पेट्रोल ,डीजल की बढ़ती कीमतों का विरोध क्या कांग्रेस एवं विपक्ष को सत्ता तक पहुँचायेगा ?

11 सितम्बर 2018   |  शोभा भारद्वाज   (48 बार पढ़ा जा चुका है)

पेट्रोल ,डीजल की बढ़ती कीमतों का विरोध क्या कांग्रेस एवं विपक्ष को सत्ता तक पहुँचायेगा ?  - शब्द (shabd.in)

पेट्रोल डीजल की बढ़ती कीमतों का विरोध क्या कांग्रेस को सत्ता तक पहुँचायेगा

डॉ शोभा भारद्वाज

10 सितम्बर पेट्रोल एवं डीजल की बढ़ती कीमतों के खिलाफ कांग्रेस ने भारत बंद का आह्वान किया है बंद का समर्थन 21 राजनीतिक दलों द्वारा किया गया है दिल्ली में धरना प्रदर्शन से पहले राहुल गांधी सहित बड़े नेता पहले राजघाट पहुंचे वहाँ से पैदल मार्च करते हुए रामलीला मैदान पर कांग्रेसी नेता एवं अन्य 16 राजनीतिक दलों के प्रतिनिधि धरने पर बैठ गये अन्य दलों जैसे सपा ,बसपा ने उत्तर प्रदेश में विरोध जताया, कम्यूनिस्टों ने जन्तर मन्तर पर प्रदर्शन किया एवं पश्चिमी बंगाल में त्रिन मूल कांग्रेस की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बढ़ती कीमतों का विरोध किया लेकिन कांग्रेस द्वारा बुलाये भारत बंद में साथ नहीं दिया| इस वर्ष छत्तीसगढ़ , मध्यप्रदेश ,राजस्थान में चुनाव होने वाले हैं 2019 के लोकसभा चुनाव भी पास आ रहे हैं स्पष्ट है चुनावों में बढ़ती महंगाई का मुद्दा गरमाया जाएगा एवं अन्य ज्वलंत मुद्दों पर एक जुटता दिखा कर मोदी सरकार को चुनौती देना विपक्षी दलों का मुख्य उद्देश्य है | मोदी सरकार की सत्ता को चुनौती देने एवं महागठबंधन को और मजबूती देने के लिए एक जुटता दिखाने की पूरी कोशिश की जा रही थी | पेट्रोल से अधिक डीजल की बढ़ती कीमतें महंगाई पर अधिक असर डालती हैं| लोकसभा चुनाव 1914 में भाजपा ने पेट्रोल डीजल की कीमतों को भी चुनावी मुद्दा बनाया था “बहुत हुई जनता पर डीजल पेट्रोल की मार ,अबकी बार बीजेपी सरकार” विपक्ष भी इसी मुद्दे को भुनाने की कोशिश कर रहा है

बंद का सबसे अधिक असर बिहार में देखा जा सकता है किसी भी विषय को लेकर रैली या बंद का आह्वान किया जाये बिहार सबसे आगे नजर आता है भीड़ हर बंद को सफल बनाने में जुट जाती है| रेलें रोकना ,सार्वजनिक सम्पत्ति को तोड़ना उपद्रवी तत्वों का जन्म सिद्ध अधिकार माना जाता है बसों एवं गाड़ियों पर इस कदर डंडे बरसाए गये ऐसा लगता है यह अपने देश की सरकार के बजाए विदेशी सरकार के विरुद्ध प्रदर्शन कर रहे हैं| किसी प्रदेश को बनाने में टेक्स पेयर का पैसा लगता है | बिहार की हालत यह है काफी समय से लोग रोजी रोटी की खोज में भारत के विभिन्न प्रदेशों में ख़ास कर राजधानी एवं बड़े शहरों में जाते हैं कुछ वहीं बस जाते है अब कुछ सिलसिला थमा है | महाराष्ट्र में भी उपद्रवी तत्व तोड़ फोड़ एवं हंगामा मचाने बाहर निकले |एमपी में 15 वर्षों से मुख्यमंत्री शिव राज सिंह की सरकार है वहां भी कांग्रेस कार्यकर्ता सरकार के विरुद्ध प्रदर्शन में अच्छे खासे उत्साहित दिखे| अपने ही प्रदेश की सार्वजनिक सम्पत्ति को नष्ट क्या उचित है? विरोध प्रदर्शन के लिए धरने, जलूस निकालना, जन सभायें करना सरकार की नीतियों के विरुद्ध विचार व्यक्त करना नारे लगाना संसद में उपस्थित रह कर सरकार की नीतियों पर प्रश्न उठाना आलोचना करना , समाचारपत्रों में निष्पक्ष लेख छपें एवं गोष्ठियों के माध्यम से जनता को जागरूक किया जा सकता है सत्ता तक पहुंचने के लिए तोड़ फोड़, रेल रोकना उस पर पथराव करना अपने प्रदेश के नागरिकों को परेशान करना अभिव्यक्ति की स्वतन्त्रता की श्रेणी नहीं आता|

