सनातन हिन्दू :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

21 दिसम्बर 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (35 बार पढ़ा जा चुका है)

सनातन हिन्दू :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

*आदिकाल में जब सृष्टि का प्रादुर्भाव हुआ तो इस संपूर्ण धरा धाम पर सनातन धर्म एवं सनातन धर्म के मानने वाले लोगों के अतिरिक्त न तो कोई धर्म था और न ही कोई पंथ | सनातन धर्म ने ही संपूर्ण सृष्टि को आगे बढ़ने का मार्ग दिखाया | संसार के समस्त ज्ञान इसी दिव्य सनातन धर्म से प्रसारित हुये | सृष्टि के साथ ही उत्पन्न हुए चारों वेद , जिनमें इस संसार में घटित होने वाली सारी घटनाओं एवं मनुष्य को जीवन जीने के लिए आवश्यक ज्ञान का प्रसार है | समय के साथ इस धरा धाम पर अनेकों धर्म एवं अनेकों पंथ प्रकट हो गये | आज संपूर्ण विश्व में इतने धर्म हो गए हैं , इतने पंथ हो गए हैं जिनकी गिनती कर पाना मुश्किल ही नहीं बल्कि असंभव है परंतु यह भी सत्य है कि इन सभी धर्मों / पंथों का मूल सनातन धर्म है , और कभी ना कभी इसका प्रमाण भी मिलता रहा है | किसी भी धर्म की मान्यताओं में सनातन धर्म का सम्मिश्रण देखने को अवश्य मिल जाता है जिससे इस बात की पुष्टि होती है कि सभी धर्म / सभी पंथ सनातन धर्म की ही शाखायें हैं | सनातन धर्म हिंदू धर्म कहा जाने लगा है और उसके प्रणेता ऋषि महर्षियों को भी हिंदू कहा गया है | सनातन हिंदू धर्म संपूर्ण विश्व में आदिकाल से ही अपनी कीर्ति पताका फहरााे रहा है | इतिहास गवाह है कि इस धरा धाम पर सनातन हिंदू के अतिरिक्त न तो कोई सभ्यता थी और न ही कोई संस्कृति | इसका प्रमाण समय-समय पर सबके सामने आता रहा है | सनातन धर्म की दिव्यता एवं इसका विस्तार किसी सीमा या बंधन बंधने वाला नहीं है |* *आज भी विश्व के किसी भी कोने में यदि प्राचीन भवनों की खुदाई होती है तो उसमें कहीं न कहीं से हिंदू धर्म के प्रतीक देवी देवताओं की मूर्तियां या पूजन पात्र मिल ही जाते हैं | अभी इसी सप्ताह में इस्लामिक देश मिश्र के इजिप्ट में एक पिरामिड की खुदाई की गई जिसमें ४,४०० वर्ष प्राचीन मकबरा मिला जिस की खुदाई करने पर वहां देवी देवताओं की मूर्तियां एवं दीवारों पर हिंदू देवी देवताओं के चित्र अंकित मिले | आज यह चर्चा का विषय बना हुआ है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" यह सोच कर आश्चर्यचकित रह जाता हूं कि सबसे प्राचीन सभ्यता का वाहक होने के बाद भी आज हिंदू इतना विभाजित क्यों और कैसे हो गया ?? इसके कारण पर दृष्टि डालने पर यही मिलता है कि हिंदू को विभाजित करने में सबसे बड़ा कारण जातिवाद का जहर एवं उच्च एवं दलित की राजनीति है , जिसकी जड़ में राजनीतिक दल लगातार पानी दे रहे हैं | आज हिंदुओं को विचार करना होगा कि हम कभी एक होकर के संपूर्ण विश्व पर शासन किया करते थे और आज हम अपने देश भारत में ही उपेक्षित जीवन जीने को मजबूर हो रहे हैं , तो इसका क्या