“शिक्षक-दिवस” ...तस्मै श्री गुरवे नमः

05 सितम्बर 2018   |  इंजी. बैरवा   (66 बार पढ़ा जा चुका है)

“शिक्षक-दिवस” ...तस्मै श्री गुरवे नमः  - शब्द (shabd.in)

एक अच्छा शिक्षक एक मोमबत्ती की तरह होता है, जो खुद जलकर दूसरों के लिए पथ-प्रदर्शक का कार्य करता है ।"

शिक्षण सबसे महान व्यवसायों में से एक है और यह एक ऐसा कार्य है, जो न केवल बच्चे को विभिन्न विषयों और ज्ञानक्षेत्र के बारे में विस्तृत अध्ययन के साथ-साथ बच्चे को अपनी ताकत एवं कमजोरियों को पहचान कर बेहतर इंसान बनने में मदद करता है । जहाँ तक शिक्षा के क्षेत्र का सम्बंध है, भारत का इतिहास बहुत ही गहरा है और हमारे अपने स्वयं के शिक्षाविदों, शिक्षकों और व्याख्याताओं के योगदान, प्रतिभा और कौशल को विश्व स्तर पर स्वीकार किया गया है ।

विश्व के कुछ देशों में शिक्षकों (गुरुओं) को विशेष सम्मान देने के लिये शिक्षक दिवस का आयोजन होता है । कुछ देशों में छुट्टी रहती है, जबकि कुछ देश इस दिन कार्य करते हुए मनाते हैं भारत के भूतपूर्व राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन का जन्मदिन (5 सितम्बर) को हमारे देश भारत में शिक्षक-दिवस के रूप में मनाया जाता है

आइए, आज हमारे देश के बेहतरीन शिक्षकों पर नज़र डालें, जिनके द्वारा भारत को महान बनाया गया और शिक्षा के क्षेत्र में सदाबहार बहु-आयामी विकास के पद-चिन्ह छोड़े हैं ---


डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन



§ उनका जन्मदिन भारत में शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है ;

§ वह देश के पहले उपाध्यक्ष और दूसरे राष्ट्रपति थे ;

§ उनके द्वारा मद्रास प्रेसिडेंसी कॉलेज, मैसूर विश्वविद्यालय में पढ़ाया गया ;

§ उन्होंने दर्शन की सबसे कठिन अवधारणाओं को शिक्षक के रूप में उच्चता के रूप में अंगीकार किया ;

§ आध्यात्मिक शिक्षा पर बहुत जोर दिया ;

§ एक बार कुछ छात्रों ने उनसे पूछा कि, क्या वे अपना जन्मदिन मना सकते हैं, उन्होंने जवाब दिया, "मेरे जन्मदिन का जश्न मनाने के बजाय, 5 सितम्बर को शिक्षक दिवस' के रूप में मनाया जाने पर मेरा गर्व विशेषाधिकार होगा ।"


डाक्टर ए.पी.जे. अब्दुल कलाम



w मशहूर भारतीय वैज्ञानिक और भारत के 11वें राष्ट्रपति थे ;

w वह व्यक्तिगत विकास के लिए प्राथमिक शिक्षा को शुरुआती बल के रूप में, पक्षधर थे ;

w उनका मानना था कि केवल अकादमिक डिग्री रखने के अलावा, एक छात्र को अपने व्यक्तिगत कौशल और क्षमता को भी बढ़ाया जाना चाहिए, जिसका उपयोग व्यक्ति के केरियर और जीवन को आकार देने में अधिक उपयोग किया जाता है ;

w वह आईआईएम शिलांग, अहमदाबाद और इंदौर में अतिथि व्याख्याता थे और भारतीय विज्ञान संस्थान, बैंगलोर के मानद सदस्य थे ;

w उन्होंने आईआईआईटी-हैदराबाद और बनारस हिंदू विश्वविद्यालय और अन्ना विश्वविद्यालय में प्रौद्योगिकी में आईटी पढ़ाया ।


