जानें क्यों भारत में गाडियां सड़क के बायीं ओर और अमेरिका में दायीं ओर चलती हैं?

02 जुलाई 2018   |  प्राची सिंह   (261 बार पढ़ा जा चुका है)

जानें क्यों भारत में गाडियां सड़क के बायीं ओर और अमेरिका में दायीं ओर चलती हैं?

भारत में गाड़ियां सड़क े बायीं ओर चलती है और मोटरकार की स्टेयरिंग दायीं ओर होती है, जबकि अमेरिका सहित अधिकांश पश्चिमी देशों में गाडियां सड़क के दायीं ओर चलती है और मोटरकार की स्टेयरिंग बायीं ओर होती है. लेकिन क्या आपको इसके पीछे का कारण मालूम है? यदि आप इस प्रश्न के उत्तर से अनभिज्ञ हैं तो इस लेख को पढ़ने के बाद अवश्य जान जाएंगे कि क्यों भारत में गाडियां सड़क के बायीं ओर चलती है और अमेरिका में दायीं ओर चलती है.


सड़क पर चलने के नियम की शुरूआत

विश्व के सभी देशों में सड़क पर चलने से संबंधित नियम की शुरूआत अलग-अलग समय में हुई थी, लेकिन आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि पुराने जमाने में विश्व के अधिकांश देशों में सड़क के बायीं ओर ही चलने की परंपरा थी और 18वीं शताब्दी में पहली बार सड़क के दायीं ओर चलने की परंपरा की शुरूआत हुई थी.

सड़क पर चलने से संबंधित नियम का पहला वास्तविक पुरातात्विक साक्ष्य रोमन साम्राज्य से प्राप्त होता है. उन साक्ष्यों के अध्ययन से पता चलता है कि रोमन साम्राज्य के नागरिक सड़कों पर बायीं ओर चला करते थे. इस बात का स्पष्ट प्रमाण उपलब्ध नहीं है कि रोमन साम्राज्य के लोग सड़क पर बायीं ओर ही क्यों चला करते थे, लेकिन पूरे मध्यकाल के दौरान सड़क पर बायीं ओर ही चलने की परंपरा थी.



मध्यकाल के दौरान सड़कों पर चलना यात्रियों के लिए हमेशा सुरक्षित नहीं होता था और उन्हें सड़क पर दूसरी ओर से आने वाले डाकू एवं लुटेरों से बचना भी होता था. चूँकि अधिकतर लोग दायें हाथ से काम करने वाले होते थे, इस वजह से सड़क पर बायीं ओर चलते हुए तलवारबाज अपने दाहिने हाथ में तलवार रखते थे और दुश्मनों पर आसानी से हमला कर पाते थे. इसके अलावा सड़क पर बायीं ओर चलते हुए लोग मार्ग में मिलने वाले ईष्ट-मित्रों को दाएं हाथ से आसानी से दुआ सलाम कर पाते थे.
1300 ईस्वी में, पोप बॉनिफेस अष्टम ने आदेश दिया कि दुनिया के विभिन्न देशों से रोम की ओर आने वाले लोगों को अपनी यात्रा के दौरान सड़क पर बायीं ओर चलने के नियम का पालन करना चाहिए. इसके बाद 17वीं शताब्दी के अंत तक लगभग सभी पश्चिमी देशों में सड़क पर बायीं ओर चलने के नियम का ही अनुसरण किया गया.


पहली बार सड़क पर दायीं ओर चलने के नियम की शुरूआत

18वीं शताब्दी में संयुक्त राज्य अमेरिका में “टीमस्टर्स” की शुरुआत हुई थी. यह एक बड़ा वैगन होता था, जिसे घोड़ों की एक टीम खींचती थी. इन वैगनों पर ड्राइवरों के लिए बैठने हेतु सीट नहीं होते थे. अतः ड्राइवर सबसे बाएं घोड़े पर बैठता था और दाएं हाथ से चाबुक के द्वारा सभी घोड़ों को नियंत्रित करता था. लेकिन इसके कारण अमेरिकी लोगों को सड़क पर बायीं ओर चलने के नियम में बदलाव करना पड़ा और वे सड़क पर दायीं ओर चलने के नियम का अनुसरण करने लगे.

इस बदलाव की प्रमुख वजह यह थी कि सबसे बाएं घोड़े पर बैठकर सड़क पर दायीं ओर चलते हुए पीछे से या आगे से आने आले वैगनों पर नजर रखना आसान था. 1792 में सर्वप्रथम अमेरिका के पेन्सिल्वेनिया प्रान्त में सड़क पर दायीं ओर चलने के नियम को लागू किया गया और 18वीं शताब्दी के अंत तक यह नियम पूरे संयुक्त राज्य अमेरिका और कनाडा में अनुसरण किया जाने लगा.


