नैतिकता :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

01 जनवरी 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (41 बार पढ़ा जा चुका है)

नैतिकता :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*संपूर्ण संसार में मनुष्य अपने दिव्य चरित्र एवं बुद्धि विवेक के अनुसार क्रियाकलाप करने के कारण ही सर्वोच्च प्राणी के रूप में स्थापित हुआ | मनुष्य का पहला धर्म होता है मानवता , और मानवता का निर्माण करती है नैतिकता ! क्योंकि नैतिक शिक्षा की मानव को मानव बनाती है | नैतिक गुणों के बल पर ही मनुष्य वंदनीय हो करके अपनी सच्चरित्रता के बल पर ही धन-दौलत सुख और वैभव की नींव खड़ी करता है | हमारे देश भारत की नैतिकता इतनी दिव्य थी कि संपूर्ण विश्व ने इससे शिक्षा ग्रहण करके आगे बढ़ना सीखा | नैतिकता की चर्चा हो रही है तो यह जान लेना आवश्यक कि नैतिकता के मुख्य अंग क्या है ?? हमारे शास्त्रों में बताया गया है कि सत्य बोलना , चोरी न करना , अहिंसा , अपने ऊपर उपकार करने वाले के प्रति अपकारी न होना , दूसरों के प्रति उदारता , विनयशीलता , शिष्टता , सुशीलता एवं कृतज्ञता नैतिकता के मुख्य अंग माने गये हैं | मनुष्य द्वारा किए गए किसी भी निर्णय में नैतिकता का मुख्य स्थान होता है | नैतिकता की भूमिका वांछित या अवांछित क्या है यह स्थापित करने में निहित है , इस प्रकार नैतिकता सही और गलत अवधारणाओं को स्थापित करती है , जिससे मनुष्य अपने नैतिक मूल्यों का पालन करके समाज में स्थापित होता है | प्राचीनकाल में हमारे देश में नैतिक मूल्यों का पालन करके ही हमारे पूर्वजों ने एक उदाहरण प्रस्तुत किया था | सभी सभी प्रकार शिक्षाओं के साथ में नैतिक शिक्षा भी एक विषय हुआ करता था , जिसको पढ़कर के छात्र नैतिक मूल्यों का अर्थ समझ सकते थे और उसका पालन करने का प्रयास भी करते थे | आज विद्यालयों से नैतिक शिक्षा का पठन-पाठन बिल्कुल बंद हो गया है जिसका परिणाम भी दिखाई पड़ रहा है |* *आज संपूर्ण विश्व में नैतिक मूल्यों का पतन हो गया है यही कारण है की मानव मानव में प्रतिदिन संघर्ष एवं टकराव होते रहते हैं | जहां एक ओर आज का मनुष्य विकसित एवं विकासशील हो गया है वहीं दूसरी ओर मानव समाज के नैतिक मूल्यों में एक अभूतपूर्व गिरावट भी हुई है | नैतिकता का अर्थ ही बदल कर रह गया है | सच्चरित्रता का लगभग लोप हो गया है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" आज के समाज को देखकर यह कह सकता हूं कि जिन्होंने अपने माता पिता का तिरस्कार करके उनको या तो घर में उपेक्षित जीवन जीने पर बाध्य कर दिया है या फिर वृद्धाश्रम में छोड़ आये हैं वही लोग बड़े-बड़े मंचों से जनमानस को नैतिकता का पाठ पढ़ा रहे हैं | अनेक ऐसे विद्वान भी आज कथा मंच पर बैठकर के अपने सामने उपस्थित सत्संग प्रेमियों को नैतिकता का पाठ पढ़ाते हुए देखे जा रहे हैं जो अपने पूज्यजनों के प्रति कृतघ्न हैं और जिन्होंने अपनी नैतिक मूल्यों का कभी