कारण है ?? आज जातिगत दुर्भावना से ऊपर उठते हुए प्रत्येक हिन्दू को एक होने की आवश्यकता है , क्योंकि हम इस सृष्टि के सबसे प्राचीन सभ्यता के वाहक है | आज यदि हमारे साथ अन्याय / अत्याचार हो रहा है तो इसका कारण सिर्फ हमारी आपस की जातिवादीता ही है | जिस दिन सनातन हिंदू जातिगत भेदभाव से ऊपर उठकरके एक हो जाएगा उस दिन पुन: संपूर्ण विश्व में सनातन कि धर्म ध्वजा फहरायेगी |* *दलगत राजनीति हमें कभी जातिगत भावनाओं से ऊपर नहीं उठने देगी अत: हमें जागृत होना होगा | इन जातिगत भावनाओं से ऊपर और उठना होगा |*

अगला लेख: अहिंसा परमो धर्म: :---- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
24 दिसम्बर 2018
क्रिसमस के मौके पर हर घर में छोटे से लेकर बड़े क्रिसमस ट्री को बेहद आकर्षक ढंग से सजाया जाता है। गिफ़्ट, लाइट और मोमबत्तियों से सजा क्रिसमस ट्री बेहद सुंदर दिखता है, लेकिन क्या कभी आपने सोचा क्रिसमस ट्री को सजाने की शुरुआत कैसे हुई और इसे क्यों सजाया जाता है? zoomऐसा माना जाता है मशहूर संत बोनिफेस जब
24 दिसम्बर 2018
24 दिसम्बर 2018
क्रिसमस के मौके पर हर घर में छोटे से लेकर बड़े क्रिसमस ट्री को बेहद आकर्षक ढंग से सजाया जाता है। गिफ़्ट, लाइट और मोमबत्तियों से सजा क्रिसमस ट्री बेहद सुंदर दिखता है, लेकिन क्या कभी आपने सोचा क्रिसमस ट्री को सजाने की शुरुआत कैसे हुई और इसे क्यों सजाया जाता है? zoom ऐसा माना
24 दिसम्बर 2018
11 दिसम्बर 2018
*अखिलनियंता , अखिल ब्रह्मांड नायक परमपिता परमेश्वर द्वारा रचित सृष्टि का विस्तार अनंत है | इस अनंत विस्तार के संतुलन को बनाए रखने के लिए परमात्मा ने मनुष्य को यह दायित्व सौंपा है | परमात्मा ने मनुष्य को जितना दे दिया है उतना अन्य प्राणी को नहीं दिया है | चाहे वह मानवीय शरीर की अतुलनीय शारीरिक संरचन
11 दिसम्बर 2018
18 दिसम्बर 2018
*इस सृष्टि में परमात्मा की अनुपम कृति मनुष्य कहीं गयी है | इससे सुंदर शायद कोई रचना परमात्मा ने नहीं किया | सभी प्राणियों में मनुष्य सर्वश्रेष्ठ इसलिए है क्योंकि ईश्वर ने उसको सोचने समझने की शक्ति दी है , और हमारे महापुरुषों ने स्थान - स्थान पर मनुष्य को सचेत करते हुए पहले मनन करने फिर क्रियान्वयन
18 दिसम्बर 2018
08 दिसम्बर 2018
*परमात्मा द्वारा बनाई हुई सृष्टि आदिकाल से गतिशील रही है | गति में निरंतरता बनाए रखने के लिए इस संसार की प्रत्येक वस्तु कहीं न कहीं से नवीन शक्तियां प्राप्त करती रहती है | इस संसार में चाहे सजीव वस्तु हो या निर्जीव सबको अपनी गतिशीलता बनाए रखने के लिए आहार की आवश्यकता होती है | किसी भी जीव को अपनी गत
08 दिसम्बर 2018
24 दिसम्बर 2018
*सनातन धर्म इतना दिव्य एवं विस्तृत है कि यहाँ मानव जीवन में उपयोगी सभी तत्वों का विशेष ध्यान रखा गया है | सनातन धर्म में अन्य देवी - देवताओं की पूजा के साथ ही प्रकृति पूजन का विशेष ध्यान रखा गया है , इसी विषय में आज हम बात करेंगे २५ दिसंबर अर्थात "तुलसी पूजन दिवस" की | मानव जीवन के लिए तुलसी कितनी उ
