मंहगाई / सहयोग:--- आचार्य अर्जुन तिवारी

09 दिसम्बर 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (418 बार पढ़ा जा चुका है)

मंहगाई / सहयोग:--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*इस संपूर्ण विश्व में प्रारंभ से ही भारत देश अपने क्रियाकलापों एवं दूरदर्शिता के लिए जाना जाता रहा है | विश्व के समस्त देशों की अपेक्षा भारत की सभ्यता , संस्कृति एवं आपसी सामंजस्य एक अनुपम उदाहरण प्रस्तुत करता रहा है | यहां पूर्व काल में एक दूसरे के सहयोग से दुष्कर से दुष्कर कार्य मनुष्य करता रहा है | भारत गांवों में बसता है ऐसा यदि कहा जाता है तो इसका एक कारण था कि जहां शहरों में लोगों को प्रत्येक वस्तु महंगे दाम पर प्राप्त होती थी वही गांव में महंगाई थी ही नहीं | इसका एक प्रमुख कारण था कि बाजारवाद का विस्तारीकरण गांवों में नहीं हुआ था और लोग दैनिक उपयोग की वस्तुएं सब्जी आदि अपने खेतों या छप्परों पर उगा लेते थे | आपसी सहयोग का सामंजस्य यह था कि यदि गांव में एक व्यक्ति के छप्पर पर कोई सब्जी फलती फूलती थी तो उसका उपयोग पूरा गांव करता था | इसके साथ ही शादी - विवाह , कथा - भागवत आदि का आयोजन लोग बहुत ही आनंद से करते थे क्योंकि पूरे गांव का सहयोग उसमें प्राप्त होता था और मनुष्य को भार नहीं लगता था | गांवों में बाजार में बहुत कम लगते थे परंतु फिर भी लोग प्रेम से आवश्यक आवश्यकताओं की पूर्ति करते हुए जीवन यापन करते थे | धीरे धीरे बाजारवाद का विस्तारीकरण हुआ और दैनिक उपयोग की वस्तुएं बाजारों में बिकने लगीं , लोग धीरे-धीरे अकर्मण्य होते गए और अपने खेतों और छप्पर से उन्होंने दैनिक खाद्य वस्तुओं को उगाना बंद कर दिया जिसके कारण महंगाई नाम के दानव ने अपना मुंह फैलाना प्रारंभ कर दिया | एक प्रमुख कारण यह भी कहा जा सकता है किस समाज में आपसी सामंजस एवं सहयोग की भावना विलुप्त होती गयी और गांव हो या शहर किसी की भी आवश्यकताओं पर लोगों ने ध्यान देना बंद कर दिया , क्योंकि मनुष्य की स्वयं की आवश्यकताओं की पूर्ति करने में समय व्यतीत होने लगा |*


*आज के वर्तमान युग में चारों तरफ महंगाई अपने चरम पर है | दैनिक खाद्य वस्तुएं एवं अन्य उपयोग कारी वस्तुएं महंगी तो हुई ही साथ ही यदि मानवता की बात की जाए तो सबसे महंगा हो गया है एक दूसरे का सहयोग | अन्य वस्तुओं को जहां धन देकर खरीदा जा सकता है वही सहयोग किसी भी कीमत पर क्रय नहीं किया जा सकता | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" आज समाज में देख रहा हूं कि यदि किसी के पुत्री का विवाह होता है तो वह स्वयं को बेच डालने को भी तत्पर हो जाता है | जहां पहले पूरा गांव बिना कहे सहयोग के लिए तत्पर हो जाता था वही आज गांव की तो बात छोड़ दीजिए परिवार के लोग भी सहयोग नहीं करना चाहते हैं | हमने विकास तो बहुत कर लिया है लेकिन विकासवाद के इस बाजार में हमने बहुत कुछ खोया भी है | सबसे कीमती वस्तु आपसी सामंजस्य एवं सहयोग की भावना आज बहुत कम देखने को मिलती है , इसका प्रमुख कारण है स्वयं की स्वार्थपरता | अपने स्वार्थ में दूसरों के आवश्यक आवश्यकताओं का ध्यान ना देना एवं किसी के भी कार्य में सहयोग न करना आज का शगल बन गया है | भारत के गांव अपनी प्राचीनता , भव्यता एवं आपसी प्रेम का जो उदाहरण प्रस्तुत करते थे आज वो कहीं देखने को नहीं मिला है क्योंकि आज मनुष्य की स्वयं की आवश्यकता ही नहीं पूर्ति हो पा रही तो वह दूसरों का सहयोग कहां से करेगा | ऐसा नहीं है कि आज समाज में ऐसे लोग नहीं हैं | आज भी एक दूसरे का सहयोग करने वाले इसी समाज में उपस्थित हैं परंतु यदि एक व्यक्ति सहयोग के लिए तैयार होता है तो चार व्यक्ति ऐसे होते हैं जो यह सोचते हैं कि अमुक व्यक्ति का कार्य कैसे बिगड़ जाय | आपसी द्वन्दता आज अपने चरम पर है | कृषि प्रधान देश में लोगों ने आज कृषि कार्य को तिलांजलि दे दी है घरों का नवीनीकरण होने से घर के छप्पर पर उगाई जाने वाली सब्जियां आज बाजारों में खरीदनी पड़ रही है | मेरे कहने का तात्पर्य है यह है कि दैनिक उपयोग की वस्तुएं महंगी हो गई हैं इसका कारण बाजारवाद है परंतु आपसी सहयोग सबसे महंगा हो गया है यह चिंतनीय विषय है |*


