अर्जुन का अहंकार

11 अगस्त 2018   |  pradeep   (69 बार पढ़ा जा चुका है)

अर्जुन का महाभारत के युद्ध के समय, युद्ध ना करने का निर्णय अर्जुन का अहंकार था. ज्यादातर लोग उसके इस निर्णय का कारण मोह मानते है, परन्तु भगवान् कृष्ण इसे उसका अहंकार मानते है. जिस युद्ध का निर्णय लिया जा चूका है, उस युद्ध को अब अपने मोह के कारण रोकने का अर्थ भगवान् उसका अहंकार मानते है. महाभारत के युद्ध का निर्णय ना तो पांडवो का था और नाही कौरवों का, यह निर्णय स्वयं श्री कृष्ण भगवान् का था. युद्ध से पहले कृष्ण ने हर चेष्टा की, ताकि इस महायुद्ध को रोका जा सके, पर कोई भी चेष्टा सफल नहीं हुई. युद्ध के अंत में गांधारी ने भगवान् कृष्ण को श्राप देते हुए कहा था कि यदि तुम चाहते तो यह युद्ध ना होता. यह बात एक दम सच है. वो पांडवो और कौरवों के बीच खेले गए जुए को रोक सकते थे , वो द्रोपदी के साथ होने वाले अत्याचार को रोक सकते थे ,बहुत सी बाते जो इस युद्ध का कारण बनी उन सबको अगर कृष्ण भगवान् रोकना चाहते तो रोक सकते थे. भगवान् ने क्यों नहीं रोका? इसका जवाब भी कृष्ण भगवान् ने गीता में दिया है कृष्ण ने कहा कि मैं प्रयोजक हूँ , कर्ता नहीं ,कर्ता मनुष्य है . मैंने रचना की है जहाँ पाप भी है और पुण्य भी , और साथ में बुद्धि भी दी है सोचने के लिए, मेरा काम सिर्फ इतना था कि उनकी बुद्धि को जागृत करूँ, जो मैंने किया पर मैं इसका भागिदार नहीं हूँ. सब ने मेरे दिशा दिखने पर भी अपनी अपनी बुद्धि से अपने कर्मो का चुनाव किया है. जिन्होंने जानते हुए भी कि वो अधर्म के साथ है फिर भी अधर्म को ही अपना धर्म माना है तो यह मेरा दोष नहीं. और जब धर्म और अधर्म का सामना होगा तो युद्ध अवश्य होगा, जिसका निर्णय लिया जा चूका है. युद्ध को अब रोकना अर्जुन का स्वार्थ होगा, और उसकी यह बात अहंकार पूर्वक है. (आलिम)

अगला लेख: कर्म और त्याग



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
04 अगस्त 2018
भूत जिसे आकाश निगल गया है और भविष्य के बीज अभी आकाश में है, ना तो भूत साथ है और ना ही भविष्य, साथ है तो सिर्फ वर्तमान. भूत और भविष्य पर गर्व वो करते है जिनके पास वर्तमान में गर्व करने को कुछ होता नहीं है. हम क्या थे या हम
04 अगस्त 2018
11 अगस्त 2018
दि
दिगपाल, मेरे बचपन का साथी था, दोस्त था या यूँ कहे कि वो मेरा मुण्डू(बेबी सिटर) था. दरअसल दिगपाल हमारी मौसी का नौकर था, उसकी उम्र कितनी थी मैं नहीं जानता पर शायद 12 या 14 साल का रहा होगा. पहाड़ी था या नेपाली ये भी मुझे नहीं पता
11 अगस्त 2018
04 अगस्त 2018
समय का बोध सिर्फ उनको होता है जिनका जन्म होता है. जिसका जन्म हुआ हो उसकी मृत्यु भी निश्चित है और जन्म और मृत्यु के बीच जो है वो ही समय है. जन्म ना हो तो मृत्यु भी ना हो और समय भी ना हो. समय सिर्फ शरीर धारियों के लिए है , आत्मा के लिए नहीं. आत्मा
04 अगस्त 2018
10 अगस्त 2018
दिलकशी उनकी मूड और मॉडलिंग कब तलक यूँ जी को मेरे तड़पायेगी.है हज़ारो दीवाने नुमाइशी के उनके, आशिकी हमारी नज़र उनको क्यों आएगी, खामोश है हम भी देख उनकी बेरुखी, बयां करने से पहले जान यूँही जायेगी. (आलिम)
10 अगस्त 2018
03 अगस्त 2018
जा
फक्र उनको है बता जात अपनी, शर्मिंदा हम है देख औकात उनकी.किया कीजियेगा अपनी इस जात का, मिलेगा तुम्हे भी कफ़न जो मिलेगा बे-जात को. (आलिम)
03 अगस्त 2018
04 अगस्त 2018
समय का बोध सिर्फ उनको होता है जिनका जन्म होता है. जिसका जन्म हुआ हो उसकी मृत्यु भी निश्चित है और जन्म और मृत्यु के बीच जो है वो ही समय है. जन्म ना हो तो मृत्यु भी ना हो और समय भी ना हो. समय सिर्फ शरीर धारियों के लिए है , आत्मा के लिए नहीं. आत्मा
04 अगस्त 2018
08 अगस्त 2018
सच बोलने से गर डर लगता है यारो, झूठ ऐसा बोलो कि सच सामने आये. सच को बताने की अक्सर ज़रूरत तो नहीं होती, हाकिम ही गर हो झूठा,तो सच बताना ही पडेगा. (आलिम).
08 अगस्त 2018
09 अगस्त 2018
दि
ना खुल जाए राज, हमको हमसफ़र बनाया है, छिपाने बेवफाई अपनी यूँ हमसे दिल लगाया है. खूबसूरत है जो वो क्योंकर न बेवफा न होंगे, हो दुनियां दीवानी जिनकी वो ही तो बेवफा होंगे.होते हम भी खूबसूरत तो शायद बेवफा होते, बदसूरती ने ही हमको वफ़ा
09 अगस्त 2018
10 अगस्त 2018
बब्बू की याद आज इस दौर में इसलिए आ गई कि आज किसी ऐतिहासिक चरित्र के बारे कुछ कह दो , लिख दो या फिल्म ही बना लो तो एक हंगामा हो जाता है. ना तो हम उस दौर में थे और ना ही हमने देखा है , कुछ उस वक्त के इतिहासकारों ने या कवियो
10 अगस्त 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x