मन्त्र में विघ्‍न दूर करने की शक्ति होती है!

20 अगस्त 2016   |  डॉ उमेश पुरी 'ज्ञानेश्‍वर'   (332 बार पढ़ा जा चुका है)

मन्त्र में विघ्‍न दूर करने की शक्ति होती है!


आप यह जान लें कि मन्त्र में विघ्‍न दूर करने की शक्ति होती है। भौतिक वि ज्ञान के जानकार कहते हैं कि ध्वनि कुछ नहीं है मात्र विद्युत के रूपान्तरण के। जबकि अध्यात्म शास्त्री कहते हैं कि विद्युत कुछ नहीं है मात्र ध्वनि के रूपान्तरण के। यदि दूसरे शब्दों में देखें तो यह ज्ञात होगा कि ध्वनि और विद्युत एक ऊर्जा के दो रूप हैं और इनका पारस्परिक रूपान्तरण सम्भव है। वैज्ञानिक तो इस सत्य को अनुभूत नहीं कर पाए हैं परन्तु अध्यात्म शास्त्री इस सत्य को अनुभूत कर चुके हैं।

मन्त्र से ध्वनि का विद्युत रूपान्तरण होता है!

यह सत्य है कि मन्त्र से ध्वनि का विद्युत रूपान्तरण होता है। हमारा शरीर जिस ऊर्जा के सहारे कार्य करता है वे जैव विद्युत के ही विविध रूप हैं। मन्त्र की रीति से इसको प्रभावित किया जा सकता है। मन्त्र का प्रयोग करने की रीति बहुत व्यापक है। जिसकी चर्चा इस लेख में कर पाना सम्भव नहीं है।

यह जान लें कि समस्या कैसी भी हो, चाहे शारीरिक हो या मानसिक या आर्थिक, मन्त्र के प्रभाव या बल से सब कुछ सम्भव है। समस्या का समाधान सम्भव है। विद्वजन कहते हैं कि मन्त्र जप से सभी विघ्‍न स्वतः ही नष्ट हो जाते हैं।

चित्त के विक्षेप ही विघ्‍न हैं। ये नौ हैं-

  1. व्याधि या रोग शरीर या मन में रोग का उत्पन्न होना।
  2. अकर्मण्यता ही काम न करने की प्रवृत्ति है।
  3. संशय या सन्देह साधना के परिणाम एवं स्वयं की क्षमता पर सन्देह है।
  4. प्रमाद आध्यात्मिक अनुष्ठानों की अवहेलना करना ही है।
  5. आलस्य तमोगुण की वृद्धि से साधना को बीच में ही छोड़ देना है क्योंकि चित्त और शरीर दोनों भारी हो जाते हैं।
  6. अविरति विषय वासना में आसक्त होना है जिस कारण वैराग्य का अभाव हो जाता है।
  7. भ्रान्ति साधना को किसी कारण अपने प्रतिकूल मान लेना ही है।
  8. अलब्धता उपलब्धि न मिलने से उपजी निराशा ही है।
  9. अस्थिरता स्थिरता की स्थिति में न टिक पाना ही अस्थिरता है।

उक्त नौ सूत्र महर्षि पांतजल्य के हैं। उन्होंने इससे पूर्व के सूत्र में कहा है कि ये सभी विक्षेप मन्त्र के जाप से समाप्त हो जाते हैं।

रोग तभी होता है जब जैव विद्युत चक्र अव्यवस्थित हो जाता है। इसके प्रवाह में व्यतिक्रम या व्यतिरेक उठ खड़े होते हैं। इस स्थिति में व्यक्ति रोगी हो जाता है क्योंकि रोग उसे घेर लेते हैं। जैव विद्युत चक्र को लयबद्ध कर देने से रोग ठीक हो जाते हैं। यह जान लें कि मन्त्र जाप से प्राण विद्युत के चक्र में आने वाली बाधाओं का निराकरण किया जाता है और साधक को ब्रह्माण्डीय ऊर्जा का एक बड़ा अंश प्राप्त होता है।

अकर्मण्यता तभी आती है जब हममें ऊर्जा का स्रोत निर्बल होता है। तब हम स्वयं को शिथिल व निर्बल पाते हैं। मन्त्र जप से ब्रह्माण्डीय ऊर्जा का प्रवाह मिलता है और अकर्मण्यता उत्साह में बदल जाती है।