विरोध है पेट्रोल एवं डीजल की बढ़ती कीमतों का जिससे महंगाई बढ़ रही है कहाँ है महंगाई? दिल्ली की सड़कों पर तीन –तीन लाल बत्तियों के बाद गाड़ियाँ सरकती है घंटों जाम में लोग फसे रहते हैं अक्सर एक गाड़ी पर एक सफेदपोश या एक महिला या ड्राईवर चलाता है पीछे की सीट पर बैठे एक महानुभाव नजर आते हैं | लम्बी दूरी भी अपनी गाड़ी से तय की जाती है |एक पान खाना है इसके लिए गाड़ी या दुपहिया वाहन निकाला जाता है कई परिवारों में परिवार के हरेक सदस्य की अपनी गाड़ी है पार्किंग की जगह नहीं है रोज झगड़े होते हैं पर गाड़ी रखने का शौक है| महानगरों ख़ास कर बम्बई एवं दिल्ली में अच्छा खासा पब्लिक ट्रांसपोर्ट सिस्टम है एवं मेट्रो है बहुत कम समय में गन्तव्य तक पहुंचा जा सकता है लेकिन रोज नोकरी के लिये जाने वाले अपनी गाड़ी से सफर करना स्टेट्स सिम्बल मानते हैं जाम में फसे रहने की परेशानी गाड़ियों का शोर से ब्लड प्रैशर बढ़ाता या घटाता है एक्सीडेंट का खतरा पोल्यूशन अलग से |यहाँ तक दूर दराज यात्रा पर जाते हैं चाहें तो बस या ट्रेन से सफर कर सकते हैं परन्तु अपनी गाड़ी से जाना शान समझा जाता है | प्रजातंत्र ने हमें अधिकार सिखाया है कर्तव्य ?किसी की सोच में भी नहीं है पैट्रोल कहाँ से आयेगा गाड़ी पैट्रोल की जगह पानी से चलेगी क्या ? सरकारों ने कृषि को प्रोत्साहित करने के लिए डीजल पर छूट दी उसका फायदा आम लोग भी उठाने लगे बाजार में डीजल की गाड़ियां आ गई अब सरकार धीरे धीरे छूट का दायरा कम कर रही है |

इन गाड़ियों में जलने वाला पेट्रोल एवं डीजल भारत में 80% मिडिल ईस्ट से आयात किया जाता है मिडिल ईस्ट एवं खाड़ी देश ऊर्जा के केंद्र बन गये हैं |अमेरिका एवं विकसित देश समृद्धि शाली देश कच्चे तेल के सबसे बड़ा आयातक देश हैं | अमेरिका के अलास्का में तेल के जखीरे हैं लेकिन वहाँ पर तेल निकालना महंगा पड़ता हैं इसके अलावा वह अपने तेल को भविष्य के लिए बचा कर रखने के लिए मिडिल ईस्ट से सस्ता तेल आयात करना चाहता है अत : तेल उत्पादक देशों की सत्ता पर अपना प्रभाव वनाने की पूरी कोशिश रहती है कई वर्षों से पूरा मिडिल ईस्ट जल रहा है ईरानी क्रांति के बाद ईरान इराक का युद्ध वर्षीं तक चला जिसमें कच्चे तेल के दाम कभी घटे कभी बढ़े जैसे ही तेल के दाम बढ़ते हैं कई देशों की इकोनोमी पूरी तरह हिल जाती है |तेल की खरीद या तो बार्टर सिस्टम से होती है अर्थात कच्चे तेल के बदले सामान , हमारे देश से प्याज ,दूध का पाउडर कई तरह की खाने की वस्तुयें या जो उस मुल्क की आवश्यकता है सस्ते भाव में भेजी जाती हैं अब अमेरिका के समुद्र तटों पर शेल आयल एवं गैस के बड़े भंडार मिले हैं|

