जब भारत के पहले सेनाध्यक्ष करिअप्पा ने पाक राष्ट्रपति को सिखाया देशभक्ति का पाठ

16 मई 2017   |  प्रियंका शर्मा   (451 बार पढ़ा जा चुका है)

फील्ड मार्शल कोडंडेरा मडप्पा करिअप्पा भारतीय सेना के प्रथम कमांडर-इन-चीफ थे। के एम करिअप्पा ने साल 1947 के भारत-पाक युद्ध में पश्चिमी सीमा पर सेना का नेतृत्व किया था। वह भारतीय सेना के उन तीन अधिकारियों में शामिल हैं, जिन्हें फील्ड मार्शल की पदवी दी गयी। देश के पहले कमांडर-इन-चीफ फील्ड मार्शल केएम करिअप्पा का 15 मई 1993 में निधन हुआ था।

फील्ड मार्शल करिअप्पा का जन्म 28 जनवरी, 1899 में कर्नाटक के कुर्ग में शनिवर्सांथि नामक स्थान पर हुआ था। भारतीय सैन्य इतिहास में करिअप्पा का नाम सुनहरे अक्षरों में अंकित है। आइए आज देशभक्ति से जुड़े प्रसंग को जानते हैं।


india

“अब वो मेरा बेटा नहीं, भारत मां का लाल है।”

बात 1965 के भारत-पाकिस्तान युद्ध की है। तब करिअप्पा सेवा-निवृत्त हो चुके थे। इस युद्ध में उनके बेटे केसी नंदा करिअप्पा भारतीय वायुसेना में फ्लाइट लेफ्टिनेंट की पदवी संभाल रहे थे। युद्ध के दौरान नंदा को पाकिस्तानी सैनिकों ने युद्ध बंदी बना लिया। उस वक़्त पूर्व सेना प्रमुख जनरल अयूब खान पाकिस्तान के राष्ट्रपति थे। देश के बंटवारे से पहले अयूब खान केसी करिअप्पा के अधीन सेवाएं दे चुके थे और उनको बहुत मानते थे।

अयूब को जब पता चला कि करिअप्पा के बेटे को युद्धबंदी बना लिया गया है, तो उन्होंने तुरंत करिअप्पा को फोन लगाया और उनके बेटे के सुरक्षित होने की ख़बर दी। अयूब ने ये भी पेशकश की कि अगर वो चाहें तो उनके बेटे को रिहा किया जा सकता है। यह पेशकश सुनकर करिअप्पा ने जो उत्तर दिया वह उनके सच्चे देशभक्त होने का प्रमाण है। करिअप्पा ने कहा-

‘अब वो मेरा बेटा नहीं, भारत मां का लाल है। उसे रिहा करना तो दूर किसी तरह की सुविधा भी मत देना। उसके साथ आम युद्धबंदियों की तरह बर्ताव किया जाना चाहिए। आपने मुझे फोन किया, इसके लिए शुक्रिया, लेकिन मेरी आपसे गुजारिश है कि सभी युद्ध बंदियों को रिहा कर दीजिए या किसी को भी नहीं।”

पाकिस्तान से लौटने के बाद नंदा करियप्पा (तस्वीर में सबसे पीछे) और वायुसेना के दूसरे अधिकारी एयर चीफ़ अर्जन सिंह के साथ.bbci

बहरहाल, युद्ध समाप्त होने के बाद नंदा को रिहा कर दिया गया था। लेकिन करियप्पा का देश के प्रति प्रेम और बलिदान की यह गाथा सदियों तक याद की जाएगी।

भारतीय सेना की काबिलियत का अंदाज़ा दिला कर प्रधानमंत्री का मन मोहा

बात 15 अगस्त 1947 को स्वतंत्रता मिलने के बाद की है, तब सेना की कमान ब्रिटिश सेना अधिकारी सर फ्रांसिस बूचर के ही हाथों में थी। भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू, कमान भारतीय हाथों में सौंपने को लेकर चिंतित थे।

rediff

नेहरू को यह संदेह था कि इतनी बड़ी ज़िम्मेदारी का निर्वाह करने के लिए भारतीय सेना अधिकारी के पास अनुभव नही है। वे इस पक्ष में थे कि अभी कुछ सालों के लिए सेना की कमान ब्रिटिश जनरल के हाथों में ही रहने दी जाए। ऐसे में करियप्पा ने यह कह कर नेहरू को चिंता मुक्त करवाया-

“सर अनुभव तो हमें देश का प्रधानमंत्री बन कर देश चलाने का भी नहीं था, लेकिन आप सफलतापूर्वक यह कार्य कर रहे हैं, तो फिर आपको जनरल के.एम. करिअप्पा की काबिलियत पर संशय क्यों है?”