दृढ़ता के विरूद्ध ही संशय है। इससे मानसिक ऊर्जा कई भागों में विभाजित हो जाती है। मन्त्र प्रयोग से संशय का कोई स्थान नहीं रहता है।

प्रमाद सदैव मन में होता है। ऐसे में मन मूर्छित अवस्था में होता है। होश खोया मन प्रमादी होता है। मन्त्र जप से मन को होश में लाया जा सकता है।

आलस्य एक प्रकार से जीवन के प्रति उत्साह खोना है। बच्चे कभी नहीं थकते क्योंकि उनके पास ऊर्जा का अक्षय भण्डार होता है। मन्त्र जाप से ऊर्जा का ऊर्ध्वगमन होने लगता है जिसके फलस्वरूप साधक में नए उत्साह की अनुभूति जागती है और वह आलसी नहीं रहता है।

विषयासक्ति शरीर और मन की एकत्र ऊर्जा का व्यय न हो पाने से होती है। मन्त्र साधना से ऊर्जा का उर्ध्वगमन या व्यय होता है जिससे विषयासक्ति छंट जाती है।

भ्रान्ति खुली आंखों से स्वप्न देखना है। मन्त्र जाप से जाग्रत हो जाता है साधक और भ्रान्ति रहती नहीं है।

दुर्बलता असहाय एवं दुर्बल करती है। सामर्थ्य पूर्ण न होने से विराट से स्वयं को अलग अनुभूत करने से दुर्बलता आती है। मन्त्र जाप से हम विराट चेतना से जोड़ता है जिससे सिद्धि वश साध्य दिखने लगता है और दुर्बलता दिखती नहीं है।

अस्थिरता बहाने ही हैं। कुछ करने से पूर्व ही न करने के अनेक बहाने ढूंढ या गढ़ लेते हैं। बहाने बनाना अस्थिरता ही है। मन्त्र जप दृढ़ता से होने पर सजगता आ जाती है और चित्त साधना में रत रहता है।

इसमें निरन्तरता आती रहे तो सब विक्षेप हट जाते हैं और साधक साध्य की प्राप्ति में खो जाता है और एक नई अनुभूति में लिप्त होकर दूजों को मार्ग दिखाने लगता है।

