सोनार बांग्ला देश .स्वर्ण जयंती समारोह

27 मार्च 2021   |  शोभा भारद्वाज   (447 बार पढ़ा जा चुका है)

सोनार बांग्ला देश .स्वर्ण जयंती समारोह

सोनार बांग्ला देश ‘स्वर्ण जयंती समारोह’

डॉ शोभा भारद्वाज

ईरान में प्रवास के दौरान बंगलादेशी डाक्टर अनीस इनके मित्र अक्सर हमारे घर आते थे उनका बचपन पाकिस्तान में बीता था वहाँ उनके पिता सरकारी अधिकारी थे. डॉ अनीस बहुत अच्छी उर्दू बोलते थे हमारे परिवार से प्रेम का कारण भी भाषा थी वैसे विदेशों में हम राजनीतिक चर्चाये करने से बचते हैं एक दिन अपने बांग्लादेश का वर्णन करते- करते वह उत्तेजित हो गये जब बटवारा हुआ था अखंड भारत में सात पाकिस्तान बनने चाहिए थे हैरानी हुई . पश्चिमी पाकिस्तान एवं पूर्वी पाकिस्तान अब बंगलादेश हैं दोनों मुस्लिम बाहुल्य देश थे दोनों की दूरी 1600 किलोमीटर हैं .जब भारत का बटवारा हुआ था कलकत्ता बचाने के लिए लाहौर पश्चिमी पाकिस्तान को दिया गया था .

मैने पूछा क्या आप जानते है भारत के गवर्नर जनरल माउंटबेटन ने कहा था 24 वर्षों के अंदर पश्चिमी पाकिस्तान से पूर्वी पाकिस्तान अलग हो जाएगा अब आप गिन लीजिये कितने वर्ष बाद पकिस्तान से अलग बांग्ला देश स्वतंत्र देश बन गया .मौलाना आजाद ने भी कहा था पूर्वी पाकिस्तान अलग देश बन जाएगा कारण अलग भाषा एवं संस्कृति है .कायदे आजम जिन्ना की भूल उन्होंने पाकिस्तान निर्माण के बाद घोषणा की थी पाकिस्तान की भाषा उर्दू होगी पाकिस्तान में पंजाबी , पश्तो ,बिलोची ,सिन्धी बंगला भाषाएँ बोली जाती हैं लेकिन लिखने की लिपि उर्दू है शिक्षा का माध्यम उर्दू है हमारे यहाँ भारतीय संविधान की आठवीं अनुसूची में 22 भारतीय भाषाओं को शामिल किया गया है राष्ट्रीय एकता के लिए हिंदी को जबरदस्ती थोपी नहीं गयी अंग्रेजी प्रचलित है .बांग्ला भाषा एवं सांस्कृतिक प्रेम ने अलग बांग्लादेश देश की मांग ने जोर पकड़ा था .

26 मार्च 1971 को बांग्लादेश की स्वतंत्रता की घोषणा की गई है और मुक्ति युद्ध शुरू हो गया था 30 लाख लोग मारे गये बुद्धिजीवियों को चुन –चुन कर मारा किशोरियों से लेकर प्रोढ़ महिलाओं की अस्मिता भी सुरक्षित नहीं थी. बांग्ला जनता में अलग देश की मांग जोर पकड़ती गयी दमन चक्र बढ़ता गया भारतीय जल,थल,बायू सेना ने मुक्ति वाहिनी का साथ दिया था .भारत का हर विपक्षी दल प्रधान मंत्री स्वर्गीय इंदिराजी के साथ खड़ा था पूरे भारत में पूर्वी पाकिस्तान में पाकिस्तानी सेना द्वारा मचाई गयी मारकाट का क्षोभ था .

हाँ सात पाकिस्तान का गणित समझ नहीं आया डॉ अनीस ने भारत के वह हिस्से गिना दिए जहाँ मुस्लिम अधिक संख्या में रहते हैं उन्होंने पश्चिमी पाकिस्तान से एक गलियारा बना दिया जो रामपुर तक है .मैने कहा अनीस भाई बचपन में आपको पाकिस्तान में क्या पढ़ाया गया आप जाने आज भी भारत से गये मुस्लिम को मुहाजर कहा जाता है पंजाब में केवल पंजाबी भाषी को स्थान दिया गया है . 3 जून1947 के प्लान के अनुसार हिंदुस्तान और पाकिस्तान दो राष्ट्रों का निर्माण होगा और आजादी के दिन से ब्रिटिश साम्राज्य में विलीन रियासते भी आजाद हो जाएँगी वह चाहें तो आजाद रह सकतीं हैं या हिन्दुस्तान या पाकिस्तान में विलय कर सकती हैं सरदार पटेल भारत के उप प्रधान मंत्री एवं गृह मंत्री थे उनकी पहली प्राथमिकता देसी रियासतों को भारत में मिलाना था उन्होंने कठिन कार्य को बिना रक्तपात के कर दिखाया. विश्व के इतिहास में एक भी व्यक्ति ऐसा नहीं है जिसने इतनी बड़ी संख्या में रियासतों को मिला कर मजबूत राष्ट्र के गठन का साहस किया हो इन 562 रियासतों का क्षेत्रफल लगभग 40% तुम सात पाकिस्तान की बात करे हो यहाँ अखंड भारत के टुकड़े –करने का प्लान था .सरदार पटेल ने रजवाड़ों को समझाया कुएं के मेढक न बन कर भारत रूपी महासागर में विलय कर लो जूनागढ़ , हैदराबाद और जम्मू कश्मीर को छोड़ कर सभी रियासतों के रजवाड़ों ने भारत में विलय स्वीकार कर लिया |