*एक दूसरे का सहयोग करके मनुष्य दुष्कर से दुष्कर कार्य कर सकता है इसलिए सहयोग की भावना को बनाए रखने का प्रयास प्रत्येक मनुष्य को करना चाहिए , और समय पड़ने पर एक दूसरे का सहयोग करते हुए एक उदाहरण प्रस्तुत करना चाहिए |*

अगला लेख: ईश्वर को समर्पित कर्म ही पूजा है :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
18 दिसम्बर 2019
*किसी भी राष्ट्र के निर्माण में वहां के समाज का बहुत बड़ा योगदान होता है | आदिकाल से हमारे देश भारत की सांस्कृतिक और सामाजिक इकाई का एक वृहद ढांचा राष्ट्र के संस्कार और सचेतक समाज की है | अन्य देशों की अपेक्षा हमारे देश के धर्मग्रंथ और उपनिषद मनुष्य को जीवन जीने की कल
18 दिसम्बर 2019
26 नवम्बर 2019
❌ *इस संसार परमात्मा ने अनेकानेक जीवो का सृजन किया | पशु - पक्षी ,कीड़े - मकोड़े और जलीय जंतुओं का सृजन करने के साथ ही मनुष्य का भी सृजन परमात्मा ने किया | सभी जीवो में समान रूप से आंख , मुख , नाक , कान एवं हाथ - पैर दिखाई देते हैं परंतु इन सब में मनुष्य को उस परमात्मा ने एक अमोघ शक्ति के रूप में बु
26 नवम्बर 2019
17 दिसम्बर 2019
*आदिकाल से मनुष्य में सद्गुण एवं दुर्गुण साथ - साथ उत्पन्न् हुए इस धराधाम पर अनेकों सदुगुणों को जहाँ मनुष्य ने स्वयं में आत्मसात किया है वहीं दुर्गुणों से भी उसका गहरा सम्बन्ध रहा है | मनुष्य में सद्गुण एवं दुर्गुण उसके पारिवारिक परिवेश एवं संस्कारों के अनुसार ही प्रकट होते रहे हैं | सम्मान , सदाचार
17 दिसम्बर 2019
08 दिसम्बर 2019
*सनातन धर्म के अनुसार मनुष्य का जीवन संस्कारों से बना होता है इसी को ध्यान में रखते हुए हमारे पूर्वजों ने मनुष्य के लिए सोलह संस्कारों का विधान बताया है | गर्भकाल से लेकर मृत्यु तक इन संस्कारों को मनुष्य स्वयं में समाहित करते हुए दिव्य
08 दिसम्बर 2019
02 दिसम्बर 2019
*हमारे देश की संस्कृति इतनी महान रही है कि समस्त विश्व ने हमारी संस्कृति को आत्मसात किया | सनातन ने सदैव नारी को शक्ति के रूप में प्रतिपादित / स्थापित करते हुए सम्माननीय एवं पूज्यनीय माना है | इस मान्यता के विपरीत जाकर जिसने भी नारियों के सम्मान के विपरीत जाकर उनसे व्यवहार करने का प्रयास किया है उसक
02 दिसम्बर 2019
17 दिसम्बर 2019
*किसी भी देश का निर्माण समाज से होता है और समाज की प्रथम इकाई परिवार है | परिवार में आपसी सामंजस्य कैसा है ? यह निर्भर करता है कि हमारा समाज कैसा बनेगा | परिवार में प्राप्त संस्कारों के माध्यम से ही मनुष्य समाज में क्रियाकलाप करता है | हम इस भारत देश में पुनः रामराज्य की स्थापना की कल्पना किया करते