यूरोपीय देशों में सड़क पर दायीं ओर चलने के नियम की शुरूआत

यूरोपीय देशों में सर्वप्रथम फ्रांस में सड़क पर दायीं चलने के नियम को लागू किया था, लेकिन फ्रांस में इस नियम को क्यों लागू किया गया, इसके संबंधित स्पष्ट कारणों की जानकारी उपलब्ध नहीं है. कुछ लोगों का कहना है कि फ्रांसीसी क्रांतिकारी पोप के आदेश का पालन नहीं करना चाहते थे, अतः उन्होंने इस नियम का अनुसरण किया. एक मान्यता यह भी है फ्रांसीसी अंग्रेजों द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले नियम का अनुसरण नहीं करना चाहते थे. इसके अलावा कुछ लोगों का मानना है कि सड़क पर दायीं ओर चलने के नियम की शुरूआत नेपोलियन ने की थी.

बाद में नेपोलियन ने इस प्रणाली को उन सभी देशों में फैलाया जिन पर उसने विजय प्राप्त की थी. नेपोलियन के पराजित होने के बाद भी जिन देशों में उसने जीत हासिल की थी, उनमें से अधिकांश ने सड़क पर दायीं ओर चलने की प्रणाली को जारी रखने का फैसला किया. इन देशों में सबसे महत्वपूर्ण जर्मनी था, जिसने 20वीं शताब्दी में कई यूरोपीय देशों पर कब्जा किया और उन देशों में सड़क पर दायीं ओर चलने की प्रणाली को लागू किया.


भारत में सड़क पर बायीं ओर चलने के नियम का अनुसरण करने के कारण

अमेरिका की तरह इंग्लैंड में कभी भी घोड़ों से खींचे जाने वाले वैगनों का इस्तेमाल नहीं किया गया, क्योंकि लंदन और अन्य ब्रिटिश शहरों की संकीर्ण गलियों में इन वैगनों को खींचना आसान नहीं था. इसके अलावा इंग्लैंड पर कभी भी नेपोलियन या जर्मनी ने विजय प्राप्त नहीं की थी. यही कारण है कि इंग्लैंड में हमेशा से सड़क पर बायीं ओर चलने के नियम का ही अनुसरण किया जाता है और 1756 में इंग्लैंड में इसे आधिकारिक कानून का रूप दिया गया. जैसे-जैसे ब्रिटिश साम्राज्य का विस्तार हुआ, सड़क पर बायीं ओर चलने से संबंधित नियम का अनुसरण सभी ब्रिटिश शासित देशों में किया जाने लगा. चूँकि भारत भी 200 वर्षों तक अंग्रेजों के शासन के अधीन था, इस कारण भारत में भी सड़क पर बायीं ओर चलने के नियम का अनुसरण किया जाता है.

सड़क पर दायीं या बायीं ओर चलने से संबंधित नियम का अनुसरण करने वाले देशों की वर्तमान स्थिति

• वर्तमान समय में पूरी दुनिया में कुल 163 देशों में सड़क पर दायीं ओर चलने के नियम का अनुसरण किया जाता है, जबकि 76 देशों में सड़क पर बायीं ओर चलने के नियम का अनुसरण किया जाता है.
• ब्रिटेन, आयरलैंड, माल्टा और साइप्रस को छोड़कर सभी यूरोपीय देशों में सड़क पर दायीं ओर चलने के नियम का अनुसरण किया जाता है.
• चीन में सड़क पर दायीं ओर चलने के नियम का अनुसरण किया जाता है, लेकिन चीन के आधिपत्य वाले हांगकांग और मकाऊ में सड़क पर बायीं ओर चलने के नियम का अनुसरण किया जाता है.


Source: Jagran Josh

जानें क्यों भारत में गाडियां सड़क के बायीं ओर और अमेरिका में दायीं ओर चलती हैं?

https://www.ekbiharisabparbhari.com/2018/07/01/know-why-the-trains-in-india-go-to-the-left-side-of-the-road-and-to-the-right-in-america/

अगला लेख: सियाचिन की बर्फ से गले हुए पैर वाले फौजी की फोटो आपने शेयर की?



