करवा चौथ :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

17 अक्तूबर 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (416 बार पढ़ा जा चुका है)

करवा चौथ :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

*सनातन धर्म एक दिव्य एवं अलौकिक परंपरा को प्रस्तुत करता है , समय-समय पर सनातन धर्म में प्रत्येक प्राणी के लिए व्रत एवं पर्वों का महत्व रहा है | परिवार के जितने भी सदस्य होते हैं उनके लिए अलग अलग व्रतविशेष का विधान सनातन धर्म में ही प्राप्त होता है | सृष्टि का आधार नारी को माना गया है | एक नारी के द्वारा समय-समय पर अपने पति , पुत्र एवं भाई के लिए व्रत रखकर उनकी आयु , सुख एवं ऐश्वर्य में वृद्धि के लिए की जाने वाली प्रार्थना ही नारी को महान बनाती है | भाई के लिए रक्षाबंधन , भैया दूज , पुत्र के लिए षष्ठी का व्रत करने वाली नारी अपने पति के लिए वैसे तो अनेकों व्रत करती है परंतु कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को किया जाने वाला दुष्कर "करवा चौथ" का व्रत नारियां अपने पति की दीर्घायु प्राप्ति के लिए करती हैं | प्रात: चार बजे से प्रारंभ करके रात में चंद्रोदय तक निर्जल रहकर यह व्रत नारियां मात्र इसलिए करती हैं कि उनके पति की आयु में वृद्धि हो एवं सनातन की मान्यता के अनुसार उन्हें सात जन्मो तक इसी पति का प्रेम मिलता रहे | यह व्रत करने का अधिकार मात्र सौभाग्यवती स्त्रियों को है | इसमें आयु , जाति , वर्ण , संप्रदाय की कोई बाध्यता नहीं है , सभी सौभाग्यवती स्त्रियां इस व्रत को कर सकती हैं | वैसे तो यह व्रत जीवन भर किया जाता है परंतु कहीं-कहीं लोकमान्यता है सौभाग्यवती स्त्री इस व्रत को सोलह वर्ष तक करने के उपरांत उद्यापन कर दे | उद्यापन करने के बाद पुनः वह इस व्रत का प्रारंभ कर सकती है | हमारे शास्त्रों के अनुसार यह व्रत सौभाग्यदायक एवं पति की दीर्घायु के उद्देश्य से किये जाने वाले किसी भी व्रत से सर्वोत्तम है | अतः सभी सौभाग्यवती स्त्रियों को करवाचौथ का व्रत नियम पूर्वक रहना ही चाहिए |*


*आज जिस प्रकार आधुनिकता ने समस्त मानव समाज को अपने रंग में रंग लिया है उससे अछूता यह व्रत भी नहीं रह गया है | आज भले ही यह व्रत भी आधुनिकता के रंग में रंग गया है परंतु जिस प्रकार विदेशों में पति पत्नी के रिश्तो के कोई मायने नहीं रह गए हैं वही हमारे देश भारत की महानता है कि सभी सौभाग्यवती स्त्रियां इस व्रत का पालन करके सात जन्मो तक उसी पति को प्राप्त करने की कामना करती हैं | आज पुरुष समाज को विचार करना चाहिए जो नारी दिन भर बिना अन्न जल के कठिन तपस्या करके उनके लिए पूरा दिन व्यतीत करके भालचंद्र गणेश के पूजन के बाद छलनी के माध्यम से अपने पति का प्रथम दर्शन करके उन्हीं के द्वारा पिलाए गए जल से अपने व्रत का समापन करती हैं , उनके लिए पुरुष समाज क्या कर रहा है ?? मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" आज समाज में देख रहा हूं कि कुछ परिवारों में स्त्री तो अपने पति के लिए दिनभर निर्जल रहकर के करवा चौथ का कठिन व्रत करती है परंतु सायंकाल को जब पूजन का समय आता है तो पति देवता मदिरापान करके घर पहुंच कर तांडव तो मचाते ही हैं साथ ही अपनी पत्नी के साथ मारपीट भी करने लगते हैं | परंतु सब कुछ सहन करके भी एक महान नारी अपने पति के लिए करवा चौथ का व्रत करती है | क्या ऐसे पुरुषों का अपनी पत्नी के लिए कोई कर्तव्य नहीं है ?? जिसने मात्र पति के लिए अपने माता - पिता , भाई - बंधु को छोड़ दिया और ससुराल आ गई उसी पति के द्वारा यदि वह प्रताड़ित होती है तो इसे क्या माना जाए ?? क्या ऐसे प्राणी सभ्य समाज में रहने योग्य कहे जा सकते हैं ?? जो भी पुरुष अपने घर की मान मर्यादा अर्थात अपनी पत्नी का सम्मान नहीं कर सकता वह समाज में किसी और का सम्मान क्या करेगा ?? ऐसे पुरुष सम्मान के योग्य भी नहीं होते | एक ज्वलंत प्रश्न यह भी उठता है जहां नारियां पुरुषों के लिए जीवन भर कोई न कोई कठिन व्रत करती रहती है वही क्या पुरुष समाज भी इन नालियों के लिए किसी व्रत का पालन करता है ?? शायद ऐसा बहुत कम ही देखने को मिलता है | सच्चाई तो यह है की नारियां सदैव त्याग की मूर्ति रही हैं और इनका जीवन अपने लिए होता ही नहीं है | बाल्यकाल में भाई के लिए , विवाहोपरांत पति के लिए एवं माता बनने के बाद पुत्र के लिए सदैव व्रत करने वाली नारियां त्याग की मूर्ति होती है अतः इनका सम्मान सदैव होते रहना चाहिए |*