अवलोकन ही नहीं किया | आज के समाज को देख कर के तुलसी बाबा की एक चौपाई याद आ जाती है :- "पर उपदेश कुशल बहुतेरे ! जे आचरहिं ते नर न घनेरे !!" दूसरों को उपदेश देने वाले यदि अपने जीवन में उन चीजों को उतारने का प्रयास करें तब तो हमारा समाज आगे बढ़ सकता है अन्यथा यह कोरा भाषण की कहा जा सकता है जिसका कोई अर्थ नहीं है |* *आज आवश्यकता है कि हम अपनी नैतिक मूल्यों का अवलोकन करें कि हम जो दूसरों को बता रहे हैं क्या उसका पालन हमने किया है | जिस दिन मनुष्य की यह अवधारणा बन जाएगी उस दिन नैतिकता स्वयं स्थापित हो जाएगी |*

अगला लेख: सनातन हिन्दू :---- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
21 दिसम्बर 2018
*इस धराधाम पर जन्म लेने के बाद प्रत्येक मनुष्य एक सुंदर एवं व्यवस्थित जीवन जीने की कामना करता है | इसके साथ ही प्रत्येक मनुष्य अपनी मृत्यु के बाद स्वर्ग जाने की इच्छा भी रखता है | मृत्यु होने के बाद जीव कहां जाता है ? उसकी क्या गति होती है ? इसका वर्णन हम धर्मग्रंथों में ही पढ़ सकते हैं | इन धर्म ग्
21 दिसम्बर 2018
18 दिसम्बर 2018
*सनातन धर्म में तपस्या का बहुत बड़ा महत्व बताया गया है | किसी भी अभीष्ट को प्राप्त करने के लिए उसका लक्ष्य करके तपस्या करने का वर्णन पुराणों में जगह जगह पर प्राप्त होता है | तपस्या करके हमारे पूर्वजों ने मनचाहे वरदान प्राप्त किए हैं | तपस्या का वह महत्व है , तपस्या के बल पर ब्रह्माजी सृजन , विष्णु ज
18 दिसम्बर 2018
18 दिसम्बर 2018
*आदिकाल से संपूर्ण विश्व में भारत अपने ज्ञान विज्ञान के कारण सर्वश्रेष्ठ माना जाता रहा है | हमारे देश में मानव जीवन संबंधित अनेकानेक ग्रंथ महापुरुषों के द्वारा लिखे गए इन ग्रंथों को लिखने में उन महापुरुषों की विद्वता के दर्शन होते हैं | जिस प्रकार एक धन संपन्न व्यक्ति को धनवान कहा जाता है उसी प्रकार
18 दिसम्बर 2018
18 दिसम्बर 2018
सनातन धर्म में मानव जीवन को दिव्य बनाने के लिए सोलह संस्कारों की व्यवस्था हमारे महापुरुषों के द्वारा बनाई गई थी | मनुष्य के जन्म लेने के पहले से प्रारंभ होकर की यह संस्कार मनुष्य की मृत्यु पर पूर्ण होते हैं | मनुष्य जीवन का सोलहवां संस्कार , "अंतिम संस्कार" कहा गया है | मनुष्य की मृत देह को पंच तत्व
18 दिसम्बर 2018
21 दिसम्बर 2018
*मनुष्य अपने जीवन में अनेकों प्रकार के क्रियाकलाप करता रहता है , जिसमें से कुछ सकारात्मक होते हैं तो कुछ नकारात्मक | जैसे मनुष्य के क्रियाकलाप होते हैं वैसा ही उसको फल प्राप्त होता है | इन्हीं क्रियाकलापों में छल कपट आदि आते हैं | छल कपट करने वाला ऐसा कृत्य करते समय स्वयं को बहुत बुद्धिमान एवं शेष स
21 दिसम्बर 2018
21 दिसम्बर 2018
*मनुष्य अपने जीवन में अनेकों प्रकार के क्रियाकलाप करता रहता है , जिसमें से कुछ सकारात्मक होते हैं तो कुछ नकारात्मक | जैसे मनुष्य के क्रियाकलाप होते हैं वैसा ही उसको फल प्राप्त होता है | इन्हीं क्रियाकलापों में छल कपट आदि आते हैं | छल कपट करने वाला ऐसा कृत्य करते समय स्वयं को बहुत बुद्धिमान एवं शेष स