चाणक्य



§ इन्हे कौटिल्य के रूप में भी जाना जाता है, वह पहले प्रसिद्ध भारतीय विद्वान हैं ;

§ उन्होंने तक्षशिला विश्वविद्यालय (पंजाब प्रांत पाकिस्तान) में राजनीतिक विज्ञान और अर्थशास्त्र पढ़ने-पढ़ाने कार्य किया ;

§ उनकी दो प्रसिद्ध किताबें, अर्थशास्त्र और नीतीशस्त्र हैं ।


स्वामीमी दयानंद सरस्वती



§ वैदिक परम्परा के एक हिंदू-समाज सुधारक और आर्य समाज के संस्थापक ;

§ वे वैदिक अध्येता और संस्कृत भाषा के एक प्रसिद्ध विद्वान थे ;

§ महिलाओं के लिए समान अधिकारों को बढ़ावा देने की दिशा में, जैसे कि शिक्षा का अधिकार और भारतीय ग्रंथों को पढ़ना इत्यादि काम किया ।


रविंद्रनाथ टैगोर



§ टैगोर ने चार दीवारों की सीमाओं से परे एक स्कूल बनाया और पढ़ाया, जिसकी उम्मीद थी कि वह भारत और दुनिया के बीच 'कनेक्टिंग थ्रेड' समान होगा ;

§ अपने स्कूल में शिक्षण कार्य अक्सर पेड़ के नीचे किया जाता था ;

§ उन्होंने 'गुरुकुल' की अवधारणा को फिर से शुरू किया ।


सावित्रीबाई फुले



§ भारत की पहली महिला शिक्षक और आधुनिक मराठी कविता की संस्थापक ;

§ एक समय जब महिलाओं की क्षमता को कम करके आंका गया, तो उन्होंने देश में महिलाओं की उत्थान और शिक्षा के लिए काम किया ;

§ अपने पति की मदद से, उसने अस्पृश्य लड़कियों के लिए एक स्कूल खोला

§ च्च जातिवादी और रूढ़िवादी व्यक्ति, उसके प्रयासों पर मज़ाक उड़ाते थे और उन पर पत्थर और गोबर फेंकते थे; फिर भी, उसने शिक्षा देना जारी रखा ;

§ ब्रिटिश सरकार ने बाद में, उनको शिक्षा में उनके विशेष योगदान हेतु सम्मानित किया गया ।


स्वामी विवेकानंद



§ शिक्षा और संस्कार ही मनुष्य में पूर्णता की अभिव्यक्ति है । उनके द्वारा 'रामकृष्ण मिशन' के माध्यम से, भिक्षुओं और लोगों को संयुक्त रूप से व्यवहारिक वेदांत ज्ञान और सामाजिक सेवा के विभिन्न रूपों का प्रचार किया गया ;

§ उन्होंने गुरुकुल प्रणाली का प्रचार किया, शिक्षक और शिष्य एक दूसरे के करीब रहकर और सामंजस्यपूर्ण सम्बंध में काम करते थे उन्होंने छात्रों को विभिन्न जीवन स्थितियों को संभालने और अच्छे नागरिक बनने पर ज़ोर दिया ;

§ उनका मानना था कि प्रत्येक व्यक्ति में अनंत क्षमता होती है, जिसे जीवन के हर भाग में उत्कृष्टता के रूप में प्रकट किया जा सकता है ।


प्रेमचंद



§ आधुनिक भारतीय साहित्य में उनके अतुलनीय योगदान के लिए जाना जाता है ;

§ वह चुनार (उत्तर प्रदेश) के एक स्कूल में शिक्षक भी थे ;

§ वह स्वामी विवेकानंद की शिक्षाओं से प्रभावित थे ।

§§§§§§§

.... आप सबको शिक्षक-दिवसकी हार्दिक शुभ-कामनाएँ और बहुत-बहुत बधाईयाँ ....

अगला लेख: तुरंत आवश्यकता है !!!



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x