका, पत्र आदि की रचना किए। जिस युग में प्रेमचंद ने कलम उठाई थी, उस समय उनके पीछे ऐसी कोई ठोस विरासत नहीं थी और न ही विचार था। फिर भी प्रेमचंद जी ने गोदान जैसी रचना के रूप में अपनी छाप छोड़ी। उन्होंने एक से बढ़कर एक रचनाएँ लिखी और हिंदी साहित्य को समृद्ध कर दिया। तब से लेकर आज तक हिन्दी साहित्य में ना ही उनके जैसा कोई हुआ है और ना ही कोई और होगा। उन्होंने जीवन के अंतिम दिनों के एक वर्ष पहले तक पत्र-पत्रिकाओं का संपादन किया और अपना साहित्य-सृजन करते रहे। 8 अक्टूबर, 1936 को जलोदर रोग से उनका देहावसान हुआ। बेशक जो भी इस दुनिया में आया है उसे जाना ही है वैसे ही वे भी चले गए पर जाने से पहले वे हिंदी साहित्य को संपन्न कर गए। हिंदी साहित्य में उनका नाम सदैव अमर रहेगा और समग्र लेखक समाज उनके प्रति सदैव कृतज्ञ रहेगा।

मुंशी प्रेमचंद जी आज भी स्मरणीय हैं और कल भी रहेंगें…..।


➖ प्रा. अशोक सिंह

अगला लेख: कोरोना महामारी और बकरीद पर्व



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
22 जुलाई 2020
कर्म करते जाओ फल की चिंता मत करो….हम अपने आस - पास अक्सर लोंगों को बोलते हुए सुनते हैं, हर कोई आध्यात्मिक अंदाज में संदेश देते रहता है - 'कर्म करते जाओ फल की चिंता मत करो…...।' वस्तुतः ठीक भी है। एक विचार यह है कि फल की चिंता कर्म करने से पहले करना कितना उचित है अर्थात निस्वार्थ भाव से कर्म को बखूब
22 जुलाई 2020
01 अगस्त 2020
तनाव मुक्त जीवन ही श्रेष्ठ है……आए दिन हमें लोंगों की शिकायतें सुनने को मिलती है….... लोग प्रायः दुःखी होते हैं। वे उन चीजों के लिए दुःखी होते हैं जो कभी उनकी थी ही नहीं या यूँ कहें कि जिस पर उसका अधिकार नहीं है, जो उसके वश में नहीं है। कहने का मतलब यह है कि मनुष्य की आवश्यकतायें असीम हैं….… क्योंकि
01 अगस्त 2020
28 जुलाई 2020
को
कोरोना देव की कृपाजीवन का नाहीं कौनों ठिकानामरै के चाहिय बस कौनों बहाना बुढ़न ठेलन का बाटै आना जानाजवनकेउ का नाहीं बाटै ठिकानारोग ब्याधि का बाटै ताना बानाफैलल बा भाई वायरस कोरोनाझटके पटके में होला रोना धोनाकितना मरि गयेन बिना कोरोनामेहर माई बाप के बाटै भाई रोनाअस्पताल वाले पैसा लूटत बानाभागल भागल बीर
28 जुलाई 2020
17 जुलाई 2020
"सत्याग्रही हिंदी और विकास "हिंदी बढती लो बिंदी चढती और हमें सिखाती |समूह बना बोलियाँ मिलाती औ बाजार बढ़ाती ||हिंदी पर बात हो, भाषा पर विचार हो ऐसे में बाल गंगाधर तिलक को कौन भूल सकता है | उनहोंने कहा है कि-'मैं उन लोगों में से हूँ जिनका विचार है और जो चाहते हैं कि हिंदी ही राष्ट्र भाषा हो सकती है
17 जुलाई 2020
18 जुलाई 2020
ये वो काल है जो लोगों को उसकी वास्तविकता से अवगत कराया है ! कल्पना की उड़ान बहुत ऊँची होती है और ये इतनी ऊँची होती है कि लोगों का सोच उसी मनोदशा में जीना सीख लेती है ! जब कभी कल्पनाओं का आसमान उनके ऊपर से हट जाता है तो वो वास्तविकता को ढूंढने लग जाते