प्रधानमंत्री ने तब निर्णय किया और 15 जनवरी 1949 को भारतीय सेना की कमान ब्रिटिश जनरल सर फ्रांसिस बूचर से जनरल के.एम. करिअप्पा के हाथों में आ गई, तभी से इस दिन यानी 15 जनवरी को ‘सेना दिवस’ के रूप में मनाया जाता है।

ऐसे देशभक्त फील्ड मार्शल करियप्पा के हम भारतवासी सदा आभारी रहेंगे। टॉपयाप्स टीम करियप्पा के कुशल नेतृत्व और हौसले को सलाम करती है।


साभार http://topyaps.com/field-marshal-k-m-cariappa

अगला लेख: विनोद खन्ना एक दमदार अभिनेता थे, ये साबित करता है आख़िरी फ़िल्म ‘दिलवाले’ से डिलीट किया गया ये सीन



Kokilaben Hospital India
08 मार्च 2018

We are urgently in need of kidney donors in Kokilaben Hospital India for the sum of $450,000,00,For more info
Email: kokilabendhirubhaihospital@gmail.com
WhatsApp +91 779-583-3215


अधिक जानकारी के लिए हमें कोकिलाबेन अस्पताल के भारत में गुर्दे के दाताओं की तत्काल आवश्यकता $ 450,000,00 की राशि के लिए है
ईमेल: कोकिलाबेन धीरूभाई अस्पताल @ gmail.com
व्हाट्सएप +91 779-583-3215

