नस नस में फैल रहा नशा :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

20 जनवरी 2020   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (2065 बार पढ़ा जा चुका है)

नस नस में फैल रहा नशा :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*इस धरा धाम पर मनुष्य के लिए वैसे तो अनेक प्रकार के सुख ऐश्वर्य एवं संपत्ति विद्यमान है परंतु किसी भी मनुष्य के लिए सबसे बड़ा धन उसका स्वास्थ्य होता है | अनेकों प्रकार के ऐश्वर्य होने के बाद भी यदि स्वास्थ्य नहीं ठीक है तो वह समस्त ऐश्वर्य मनुष्य के लिए व्यर्थ ही हो जाता है इसलिए मनुष्य को सबसे पहले अपने स्वास्थ्य पर ध्यान देना चाहिए | इस शरीर को स्वस्थ रखकर इस संसार में कोई भी कार्य किया जा सकता है शायद इसीलिए हमारे धर्म ग्रंथों में कहा गया है कि :- "शरीर माध्यम खलु धर्म साधनम्" धर्म को साधने का माध्यम शरीर ही है इसलिए शरीर को स्वस्थ रहना बहुत आवश्यक है | अनेक प्रकार के स्वास्थ्यवर्धक खाद्य पदार्थ लेने के साथ ही मनुष्य को अपने शरीर को निरोगी रखने के लिए किसी प्रकार के दुर्व्यसन अर्थात नशे से दूर रहना चाहिए क्योंकि नशा नाश की जड़ है , यह संपूर्ण रूप से मन और शरीर को खोखला कर देता है | यह एक ऐसी बीमारी होती है जिस की आदत पड़ने में तो समय नहीं लगता है परंतु जब एक बार मनुष्य इसके चक्रव्यूह में फंस जाता है कि जीवन भर निकल नहीं पाता है | किसी भी प्रकार का नशा हो वह शरीर के लिए हानिकारक ही होता है जिसके कारण मनुष्य स्वयं का और अपने साथ-साथ अपने परिवार का तथा आने वाली पीढ़ियों का भी मार्ग दुर्गम कर देता है | कुछ लोग नशे के इतने आदी हो जाते हैं इससे स्वयं तो बदनाम हो ही जाते हैं साथ ही अपने परिवार को भी बदनाम कर देते हैं , समाज उनको हेयदृष्टि से देखने लगता है | नशे की चपेट में आकर शरीर तो जा ही रहा है साथ में समाज से सम्मान भी चला जाता है | नशा एक ऐसी बीमारी है जो अपने साथ अनेकों प्रकार के दुर्व्यसन लेकर आती है | नशा करने वाला व्यक्ति अपराध करने नकारात्मक विचार एवं अभद्र भाषा का प्रयोग करने तथा दूसरों के साथ दुर्व्यवहार करने में ही अपनी बड़ाई समझने लगता है | प्रारंभ में लोग अपनी झूठी शान दिखाने के लिए नशे का प्रयोग प्रारंभ करते हैं परंतु जब यह आदत बन जाती है तो मृत्यु के बाद ही यह आदत छूटती है इसलिए अपने शरीर एवं सम्मान को बचाए रखने के लिए इस नशारूपी दुर्गुण से दूर रहना ही मानव मात्र के लिए कल्याणकारी है |*


*आज के वर्तमान युग में अधिकतर युवा पीढ़ी नशे की चपेट में देखी जा सकती है | फैशन से प्रभावित होकर कुछ क्षणिक आनंद के लिए नशे के आदी हो कर यह लोग अपने कीमती जीवन एवं धन संपदा को बर्बाद कर रहे हैं | विचार करना चाहिए किसी भी प्रकार का नशा स्वास्थ्य की दृष्टि से हानिकारक ही होता है परंतु इसकी चपेट में आए हुए मनुष्य को कुछ भी समझा दो उसके समझ में कुछ नहीं आना चाहता है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" आज नशे के चपेट में निरंतर पड़ रही युवा पीढ़ियों को समझाते हुए कहना चाहूंगा कि इस संसार के असंख्य जीवों में सर्वश्रेष्ठ मनुष्य का जीवन आपको मिला है तो इसका दुरुपयोग ना करके सदुपयोग करते रहिए | प्रत्येक मनुष्य को अनमोल जीवन को व्यर्थ के व्यसनों में बर्बाद न करके सकारात्मक कार्यों में लगाना चाहिए | मात्र मादक पदार्थों का नशा ही नशा नहीं है | यदि नशा ही करना है तो स्वाध्याय का नशा और राष्ट्रभक्ति का नशा सुंदर खाद्य पदार्थों का नशा एवं समाज सेवा का नशा करना यदि सीख लिया जाय को परिवार , समाज के साथ-साथ पूरे देश का कल्याण हो जायेगा | नशे की जड़ को खत्म करने के लिए नवयुवकों को आगे आना चाहिए | उनको अधिक से अधिक परिश्रम , योग एवं सकारात्मक कार्य करते रहना चाहिए जिससे देश का विकास होगा | इस प्रकार सकारात्मक कार्यों से जहां विकास होता है वही यदि कोई भी मादक पदार्थों का नशा करता है तो नशा कैसा भी हो वह विनाशकारी परिणाम ही देता है | किसी भी नशे से मुक्त होने के लिए सर्वप्रथम तो मनुष्य को स्वयं प्रयास करना होगा , अपनी इच्छा शक्ति को मजबूत करते हुये यह कार्य किया जा सकता है | नशामुक्ति के लिए सरकार के द्वारा चलाये जा रहे अभियान तब तक नहीं सफल होंगे जब तक समाज में भी इसका विरोध होना प्रारंभ हो नहीं होगा | समाज , परिवार व सरकार को एक साथ आगे आ करते नशे रूपी दानव से समाज को मुक्त करने का प्रयास करना होगा |*