*नारी सदैव से अपना जीवन दूसरों को ही समर्पित करती रही है यह बात पुरुष समाज को समझना चाहिए | जिस प्रकार आज मां की कोख से लेकर के इस संसार में आने के बाद तक नारी जाति पर अनाचार अत्याचार बढ़ रहा है आने वाले भविष्य के लिए शुभ संदेश नहीं कहा जा सकता | इस पर गंभीरता से विचार करने की आवश्यकता है |*

अगला लेख: नारी का त्याग / अहोई अष्टमी :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



रेणु
18 अक्तूबर 2019

आचार्य जी लेख तो सुंदर है ही पर आपका ये स्नेहिल चित्र मन को छु गया | ये प्यार अक्षुण हो मेरी शुभकामनायें आप दोनों के लिए |ॐ नमो शिवाय !!!

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
01 नवम्बर 2019
*इस संसार में मनुष्य एक चेतन प्राणी है , उसके सारे क्रियाकलाप में चैतन्यता स्पष्ट दिखाई पड़ती है | मनुष्य को चैतन्य रखने में मनुष्य के मन का महत्वपूर्ण स्थान है | मनुष्य का यह मन एक तरफ तो ज्ञान का भंडार है वहीं दूसरी ओर अंधकार का गहरा समुद्र भी कहा जा सकता है | मन के अनेक क्रियाकलापों में सबसे महत्
01 नवम्बर 2019
28 अक्तूबर 2019
*कार्तिक माह में चल रहे "पंच महापर्वों" के चौथे दिन आज अन्नकूट एवं गोवर्धन पूजा का पर्व मनाया जाएगा | भारतीय सनातन त्योहारों की यह दिव्यता रही है कि उसमें प्राकृतिक , वैज्ञानिक कारण भी रहते हैं | प्रकृति के वातावरण को स्वयं में समेटे हुए सनातन धर्म के त्योहार आम जनमानस पर अपना अमिट प्रभाव छोड़ते हैं
28 अक्तूबर 2019
11 अक्तूबर 2019
*माता - पिता के संयोग से परिवार में जन्म लेने के बाद मनुष्य धीरे धीरे समाज को जानता - पहचानता है क्योंकि मनुष्य एक सामाजिक जीव है। समाज ही उसका कर्मक्षेत्र है। अतः उसे स्वयं को समाज के लिए उपयोगी बनाना पड़ता है। मनुष्य ईश्वर की भक्ति एवं सेवा बहुत ही तन्मयता से करता है परंतु समाज की ओर बगुत ही कम ध्य
11 अक्तूबर 2019
25 अक्तूबर 2019
*सनातन धर्म के मानने वाले भारत वंशी सनातन की मान्यताओं एवं परम्पराओं को आदिकाल से मानते चले आये हैं | इन्हीं मान्यताओं एवं परम्पराओं ने सम्पूर्ण विश्व के समक्ष एक उदाहरण प्रस्तुत किया है | सनातन की संस्त परम्पराओं में प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से वैज्ञानिकता भी ओतप्
25 अक्तूबर 2019
11 अक्तूबर 2019
*संपूर्ण विश्व में भारत एक ऐसा देश है जहां के संस्कार एवं संस्कृति संपूर्ण विश्व पर अमिट छाप छोड़ती है | भारत ही ऐसा देश है जहां समय-समय पर नारायण ने अनेक रूपों में अवतार लिया है | वैसे तो भगवान के प्रत्येक अवतार ने कुछ ना कुछ मर्यादाएं स्थापित की हैं परंतु त्रेतायुग में अयोध्या के महाराज दशरथ के यह
11 अक्तूबर 2019
19 अक्तूबर 2019
