अर्जुन का अहंकार

11 अगस्त 2018   |  pradeep   (77 बार पढ़ा जा चुका है)

अर्जुन का महाभारत के युद्ध के समय, युद्ध ना करने का निर्णय अर्जुन का अहंकार था. ज्यादातर लोग उसके इस निर्णय का कारण मोह मानते है, परन्तु भगवान् कृष्ण इसे उसका अहंकार मानते है. जिस युद्ध का निर्णय लिया जा चूका है, उस युद्ध को अब अपने मोह के कारण रोकने का अर्थ भगवान् उसका अहंकार मानते है. महाभारत के युद्ध का निर्णय ना तो पांडवो का था और नाही कौरवों का, यह निर्णय स्वयं श्री कृष्ण भगवान् का था. युद्ध से पहले कृष्ण ने हर चेष्टा की, ताकि इस महायुद्ध को रोका जा सके, पर कोई भी चेष्टा सफल नहीं हुई. युद्ध के अंत में गांधारी ने भगवान् कृष्ण को श्राप देते हुए कहा था कि यदि तुम चाहते तो यह युद्ध ना होता. यह बात एक दम सच है. वो पांडवो और कौरवों के बीच खेले गए जुए को रोक सकते थे , वो द्रोपदी के साथ होने वाले अत्याचार को रोक सकते थे ,बहुत सी बाते जो इस युद्ध का कारण बनी उन सबको अगर कृष्ण भगवान् रोकना चाहते तो रोक सकते थे. भगवान् ने क्यों नहीं रोका? इसका जवाब भी कृष्ण भगवान् ने गीता में दिया है कृष्ण ने कहा कि मैं प्रयोजक हूँ , कर्ता नहीं ,कर्ता मनुष्य है . मैंने रचना की है जहाँ पाप भी है और पुण्य भी , और साथ में बुद्धि भी दी है सोचने के लिए, मेरा काम सिर्फ इतना था कि उनकी बुद्धि को जागृत करूँ, जो मैंने किया पर मैं इसका भागिदार नहीं हूँ. सब ने मेरे दिशा दिखने पर भी अपनी अपनी बुद्धि से अपने कर्मो का चुनाव किया है. जिन्होंने जानते हुए भी कि वो अधर्म के साथ है फिर भी अधर्म को ही अपना धर्म माना है तो यह मेरा दोष नहीं. और जब धर्म और अधर्म का सामना होगा तो युद्ध अवश्य होगा, जिसका निर्णय लिया जा चूका है. युद्ध को अब रोकना अर्जुन का स्वार्थ होगा, और उसकी यह बात अहंकार पूर्वक है. (आलिम)

अगला लेख: कर्म और त्याग



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
03 अगस्त 2018
जा
फक्र उनको है बता जात अपनी, शर्मिंदा हम है देख औकात उनकी.किया कीजियेगा अपनी इस जात का, मिलेगा तुम्हे भी कफ़न जो मिलेगा बे-जात को. (आलिम)
03 अगस्त 2018
01 अगस्त 2018
मै
ना तो धर्म तुमसे है, ना ही देश और जात तुमसे हैं. सिर्फ किसी देश में या किसी धर्म या जात में जन्म लेने में तुम्हारा अपना क्या योगदान है? तुम्हारी क्या महानता है? मेरे देश में महान लोगों ने जन्म लिया कहने भर से तुम महान नहीं हो जाते. स्वयं श्री कृष्ण
01 अगस्त 2018
10 अगस्त 2018
बब्बू की याद आज इस दौर में इसलिए आ गई कि आज किसी ऐतिहासिक चरित्र के बारे कुछ कह दो , लिख दो या फिल्म ही बना लो तो एक हंगामा हो जाता है. ना तो हम उस दौर में थे और ना ही हमने देखा है , कुछ उस वक्त के इतिहासकारों ने या कवियो
10 अगस्त 2018
08 अगस्त 2018
मे
अपनी बर्बादियों का हमने यूँ जश्न मनाया है, सितमगर को ही खुद का राज़दार बनाया है. गम नहीं है मुझे खुद अपनी बर्बादी का,सितमगर ने मुझको अपना दीवाना बनाया है.दीवानगी का आलम कुछ यूँ है मेरे यारो, उनकी दिलज़ारी पे हमको मज़ा आया है. लोग त
08 अगस्त 2018
08 अगस्त 2018
सनातन धर्म में कर्म और धर्म दोनों की ही व्याख्या की गई है , पर तथाकथित हिन्दू इन दोनों ही शब्दों का अर्थ अपनी सुविधा के अनुकूल प्रयोग करते रहे है. सनातन धर्म की सुंदरता इसमें है कि उसमे सभी विचार समा जाते है. यही कारण है कि लोग
08 अगस्त 2018
24 अगस्त 2018
अराकू के एमपीकोठापल्ली गीता नेशुक्रवार को नईक्षेत्रीय पार्टी लांच की | उन्होंने पार्टी के लोगो और झंडेका भी लांच किया और उन्होंने यह भी दावा किया कि यहमहिलाओं और उपेक्षितवर्गों का प्रतिनिधित्वकरेगा।गीता ने नईराजनीतिक पार्टी के लॉन्
24 अगस्त 2018
09 अगस्त 2018
दि
कहते है कि जब दिल और दिमाग के बीच किसी मुद्दे को लेकर जंग चल रही हो तो दिल की बात सुननी चाहिए ना कि दिमाग की. ऐसी ही सोच लोगो को भक्ति की तरफ ले जाती है जहाँ लोग दिमाग से काम लेना बंद कर देते है. भक्ति योग और कर्म योग दोनों ही रास्ते मुक्ति की
09 अगस्त 2018
06 अगस्त 2018
पू
पूजा, उपासना जो बिना स्वार्थ के किया जाए, बिना किसी फल की इच्छा से किया जाए, जो सच्चे मन से सिर्फ ईश्वर के लिए किया जाए वो पूजा सात्विक है , सात्विक लोग करते है. जो पूजा किसी फल की प्राप्ति के लिए की जाये, अपने शरीर को कष्ट द
06 अगस्त 2018
12 अगस्त 2018
कलम के सिपाही की विरासत को यूँ बदनाम ना करो, सिपाही हो कलम के तुम यूँ किसी के प्यादे ना बनो.ये दो लाइने कलम के सिपाही मुंशी प्रेमचंद को समर्पित है, और उन पत्रकारों , लेखकों, कवियों और शायरों को उनका धर
12 अगस्त 2018

शब्दनगरी से जुड़िये आज ही

सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x