जानें क्यों भारत में गाडियां सड़क के बायीं ओर और अमेरिका में दायीं ओर चलती हैं?

02 जुलाई 2018   |  प्राची सिंह   (263 बार पढ़ा जा चुका है)

जानें क्यों भारत में गाडियां सड़क के बायीं ओर और अमेरिका में दायीं ओर चलती हैं?

भारत में गाड़ियां सड़क े बायीं ओर चलती है और मोटरकार की स्टेयरिंग दायीं ओर होती है, जबकि अमेरिका सहित अधिकांश पश्चिमी देशों में गाडियां सड़क के दायीं ओर चलती है और मोटरकार की स्टेयरिंग बायीं ओर होती है. लेकिन क्या आपको इसके पीछे का कारण मालूम है? यदि आप इस प्रश्न के उत्तर से अनभिज्ञ हैं तो इस लेख को पढ़ने के बाद अवश्य जान जाएंगे कि क्यों भारत में गाडियां सड़क के बायीं ओर चलती है और अमेरिका में दायीं ओर चलती है.


सड़क पर चलने के नियम की शुरूआत

विश्व के सभी देशों में सड़क पर चलने से संबंधित नियम की शुरूआत अलग-अलग समय में हुई थी, लेकिन आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि पुराने जमाने में विश्व के अधिकांश देशों में सड़क के बायीं ओर ही चलने की परंपरा थी और 18वीं शताब्दी में पहली बार सड़क के दायीं ओर चलने की परंपरा की शुरूआत हुई थी.

सड़क पर चलने से संबंधित नियम का पहला वास्तविक पुरातात्विक साक्ष्य रोमन साम्राज्य से प्राप्त होता है. उन साक्ष्यों के अध्ययन से पता चलता है कि रोमन साम्राज्य के नागरिक सड़कों पर बायीं ओर चला करते थे. इस बात का स्पष्ट प्रमाण उपलब्ध नहीं है कि रोमन साम्राज्य के लोग सड़क पर बायीं ओर ही क्यों चला करते थे, लेकिन पूरे मध्यकाल के दौरान सड़क पर बायीं ओर ही चलने की परंपरा थी.



मध्यकाल के दौरान सड़कों पर चलना यात्रियों के लिए हमेशा सुरक्षित नहीं होता था और उन्हें सड़क पर दूसरी ओर से आने वाले डाकू एवं लुटेरों से बचना भी होता था. चूँकि अधिकतर लोग दायें हाथ से काम करने वाले होते थे, इस वजह से सड़क पर बायीं ओर चलते हुए तलवारबाज अपने दाहिने हाथ में तलवार रखते थे और दुश्मनों पर आसानी से हमला कर पाते थे. इसके अलावा सड़क पर बायीं ओर चलते हुए लोग मार्ग में मिलने वाले ईष्ट-मित्रों को दाएं हाथ से आसानी से दुआ सलाम कर पाते थे.
1300 ईस्वी में, पोप बॉनिफेस अष्टम ने आदेश दिया कि दुनिया के विभिन्न देशों से रोम की ओर आने वाले लोगों को अपनी यात्रा के दौरान सड़क पर बायीं ओर चलने के नियम का पालन करना चाहिए. इसके बाद 17वीं शताब्दी के अंत तक लगभग सभी पश्चिमी देशों में सड़क पर बायीं ओर चलने के नियम का ही अनुसरण किया गया.


पहली बार सड़क पर दायीं ओर चलने के नियम की शुरूआत

18वीं शताब्दी में संयुक्त राज्य अमेरिका में “टीमस्टर्स” की शुरुआत हुई थी. यह एक बड़ा वैगन होता था, जिसे घोड़ों की एक टीम खींचती थी. इन वैगनों पर ड्राइवरों के लिए बैठने हेतु सीट नहीं होते थे. अतः ड्राइवर सबसे बाएं घोड़े पर बैठता था और दाएं हाथ से चाबुक के द्वारा सभी घोड़ों को नियंत्रित करता था. लेकिन इसके कारण अमेरिकी लोगों को सड़क पर बायीं ओर चलने के नियम में बदलाव करना पड़ा और वे सड़क पर दायीं ओर चलने के नियम का अनुसरण करने लगे.

इस बदलाव की प्रमुख वजह यह थी कि सबसे बाएं घोड़े पर बैठकर सड़क पर दायीं ओर चलते हुए पीछे से या आगे से आने आले वैगनों पर नजर रखना आसान था. 1792 में सर्वप्रथम अमेरिका के पेन्सिल्वेनिया प्रान्त में सड़क पर दायीं ओर चलने के नियम को लागू किया गया और 18वीं शताब्दी के अंत तक यह नियम पूरे संयुक्त राज्य अमेरिका और कनाडा में अनुसरण किया जाने लगा.


