गुरु की भूमिका में हमारे धर्मग्रंथ :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

13 अक्तूबर 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (428 बार पढ़ा जा चुका है)

गुरु की भूमिका में हमारे धर्मग्रंथ :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*सृष्टि के आदिकाल में परब्रह्म के द्वारा वेदों का प्राकट्य हुआ | वेदों को सुनकर हमारे ऋषियों ने शास्त्रों की रचना की | उन्हीं को आधार मानकर हमारे महापुरुषों के द्वारा अनेकानेक ग्रंथों की रचना की गयी जो कि मानव मात्र के लिए एक मार्गदर्शक की भूमिका में रहे हैं | इन ग्रंथों का मानव जीवन में बहुत ही महत्त्व है | सनातन धर्म के ग्रंथ तब संसार में प्रचलित हुए जब संसार में न तो अन्य धर्म था और न ही धर्मग्रंथ | इन ग्रंथों का जीवन में क्या महत्त्व है इसे इस प्रकार समझा जा सकता है कि मनुष्य को अपने जीवन में सफलता प्राप्त करने के लिए एक गुरु तथा मार्गदर्शक की जरूरत होती है | यह सत्य है कि प्रत्येक मनुष्य गुरु की शरण में जाता है परंतु यह भी सत्य है कि ग्रंथ हमारे गुरु हैं | ग्रंथों से हम लोगों को बहुत कुछ सीखने को मिलता है | ग्रंथों से हमें अपने धर्म तथा अपनी संस्कृति के बारे में पता चलता है | ग्रंथों में लिखी हुई बातें हमें सही रास्ते पर चलने की शिक्षा देती हैं , सांसारिक ज्ञान के साथ साथ हमारे ग्रंथ हमें हमारे जीवन की वास्तविकता से भी परिचित कराते हैं जिसे जानकर हम मुक्ति भी प्राप्त कर सकते हैं | हमारे सनातन ग्रंथों में जीवन का अर्थ बताया गया है | हमारे धर्म ग्रंथों की जानकारी रखना सभी के लिए अनिवार्य है चाहे वह कोई भी हो किसी भी जाति का हो | हमारे धर्म ग्रंथों का ज्ञान ऐसी जानकारी कराता है जिससे हमें अपने कौशल तथा अपनी सोच का विकास करने का मौका मिलता है | ग्रंथों को पढ़कर प्राप्त हुए ज्ञान के माध्यम से हम अपने आप को एक जागरूक तथा जिम्मेदार नागरिक की तरह शिक्षित कर सकते हैं | ग्रंथों को पढ़ना तभी सार्थक हो सकता है जब हम उन्हें पढ़कर उनमें दी गयी सकारात्मक बातों को अपने जीवन में ढालने का प्रयास करें | धर्म ग्रंथ ही जीवन में एक सच्चे सद्गुरु की भूमिका निभाते हैं | ग्रंथों में अनर्गल कुछ भी नहीं लिखा है क्योंकि इन सभी ग्रंथों का आधार स्वयंभू वेद ही हैं , और वेद किसी के द्वारा लिखे न हो करके ईश्वर की वाणी मानी जाती है , और ईश्वर कभी भी अनर्गल नहीं बोल सकता | इसलिए इन ग्रंथों पर विश्वसनीयता बनाए रखते हुए उनमें बताई गई बातों को जीवन में उतारने का प्रयास करना चाहिए |*