अगला लेख: अच्छी आदत



gsmalhadia
05 नवम्बर 2016

सहमत

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
16 अगस्त 2016
आज का सुवचन 
16 अगस्त 2016
06 अगस्त 2016
                                              यह जान लें कि सन्धिकाल सदैव से ही अशुभ, हानिकारक, कष्टदायी व असमंजस युक्त होता है। सन्धि से तात्पर्य एक की समाप्ति और दूसरे का प्रारम्भ, अब चाहे वह समय हो या स्थान हो या परिस्थिति हो। ऋतुओं की सन्धि रोगकारक होती है। ज्योतिष में अनेक प्रकार की सन्धि है, ज
06 अगस्त 2016
25 अगस्त 2016
आज का सुवचन
25 अगस्त 2016
08 अगस्त 2016
मुसकुरा कर फूल को ,यार पागल कर दिया प्यार ने अपना जिगर ,नाम तेरे कर दिया आस से ना प्यास से ,दूर से ना पास से आँख तुमसे जब मिली ,बात पूरी कर दिया 
08 अगस्त 2016
18 अगस्त 2016
आज का सुवचन
18 अगस्त 2016
07 अगस्त 2016
खु
              दुनियां में हमारे पर्दापर्ण होते ही हम कई रिश्तों से घिर जाते हैं .रिश्तों का बंधन हमारे होने का एहसास करता हैं .साथ ही अपने दायीत्यों व् कर्तब्यों का.जिन्हें हम चाह कर भी अनदेखा नहीं कर सकते और न ही उनसे बन्धनहीन .लेकिन सच्ची दोस्ती दुनियां का वह नायाब तोहफा हैं जिसे हम ही तय करते हैं
07 अगस्त 2016
06 अगस्त 2016
आज का सुवचन 
06 अगस्त 2016
16 अगस्त 2016
 14 साल की और 21 साल की मेरी दो बहनें आई पीएस और आई ए एस बनना चाहती हैं . सुनकर ही अच्छा लगेगा .लडकियां जब सपने देखती हैं और उन्हें पूरा करने को खुद की और दुनिया की कमज़ोरियों से जीतती हैं तो लगता है अच्छा .बेहतर और सुखद. खासकर राजनीति ,सत्ता और प्रशासन के गलियारे और औरतें .वहां जहाँ औरतें फिलहाल ग्र
16 अगस्त 2016
17 अगस्त 2016
गमज़दा रात है बेवफा ए उल्फ़त भी है और तन्हाई है दीवानगी सी लगती है बस वीरानगी सी छाई है  - रविंदर विज 
17 अगस्त 2016
18 अगस्त 2016
आज का सुवचन
18 अगस्त 2016
08 अगस्त 2016
आज का सुवचन 
08 अगस्त 2016
07 अगस्त 2016
    पूर्व लेख में गण्डमूल इतने अशुभ क्यों के अन्तर्गत सन्धि की चर्चा के साथ-साथ यह बता चुके हैं कि सन्धि कैसी भी हो अशुभ होती है। बड़े व छोटे मूल क्या हैं। गण्डान्त मूल और उसका फल क्या है। अब इसी ज्ञान में और वृद्धि करते हैं।    अभुक्त मूल-ज्येष्ठा नक्षत्र के अन्त की 1घटी(24मिनट) तथा मूल नक्षत्र की
07 अगस्त 2016
21 अगस्त 2016
आज का सुवचन
21 अगस्त 2016
19 अगस्त 2016
आज का सुवचन
19 अगस्त 2016
07 अगस्त 2016
    पूर्व लेख में गण्डमूल इतने अशुभ क्यों के अन्तर्गत सन्धि की चर्चा के साथ-साथ यह बता चुके हैं कि सन्धि कैसी भी हो अशुभ होती है। बड़े व छोटे मूल क्या हैं। गण्डान्त मूल और उसका फल क्या है। अब इसी ज्ञान में और वृद्धि करते हैं।    अभुक्त मूल-ज्येष्ठा नक्षत्र के अन्त की 1घटी(24मिनट) तथा मूल नक्षत्र की
07 अगस्त 2016
07 अगस्त 2016
 (यह लेख सुप्रसिद्ध साइकेट्रिस्ट (मनोरोग-विशेषज्ञ) डॉक्टर सुशील सोमपुर के द्वारा लिखे लेख का हिंदी रूपांतरण है।) जो व्यक्ति अवसाद की स्थिति से गुजर रहा होता है, उसके लिए ये कोई पाप की सजा या किसी पिछले जन्म के अपराध की सजा के जैसी लगती है, और जिन लोगों का उपचार किया गया और वे बेहतर हो गए उन्हें ये क
07 अगस्त 2016
22 अगस्त 2016
आज का सुवचन
22 अगस्त 2016
23 अगस्त 2016
सु
सुवचन जीवन में प्रेरणा देते हैं। सुवचन के सार को जीवन में व्यवहार में लाने पर वे सार्थक हो जाते हैं! सुवचनों को व्यवहार में अवश्य लाना चाहिए। सुवचन सकारात्मक ऊर्जा बढ़ाते हैं। सकारात्मक ऊर्जा सफलता का मार्ग प्रशस्त करती है। इस पुस्तक में प्रेरक व जीवनोपयोगी 190 सुवचन
23 अगस्त 2016
07 अगस्त 2016
1. चौबारा            क-खिड़की             ख-दरवाजा             ग-चहुं ओर खिड़की दरवाजे वाला कमरा               2. चौरा        क-चार दिशाएं          ख-चबूतरा           ग-चोर             3. चौर्योन्‍माद         क-चोरी करने का चस्‍का          ख-चोर             ग-दस्‍यु              4. च्‍युति          
07 अगस्त 2016
24 अगस्त 2016
आज का सुवचन
24 अगस्त 2016
11 अगस्त 2016
म्हारा जीवन तराजू समान हैं जिसमें सुख और दुःख रूपी दो पल्लें हैं और डंडी जीवन को बोझ उठाने वाली सीमा पट्टी हें .काँटा जीवन चक्र के घटने वाले समयों का हिजाफा देता हैं .सुख दुःख के किसी भी पल्ले का बोझ कम या अधिक होनें पर कांटा डगमगाने लगता हैं सुख दुःख रूपी पल्लों की जुडी लारियां उसके किय कर्मो की सू
11 अगस्त 2016
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x