*कुछ लोग नशा करके मानसिक तनाव दूर करने का प्रयास करते हैं और यह सत्य भी हो सकता है कि नशा करने के बाद थोड़ी देर के लिए मानसिक तनाव दूर भी हो जाता है परंतु यह भी विचार करना चाहिए कि यह नशा नस नस को डस रहा है | बचा सको तो बचा लो |*

अगला लेख: अहंकार से बचने का उपाय :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



जय श्री राधे
प्रणाम आचार्य श्री

जय जय श्री राधे व्यास जी

शशि भूषण
21 जनवरी 2020

जय श्री राम

जय श्री सीताराम , उपाध्याय जी

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
12 जनवरी 2020
🔥⚜🔥⚜🔥⚜🔥⚜🌸⚜🔥 ‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼ 🏹 *अर्जुन के तीर* 🏹🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹 *युवा शक्ति राष्ट्र शक्ति का नारा भारतीय संस्कृति के ध्वजवाहक "स्वामी विवेकानन्द जी" ने दिया था | आज के युवा कि दिशा और दशा परिवर्तित हो गयी है | आज अधिकतर युवा गांजे , भाँग ,
12 जनवरी 2020
10 जनवरी 2020
*प्राचीन भारतीय संस्कृति में मनुष्य को तो महत्त्व दिया ही है साथ ही उसके आचरण को कहीं अधिक महत्व दिया गया है मनुष्य अपने जीवन में जाने - अनजाने अनेक प्रकार के गलत आचरण किया करता है इसीलिए किसी भी शुभ मंगल कार्य करने से पहले मंगलाचरण करने की व्यवस्था हमारे पूर्वजों ने बनाई थी | इसका प्रारंभ मनुष्य के
10 जनवरी 2020
16 जनवरी 2020
*इस धरा धाम पर मनुष्य माता के गर्भ से जन्म लेता है उसके बाद वह सबसे पहले अपने माता के द्वारा अपने पिता को जानता है , फिर धीरे-धीरे वह बड़ा होता है अपने भाई बंधुओं को जानता है | जब वह बाहर निकलता है तो उसके अनेकों मित्र बनते हैं , फिर एक समय ऐसा आता है जब उसका विवाह हो जाता है और वह अपने पत्नी से पर
16 जनवरी 2020
17 जनवरी 2020
*इस संसार में जन्म लेने के बाद मनुष्य के अनेकों मित्र एवं शत्रु बनते देखे गए हैं , परंतु मनुष्य अपने सबसे बड़े शत्रु को पहचान नहीं पाता है | मनुष्य का सबसे बड़ा शत्रु कहीं बाहर नहीं बल्कि उसके स्वयं के भीतर उत्पन्न होने वाला अहंकार है | इसी अहंकार के कारण मनुष्य जीवन भर अनेक सुविधाएं होने के बाद भी
17 जनवरी 2020
12 जनवरी 2020
शि
⭐🌸⭐🌸⭐🌸⭐🌸⭐🌸⭐ ‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼🌟🌺🌟🌺🌟🌺🌟🌺🌟🌺🌟*शिक्षा के वैसे तो कई प्रकार है परंतु मुख्य रूप से शिक्षा तीन प्रकार की होती है :----**१- औपचारिक शिक्षा**२- अनौपचारिक शिक्षा**३- निरोपचारिक शिक्षा**१- औपचारिक शिक्षा :--- नियमित विद्यालय जाकर प्राप्त करने वाली औपचारिक शिक्षा
12 जनवरी 2020
05 जनवरी 2020
*भारत देश आदिकाल से अपनी संस्कृति , सभ्यता एवं संस्कारों के लिए जाना जाता रहा है | समय-समय पर यहां अनेकों महापुरुषों ने जन्म लेकर समाज को नई दिशा दिखायी है | समय - समय पर इस पुण्यभूमि में ईश्वर ने अनेकानेक रूपों में अवतार भी लिया है | इन्हीं महापुरुषों (भगवान) में एक थे रघुकुल के गौरव , चक्रवर्ती सम
05 जनवरी 2020
25 जनवरी 2020
*किसी भी परिवार , समाज एवं राष्ट्र को सुचारू रूप से संचालित करने के लिए नियम एवं संविधान की आवश्यकता होती है , बिना नियम एवं बिना संविधान के समाज एवं परिवार तथा कोई भी राष्ट्र निरंकुश हो जाता है | इन्हीं तथ्यों को ध्यान में रखते हुए अंग्रेजों की दासता से १५ अगस्त सन १९४७ को जब हमारा देश भारत स्वतंत्
25 जनवरी 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x