24 दिसम्बर 2018
18 दिसम्बर 2018
*परमात्मा की बनाई हुई यह महान सृष्टि इतनी रहस्यात्मक किससे जानने और समझने मनुष्य का पूरा जीवन व्यतीत हो जाता है , परंतु वह सृष्टि के समस्त रहस्य को जान नहीं पाता है | ठीक उसी प्रकार इस धरा धाम पर मनुष्य का जीवन भी रहस्यों से भरा हुआ है | मानव के रहस्य को आज तक मानव भी नहीं समझ पाया है | इन रहस्यों क
18 दिसम्बर 2018
08 दिसम्बर 2018
*परमात्मा द्वारा बनाई हुई सृष्टि आदिकाल से गतिशील रही है | गति में निरंतरता बनाए रखने के लिए इस संसार की प्रत्येक वस्तु कहीं न कहीं से नवीन शक्तियां प्राप्त करती रहती है | इस संसार में चाहे सजीव वस्तु हो या निर्जीव सबको अपनी गतिशीलता बनाए रखने के लिए आहार की आवश्यकता होती है | किसी भी जीव को अपनी गत
08 दिसम्बर 2018
20 दिसम्बर 2018
हम आपके लिए 11 बहुत ही खूबसूरत तस्वीरें लेकर आए हैं। आज की तस्वीरों पर आपको गर्व जरूर होगा। क्योंकि ये तस्वीरें हिंदू मुस्लिम एकता का प्रतीक है। भारत में सैकड़ों धर्म मौजूद है। यहां पर हिंदू और मुस्लिम दो मुख्य धर्म है। इन दोनों धर्मो को मानने वाले करोड़ों लोग इस देश में रहते हैं दोनों ही समुदाय के
20 दिसम्बर 2018
11 दिसम्बर 2018
*ईश्वर ने मनुष्य को इस संसार में सारी सुख सुविधाएं प्रदान कर रखी है | कोई भी ऐसी सुविधा नहीं बची है जो ईश्वर ने मनुष्य को न दी हो | सब कुछ इस धरा धाम पर विद्यमान है आवश्यकता है कर्म करने की | इतना सब कुछ देने के बाद भी मनुष्य आज तक संतुष्ट नहीं हो पाया | मानव जीवन में सदैव कुछ ना कुछ अपूर्ण ही रहा ह
11 दिसम्बर 2018
18 दिसम्बर 2018
*सनातन धर्म में तपस्या का बहुत बड़ा महत्व बताया गया है | किसी भी अभीष्ट को प्राप्त करने के लिए उसका लक्ष्य करके तपस्या करने का वर्णन पुराणों में जगह जगह पर प्राप्त होता है | तपस्या करके हमारे पूर्वजों ने मनचाहे वरदान प्राप्त किए हैं | तपस्या का वह महत्व है , तपस्या के बल पर ब्रह्माजी सृजन , विष्णु ज
18 दिसम्बर 2018
15 दिसम्बर 2018
*इस धरा धाम पर ईश्वर ने मनुष्य को विवेकवान बनाकर भेजा है | मनुष्य इतना स्वतंत्र है कि जो भी चाहे वह सोच सकता है , जो चाहे कर सकता है , किसी के किए हुए कार्य पर मनचाही टिप्पणियां भी कर सकता है | इतना अधिकार देने के बाद भी उस परमपिता परमात्मा ने मनुष्य को स्वतंत्र नहीं किया है | मनुष्य किसी भी कार्य
15 दिसम्बर 2018
20 दिसम्बर 2018
हाल ही में पांच राज्यों राजस्थान, मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, तेलंगाना और मिजोरम में चुनाव सम्पन्न हुए। इन विधानसभा चुनावों में जनता को लुभाने के लिए चुनावी पार्टियों ने खूब वादे किए। किसी ने किसानों का कर्ज माफ करने की बात कही तो किसी ने पानी की समस्या दूर करने की बात की तो किसी राजनीतिक पार्टी ने राम क
20 दिसम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x