यूरोपीय देशों में सड़क पर दायीं ओर चलने के नियम की शुरूआत

यूरोपीय देशों में सर्वप्रथम फ्रांस में सड़क पर दायीं चलने के नियम को लागू किया था, लेकिन फ्रांस में इस नियम को क्यों लागू किया गया, इसके संबंधित स्पष्ट कारणों की जानकारी उपलब्ध नहीं है. कुछ लोगों का कहना है कि फ्रांसीसी क्रांतिकारी पोप के आदेश का पालन नहीं करना चाहते थे, अतः उन्होंने इस नियम का अनुसरण किया. एक मान्यता यह भी है फ्रांसीसी अंग्रेजों द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले नियम का अनुसरण नहीं करना चाहते थे. इसके अलावा कुछ लोगों का मानना है कि सड़क पर दायीं ओर चलने के नियम की शुरूआत नेपोलियन ने की थी.

बाद में नेपोलियन ने इस प्रणाली को उन सभी देशों में फैलाया जिन पर उसने विजय प्राप्त की थी. नेपोलियन के पराजित होने के बाद भी जिन देशों में उसने जीत हासिल की थी, उनमें से अधिकांश ने सड़क पर दायीं ओर चलने की प्रणाली को जारी रखने का फैसला किया. इन देशों में सबसे महत्वपूर्ण जर्मनी था, जिसने 20वीं शताब्दी में कई यूरोपीय देशों पर कब्जा किया और उन देशों में सड़क पर दायीं ओर चलने की प्रणाली को लागू किया.


भारत में सड़क पर बायीं ओर चलने के नियम का अनुसरण करने के कारण

अमेरिका की तरह इंग्लैंड में कभी भी घोड़ों से खींचे जाने वाले वैगनों का इस्तेमाल नहीं किया गया, क्योंकि लंदन और अन्य ब्रिटिश शहरों की संकीर्ण गलियों में इन वैगनों को खींचना आसान नहीं था. इसके अलावा इंग्लैंड पर कभी भी नेपोलियन या जर्मनी ने विजय प्राप्त नहीं की थी. यही कारण है कि इंग्लैंड में हमेशा से सड़क पर बायीं ओर चलने के नियम का ही अनुसरण किया जाता है और 1756 में इंग्लैंड में इसे आधिकारिक कानून का रूप दिया गया. जैसे-जैसे ब्रिटिश साम्राज्य का विस्तार हुआ, सड़क पर बायीं ओर चलने से संबंधित नियम का अनुसरण सभी ब्रिटिश शासित देशों में किया जाने लगा. चूँकि भारत भी 200 वर्षों तक अंग्रेजों के शासन के अधीन था, इस कारण भारत में भी सड़क पर बायीं ओर चलने के नियम का अनुसरण किया जाता है.

सड़क पर दायीं या बायीं ओर चलने से संबंधित नियम का अनुसरण करने वाले देशों की वर्तमान स्थिति

• वर्तमान समय में पूरी दुनिया में कुल 163 देशों में सड़क पर दायीं ओर चलने के नियम का अनुसरण किया जाता है, जबकि 76 देशों में सड़क पर बायीं ओर चलने के नियम का अनुसरण किया जाता है.
• ब्रिटेन, आयरलैंड, माल्टा और साइप्रस को छोड़कर सभी यूरोपीय देशों में सड़क पर दायीं ओर चलने के नियम का अनुसरण किया जाता है.
• चीन में सड़क पर दायीं ओर चलने के नियम का अनुसरण किया जाता है, लेकिन चीन के आधिपत्य वाले हांगकांग और मकाऊ में सड़क पर बायीं ओर चलने के नियम का अनुसरण किया जाता है.


Source: Jagran Josh

जानें क्यों भारत में गाडियां सड़क के बायीं ओर और अमेरिका में दायीं ओर चलती हैं?

https://www.ekbiharisabparbhari.com/2018/07/01/know-why-the-trains-in-india-go-to-the-left-side-of-the-road-and-to-the-right-in-america/

अगला लेख: सियाचिन की बर्फ से गले हुए पैर वाले फौजी की फोटो आपने शेयर की?