21 दिसम्बर 2018
21 दिसम्बर 2018
*इस संसार में मनुष्य अपने जीवनकाल में कुछ कर पाये या न कर पाए परंतु एक काम करने का प्रयास अवश्य करता है , वह है दूसरों की नकल करना | नकल करने मनुष्य ने महारत हासिल की है | परंतु कभी कभी मनुष्य दूसरों की नकल करके भी वह सफलता नहीं प्राप्त कर पाता जैसी दूसरों ने प्राप्त कर रखी है , क्योंकि नकल करने के
21 दिसम्बर 2018
18 दिसम्बर 2018
*परमपिता परमात्मा ने विशाल सृष्टि की रचना कर दी और इस दृष्टि का संचालन करने के लिए किसी विशेष व्यक्ति या किसी विशेष पद का चयन नहीं किया | चौरासी लाख योनियां इस सृष्टि पर भ्रमण कर रही है परंतु इन को नियंत्रित करने के लिए उस परमात्मा ने कोई अधिकारी तो नहीं किया परंतु परमात्मा ने मनुष्य के सहित अनेक ज
18 दिसम्बर 2018
21 दिसम्बर 2018
*इस संसार में मनुष्य अपने जीवनकाल में कुछ कर पाये या न कर पाए परंतु एक काम करने का प्रयास अवश्य करता है , वह है दूसरों की नकल करना | नकल करने मनुष्य ने महारत हासिल की है | परंतु कभी कभी मनुष्य दूसरों की नकल करके भी वह सफलता नहीं प्राप्त कर पाता जैसी दूसरों ने प्राप्त कर रखी है , क्योंकि नकल करने के
21 दिसम्बर 2018
21 दिसम्बर 2018
*संपूर्ण विश्व में अपनी संस्कृति हम सभ्यता के लिए हमारे देश भारत नें सर्वोच्च स्थान प्राप्त किया था | हम ऐसे देश के निवासी है जिसकी संस्कृति एवं सभ्यता का अनुगमन करके संपूर्ण विश्व आगे बढ़ा | यहां पर पिता को यदि सर्वोच्च देवता माना जाता था तो माता के कदमों में स्वर्ग देखा जाता था | यह वह देश है जहां
21 दिसम्बर 2018
18 दिसम्बर 2018
*सनातन धर्म में ब्रह्मा विष्णु महेश के साथ 33 करोड़ देवी - देवताओं की मान्यताएं हैं | साथ ही समय-समय पर अनेकों रूप धारण करके परम पिता परमात्मा अवतार लेते रहे हैं जिनको भगवान की संज्ञा दी गई है | भगवान किसे कहा जा सकता है इस पर हमारे शास्त्रों में मार्गदर्शन करते हुए लिखा है :-- ऐश्वर्यस्य समग्रस्य ध
18 दिसम्बर 2018
18 दिसम्बर 2018
*इस धरा धाम पर जन्म लेकरके मनुष्य का लक्ष्य रहा है भगवान को प्राप्त करना | आदिकाल से मनुष्य इसका प्रयास भी करता रहा है | परंतु अनेकों लोग ऐसे भी हुए हैं जिन्होंने भगवान का दर्शन पाने के लिए अपना संपूर्ण जीवन व्यतीत कर दिया परंतु उनको भगवान के दर्शन नहीं हुए | वहीं कुछ लोगों ने क्षण भर में भगवान का द
18 दिसम्बर 2018
18 दिसम्बर 2018
*इस धरा धाम पर जन्म लेकरके मनुष्य का लक्ष्य रहा है भगवान को प्राप्त करना | आदिकाल से मनुष्य इसका प्रयास भी करता रहा है | परंतु अनेकों लोग ऐसे भी हुए हैं जिन्होंने भगवान का दर्शन पाने के लिए अपना संपूर्ण जीवन व्यतीत कर दिया परंतु उनको भगवान के दर्शन नहीं हुए | वहीं कुछ लोगों ने क्षण भर में भगवान का द
18 दिसम्बर 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x