तेल आराम से मिलता रहे इसके लिए पूरी आयल डिप्लोमेसी है | शक्तिशाली देशों के लिए यह क्षेत्र अखाड़ा है | विश्व की बड़ी ताकतों का सबसे अधिक ध्यान इन्हीं क्षेत्रों पर लगा रहता है क्योंकि यहाँ ‘काला सोना’ है इनसे व्यापार कर देश अपनी अर्थ व्यवस्था सुधार सकते हैं | जब इस क्षेत्र की शांति भंग होती है हथियार डीलरों की चांदी हो जाती है | वह हथियारों की सप्लाई का रास्ता ढूंढने लगते हैं | उस मुल्क की बर्बादी के बाद वहां का फिर से जीर्णोद्धार होगा कंस्ट्रक्शन कंपनियां अपने लिए अच्छा भविष्य खोजने लगती हैं| रशिया इस क्षेत्र पर अपना वर्चस्व खोना नहीं चाहता यह उसका पुराना क्षेत्र हैं | काफी समय से इस्लामिक कटटर पंथी काला सोना वाले क्षेत्रों में अपनी आँखे गड़ाये हैं |वह तेल पर अधिकार जमाने के लिए तैयार हैं उनके नेता जवान पीढ़ी को इस्लामिक राज्य का सपना दिखा कर जेहादियों की फौज तैयार कर रहे हैं वह ज्यादातर दबाब की राजनीति से धन इकट्ठा करते थे अब उन्हें देश चाहिए जहां से वह अपनी इस्लामिक क्रांति का निर्यात दूसरे मुल्कों में कर सकें| इसी का परिणाम इस्लामिक स्टेट की विचारधारा थी इराक बर्बाद हो रहा था सीरिया का हाल बेहाल है , हर तेल पैदा करने वाला देश खतरे में है कट्टर पंथी दीन के नाम पर सिर उठा रहे हैं सउदिया इन इस्लामिक कटटर पंथियों को चौथ दे कर अपने को किसी तरह बचाये हुये है कट्टर पंथी मक्का पर कब्जा करने की ताक में रहते हैं सुउदिया को पूरा खाने को तैयार हैं |

कच्चे तेल की कीमत कुछ देश डालर में चाहते हैं ईरान काफी समय से नकद भुगतान का इच्छुक रहा है यह डालर पेड़ पर नहीं उगता न इसे हम छाप सकते है यह तो शुक्र है विदेशों में नौकरी करने वाले भारतीय अपने देश में डालर भेजते हैं जिनमें सबसे प्रमुख आईटी क्षेत्र है| यदि हवाले के रास्ते पैसा भेजने लगे तो डालर वहीं के बैंकों में काले धन के रूप में जमा हो जाएगा और यहाँ पर रूपया ही मिलेगा| अधिक लाभ पाने के लालच में काफी लोग अपना पैसा बैंक के जरिये न भेज कर हवाले से भेज देते हैं| क्रूड आयल की सप्लाई निरंतर चलती रहे इराक ईरान युद्ध में हमारे देश ने सद्दाम सरकार की मदद की थी वह मुल्क बना रहे और हमें पुराने भाव पर तेल मिलता रहें | तेल पैदा करने वाले देश काले सोने का महत्व बहुत अच्छी तरह समझ चुके है उन्होंने तेल की अच्छी कीमते लेने के लिए संगठन बना लिए हैं ओपेक संगठन के माध्यम से वह कोशिश करते हैं तेल पैदा करने वाले देशों को तेल की अच्छी कीमत मिले कोई भी देश अपनी जरूरत के लिए तेल को सस्ते भाव पर न बेच दे |