*आज हम जिस युग में जीवन यापन कर रहे इससे कलियुग कहा जाता है , जहां असत्य एवं अनाचार का साम्राज्य है | ऐसे में हमारे धर्म ग्रंथों में भी सनातन धर्म को तोड़ने के उद्देश्य विरोधियों के द्वारा अनेक प्रकार के तथ्यों को अलग से जोड़ दिया गया है | जिससे एक सनातन धर्मी के हृदय में संशय की स्थिति उत्पन्न हो जाती है | ऐसी स्थिति में मनुष्य को चिंतन करना चाहिए | कभी-कभी यह स्थिति तब भयावह हो जाती है जब आज का आधुनिक मनुष्य अपने धर्म ग्रंथों का अध्ययन ना करके सब कुछ गूगल पर ही प्राप्त करना चाहता है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी' बताना चाहूंगा सनातन कि विरोधियों के द्वारा (मुगल काल से लेकर के अंग्रेजों के शासन तक ) सनातन के ग्रंथों में वर्णित कुछ श्लोकों के अर्थों का अनर्थ करके आम जनमानस के सामने प्रस्तुत किया गया | क्योंकि विदेशी आक्रांताओं ने यह जान लिया था कि भारत की समृद्धि का कारण सनातन ग्रंथ ही हैं | यहां सनातन ग्रंथों की इतनी मान्यता है कि लोग इसके विपरीत आचरण नहीं कर सकते हैं | इसी मानसिकता के साथ जितना आक्रमण हमारे देश के मंदिरों पर किया गया उससे कहीं ज्यादा सनातन के ग्रंथों के को भी लक्ष्य बनाकर के उसने ऐसे ऐसे तथ्यों का समावेश कर दिया गया जिससे आम जनमानस व आने वाली पीढ़ी भ्रमित हो जाए , और एक सनातनी होकर के भी सनातन का विरोध करने पर विवश हो जाए | इन तथ्यों को जान लेने के बाद एक सच्चे सनातनी को अपने धर्म ग्रंथ के ऊपर पूर्ण निष्ठा के साथ विश्वास करते हुए उनमें उत्पन्न संशय की स्थिति को अपने श्रेष्ठ पुरुषों के सामने रख कर के शंका का समाधान अवश्य कर लेना चाहिए , जिससे कि मस्तिष्क में भ्रम की स्थिति ना बनी रहे | ग्रंथ हमारे मार्गदर्शक थे , हैं और रहेंगे परंतु जिस प्रकार विद्युत का सकारात्मक उपयोग करने से वह घर में उजाला कर देती है परंतु जरा सी असावधानी से विनाश भी मचा देती है उसी प्रकार हमारे ग्रंथ जीवन में उजाला तो कर देते हैं परंतु भ्रम की स्थिति में यह मनुष्य को विक्षिप्त भी बना सकते हैं अतः सावधानी अपेक्षित है |*


*अपने धर्मग्रंथों में जब भी किसी विषय को लेकर संशय या अविश्वास की स्थिति में स्वयं की निर्णय क्षमता समाप्त हो जाय तो उस विषय को लेकर अपने धर्मगुरुओं / श्रेष्ठजनों के समक्ष उपस्थित होकर भ्रम का निवारण कर लेना ही श्रेयस्कर माना गया है |*