जूनागढ सौराष्ट्र के पास एक छोटी रियासत चारों ओर से भारतीय भूमि से घिरी थी यहाँ बहुसंख्यक हिन्दू थे नबाब मुस्लिम वहाँ के नवाब ने 15 अगस्त 1947 को पाकिस्तान में विलय की घोषणा कर दी नवाब का विरोध हुआ तो भारतीय सेना जूनागढ़ में प्रवेश कर गयी नवाब भागकर पाकिस्तान चला गया जूनागढ का भारत में विलय हो गया. हैदराबाद भारत की भारत भूमि से घिरी सबसे बड़ी रियासत थी, वहाँ के निजाम ने पाकिस्तान के प्रोत्साहन से स्वतंत्र राज्य का दावा किया और अपनी सेना बढ़ाने लगा श्री पटेल के निर्णय द्वारा भारतीय सेना 13 सितंबर 1948 को हैदराबाद में प्रवेश कर गयी तीन दिनों के बाद निजाम ने आत्मसमर्पण कर नवंबर 1948 में भारत में विलय का प्रस्ताव स्वीकार कर लिया.

15 अगस्त 1975 मुजीबुर्रहमान की परिवार सहित हत्या कर दी गयी उनकी दो बेटियाँ जर्मनी में थी वह बच गयी आज शेख हसीना बंगलादेश की प्रधान मंत्री है .डॉ अनीस ने बताया शुरुआत में बांग्ला देश की हालत बहुत खराब थी 1974 में बांग्लादेश में अकाल पड़ा हालत और खराब हो गयी 1975 में क्रूड आयल के दाम बढ़ रहे थे हमारे देश के विकास के लिए क्रूड आयल हम कैसे खरीदते . आज का बांग्ला देश, आर्थिक स्थिति पाकिस्तान से बेहतर हैं ग्रोथ रेट पाकिस्तान से अधिक है प्रति व्यक्ति आय पाकिस्तान से बेहतर है .देश विकास शील देशों की श्रेणी में आता है दुःख है चीन का निवेश बंगलादेश में बढ़ रहा है .गरीब मुल्कों को कर्ज देकर चीन उनपर अपना प्रभाव बढ़ाता जा रहा है .

भारत पाकिस्तान की विदेश नीति पर मैं अपने विचार रख रही थी कुछ श्रोताओं ने प्रश्न पूछा बांग्ला देश के निर्माण का हमें क्या लाभ मिला पाकिस्तान ने भारत के विरुद्ध आतंकवाद को हथियार बना लिया मेरा जबाब था बांग्ला देश से हमारी सीमा 4096 किलोमीटर हैं हमारी सेना को पाकिस्तान से युद्ध के समय पश्चिमी पाकिस्तान चीन एवं पूर्वी पाकिस्तान के मोर्चे पर लड़ना पड़ता था अब बंगलादेश से हमारी कोई लड़ाई नहीं है बांग्ला देश का निर्माण कूटनीतिक कदम था . कुछ ने पूछा 93 लाख पाकिस्तानी सेना ने समर्पण किया था इंदिरा जी अपनी शर्तों पर पाकिस्तान को दबा सकती थी . सैन्य अभियान से पहले रूस से मदद मांगी. रूस से मित्रता संधि हुई. संधि –‘ भारत पर हमला रूस पर हमला है.अमेरिका की विदेश नीति प्रो पकिस्तान थी कारण पाकिस्तान की भौगौलिक स्थिति यूएस ने विदेश विभाग के अनुसार उनका 75000 टन न्यूक्लियर पॉवर एयरक्राफ्ट युद्धपोत यूएसएस एंटरप्राइसेस बंगाल की खाड़ी की और रवाना कर दिया गया नीति थी युद्धपोत के दम पर भारत को आत्मसमर्पण के लिए धमका देंगे . भारतीय सेना ने अपने युद्ध पोत विक्रांत को उतार दिया वह यूएस एंटरप्राइसेस और भारतीय शहरों के बीच चट्टान की तरह खड़ा था.ब्रिटिश युद्धपोत ईगल भी भारतीय महाद्वीप की ओर बढ़ रहा था .

इंदिरा जी घबराई नहीं , सोवियत रूस से संधि के अनुसार मदद मांगने पर रूस ने न्यूक्लियर हथियारों से लैस युद्धपोत और सबमरीन भेज दी.सबमरीन को भारतीय महासागर के तल पर रखा गया, ताकि दुश्मन को पता चल जाए कि भारत अकेला नहीं है.ब्रिटिश युद्ध पोत लौट गया नयाजी के आत्म समर्पण करने से पहले अमेरिका के विदेश विभाग ने भारतीय सेना को आगे बढने से रोक दिया था . एक लाभ यह भी हुआ शिमला समझौते के अनुसार भुट्टो को इंदिराजी ने विवश किया कश्मीर की समस्या का अंतर्राष्ट्रीयकरण नहीं किया जाएगा .आपसी वार्ता द्वारा समस्या का हल होगा . इस तरह विश्व के नक्शे पर नवोदित राष्ट्र का उदय हुआ बांग्लादेश की स्वर्ण जयंती के अवसर पर हमारे प्रधान मंत्री मुख्य अतिथि हैं .

सोनार बांग्ला देश .स्वर्ण जयंती समारोह

अगला लेख: नक्सलवाद का अंत सरकार की दृढ इच्छा शक्ति पर निर्भर है



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x