17 दिसम्बर 2019
11 दिसम्बर 2019
*इस धराधाम पर मनुष्य कर्मशील प्राणी है निरंतर कर्म करते रहना उसका स्वभाव है | मनुष्य शारीरिक श्रम के साथ-साथ मानसिक श्रम भी करता है जिससे उसे शारीरिक थकान के साथ-साथ मानसिक थकान का भी आभास होता है | इस थकान को दूर करने का सबसे सशक्त साधन कुछ देर के लिए मन को मनोरंजन में लगाना माना गया है | पूर्वकाल
11 दिसम्बर 2019
12 दिसम्बर 2019
*परमात्मा ने सुंदर सृष्टि की रचना की तो मनुष्य ने इसे संवारने का कार्य किया | सृजन एवं विनाश मनुष्य के ही हाथों में है | हमारे पूर्वजों ने इस धरती को स्वर्ग बनाने के लिए अनेकों उपक्रम किए और हमको एक सुंदर वातावरण तैयार करके सुखद जीवन जीने की कला सिखाई थी | मनुष्य ने अपने बुद्धि विवेक से मानव जीवन मे
12 दिसम्बर 2019
19 दिसम्बर 2019
*मानव जीवन में अनेकों प्रकार के क्रियाकलाप मनुष्य द्वारा किए जाते हैं | संपूर्ण जीवन काल में मनुष्य भय एवं भ्रम से भी दो-चार होता रहता है | मानव जीवन की सार्थकता तभी है जब वह किसी भी भ्रम में पड़ने से बचा रहे | भ्रम मनुष्य को किंकर्तव्यविमूढ़ करके सोचने - समझने की शक्ति का हरण कर लेता है | भ्रम में
19 दिसम्बर 2019
28 नवम्बर 2019
*ईश्वर द्वारा बनाई गयी सृष्टि बहुत ही देदीप्यमान एवं सुंदर है | मनुष्य के जन्म के पहले ही उसे सारी सुख - सुविधायें प्राप्त रहती हैं | जन्म लेने के बाद मनुष्य परिवार में प्रगति एवं विकास करते हुए पारिवारिक संस्कृति को स्वयं में समाहित करने लगता है | मनुष्य का जीवन ऐसा है कि एक क्षण भी कर्म किये बिना
28 नवम्बर 2019
25 नवम्बर 2019
*इस धराधाम पर परमपिता परमात्मा ने जलचर , थलचर नभचर आदि योनियों की उत्पत्ति की | कुल मिलाकर चौरासी लाख योनियाँ इस पृथ्वी पर विचरण करती हैं , इन सब में सर्वश्रेष्ठ योनि मनुष्य को कहा गया है क्योंकि जहां अन्य जीव एक निश्चित कर्म करते रहते हैं वही मनुष्य को ईश्वर ने विवेक दिया है , कोई भी कार्य करने के
25 नवम्बर 2019
26 नवम्बर 2019
क्
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedC
26 नवम्बर 2019
02 दिसम्बर 2019
*हमारे देश की संस्कृति इतनी महान रही है कि समस्त विश्व ने हमारी संस्कृति को आत्मसात किया | सनातन ने सदैव नारी को शक्ति के रूप में प्रतिपादित / स्थापित करते हुए सम्माननीय एवं पूज्यनीय माना है | इस मान्यता के विपरीत जाकर जिसने भी नारियों के सम्मान के विपरीत जाकर उनसे व्यवहार करने का प्रयास किया है उसक
02 दिसम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x