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
05 मई 2017
सुप्रीम कोर्ट का फैसला निर्भया केस में आ चुका है. चारों आरोपियों पर फांसी की सजा बरकरार रखी गई है.16 दिसंबर 2012 की तारीख भारत के इतिहास में बोल्ड ब्लैक लेटर्स में दर्ज है. इस दिन एक मासूम के साथ 6 लोगों ने दरिंदगी की हद पार कर दी. गैंगरेप किया और चलती बस से सड़क पर फेंककर भाग गए. मरने के लिए छोड़ ग
05 मई 2017
03 मई 2017
भावुक हृदय जलमग्न आंखे घोर वेदना के सिंधु में डूबते उतिराते है रोज की रात ऐसी ही होती है की क्रोध से कोपित हृदय है लावा भभकता उठ रहा है इस ज्वालामुखी को विवेक से शांत करते है अनर्थ हो रहा है अधर्म बढ़ रहा है कब तक शांत हो उठो जागो डोर थाम्हो कसो सीधे खींच
03 मई 2017
29 मई 2017
जरा देखो कहीं कोई फसाद,हुआ हो तो वहाँ जाया जाये । नहीं हुआ हो तो जाकर कराया जाये । राजनीति में निठल्लापन ठीक नहीं । कहीं आग लगा के बुझाया जाये ।
29 मई 2017
22 मई 2017
पूर्व भारतीय क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर ने अपने जीवन पर आधारित फिल्म ‘सचिन ए बिलियन ड्रीम्स’ को लेकर शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की। इस भेंट के बाद सचिन ने ट्वीट किया- 'माननीय प्रधानमंत्री को फिल्म 'सचिन ए बिलियन ड्रीम्स' को लेकर अवगत कराया और उनका आशीर्वाद लिया। प्रेरणादायी संदेश ‘
22 मई 2017
26 मई 2017
हम लोग अक्सर अपने देश के विकास की धीमी गति को लेकर रोते हैं। हम यह शिकायत करते हैं कि हमें पर्याप्त सुविधाएं नहीं मिल रही हैं। लेकिन जो सुविधाएं हमें सरकार ने दी हैं, उनका हम क्या हाल करते हैं उसके लिए सिर्फ कुछ तस्वीरें ही काफी हैं। आज की ही खबर है कि तेजस एक्सप्रेस के सफर के दूसरे दिन ही करीब 12 म
26 मई 2017
24 मई 2017
बॉलीवुड में अब तक की सबसे बड़ी हिट फ़िल्म बाहुबली तो हम सब ने देखी होगी. उसके ग्राफ़िक्स ने हर किसी को मोहित कर दिया था. लेकिन इस चकाचौंध में आपने गौर किया कि इस फ़िल्म की कहानी रामायण और महाभारत जैसे महाकाव्यों से इतनी मेल क्यों खाती है? ध्यान नहीं दिया तो हम आपको बताते हैं कैसे?शुरू करते हैं फ़िल्
24 मई 2017
10 मई 2017
हमारे देश में लोग हेलमेट सुरक्षा के लिए नहीं पहनते, बल्कि पहनते हैं पुलिस के चालान से बचने के लिए. बस 100 रुपये बचाने के लिए जान को जोखिम में डाल देते हैं. उन्हें अपने 100 रुपये जान से ज़्यादा प्यारे होते हैं. यही कारण है कि सड़कों पर बड़ी तादाद में लोग सस्ते और कमज़ोर हेलमेट पहने नज़र आते हैं. ऐेसे
10 मई 2017
23 मई 2017
मोहम्मद नईम की ज़िन्दगी की आख़री Groupie में वो ख़ून से लथपथ, हाथ जोड़े कुछ गांववालों के साथ खड़ा नज़र आ रहा है. गांववालों के चेहरे नज़र नहीं आ रहे क्योंकि नईम ज़मीन पर बैठा हुआ है. उसका आधा शरीर लहुलूहान है, शरीर पर एक बनियान है, कोई कमीज़ नहीं. कमीज़ शायद फाड़ दी
23 मई 2017
02 मई 2017
अपने ज़माने के सबसे हैंडसम हीरो थे वेट्रन एक्टर विनोद खाना. वो बॉलीवुड के सबसे बड़े सुपरस्टार्स में से एक और बहुत ही प्रतिभाशाली अभिनेता थे. उनकी कला उनके काम में बख़ूबी झलकती है. एक्टर विनोद खन्ना ने मुंबई के रिलायंस फाउंडेशन अस्पताल में गुरुवार सुबह 11 बजकर 20 मिनट पर अंतिम सांस ली. वो पिछले कई दिनों
02 मई 2017
15 मई 2017
न्याय का अर्थ है नीति-संगत बात अर्थात उचित अनुचित का विवेक | वात्स्यायन ने न्याय सूत्र में लिखा है- “प्रमाणैर्थपरीक्षणं न्यायः“ अर्थात प्रमाणों द्वारा अर्थ का परिक्षण ही न्याय है | भारतीय संविधान ने प्रत्येक नागरिक को समान अधिकार प्रदान किय
15 मई 2017
30 मई 2017
तब गांधीजी, विरोध में, करते थे अहिंसक आंदोलन और अनशन । आज कांग्रेसी, विरोध में,करते हैं हिंसा और गौमांस भक्षण । कुर्सी के गम में, मारी गयी मत है । कुछ सूझता नहीं ,क्या सही ,क्या गलत है।
30 मई 2017
10 मई 2017
ग्रीन टी के बारे में अब तक आपने अच्छी बातें ही सुनी होंगी. टीवी पर Ads भी इसे इसी तरह पेश करते हैं, जैसे ये सेहत का सबसे बड़ा खज़ाना है और इसे पीते ही आप स्लिम-ट्रिम और फ़िट हो जायेंगे. लेकिन वो कहते हैं न कि किसी भी चीज़ की अति अच्छी नहीं होती, बस इसी तरह अगर इसका सेवन भी ज़्यादा किया जाये, तो मामला उल्
10 मई 2017
12 मई 2017
घर में खुशहाली किसे अच्छी नहीं लगती. सब ठीक हों, स्वस्थ हों, सबकी जरूरतें पूरी हों इससे ज्यादा इंसान को क्या चाहिए होता है.पर कभी-कभी ऐसा नहीं हो पाता. लाख कोशिशों के बाद भी आपको वो नहीं मिल पाता जिसके आप हकदार हैं.हम बात कर रहे हैं वास्तु दोष की जिसका सीधा प्रभाव इंसान पर पड़ता है. अगर घर में वास्त
12 मई 2017
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x