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
29 जून 2018
“वहां माइनस डिग्री टेम्प्रेचर में फौजी खड़े हैं और तुम चाय में एक्स्ट्रा शुगर मांग रहे हो?” हमारे आस पास के ज्ञानी और सुधीजन फौजियों को थैंक्यू करने के लिए यही शब्द इस्तेमाल करते हैं. अपने दावे को सही साबित करने का अगर हल्का सा भी क्लू हाथ लगता है, तो उसे जाने नहीं देते.
29 जून 2018
26 जून 2018
पटना: शास्त्रों के अनुसार तुलसी को देवी का रूप माना जाता है। घर के आंगन में तुलसी का पौधा लगाने की और उसकी पूजा-अर्चना करने की परंपरा पुरानी है। ऐसा करने वालों को देवी-देवताओं की विशेष कृपा मिलती है। साथ ही साथ हर तरह की नकारात्मक ऊर्जा से घर-परिवार की रक्षा होती है।तुलसी
26 जून 2018
22 जून 2018
टीचर और बच्चों के बीच एक बहुत प्यारा रिश्ता होता है..जिस टीचर ने शिक्षा दी, समाज में रहने लायक बनाया। उन्हें दूर जाना मुश्किल होता है। ऐसा ही एक टीचर और बच्चों के बीच प्यार भरा रिश्ता देखने को मिला है। यहां बच्चे अपने टीचर से इतना प्यार करते है कि टीचर के ट्रांसफर होने पर
22 जून 2018
03 जुलाई 2018
शादी में जयमाल के दौरान दुल्हा-दुल्हन को गोद में उठाना आजकल एक फैशन सा हो गया है। दोनों पक्ष जयमाल में खूब मजे और हंसी ठिठोली करते हैं। दुल्हा-दूल्हन के बीच जयमाल डाले जाने को लेकर भी कई तरह के मजाक सामने आते रहे हैं... लेकिन इन दिनों एक मजेदार वीडियो वायरल हो रहा है... ज
03 जुलाई 2018
27 जून 2018
बिहार बोर्ड को पिछले दो-तीन साल से पता नहीं कैसी नज़र लगी है कि हर बार कुछ अजूबा हो रहा है. पाबंदियों के बावजूद नकल की खबरें तो आम रहीं, फिर टॉपर रूबी रॉय फर्जी निकल गई. फिर अभी कुछ दिनों पहले पता चला कि एग्ज़ाम की 42 हज़ार कॉपियां 8,000 रुपए में बेच दी गईं. अब ऐसी हालत म
27 जून 2018
28 जून 2018
हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा जिला में माता श्री ज्वालाजी का मंदिर स्थित है। यहां ज्योति रूप में मां ज्वाला भक्तों को दर्शन देती हैं। मान्यता है कि ज्वालाजी में माता सती की जीभ गिरी थी, इससे यहां का नाम ज्वालाजी मंदिर पड़ा। मंदिर में होने वाले चमत्कारों को सुन अकबर सेना सहित य
28 जून 2018
21 जून 2018
21 जून. बेनजीर भुट्टो का जन्मदिन. इस मौके पर हम आपको एक किस्सा सुनाते हैं. सीधे, बेनजीर की किताब से. किताब का नाम था- डॉटर ऑफ द ईस्ट. माने, पूरब की बेटी.1971 की हार के बाद पाकिस्तान सामूहिक शोक में था. उसका पूर्वी हिस्सा अलग होकर मुल्क बन चुका था. बांग्लादेश का बनना यूं ह
21 जून 2018
06 जुलाई 2018
दोस्तों क्या छुट्टी के दिन जब आप सुबह आराम से उठते हैं और उठने के बाद सबसे पहले न्यूज़पेपर ही उठाते हैं और चाय की चुस्कियों के साथ देश और दुनिया की ताज़ा ख़बरें पढ़ते हैं. लेकिन कुछ लोग पेपर में आने वाले क्रॉस वर्ड्स गेम या सुडोकु खेलते हैं. बचपन से ही हम लोग क्रॉसवर्ड खेलते
06 जुलाई 2018
25 जून 2018
एतिहासिक ,पौराणिक एवं धार्मिक दृष्टिकोण से अति महत्वपूर्ण च्यवन आश्रम पीठ भगवान् शिव की नगरी देवकुंड धाम में दूधेश्वरनाथ महादेव के मंदिर के समीप ही आँगन बनाने के लिए हो रहे खुदाई के दौरान एक भव्य शिवलिंग के मिलने से पुरे इलाके में हर हर महादेव का जयघोष होने लगा , जिसने भी
25 जून 2018
19 जून 2018
रेल मंत्री पीयूष गोयल ने सोमवार को कहा कि पटरियों के रख रखाव के काम की वजह से अगर रविवार को कोई रेलगाड़ी पांच-छह घंटे लेट होती है तो भारतीय रेल ट्रेन में मौजूद यात्रियों को मुफ्त में भोजन देगी। रेलमंत्री ने मीडिया से बातचीत में यहां कहा, ‘रेलवे अपनी संपत्तियों के नियोजित
19 जून 2018
25 जून 2018
इस बार जब आपने 26 जनवरी की परेड देखी होगी तो आपके दिमाग में एक सवाल ज़रूर आया होगा कि आखिर देश के प्रधानमंत्री के साथ ये जो उनके बॉडीगार्ड चलते हैं, उनके ब्रीफ़केस में आख़िर होता क्या है? या फिर आपने कभी इस बात पर ध्यान ही नहीं दिया? ऐसा सालों से होता आ रहा है लेकिन क्या वाक
25 जून 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x