अगला लेख: आज के भगवान :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
11 अक्तूबर 2019
*संपूर्ण विश्व में भारत एक ऐसा देश है जहां के संस्कार एवं संस्कृति संपूर्ण विश्व पर अमिट छाप छोड़ती है | भारत ही ऐसा देश है जहां समय-समय पर नारायण ने अनेक रूपों में अवतार लिया है | वैसे तो भगवान के प्रत्येक अवतार ने कुछ ना कुछ मर्यादाएं स्थापित की हैं परंतु त्रेतायुग में अयोध्या के महाराज दशरथ के यह
11 अक्तूबर 2019
24 अक्तूबर 2019
*सनातन धर्म में मानव जीवन को चार भागों में विभक्त करते हुए इन्हें आश्रम कहा गया है | जो क्रमश: ब्रह्मचर्य , गृहस्थ , सन्यास एवं वानप्रस्थ के नाम से जाना जाता है | जीवन का प्रथम आश्रम ब्रह्मचर्य कहा जाता है | ब्रह्मचर्य एक ऐसा विषय है जिस पर आदिकाल से लेकर आज तक तीखी बहस होती रही है | स्वयं को ब्रह्म
24 अक्तूबर 2019
11 अक्तूबर 2019
*माता - पिता के संयोग से परिवार में जन्म लेने के बाद मनुष्य धीरे धीरे समाज को जानता - पहचानता है क्योंकि मनुष्य एक सामाजिक जीव है। समाज ही उसका कर्मक्षेत्र है। अतः उसे स्वयं को समाज के लिए उपयोगी बनाना पड़ता है। मनुष्य ईश्वर की भक्ति एवं सेवा बहुत ही तन्मयता से करता है परंतु समाज की ओर बगुत ही कम ध्य
11 अक्तूबर 2019
29 सितम्बर 2019
*हमारा देश भारत विभिन्न मान्यताओं और मान्यताओं में श्रद्धा व विश्वास रखने वाला देश है | इन्हीं मान्यताओं में एक है पितृयाग | पितृपक्ष में पितरों को दिया जाने वाला तर्पण पिण्डदान व श्राद्ध इसी श्रद्धा व विश्वास की एक मजबूत कड़ी है | पितृ को तर्पण / पिण्डदान करने वाला हर व्यक्ति दीर्घायु , पुत्र-पौत्र
29 सितम्बर 2019
29 सितम्बर 2019
प्
*सम्पूर्ण सृष्टि को परमात्मा ने जोड़े से उत्पन्न किया है | सृष्टि के मूल में नारी को रखते हुए उसका महिमामण्डन स्वयं परमात्मा ने किया है | नारी के बिना सृष्टि की संकल्पना ही व्यर्थ है | नारी की महिमा को प्रतिपादित करते हुए हमारे शास्त्रों में लिखा है :---- "वद नारी विना को$न्यो , निर्माता मनुसन्तते !
29 सितम्बर 2019
21 अक्तूबर 2019
*परमात्मा ने सृष्टि का सृजन करते हुए आकाश , पाताल एवं धरती का निर्माण किया , फिर इसमें पंच तत्वों का समावेश करके जीवन सृजित किया | पृथ्वी पर जीवन तो सृजित हो गया परंतु इस जीवन को संभाल कर उन्नति के पथ पर अग्रसर करने हेतु प्रोत्साहित करने वाले एक योद्धा की आवश्यकता प्रतीत हुई | एक ऐसा योद्धा जो अपनी
21 अक्तूबर 2019
24 अक्तूबर 2019
*सनातन धर्म में मानव जीवन को चार भागों में विभक्त करते हुए इन्हें आश्रम कहा गया है | जो क्रमश: ब्रह्मचर्य , गृहस्थ , सन्यास एवं वानप्रस्थ के नाम से जाना जाता है | जीवन का प्रथम आश्रम ब्रह्मचर्य कहा जाता है | ब्रह्मचर्य एक ऐसा विषय है जिस पर आदिकाल से लेकर आज तक तीखी बहस होती रही है | स्वयं को ब्रह्म
24 अक्तूबर 2019
22 अक्तूबर 2019
*भारत देश में अपने परिवार तथा समाज को संपन्न एवं दीर्घायु की कामना से नारियों ने समय-समय पर कठिन से कठिन व्रत का पालन किया है | वैसे तो वर्ष भर कोई न कोई पर्व एवं त्योहार यहां मनाया जाता रहता है , परंतु कार्तिक मास विशेष रुप से पर्व एवं त्योहारों के लिए माना जाता है | कार्तिक मास में नित्य नए-नए त्य
22 अक्तूबर 2019
24 अक्तूबर 2019
सुप्रीमकोर्ट में अब हिंदू और मुस्लिम पक्ष से सारी दलीलें 16 अक्टूबर को ही बंद कर दी गई थी। अब इस राम मंदिर-बाबरी मस्जिद विवाद पर फैसला दीवाली की छुट्टियों के बाद आ सकता है। पूरा देश अपने-अपने समर्थन में फैसला आने का इंतजार कर रहे हैं मगर क्या आपको ये मामला पूरी तरह से पता है? अगर पता है तो क्या आपको
24 अक्तूबर 2019
29 सितम्बर 2019
*आदिशक्ति पराअम्बा जगदम्बा जगतजननी भगवती दुर्गा जी के पूजन का पर्व नवरात्रि प्रारम्भ होते ही पूरे देश में मातृशक्ति की आराधना घर घर में प्रारम्भ हो गयी है | जिनके बिना सृष्टि की संकल्पना नहीं की जा सकती , जो उत्पत्ति , सृजन एवं संहार की कारक हैं ऐसी महामाया का पूजन करके मनुष्य अद्भुत शक्तियां , सिद्
29 सितम्बर 2019
24 अक्तूबर 2019
भारत में जितने भी बड़े-बड़े व्यापारी और सेलिब्रिटीज हैं उनके अपने पर्सनल पंडितजी होते हैं। जिनसे पूछकर ही वे अपने सारे शुभ काम करते हैं। ऐसा हर कोई करता है और धार्मिक गुरु पर उनका ये विश्वास ही उन्हें सच्ची सफलता प्रदान करता है। ज्योतिषीयों के बारे में बहुत सारी बातें होती हैं जिन्हें समझने के लिए ज
24 अक्तूबर 2019
17 अक्तूबर 2019
*सनातन धर्म एक दिव्य एवं अलौकिक परंपरा को प्रस्तुत करता है , समय-समय पर सनातन धर्म में प्रत्येक प्राणी के लिए व्रत एवं पर्वों का महत्व रहा है | परिवार के जितने भी सदस्य होते हैं उनके लिए अलग अलग व्रतविशेष का विधान सनातन धर्म में ही प्राप्त होता है | सृष्टि का आधार नारी को माना गया है | एक नारी के द्
17 अक्तूबर 2019
30 सितम्बर 2019
*नवरात्रि के नौ दिनों में आदिशक्ति के नौ रूपों की आराधना की जाती है | इन्हीं नौ रूपों में पूरा जीवन समाहित है | प्रथम रूप शैलपुत्री के रूप में जन्म लेकर महामाया का दूसरा स्वरूप "ब्रह्मचारिणी" है | ब्रह्मचारिणी का अर्थ होता है तपश्चारिणी अर्थात तपस्या करने वाली | कन्या रूप में ब्रह्मचर्य का पालन करना
30 सितम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x