2016 की शुरुआत में तेल की सप्लाई बढ़ने से तेल की कीमतें 30 -35 डॉलर प्रति बैरल के आसपास पहुंच गई थीं। अत : उत्पादन घटाने के लिए ओपेक एवं अन्य तेल उत्पादक देशों ने 2016 नवम्बर को एक समझौता किया था जो अब भी जारी है, तेल उत्पादक देश निर्धारित कोटे के अनुसार ही तेल निकालें तेल का बड़ा उत्पादक देश रूस भी ओपेक का सहयोग कर रहा था उसने क्रूड आयल के उत्पादन में कमी की है जिससे तेल की घटती कीमतों पर नियन्त्रण लगा |गद्दाफी का तख्ता पलटने के बाद लीबिया में राजनीतिक अस्थिरता है तेल उत्पादक देश वेनेजुएला में दो वर्षों से क्रूड आयल का उत्पादन लगातार घट रहा है जिससे वहाँ डालर की कीमत लगातार घट रही है तंगहाली के हालात हैं लोग सत्ता के खिलाफ हो रहे हैं |ट्रम्प सरकार ने ओबामा द्वारा किये गये ईरान से हुए परमाणु करार को रद्द कर दिया अब पुन ईरान पर प्रतिबन्ध लगाने की तैयारी हो रही हैं जिसका असर तेल की बिक्री पर पड़ेगा ईरान की सरकार को अपने नागरिकों को उनकी जरूरत के सामान पर रखना आता है, तंगहाली में विरोध की आवाज उठेगी उन्हें यह कह कर दबा लेंगे ' जद्दे इस्लाम” हो काफिर सामने वालों के मुहँ पर ताला लग जाता है |

हमारे देश का बहुत बड़ा वर्ग इस बात को समझने के लिए तैयार ही नहीं है कि तेल हमारे देश में बाहर से आता है | एक खास वर्ग की अय्याशी और बहुत बड़ें वर्ग का दुख | क्रूड आयल पैदा करने वाले देशों के नागरिकों का जीवन सुख सुविधा से परिपूर्ण था लेकिन इन देशों में परिवर्तन की बयार चलने लगी कहीं प्रजातंत्र के लिए जागरूकता आई कहीं इस्लामिक विचारधारा ने सिर उठाया जैसे बगदादी सत्ता पर कब्जा करना चाह रहा था ईराक सीरिया बर्बाद हो गये वहाँ के लोग जीवन बचाने के लिए शरणार्थी बनकर योरोपियन देशों के दरवाजे पर खड़े हैं |गृह युद्ध में फंसे लोगों को रोटी के साथ प्याज और आलू मिल जाएँ खुदा का शुक्र मान कर माथे से लगाते हैं हमारे यहाँ प्याज के नाम पर सरकारें बदल जाती हैं |

कई देशों में कच्चा तेल के भंडार खत्म हो रहें हैं या कुछ वर्षों बाद खत्म हो जायेंगे दूसरे साधन जरूरी नहीं है सस्ते हों | देश के 26 राज्यों में पेट्रोल पर वैट की दर लगभग 25 प्रतिशत है। मुंबई में वैट की दर सबसे ज्यादा 48.98 प्रतिशत है उस पर एक्साईज ड्यूटी भी लगती है चुनावों को देखते हुए राजस्थान की भाजपा सरकार ने 4% वेट कम कर दिया गया आंध्रा ने दो रुपया दाम घटा दिया लेकिन राज्य सरकारे दाम कम करने की इच्छुक नहीं हैं |जब क्रूड आयल के दाम में गिरावट आती है मार्किट से जुड़े होने के बाद भी सरकार एक्साईज ड्यूटी बढ़ा देती है | आर्थिक सलाहकार चाहते हैं पेट्रोल एवं डीजल को जीएसटी से जोड़ दिया जाए | हमारा भी अपने देश के प्रति फर्ज है डीजल एवं पेट्रोल की खपत कम करें पब्लिक ट्रांसपोर्ट का इस्तेमाल करें |सिंगापुर जैसे देशों में कार पर जाना चाहे जाएँ लेकिन मोटा टैक्स लगेगा गलती पर चालन | अच्छे खासे कमाने वाले लोग मैट्रो से सफर करते हैं ख़ास मौकों पर कैब लेते हैं |

पेट्रोल ,डीजल की बढ़ती कीमतों का विरोध क्या कांग्रेस एवं विपक्ष को सत्ता तक पहुँचायेगा ?  - शब्द (shabd.in)

अगला लेख: गणपति बप्पा मोरया



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x