18 जुलाई 2020
29 जुलाई 2020
बप्पा को लाना हमारी जिम्मेदारी है...अबकी बरस तो कोरोना महामारी हैउत्सव मनाना तो हमारी लाचारी हैरस्में निभाना तो हमारी वफादारी हैबप्पा को लाना तो हमारी जिम्मेदारी है।अबकी बरस हम बप्पा को भी लायेंगेंसादगी से हम सब उत्सव भी मनायेंगेंसामाजिक दूरियाँ हम सब अपनायेंगेंमास्क सेनिटाइजर प्रयोग में लायेंगें।दू
29 जुलाई 2020
01 अगस्त 2020
आत्माराम उसके घर का रास्ता बनारस की जिस प्रमुख मंडी से होकर गुजरता था। वहाँ यदि जेब में पैसे हों तो गल्ला-दूध , घी-तेल, फल-सब्जी, मेवा-मिष्ठान सभी खाद्य सामग्रियाँ उपलब्ध थीं।लेकिन, इन्हीं बड़ी-बड़ी दुकानों के मध्य यदि उसकी निगाहें किसी ओर उठती,तो वह सड़क के नुक्कड़ पर स्थित विश्वनाथ साव की कचौड़
01 अगस्त 2020
30 जुलाई 2020
क्
क्या कहेंगें आप...?हम सभी जानते हैं कि प्रकृति परिवर्तनशील है। अनिश्चितता ही निश्चित, अटल सत्य और शाश्वत है बाकी सब मिथ्या है। बिल्कुल सच है, हमें यही बताया जाता है हमनें आजतक यही सीखा है। तो मानव जीवन का परिवर्तनशील होना सहज और लाज़मी है। जीवन प्रकृति से अछूता कैसे रह सकता है…? जीवन भी परिवर्तनशील ह
30 जुलाई 2020
24 जुलाई 2020
को
पिछले चार महीनें से कोरोना वायरस का प्रकोप चारो ओर फैला हुआ है। कोरोना महामारी के कारण लोंगों का जीना मुहाल है। ऐसे में मुसलमान भाइयों के बकरीद पर्व का आगमन हो रहा है। पूरा विश्व आज कोरोना से त्राहि त्राहि कर रहा है तो ऐसे में बकरीद का पर्व इससे अछूता कैसे रह सकता है। कोरोना के चलते विश्वव्यापी मंदी
24 जुलाई 2020
08 अगस्त 2020
वक्त अच्छा हो तो….कोरोना काल में अंतर्मन ने पूछा -इस दुनिया में तुम्हारा अपना कौन है..?सवाल सुनते हीएक विचार मन में कौंधामाँ-बाप, भाई-बहन, पत्नी…बेटा - बेटी या फिर मित्र..किसे कहूँ अपना..?यदि वक़्त अच्छा हो तोजो अदृश्य हैसर्वशक्तिमान हैसर्वव्यापी हैवो भी अपना है तब सब कुछ ठीक है।वक़्त अच्छा हो तोमाँ-ब
08 अगस्त 2020
13 जुलाई 2020
अपनी भूलों से घबराएँ नहीं, उनसे शिक्षालेंहमारे पास किसी समस्या से त्रस्त होकर कंसल्टेशन के लिए जो लोग आते हैं तोकई बार वे प्रश्न कर बैठते हैं कि डॉ पूर्णिमा, हमने तो जीवन में कभी कोईभूल नहीं की – कभी कोई अपराध नहीं किया – फिर हमारे साथ ऐसा क्यों हो रहा है ? कलभी कुछ ऐसा ही हुआ | किन्हीं सज्जन से फोन
13 जुलाई 2020
19 जुलाई 2020
हि
नई पाठ्यपुस्तक युवकभारती और बारहवीं के छात्रहालही में जहाँ एकतरफ पूरा विश्व कोरोना महामारी अर्थात कोविड-19 से त्रस्त है वहीं महाराष्ट्र राज्य माध्यमिक व उच्च माध्यमिक मंडल पुणे द्वारा बारहवीं कक्षा के लिए हिंदी विषय के पाठ्यक्रम में नई पाठ्यपुस्तक हिंदी युवक भारती प्रकाशित की गई है। ऐसे जटिल समय मे
19 जुलाई 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x