*इस धरा धाम पर वैसे तो मनुष्य की कई श्रेणियां हैं परंतु आध्यात्मिक दृष्टि से मनुष्य को दो श्रेणियों में बांटा गया है :- प्रथम भक्त एवं दूसरा ज्ञानी | भक्त एवं ज्ञानी दोनों ही आध्यात्मिक पथ के पथिक हैं परंतु दोनों में भी भेद है | जहाँ भक्त बनना कुछ सरल है वहीं ज्ञानी बनना अत्यंत कठिन | भक्तों के लिए
19 अक्तूबर 2019
28 अक्तूबर 2019
पता नहीं ये जो कुछ भी हुआ, वो क्यों हुआ ?पता नहीं क्यों मैं ऐसा होने से नहीं रोक पाया ?मैं जानता था कि ये सब गलत है।लेकिन फिर भी मैं कुछ नहीं कर पाया।आखिर मैं इतना कमजोर क्यों पड़ गया ?मुझमें इतनी बेबसी कैसे आ गयी ?क्यों मेरे दिल ने मुझे लाचार बना दिया ?क्यों इतनी भावनाएं हैंइस दिल में ?क्यों मैंने अ
28 अक्तूबर 2019
19 अक्तूबर 2019
*हमारा देश भारत आध्यात्मिक सांस्कृतिक एवं वैज्ञानिक दृष्टि से आदिकाल से ही सर्वश्रेष्ठ रहा है | संपूर्ण विश्व भारत देश से ही ज्ञान - विज्ञान प्राप्त करता रहा है | संपूर्ण विश्व में भारत ही एक ऐसा देश है जहां समय-समय पर ईश्वरीय शक्तियों ने अवतार धारण किया जिन्हें भगवान की संज्ञा दी गई | भगवान धरा धा
19 अक्तूबर 2019
31 अक्तूबर 2019
*मनुष्य इस धरा धाम पर जन्म लेकर के जीवन भर अनेकों कृत्य करते हुए अपनी जीवन यात्रा पूर्ण करता है | इस जीवन अनेक बार ऐसी स्थितियां प्रकट हो जाती है मनुष्य किसी वस्तु , विषय या किसी व्यक्ति के प्रति इतना आकर्षित लगने लगता है कि उस वस्तु विशेष के लिए कई बार संसार को भी ठुकराने का संकल्प ले लेता है | आखि
31 अक्तूबर 2019
19 अक्तूबर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedC
19 अक्तूबर 2019
11 अक्तूबर 2019
*इस संसार में जन्म लेने के बाद प्रत्येक जीव का उद्देश्य होता है भगवान की भक्ति करके उनका दर्शन करने एवं मोक्ष प्राप्त करना | इसके लिए अनेक साधन बताये गये हैं , इन सभी प्रकार के साधनों में एक विशेष बात होती है निरन्तरता | अनन्य भाव के साथ निरन्तर प्रयास करने से इस सृष्टि में कुछ भी असम्भव नहीं है | अ
11 अक्तूबर 2019
24 अक्तूबर 2019
*सनातन धर्म में मानव जीवन को चार भागों में विभक्त करते हुए इन्हें आश्रम कहा गया है | जो क्रमश: ब्रह्मचर्य , गृहस्थ , सन्यास एवं वानप्रस्थ के नाम से जाना जाता है | जीवन का प्रथम आश्रम ब्रह्मचर्य कहा जाता है | ब्रह्मचर्य एक ऐसा विषय है जिस पर आदिकाल से लेकर आज तक तीखी बहस होती रही है | स्वयं को ब्रह्म
24 अक्तूबर 2019
22 अक्तूबर 2019
*हम उस दिव्य एवं पुण्यभूमि भारत के निवासी हैं जहाँ की संस्कृति एवं सभ्यता को आदर्श मानकर सम्पूर्ण विश्व ने अपनाया था | जहाँ पूर्वकाल में समाज की मान्यताएं थी कि दूसरों की बहन - बेटियों को अपनी बहन -बेटियों की तरह मानो | जहाँ तुलसीदास जी ने अपने मानस में लिखा कि :- "जननी सम जानहुँ परनारी ! धन पराव वि
22 अक्तूबर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x