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
21 जून 2018
पटना: पीएम मोदी के पकौड़े वाले बयान पर सिर्फ विवाद ही नहीं हुए, बल्कि उससे एक शख्स की जिंदगी बदल गई। वडोदरा में रहने वाले नारायण ने पीएम मोदी का बयान सुनने के बाद पकौड़े का स्टॉल लगा लिया। धीरे-धीरे उनका स्टॉल इतना फेमस हो गया कि आज वो हर दिन 30,000 हजार रुपए कमा लेते हैं
21 जून 2018
29 जून 2018
“वहां माइनस डिग्री टेम्प्रेचर में फौजी खड़े हैं और तुम चाय में एक्स्ट्रा शुगर मांग रहे हो?” हमारे आस पास के ज्ञानी और सुधीजन फौजियों को थैंक्यू करने के लिए यही शब्द इस्तेमाल करते हैं. अपने दावे को सही साबित करने का अगर हल्का सा भी क्लू हाथ लगता है, तो उसे जाने नहीं देते.
29 जून 2018
26 जून 2018
पटना: शास्त्रों के अनुसार तुलसी को देवी का रूप माना जाता है। घर के आंगन में तुलसी का पौधा लगाने की और उसकी पूजा-अर्चना करने की परंपरा पुरानी है। ऐसा करने वालों को देवी-देवताओं की विशेष कृपा मिलती है। साथ ही साथ हर तरह की नकारात्मक ऊर्जा से घर-परिवार की रक्षा होती है।तुलसी
26 जून 2018
06 जुलाई 2018
आपने अमीर लोगों के बारे में तो सुना ही होगा, लेकिन क्या कभी आपने अमीर शहरों के बारे में सुना है। हम आपको जीडीपी के आधार पर भारत के 10 बड़े शहरो के बारे में बताएंगे। अर्थव्यवस्था के नाम पर भारत को मजबूत बनाने में इन्हीं अमीर शहरों का बहुत बड़ा योगदान रहता है।10. विशाखापट्न
06 जुलाई 2018
25 जून 2018
इस बार जब आपने 26 जनवरी की परेड देखी होगी तो आपके दिमाग में एक सवाल ज़रूर आया होगा कि आखिर देश के प्रधानमंत्री के साथ ये जो उनके बॉडीगार्ड चलते हैं, उनके ब्रीफ़केस में आख़िर होता क्या है? या फिर आपने कभी इस बात पर ध्यान ही नहीं दिया? ऐसा सालों से होता आ रहा है लेकिन क्या वाक
25 जून 2018
03 जुलाई 2018
शादी में जयमाल के दौरान दुल्हा-दुल्हन को गोद में उठाना आजकल एक फैशन सा हो गया है। दोनों पक्ष जयमाल में खूब मजे और हंसी ठिठोली करते हैं। दुल्हा-दूल्हन के बीच जयमाल डाले जाने को लेकर भी कई तरह के मजाक सामने आते रहे हैं... लेकिन इन दिनों एक मजेदार वीडियो वायरल हो रहा है... ज
03 जुलाई 2018
04 जुलाई 2018
कतर, मकाओ और लक्सज़मबर्ग सबसे अमीर देश हैं किस देश को सबसे अमीर देश कहा जा सकता है? आप कहेंगे कि सीधी सी बात है, जिस देश में सबसे ज़्यादा पैसा है वो देश सबसे अमीर कहलाएगा. लेकिन इस सवाल का जवाब इतना सीधा नहीं है. सबसे अमीर देशों की सूची बनाने के लिए कई दूसरे रास्ते अपनाए
04 जुलाई 2018
06 जुलाई 2018
दोस्तों क्या छुट्टी के दिन जब आप सुबह आराम से उठते हैं और उठने के बाद सबसे पहले न्यूज़पेपर ही उठाते हैं और चाय की चुस्कियों के साथ देश और दुनिया की ताज़ा ख़बरें पढ़ते हैं. लेकिन कुछ लोग पेपर में आने वाले क्रॉस वर्ड्स गेम या सुडोकु खेलते हैं. बचपन से ही हम लोग क्रॉसवर्ड खेलते
06 जुलाई 2018
18 जून 2018
भारतीय रेलवे जल्द ही पूरे देश में अपने रंग रूप को बदलने जा रही है। रेल मंत्रालय ने फैसला लिया है कि सभी ट्रेनों के डिब्बों को आकर्षक बनाने के लिए कलर शेड में रंगकर वर्ल्ड क्लास लुक दिया जाएगा।इस स्कीम के तरह सभी मेल और एक्सप्रेस ट्रेनों के डिब्बों के कलर में बदलाव किया जा
18 जून 2018
05 जुलाई 2018
कभी-कभी जो होता है, वो दिखता नहीं और जो दिखता है, वो होता नहीं.दिखता-होताहोता-दिखतासर घूम जाए, इससे पहले बता देते हैं कि ये खुजली क्यों है. दरअसल, चीन में महिलाएं एक ऐसी मेकअप टेक्निक का इस्तेमाल कर रही हैं, जिसे इस्तेमाल करने के बाद उन्हें उनके घरवाले भी नहीं पहचानते.यकीन नहीं आता तो एक नज़र Sculpt
05 जुलाई 2018
19 जून 2018
बैंक तो आप सब ने कई देखे होंगे पर गया का मंगला बैंक अपनेआप में एक अनूठा बैंक है। भिखारियों का बनाया हुआ ये बैंक उनके समाज के लिए वरदान है। मंगला बैंक से मिला लोन आपात स्थिति में फंसे लोगों की जान बचा रहा साथ ही किसी भिखारी की बेटी का घर भी बसा रहा है।भिखारियों का समूह मंग
19 जून 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x